बच्चों के निकल रहे दूध के दाँतों की देखभाल कैसे करें

बच्चों के दूध के दाँतों की देखभाल कैसे करें

In this Article

Last Updated On

बच्चों की दाँत निकलने की प्रक्रिया उसकी अच्छी देखभाल करने से शुरू होती है। अपने बच्चे के दाँतों को अच्छी तरह से ब्रश करना सिखाएं, ये बच्चे के मौखिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक असर डालता है। आपको बच्चे के दाँतों का ख्याल रखना और साफ सफाई तभी ही शुरू कर देना चाहिए जब उनका पहला दाँत निकलना शुरू हो जाए। बच्चे के दाँतों को साफ रखने के कुछ सुझाव नीचे दिए गए हैं:

बच्चों के दाँत दिखना कब शुरू होते हैं?

जब बच्चे चार से सात महीने के हो जाते हैं तब उनके दाँत सामान्य रूप से दिखाई देने लगते हैं। दाँतों का पहला सेट जो बच्चों में दिखाई देता है, वह नीचे के दो सामने वाले दाँत होते हैं।

अपने बच्चे के दाँतों को ब्रश करना कब शुरू करें?

बच्चों के दाँत जब दिखाई देने लगे, आपको उसकी देखभाल तभी से शुरू कर देना चाहिए और यह बहुत जरूरी है, क्योंकि यह उनके बोलने के कौशल को प्रभावित करता है और उनके जबड़े के गठन में भी मदद करता है। इसके अलावा, उनके दाँतों की देखभाल करने से संक्रमण और अन्य दाँतों की समस्याओं को रोका जा सकता है, जो अक्सर बच्चे के मौखिक स्वास्थ्य की खराब देखभाल के कारण होता है।

क्या आपको बच्चे के लिए विशेष टूथपेस्ट और टूथब्रश खरीदने की आवश्यकता है?

बच्चे के लिए विशेष टूथपेस्ट और टूथब्रश

सबसे पहले, आप अपने बच्चे के मसूड़ों को अपनी अंगुली या नरमब्रिसल वाले ब्रश का उपयोग करके साफ कर सकती हैं, ताकि उन्हें ब्रश करने की प्रक्रिया समझ आने लगे। बच्चे के दाँतों की देखभाल के लिए टूथब्रश का उपयोग करना सबसे बेहतर होता है ।

यदि आप बच्चे के दाँतों को साफ करने के लिए एक टूथब्रश का उपयोग कर रही हैं, तो इस बात का ख्याल रहे कि ब्रश का आगे वाला भाग बच्चे के हिसाब से छोटा होना चाहिए और उसके ब्रिसल्स बहुत नरम व नायलॉन के होने चाहिए। आप बच्चे के लिए एक रंगीन ब्रश या कार्टून वाले ब्रश का इस्तेमाल करें, इससे उन्हें ब्रश करने में मजा आएगा और वह इस क्रिया को करना पसंद करेंगे ।

अगर बात की जाए टूथपेस्ट की, तो आमतौर पर किसी भी बच्चे को तीन साल का होने तक इसका उपयोग करने की सलाह नहीं दी जाती है, जब तक वो तरल पदार्थ को थूकने की प्रक्रिया को ठीक से नहीं समझ लेते हैं ।

किस तरह का टूथपेस्ट आपके बच्चे के लिए सही है?

1. तीन साल से पहले आप बच्चे के लिए बिना फ्लोराइड वाले टूथपेस्ट का उपयोग कर सकती हैं वो भी केवल डॉक्टर की सलाह लेकर, अन्यथा, अपने बच्चे के मसूड़ों को साफ करने के लिए एक नरम कपड़े का उपयोग करें।

2. एक बार जब वे उगलना या थूकना सीख जाते हैं, तो आप तीन साल और उससे अधिक उम्र के बच्चे के दाँतों पर सामान्य टूथपेस्ट का उपयोग करना शुरू कर सकती हैं। बच्चे के टूथब्रश को नियमित रूप से बदलती रहें, आप हर एक से तीन महीने में जैसे ही ब्रिसल्स फैलने लगते हैं उनका ब्रश बदल दें।

कितनी मात्रा में टूथपेस्ट का उपयोग करें?

अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन के अनुसार, आप तीन और उससे कम उम्र के बच्चे के लिए कम फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का उपयोग कर सकती हैं।

एक बार जब बच्चा तीन साल का हो जाता है, तो आप बच्चे के दाँतों की देखभाल के लिए मटर के दाने जितना टूथपेस्ट ब्रश में लगाकर उन्हें ब्रश करने के लिए दे सकती हैं ।

बच्चे के दाँतों को ब्रश कैसे करें?

बच्चे के दाँतों को ब्रश कैसे करें?

  • पहले 5 महीनों के दौरान, बच्चे को दूध पिलाने के बाद उसका मुँह साफ करने के लिए एक गीले वॉशक्लॉथ का उपयोग करें। यह बच्चे के मौखिक स्वच्छता की आदत को शुरू से बनाए रखने में मदद करता है और भोजन को जमा होने से रोकता है जिससे बच्चे के दाँतों में कैविटी होने का खतरा नहीं होता है।
  • लगभग 6 महीने के बाद जब आपके बच्चे के दाँत थोड़ेथोड़े दिखाई देने लगते हैं, तो टूथब्रश से बच्चे के मुँह को साफ करना शुरू कर दें, लेकिन ख्याल रहे कि ब्रश के ब्रिसल नरम और नायलॉन के बने हों और ब्रश के आगे वाला भाग छोटा होना चाहिए। आप पानी का इस्तेमाल करते हुए बच्चे को हल्के से ब्रश कराएं। आप टूथब्रश पर फ्लोराइड मुक्त टूथपेस्ट का उपयोग कर सकती हैं लेकिन इसकी मात्रा बहुत कम होनी चाहिए।
  • आप खुद एक कुर्सी या सोफे पर बैठ जाएं और बच्चे को अपनी गोद में बिठा लें।अपनी अंगुली का उपयोग कर के उसके मसूड़ों को धीरेधीरे रगड़े और प्रत्येक दाँत के दोनों किनारों को अच्छे से साफ करें। आप अपने बच्चे को व्यस्त रखने के लिए उन्हें एक खिलौना पकड़ा दें। इसके बाद दाँतों और मसूड़ों को धोने के लिए चारों ओर एक गीले वॉशक्लॉथ से बच्चे का मुँह पोछें।
  • बच्चे के पीछे के चबाने वाले दाँत (बैक मोलर्स) एक साल का होने तक निकलना शुरू हो जाते हैं, इसलिए आप उन्हें ब्रश करने की ट्रेनिंग देना शुरू कर सकती हैं और उनके लिए एक मुलायम ब्रिसल वाले टूथब्रश का प्रयोग करें।
  • गोलाकार गति में ब्रश करना शुरू करें, दाँत के सामने की ओर पीछे की ओर, नीचे की ओर और चबाने वाली सतहों की ओर ब्रश करें। इसी प्रकार नीचे के मसूड़ों के लिए भी यह प्रक्रिया दोहराएं।
  • आप मुँह के अंदर तालू वाले भाग को, गालों के अंदर वाले भाग को और जीभ को एक गीले वॉशक्लॉथ से साफ करें।
  • जब बच्चे के पहली बार दाँत दिखने शुरू हो जाएं, तो आप तभी से अपने बच्चे के दाँतों की देखभाल करना शुरू कर दें। दूध के दाँत महत्वपूर्ण होते हैं, क्योंकि ये स्थायी दाँतों के लिए जगह बना रहे होते हैं जो जल्द ही दूध के दाँतों की जगह ले लेंगे। यदि उनकी देखभाल ठीक से नहीं की जाती है, तो इस से दाँत सड़ जाते हैं और स्थायी दाँतों के निर्माण में बाधा उत्पन्न हो सकती है।
  • जब आपका बच्चा तीन साल से ऊपर का हो जाता है, तो आप उसके लिए फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का उपयोग करना शुरू कर सकती हैं, लेकिन सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले टूथपेस्ट की मात्रा मटर के दाने से अधिक नहीं होनी चाहिए। आप उनके दाँतों के अंदर व बाहर और यहाँ तक ​​कि उनकी जीभ पर भी धीरे से ब्रश करें (यदि वे करने दे तो) ये खराब बैक्टीरिया को हटाने और खराब साँस को दूर करने में मदद कर सकता है ।
  • 6 महीने की उम्र के बाद आप अपने बच्चे के लिए फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का इस्तेमाल कर सकती हैं। फ्लोराइड दाँतों को खराब होने से रोकता है और भले ही आप अभी टूथपेस्ट का उपयोग नहीं कर रही हैं, लेकिन अन्य स्रोतों से फ्लोराइड को प्रयोग में लाना महत्वपूर्ण है। नल के पानी में फ्लोराइड होता है और यह एक बेहतरीन स्रोत है, हालांकि, कुछ पानी सप्लाई करने वाली कंपनियां नल के पानी से फ्लोराइड की मात्रा को कम कर देती हैं। जब बच्चा 6 महीने का हो जाए तो आप फ्लोराइड देने के विषय में एक बार अपने डॉक्टर से परामर्श करें।
  • दो साल की उम्र से टूथब्रश का इस्तेमाल करके आप बच्चे के दाँतों को ब्रश करना शुरू करें। आप डॉक्टर की सलाह के अनुसार फ्लोराइड टूथपेस्ट या बहुत कम फ्लोराइड वाले टूथपेस्ट का उपयोग कर सकती हैं। आप बच्चे को दिन में दो बार ब्रश कराएं।
  • कैविटी से बचने के लिए बच्चे को दूध या जूस पिलाने के बाद उनका मुहँ जरूर साफ करें ।

