बच्चों में बुखार के लिए 14 सर्वश्रेष्ठ घरेलू उपचार

Rest and Sleep are Healers

Last Updated On

बच्चों को बुखार होना आम बात है। और इसलिए मातापिता को यह दुविधा होना भी आम बात है कि जब बच्चे को बुखार होता है तो डॉक्टर के पास भागें या घर पर ही बच्चे का इलाज करें।

सोचसमझ के निर्णय लेने के लिए, यह समझना बेहद ज़रूरी है कि बच्चों को बुखार क्यों होता है। बुखार मानव शरीर द्वारा संक्रमण से लड़ने के लिए उपयोग की जाने वाली एक आत्मरक्षा प्रणाली है। उच्च तापमान पर, शरीर श्वेत रक्त कोशिकाओं का उत्पादन करता है जो किसी भी संक्रमण से रक्षण करती हैं और वायरस या बैक्टेरिया को बढ़ने से रोकती हैं। दिलचस्प बात यह है कि बुखार कम करने से असल में संक्रमण से लड़ने वाले शरीर के प्राकृतिक तंत्र में बाधा आ सकती है।

बच्चों में बुखार के बारे में तथ्य

अधिकांश मातापिता बुखार के बारे में चिंता करते हैं और इसे कम करने के लिए पूरी कोशिश करते हैं। लेकिन, हालांकि सिर्फ तापमान नापने से यह नहीं पता किया जा सकता की बुखार को लेकर चिंता की जाए या नहीं । मातापिता के तौर पर, आपको यह देखना होगा कि आपका बच्चा कितना सहज है। अगर आपके बच्चे को हल्का बुखार है पर वह फुर्तीला है, तो आपको ज्यादा परेशान होने की आवश्यकता नहीं है! हालांकि, बच्चे के खानेपीने की और वह पेशाब कब और कितना करता है, इसकी निगरानी रखना महत्त्वपूर्ण है। अगर सबकुछ सामान्य हैं, तो घबराने या हड़बड़ी में डॉक्टर के पास भागने की आवश्यकता नहीं है। बस बच्चे में सुधार या बदलाव के संकेतों पर नज़र रखें। लेकिन, अगर आपका बच्चा असहज है, और बुखार 104 डिग्री को पार कर जाता है या लगातार दो दिनों तक रहता है, तो अपने बच्चे को डॉक्टर को बिना विलम्भ किए दिखाए ।

बेशक इलाज के लिए दवा पीना आसान हो सकता है, लेकिन यह ज़रूरी नहीं कि वह सबसे अच्छा विकल्प हो। बुखार के लिए घरेलू प्राकृतिक उपचार करने से आपके बच्चे को संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर की क्षमता को बढ़ाकर प्रतिरक्षा का निर्माण करने में मदद मिलती है। कुछ दवाइयाँ जो आमतौर पर बुखार को कम करने के लिए दी जाती हैं, अगर नियमित रूप से ली जाए तो ये यकृत को क्षति पहुँचाते है और अन्य हानिकारक दुष्प्रभावों जैसे अस्थमा या गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रक्तस्राव का कारण बन सकती हैं। ऐसी दवाओं को केवल तभी लेना अच्छा होता है जब बुखार को कम करने के प्राकृतिक तरीके विफल हो जाएँ, यहाँ आपको निम्नलिखित मामलों के बारे में जानकारी दी गई है आपको अपने बाल रोग विशेषज्ञ से तुरंत संपर्क करना चाहिए :

  • यदि बच्चा बहुत छोटा है और उसे 100.4 डिग्री या उससे अधिक बुखार है।
  • यदि किसी अन्य मुद्दे जैसे कीमोथेरेपी के कारण बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो गई है।
  • यदि बच्चे का बुखार, खाँसी, ज़ुकाम या बदन दर्द लगातार दो से तीन दिनों तक रहता है।
  • यदि बच्चा बुखार के साथसाँस लेने में तकलीफ का अनुभव करता है।

