बच्चों के चेहरे पर सफेद पैचेज होने के कारण और उन्हें हटाने के घरेलू उपाय

बच्चों के चेहरे पर सफेद पैचेज होने के कारण और उन्हें हटाने के घरेलू उपाय

Last Updated On

चेहरे पर सफेद पैचेज यानि दाग-धब्बे होना शिशुओं और बच्चों में एक आम समस्या है। हालांकि, इसे लेकर चिंतित होने की कोई बात नहीं है, क्योंकि ऐसे पैचेज होने के कई मामलों में उपचार काफी आसान होता है। बच्चों के चेहरे पर होने वाले सफेद पैचेज को लेकर कई गलत धारणाएं हैं। वास्तव में ऐसा क्यों होता है और इसके लिए क्या उपाय किए जा सकते हैं, जानिए ।

बच्चे के चेहरे पर सफेद पैचेज होने के सामान्य कारण क्या हैं

१. विटामिन की कमी

बहुत से बच्चों के चेहरे पर सफेद धब्बे पड़ने का यह एक सामान्य कारण है। हम सभी जानते हैं कि एक संतुलित और स्वस्थ आहार हमारे शरीर के लिए कितना आवश्यक है मगर कई बच्चे ठीक से खाना ही नहीं खाते। परिणामस्वरूप बच्चों में कई आवश्यक पोषक तत्वों की कमी हो जाती है और विटामिन की कमी उनमें से एक है।

विटामिन बी 12 शरीर में मेलेनिन का उत्पादन करता है। इस विटामिन की कमी से सफेद धब्बे हो सकते हैं। ये न केवल चेहरे पर, बल्कि शरीर के किसी भी हिस्से में दिख सकते हैं, विशेषतः बांह पर। विटामिन की बहुत ज्यादा कमी होने से खुजली होने लगती है और त्वचा की रंगत और सफेद पड़ जाती है। कुछ मामलों में त्वचा लाल या गुलाबी भी हो सकती है।

डॉक्टर से परामर्श करने के बाद बच्चे को एक स्वस्थ और संतुलित आहार देना इन दागों के इलाज का सर्वश्रेष्ठ उपाय है।

जिंक और कैल्शियम की कमी से भी यह समस्या हो सकती है।

२. जन्मजात चिन्ह

ऐसे कई मामले देखे गए हैं जहां बच्चे के चेहरे के दाग जन्मजात होते हैं। अगर ऐसा है, तो चिंता करने की जरूरत नहीं है।

३. टीनिया वर्सिकलर

टीनिया वर्सिकलर / पीटीरिऑसिस वर्सीकलर, मैलेसेज़िया के कारण होने वाला एक फंगल संक्रमण है। यह फंगस शरीर में एक ऐसे एसिड का उत्पादन करता है जो मेलेनिन बनने की प्रक्रिया को प्रभावित करता है।

ऐसे मामले में दाग का रंग, बच्चे की सामान्य त्वचा के रंग की तुलना में हल्का अथवा गहरा हो सकता है। कई बार इसमें खुजली होती है और पपड़ी भी पड़ जाती है। ये दाग ज्यादातर शरीर के मध्य भाग और कंधों पर दिखाई देते हैं, लेकिन गर्दन, चेहरे और पेट पर भी दिखाई दे सकते हैं।

आर्द्र या गर्म जलवायु में रहने वाले लोग इससे अधिक प्रभावित होते हैं। सूर्य की किरणों के संपर्क में आने से पैच अधिक स्पष्ट हो सकते हैं क्योंकि इन पर टैनिंग से कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। इस स्थिति में सुधार करने के लिए आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपके बच्चे में इम्युनिटी संबंधी समस्याएं न हों और वो संतुलित आहार ले रहा हो।

स्वच्छता की कमी भी इस समस्या का एक कारण है।

४. विटिलिगो

विटिलिगो त्वचा की एक समस्या है जो कई माता-पिता को चिंतित करती है, हालांकि ये दाग हानिरहित होते हैं। त्वचा पर सफेद धब्बे पिग्मेंटेशन के क्षय के कारण पड़ते हैं। विटिलिगो एक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर है। इसका मतलब है कि आपका शरीर अपने मेलानोसाइट्स पर हमला कर रहा है। मेलेनिन का निर्माण करने वाली कोशिकाओं को मेलानोसाइट्स कहा जाता है।

आमतौर पर ये दाग शरीर के उन हिस्सों पर देखे जाते हैं जो सूर्य के प्रकाश के संपर्क में आते हैं लेकिन ये शरीर के किसी अन्य हिस्से पर भी हो सकते हैं। यह समस्या अधिकतर सांवले अथवा श्याम रंगत के बच्चों में पाई जाती है, हालांकि यह किसी भी बच्चे को प्रभावित कर सकता है। विटिलीगो संक्रामक नहीं है, इसलिए चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। ये दाग चूंकि काफी विचित्र दिखते हैं इस वजह से लोग इस स्थिति से काफी डर जाते हैं। इस बीमारी के बारे में उचित ज्ञान ना होने कारण इस प्रकार के दाग लोगों में अपराधबोध का कारण बन जाते हैं।

५. चोट अथवा जलने के दाग

कई बार, त्वचा के किसी विशेष भाग पर आघात या चोट लगने के कारण पिग्मेंटेशन में कमी या अभाव हो सकता है।