यहाँ कुछ टिप्स दिए गए हैं जिनकी मदद से आप बच्चे को ब्रश कराने की शुरुआत कर सकती हैं

  • बच्चों के दाँतों की सफाई शुरू करने से पहले आपको ब्रश करने का सही तरीका जानना बहुत जरूरी है। सुनिश्चित करें कि आप अपने बच्चे के दाँतों के साथ उनके मसूड़ों को भी अच्छे से साफ करें।
  • इससे आपके बच्चे को असुविधा महसूस हो सकती है और शुरुआत में वह अपने दाँतों को ब्रश करने से इनकार कर सकते हैं। इसके लिए आप उन्हें खुद ब्रश करने दें ताकि उन्हें मजा आए। आप उन्हें टीदर रिंग को ठंडा करके दे सकती हैं या एक ठंडा वॉशक्लॉथ दें जिसे बच्चा चबा सकता है।
  • दाँतों के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले किसी भी जेल या क्रीम का उपयोग करने से पहले, अपने चिकित्सक से परामर्श करें।
  • अपने बच्चे के दाँतों को मसूड़े सहित दिन में कम से कम एक बार वॉशक्लॉथ से साफ करें, बच्चे के दाँतों की अच्छी देखभाल करने के लिए भोजन के बाद हमेशा उनका मुहँ अच्छी तरह साफ करें । एक बार जब वो ब्रश करना अच्छे से सीख जाएं तो फिर धीरेधीरे फ्लॉस करना शुरू करें ।

बच्चे को ब्रश करना सिखाएं

बच्चे को ब्रश करना सिखाएं

जब बच्चा छह से आठ साल का हो जाएगा तो वो खुद से ब्रश करना शुरू कर देगा। अपने बच्चे को ब्रश करना सिखाते समय, इस गतिविधि को उनके लिए मजेदार बनाना जरूरी है । आप ब्रश करने से जुड़े उनके पसंदीदा गाने गा सकती हैं और धीरेधीरे से बच्चे में ब्रश करने की आदत डाल सकती हैं। बच्चों को ब्रश करने के बाद टूथपेस्ट को थूकने के लिए निर्देशित करें और उन्हें ब्रश करने की सही आदत डालने में मदद करें। आप इलेक्ट्रिक टूथब्रश का उपयोग भी कर सकती हैं। मौखिक स्वास्थ को नजर में रखते हुए बच्चे को दिन में दो बार ब्रश करने को प्रोत्साहित करें।

क्या आपको अपने बच्चे के मसूड़ों को ब्रश करना चाहिए?