बच्चों में बुखार के इलाज के लिए 14 घरेलू उपचार

यदि आप रात में जागें और पता चले कि आपके बच्चे का माथा गर्म है, तो घबराएँ नहीं। गहरी साँस लें और निम्नलिखित बातों का विश्लेषण करें :

  • यदि आपका शिशु ज़ुकाम से पीड़ित है, तो उसे बुखार होने की संभावना है।
  • आपके बच्चे को टीकाकरण के बाद भी बुखार हो सकता है।
  • कई शिशुओं को दाँत निकलते हुए बुखार होता है।

यहाँ बच्चों में बुखार के लिए कुछ प्रभावी उपचार दिए गए हैं, जिन्हें सीधे एक माँ की किताब से उठाया गया है! ये ऐसे उपचार हैं जिनकी हमारी माताएँ और दादीनानी गारंटी लेती हैं और जो बुखार से राहत दिलाने में बहुत सक्षम होते हैं:

1. प्याज रगड़ें

यदि आप भारतीय हैं, तो आपने अपनी माँ और दादी को प्याज के औषधीय लाभों के बारे में कहते सुना होगा। प्याज न केवल शरीर के तापमान को कम करने में मदद करता है बल्कि बुखार के दौरान शरीर के दर्द से भी छुटकारा दिलाता है। बस एक पूरे प्याज को पतले चकतों में काटें और कुछ मिनटों के लिए अपने बच्चे के पैरों पर 2 से 3 टुकड़े रगड़ें। बुखार कम करने के लिए इस प्रक्रिया को दिन में दो बार दोहराया जा सकता है।

2. अदरक स्नान

अदरक उन बैक्टेरिया को मारने में सक्षम है जो बच्चों में बुखार के लिए जिम्मेदार हैं। यह निकालने में मदद करता है, जो बदले में, शरीर की गर्मी और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। गर्म पानी से भरे एक स्नानटब में लगभग 2 बड़े चम्मच अदरक का चूर्ण डालें। चूर्ण को अच्छी तरह से मिलाएं । अब आप अपने बच्चे को एक गर्म अदरक स्नान दे सकते हैं। स्नान के बाद पसीना आने से उसके शरीर की गर्मी कम होगी और विषाक्त पदार्थ बाहर निकल आएँगे। अदरक बच्चों में बुखार के लिए एक प्रभावी घरेलू उपचार हो सकता है। स्नान कराते समय, अपने बच्चे की आँखों को संपर्क से बचाएँ।

3. कैमोमाइल चाय

कैमोमाइल चाय

कैमोमाइल चाय बुखार के लिए एक अच्छा उपचार है। पानी उबालें और कैमोमाइल चाय की पत्तियों को एक मिनट के लिए उसमें छोड़ दें। इसमें शहद मिलाएं और अपने बच्चे को दिन में लगभग दो बार उतनी बूँदें पिलाएं जितनी वो पी सके। कुछ बच्चे स्वाद के बदलाव को पसंद नहीं करते, इसलिए सिर्फ आशा करें की वो इसे पी लें ।

4. नींबू के रस में शहद

नींबू का विटामिनसी हमारे शरीर की प्रतिरक्षा को मजबूत करता है। शहद हमारे शरीर को पोषण देता है। बुखार को कम करने में दोनों का मेल प्रभावी है। आप 1 बड़े चम्मच नींबू के रस में 1 बड़ा चम्मच शहद मिला सकती हैं। इसे अच्छी तरह से मिलाएँ और अपने बच्चे को खिलाएँ। उसका बुखार ज़रूर कम होगा।

5. अपने बच्चे की सरसों के तेल और लहसुन से मालिश करें

आपने सुना होगा कि सरसों का तेल और लहसुन प्रभावी रूप से बुखार को कम करते हैं। यह बिल्कुल सच है। इसके अलावा, यह शरीर के दर्द को कम करता है और पसीना निकालने में मदद करता है जिससे शरीर के विषाक्त पदार्थ बाहर आ जाएँ। बस 2 बड़े चम्मच सरसों के तेल को गर्म करें और इसमें 1 बड़ा चम्मच लहसुन का पेस्ट डालें। 2 मिनट के लिए मिश्रण को बिना छेड़े छोड़ दें। सोने से पहले अपने बच्चे के सीने, पैरों, हथेलियों, पीठ और गर्दन पर मिश्रण को लगाएँ।