६. कृमि संक्रमण

यद्यपि यह कारण थोड़ा संदिग्ध है लेकिन कई बार ऐसा कहा जाता है कि पेट में कीड़े होने के कारण सफेद दाग होते हैं। हालांकि यह कारण निश्चित नहीं है, फिर भी आप अपने बच्चे को कभी-कभार कृमिनाशक दवा दे सकते हैं।

घरेलू तरीकों से अपने बच्चे के चेहरे के सफेद पैचेज से छुटकारा कैसे पाएं

बच्चे के चेहरे पर सफेद दाग के लिए यहाँ कुछ घरेलू उपचार दिए गए हैं।

  • बच्चे के बाहर जाने से पहले उसके चेहरे पर एक व्यापक स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन लगाएं।
  • सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा ढेर सारे फल और सब्जियां खा रहा हो।
  • हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि पेट के कीड़े धब्बे का कारण बनते हैं, लेकिन बच्चे को कृमिनाशक दवा खिलाने में कोई नुकसान नहीं है। ऐसा आप हर छह महीने में कर सकते हैं।
  • अधिकतर बाल रोग विशेषज्ञ इत्र और डाई रहित इमोलिएंट्स का उपयोग करने की सलाह देते हैं। इससे त्वचा की शुष्की को रोका जा सकता है जो कभी-कभी पीटीरिऑसिस अल्बा नामक सफेद धब्बों की समस्या का भी कारण बन सकती है।
  • यदि सफेद दाग फंगल संक्रमण के कारण हुए हैं, तो आप संक्रमण को खत्म करने के लिए एंटीफंगल क्रीम का उपयोग कर सकते हैं।

पीटीरिऑसिस अल्बा के कारण होने वाले सफेद पैचेज का इलाज कैसे करें

जब कारण ज्ञात न हों तो उपचार कठिन हो जाता है। यह सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा स्वास्थ्यप्रद फल और सब्जियां खाता हो। आप निम्नलिखित उपाय भी कर सकते हैं:

१. सनस्क्रीन का प्रयोग करें

सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा एक ब्रॉड स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन लगाकर ही घर से बाहर निकले। यह सूरज से होने वाली किसी भी प्रकार की क्षति को रोकने में मदद करेगी और आपके बच्चे की सुरक्षा करेगी।

२. गंधरहित एमिलाएंट या मॉइस्चराइजर का उपयोग करें

ये दाग अपने आस पास की त्वचा की तुलना में अधिक संवेदनशील होते हैं इसी वजह से गंधरहित अथवा रसायनरहित मॉइस्चराइजजर का उपयोग करना बेहतर होता है। आपके बच्चे के लिए कौन सा मॉइस्चराइजर सबसे बेहतर रहेगा इसकी जानकारी आपका बाल रोग विशेषज्ञ ही आपको सलाह दे सकता है।

डॉक्टर के पास कब जाएं

उपरोक्त कारणों में से किसी भी कारण से सफेद दाग या धब्बे हो सकते हैं। हालांकि ज्यादातर पैचेज हानिरहित होते हैं, पर कई बार ये खतरनाक भी हो सकते हैं। तो बेहतर होगा कि सही समाधान के लिए एक डॉक्टर से जांच कराएं।

इसके अलावा, अगर आपको पैचेज के साथ निम्न दिए गए लक्षणों में से कोई भी दिखाई दे तो डॉक्टर से सलाह लें।

  • तेज खुजली
  • दाग के रंग में बदलाव (आमतौर पर लाल होना)
  • प्रभावित क्षेत्र की त्वचा का असंवेदनशील होना

सफेद पैचेज से ग्रस्त एक बच्चे की मदद कैसे करें ताकि उसका आत्मविश्वास प्रभावित न हो

छोटे बच्चे अपने रूप-रंग की ज्यादा परवाह नहीं करते हैं। लेकिन उम्र के साथ-साथ उनकी आत्म-जागरूकता बढ़ने लगती है। चेहरे पर सफेद दाग-धब्बों की उपस्थिति उनके आत्मविश्वास पर चोट कर सकती है।

यदि आपका बच्चा इस अवस्था से ग्रसित है और उसका इलाज नहीं किया जा सकता, तो माता-पिता को इस स्थिति का सामना करने में बच्चे की मदद करनी होगी।

यहाँ कुछ बातें हैं जिन्हें आपको ध्यान में रखना चाहिए

  • उनसे बात करके शुरूआत करें और यह सुनिश्चित करें कि वे अपने रूप-रंग को लेकर सहज महसूस करते हैं।
  • यदि आपको लगता है कि आप उनकी मदद नहीं कर सकते, तो आपको किसी काउंसलर की सहायता लेनी चाहिए।
  • सुनिश्चित करें कि वे आपसे बात करने में सहज है या नहीं । इस तरह, आप ये पता लगा सकते हैं कि कहीं कोई आपके बच्चे को उसके रंग-रूप के कारण तंग तो नहीं कर रहा है।
  • आवश्यकता पड़ने पर आप अपने बच्चे के शिक्षक (टीचर) से इस बारे में बात कर सकते हैं।
  • किसी भी तरह गलतफहमी को दूर करने के लिए उसके दोस्तों को शिक्षित करें।
  • यदि इनमें से कोई भी उपाय काम न करे, तो आप बेशक सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग करके चेहरे के दाग-धब्बों को छुपा सकते हैं।

एक बच्चे के चेहरे पर सफेद दाग लोगों की सोच से अधिक सामान्य होते हैं। विभिन्न कारणों से ऐसा हो सकता है, और उनमें से अधिकांश को ठीक किया जा सकता है।