हाँ। बच्चे के मसूड़ों को ब्रश करने से खराब साँस और मुँह में मौजूद बैक्टीरिया के समाप्त हो जाते हैं, इस प्रकार बच्चे में दंत संक्रमण को रोका जा सकता है। अपने बच्चे के मसूड़ों को दिन में कम से कम एक बार वॉशक्लॉथ से साफ करें, खासकर बच्चे के मौखिक स्वास्थ को ध्यान में रखते हुए उन्हें भोजन कराने के बाद मसूड़ों को अच्छी तरह साफ करें ।

पूरी तरह से दाँत आने के बाद, अपने बच्चे के मुँह को दिन में दो बार साफ करें। जब आपका बच्चा 1 से 2 साल का हो जाता है, तो आप सॉफ्ट बेबी ब्रश का इस्तेमाल कर सकती हैं और फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का प्रयोग कर सकती हैं लेकिन कम मात्रा में, जो बच्चों के लिए बिल्कुल सुरक्षित है।

कैविटी को कैसे रोकें?

पहले 5 महीनों के दौरान, एक गीले वॉशक्लॉथ का उपयोग करें और दूध पिलाने के बाद अपने बच्चे के मुँह को साफ करें। इस प्रक्रिया को बच्चे के दाँतों की बेहतर देखभाल के लिए उनकी दिनचर्या में शामिल करें और शुरू से ही बच्चे में मौखिक स्वच्छता की अच्छी आदतें को स्थापित करें। ब्रश करने से दाँतों में खाना जमा नहीं होता है, जो उनके दाँतों में कैविटी को रोकने में मदद करता है। फ्लोराइड का बहुत कम मात्रा में प्रयोग करने से यह दाँतों को सड़ने से बचाता है ।

फ्लोराइड क्या है?

फ्लोराइड एक प्राकृतिक खनिज है जो नल के पानी और टूथपेस्ट में पाया जाता है। फ्लोराइड बच्चों के विकासशील दाँतों को मजबूत करने, इनैमल को मजबूत करने और दाँतों को सड़ने से रोकता है ।

कैसे पता करें कि आपका शिशु पर्याप्त फ्लोराइड ले रहा है?

नल के पानी में फ्लोराइड पाया जाता है, जो शुरुआत में फ्लोराइड की आवश्यकता को पूरा करता है, हालांकि इस बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श कर लें, क्योंकि बहुत अधिक फ्लोराइड आपके बच्चे के दाँतों को नुकसान भी पहुँचा सकता है।

क्या बच्चे को फ्लोराइड सप्लीमेंट देना सुरक्षित है?

पहले छह महीनों के दौरान शिशुओं को फ्लोराइड सप्लीमेंट नहीं दी जानी चाहिए। छह महीने के बाद, डॉक्टर की सलाह पर आधारित फ्लोराइड सप्लीमेंट आपके बच्चे को नल के पानी और टूथपेस्ट के माध्यम से दिया जा सकता है।

अगर बच्चे को ब्रश करना पसंद नहीं है तो क्या करें?

आपके बच्चे को ब्रश करते समय असुविधा महसूस हो सकती है और शुरुआत में वो अपने दाँतों को ब्रश करने के लिए इनकार कर सकते हैं। इसके लिए आप इस गतिविधि को मजेदार बनाएं ताकि बच्चे को ब्रश करने में मजा आए और वो खुद से ब्रश करना पसंद करें।

दाँतों के डॉक्टर से कब परामर्श करें?

यदि आपके बच्चे को शुरुआत में ब्रश करने में परेशानी हो रही है, तो डॉक्टर या दंत विशेषज्ञ से सलाह लें। दाँतों के लिए किसी भी प्रकार का जेल या क्रीम का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें। अपने बच्चे को एस्पिरिन न दें क्योंकि इससे उन्हें रेये सिंड्रोम हो सकता है और 18 साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु हो सकती है।

बच्चों के दाँतों को ब्रश करना उतना भी मुश्किल नहीं है। उपरोक्त टिप्स का पालन करके और बच्चे को फ्लोराइड देते समय उसकी मात्रा को ध्यान में रखते हुए आप उनकी मौखिक स्वच्छता का अच्छे से ध्यान रख सकती हैं। साथ ही उनमें मौखिक स्वच्छता के प्रति जागरूकता उत्पन्न कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें:

बच्चों के दाँत निकलने संबंधी मिथक व धारणाएं
बच्चे के दाँतों को ब्रश करना कैसे शुरू करें