6. अंडे की सफेदी में भिगोना

अंडे की सफेदी के 3 बड़े चम्मच लें और इसे एक छोटे कटोरे में फेंट लें। इसमें एक साफ कपड़े का टुकड़ा डुबोएँ। कपड़े को एक मिनट के लिए भिगोने के लिए छोड़ दें और फिर अपने बच्चे के पैरों को कपड़े से ढक दें। इसे अपने बच्चे के पैरों पर एक घंटे के लिए छोड़ दें। यह आपके बच्चे के शरीर के तापमान को कम करेगा। आप उसके बुखार को प्रभावी ढंग से कम करने के लिए इस प्रक्रिया को दोहरा भी सकती हैं।

7. मुनक्का

मुनक्का में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स और प्रतिजीवाणु गुणों के कारण, वह संक्रमण से लड़कर प्रभावी रूप से बुखार को कम करता है। आप लगभग 25 मुनक्का आधे कप पानी में 1 घंटे के लिए भिगो दें। जब मुनक्का नरम हो जाए, तो उन्हें कूट लें और निकले रस को छान लें। इस रस में आधे नींबू का रस मिलाया जा सकता है। अपने बच्चे को इस रस का सेवन प्रतिदिन दो बार कराएँ और बुखार को कम होते देखें।

वायरल बुखार के घरेलू उपचार

वायरल बुखार मौसमी संक्रमण होते हैं और घर पर ही इनका इलाज किया जा सकता है। छोटे बच्चों के लिए वायरल बुखार के कई घरेलू उपचार हैं :

1. सूखा साबुत धनिया

सूखे साबुत धनिये में मौजूद फायटोन्यूट्रिएंट्स और विटामिन्स शरीर की प्रतिरोधक क्षमता के निर्माण में मदद करते हैं। ये वायरल बुखार के खिलाफ आपके बच्चे की प्रभावी रूप से रक्षा कर सकता है। उबलते पानी में साबुत धनिया डालें। जब घोल ठंडा हो जाए, तो इसे छान लें, और दूध और चीनी मिलाएँ। यह आराम पहुँचाने वाला पेय अपने बच्चे को बुखार कम करने के लिए पिलाएँ।

2. सोआ के बीज

सोआ के बीजों में मोनोटर्पीन्स और फ्लेवनोइड्स होते हैं जो शरीर के तापमान को प्रभावी ढंग से कम करके वायरल बुखार से लड़ने के लिए एक प्रतिजैविक एजेंट का कार्य करते हैं। आप इससे काढ़ा तैयार कर सकती हैं और इसे अपने बच्चे को उसके बुखार कम करने के लिए पिला सकती हैं।

3. तुलसी की पत्तियाँ

बेसिल या तुलसी के पत्तों में एंटीबायोटिक, कीटाणुनाशक गुण होते हैं। इसके अतिरिक्त वे स्वभाव से बैक्टीरियारोधक और कवकनाशी होते हैं। तुलसी का उपयोग पुराने समय से वायरल बुखार के लिए किया जाता रहा है। आपको एक लीटर पानी में 20 तुलसी के पत्तों को उबालना है और उसमें आधा चम्मच पिसी हुई लौंग मिलानी है। घोल को आधा होने तक उबालें और हर दो घंटे में इसे अपने बच्चे को पिलाएँ। यह बुखार को कम कर सकता है।

4. चावल का मांड

चावल का मांड मूत्रवर्धक का काम करता है। यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत करने में मदद करता है। यह पेशाब को बढ़ावा देता है जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। वायरल बुखार को प्रभावी रूप से कम करने के लिए आप घरेलू उपाय के रूप में चावल के मांड का उपयोग कर सकती हैं।

5. मेथी दाना

मेथी दाने में अल्कलॉइड्स, सैपोनिन्स और डायोसजेनिन होते हैं जो कई औषधीय गुणों से भरें हुए हैं। वे प्रभावी रूप से वायरल संक्रमण को कम कर सकते हैं। आपको मेथी के दानों को रात भर पानी में भिगोना है । फिर इसके पानी को छान लें और अपने बच्चे को पूरे दिन इसका पानी पिलाएँ। यह प्रभावी रूप से बुखार को कम कर सकता है।

6. नारियल का तेल

नारियल के तेल में भी बैक्टेरियारोधक और वायरलरोधक गुण होते हैं। आप अपने बच्चे के भोजन में इसे थोड़ी मात्रा में मिलाकर इसका सेवन करा सकती हैं।

7. कॉड लिवर तेल

कॉड लिवर तेल का सेवन शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने में सामान्य रूप से प्रभावी है। मौसमी संक्रमण को दूर करने के लिए इसे नियमित रूप से अपने बच्चे को दें।

बुखार को प्राकृतिक रूप से कम करने के सुझाव

बिना चिकित्सकीय उपचार के अपने बच्चे के बुखार को शांत करने के लिए इन प्राकृतिक उपचारों को भी ध्यान में रखें।

1. स्पंज स्नान या गर्म स्नान

शिशुओं के लिए, एक गर्म स्पंज स्नान और बड़े बच्चों के लिए, एक टब में गर्म स्नान बुखार के दौरान वाकई सुखदायक हो सकता है। गर्म स्नान तापमान को नियंत्रित करने में मदद करता है। शरीर से पानी वाष्पित होने के साथ ही शरीर का तापमान कम हो जाता है। बुखार के दौरान ठंडे पानी के स्नान से बचना चाहिए। ठंडा पानी कंपन पैदा कर सकता है और शरीर के तापमान को और बढ़ा सकता है।

ध्यान दें: पुराने समय में, बुखार के इलाज के लिए एक विशिष्ट मलने वाले अल्कोहॉल से मालिश करना आम बात थी। हालांकि, शोध से पता चलता है कि अल्कोहॉल तापमान बढ़ा सकता है और यहाँ तक कि अल्कोहॉल विषाक्तता को जन्म दे सकता है। इस उपाय से बचें तो अच्छा रहेगा।

2. पंखे का इस्तेमाल सूझबूझ से करें

आपके बच्चे को बुखार होने पर, पंखा बंद करने जैसी पुरानी धारणाएँ पर आप फिर से सोच सकती हैं। सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे को एक ऐसे कमरे में रखा जाए, जो खिड़कियों वाला और हवादार हो। आप बच्चे के चारों ओर हवा का संचार बनाए रखने के लिए हमेशा पंखे को चलाकर रख सकती हैं। पंखे की गति कम रखें ताकि कमरे का तापमान सामान्य रहे जिससे कि बच्चे को कंपकंपी न चढ़े।

3. अपने बच्चे को नियमित अंतराल पर खिलाए

बुखार के दौरान, शरीर को विटामिन ए, बी, सी, कैल्शियम, सोडियम और आयरन की अधिक आवश्यकता होती है। बताए गए आहार एक उच्च कैलोरी, उच्च प्रोटीन, कम वसा और उच्च तरल वाला आहार है। सब्जियों वाला बोन ब्रॉथ या चिकन सूप बच्चे को खिलाया जा सकता है। बोन ब्रॉथ में कार्टिलेज की उच्च मात्रा होती है जो श्वेत रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करती है जो संक्रमण के खिलाफ शरीर की रक्षा करती है।

सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा ऐसा भोजन खाता है जो आसानी से पच सके। शुरुआत में बच्चे को हर दो घंटे में खिलाए और जब बच्चा बेहतर हो जाए, तो आप बारंबारता घटाकर चार घंटे में एक बार कर सकती हैं। अपने बच्चे को खाने के लिए मजबूर न करें। मसालेदार, वसायुक्त और उच्च रेशेदार खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए क्योंकि ये पचने में कठिन होते हैं। कस्टर्ड, हल्की दाल, अंडे, भुनी मछली, अनाज, उबली हुई सब्जियाँ और सूखा मेवा भोजन के अच्छे विकल्प हैं। यदि आपका शिशु छोटा है, तो केले की प्यूरी और मसले हुए आलू बढ़िया रहेंगे। चावल और दाल से बनी खिचड़ी एक और अच्छा विकल्प है।

4. अपने बच्चे को पानी की कमी न होने दें

सूप और ठोस भोजन के अलावा, पानी और रसों के रूप में तरल पदार्थ का सेवन आवश्यक है। फलों के रस, ग्लूकोज़ का पानी, दूध, जौ का पानी, नारियल पानी और छाछ शरीर के ऊर्जा स्तर को बढ़ाते हैं और इसे वह शक्ति देते हैं जो उसे ठीक होने के लिए चाहिए। नवजात शिशु, जिन्हें स्तनपान कराया जा रहा है, उन्हें हर 10 मिनट में पिलाया जाना चाहिए। यदि बच्चे को बोतल से दूध पिलाया जाता है, तो सुनिश्चित करें कि आप शरीर से तरल पदार्थ के नुकसान की भरपाई के लिए पिलाने की बारंबारता बढ़ा दें। एक नवजात शिशु को प्रत्येक खाने के साथ लगभग 30 मिलीलीटर अतिरिक्त मिलना चाहिए। एक साल के बच्चे को प्रत्येक फीडिंग पर 90 मिली मीटर तक की आवश्यकता हो सकती है। जब संदेह हो, तो अपने डॉक्टर से इस बारे में चर्चा करें क्योंकि आवश्यक अतिरिक्त मात्रा बच्चे की उम्र और वजन के आधार पर अलगअलग होगी। ओ.आर.एस. (ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्यूशन), अपर्याप्त तरल पदार्थ के सेवन की भरपाई करने में भी मदद करता है जो घर पर बुखार के इलाज का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है।

5. हल्के वस्त्र चुनें

बुखार के दौरान, शरीर के ताप को कम होने देने के लिए बच्चों को हल्के कपड़े पहनाए जाने चाहिए। कपड़ों की मोटी परतें शरीर की गर्मी से बुखार को बढ़ा देती हैं। अगर बच्चा काँप रहा हो तो कंबल का इस्तेमाल करें।

6. घर के भीतर रहें

बुखार के दौरान अपने बच्चे को सीधी धूप न लगने दें। बच्चे को शांत और छाया वाली जगह में रखें, अच्छा हो अगर आप उसे भीतर ही रखें । सार्वजनिक स्थानों पर अत्याधिक संपर्क से बचना बेहतर है क्योंकि एक कमजोर शरीर जल्दी संक्रमणों की चपेट में आ सकता है।

7. आराम और नींद कल्याणकारी हैं

पर्याप्त आराम और नींद बच्चे को तरोताज़ा कर सकती है। आराम के दौरान, शरीर स्वस्थ होने में ऊर्जा का इस्तेमाल कर सकता है बजाय उसे अन्य किसी गतिविधियों को करने में बांटा जाए। यदि बच्चा सोने में आनाकानी करता है, तो उनके लिए ऐसी गतिविधियाँ चुनें जो उन्हें ज़्यादा उधम मचाने से रोक सके जैसे कि रंग भरना, पहेली हल करना, या पसंदीदा खिलौने से खेलना। यदि आपके पास समय है, तो उन्हें कहानियाँ सुनाए, साथ में वीडियो देखें या उन्हें कविताएँ सिखाए। इस तरह, कम हलचल से, शरीर वास्तविक बीमारी को ठीक करने की दिशा में अधिक ऊर्जा लगा पाएगा।

8. सलाइन ड्रॉप्स बुखार को कम कर सकते हैं

230 मिली पानी में ¼ बड़ा चम्मच नमक डालकर सलाइन ड्रॉप्स तैयार की जा सकती हैं। नमक के पूरी तरह से घुलने तक पानी को हिलाते रहें। ड्रॉपर के साथ अपने बच्चे के प्रत्येक नथुने में सावधानी से 2 बूंदें डालें। सलाइन ड्रॉप्स इस्तेमाल करने से बंद नाक खोलने में मदद मिलती है और बुखार कम होता है।

9. धुएँ के संपर्क से बचें

धुआँ शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को कमज़ोर कर देता है। धुएँ के संपर्क में आने पर, शरीर को वायरस और बैक्टेरिया से लड़ने के लिए कठिन संघर्ष करना पड़ता है। इससे शरीर का तापमान बढ़ जाता है। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आपका शिशु सिगरेट, निकोटीन या किसी अन्य तंबाकू उत्पादों के परोक्ष धूम्रपान के संपर्क में न आए।

10. ठंडी सेक का प्रयोग करें

शिशुओं में बुखार के प्राकृतिक घरेलू उपचारों में ठंडे सेक का उपयोग शामिल है। माथे और गर्दन के पिछले हिस्से पर एक ठंडा सेक सफलतापूर्वक छोटे बच्चों में बुखार को कम कर सकता है। 4 बड़े चम्मच ठंडे पानी में 2 बड़े चम्मच सेब का सिरका मिलाएँ। शरीर से गर्मी हटाने के लिए सेब का सिरका प्रभावकारी है। सामग्री को अच्छी तरह से मिलाना ज़रूरी है। साफ कपड़े के टुकड़े का इस्तेमाल करके मिश्रण को एक मिनट के लिए उसमें सोखने दें। अतिरिक्त पानी निकालें और इसे अपने बच्चे के माथे और गर्दन के पिछले हिस्से पर कुछ मिनटों तक के लिए रखें।

11. भाँप लेना फायदेमंद है

यदि बुखार के साथ ज़ुकाम भी है, तो भाँप बुखार के लिए जिम्मेदार बलगम को निकालने में मदद कर सकती है। घर पर भाँप का स्नान बुखार का एक प्रभावकारी उपचार हो सकता है। एक भाँप के बर्तन में गर्म पानी भरें और उसमें कुछ बूँदें नीलगिरी के तेल की मिलाए। अपने बच्चे को भाँप लेने में उसकी मदद करें। गर्म और नम हवा की साँस लेने से बलगम निकालने में मदद मिलेगी और अंततः बुखार कम होगा।

बुखार के दौरों से निपटना

छोटे बच्चों में बुखारी दौरे पड़ना एक आम बात है। आप सोच रही होंगी हैं कि बुखारी दौरा क्या है? 6 महीने से 5 साल तक के बच्चों में, तेज बुखार के साथ ऐंठन भी हो सकती है। आपके बच्चे की आंखे घूमना उल्टी होना या उसकी लार बहते हुए दिखेगी । यह भी संभव है कि उसका शरीर झटके मारे, फड़के या अकड़ जाए। दौरा कुछ सेकंड से लेकर 15 मिनट तक का हो सकता है जिसे आमतौर पर बहुत लंबा माना जाता है। यदि दौरा 3 मिनट से ज़्यादा तक जारी रहता है, तो तुरंत अपने बाल रोग विशेषज्ञ से संपर्क करें। एक दौरे के दौरान अपने बच्चे को आराम देने के लिए, उसे करवट पर लिटाएँ। उल्टी की वजह से दम घुटने से बचने के लिए, उसके सिर को ध्यान से एक तरफ घुमा दें। दौरे के दौरान उसे कुछ भी न खिलाएँ, यहाँ तक कि दवाई भी नहीं।

तो, बुखार के लिए इन भारतीय घरेलू उपचारों का इस्तेमाल करके देखें जिनके कोई भी हानिकारक दुष्प्रभाव नहीं हैं। इन्हें प्रथम उपचार के रूप में आज़माएँ। हालांकि, यदि आपको सुधार नहीं दिखता है या लगता है कि लक्षण बिगड़ रहे हैं, तो डॉक्टर से परामर्श करें।