बड़े बच्चे (5-8 वर्ष)

बच्चों में हड्डी का फ्रैक्चर – प्रकार, कारण, निदान और उपचार

बच्चों के लिए खेलकूद एक नियमित एक्टिविटी होती है। खेल उनके विकास के मुख्य अंगों में से एक है। लेकिन कई बार बच्चे खेलते समय बहुत शैतानी करते हैं और उन्हें छोटी-मोटी चोटें लगना भी आ बात है। इसलिए इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं होगी कि किसी दिन आपका बच्चा खेलने के बाद दर्द की शिकायत करते हुए घर वापस आए। लेकिन ऐसे में अगर आपके बच्चे को फ्रैक्चर हुआ है यानी उसकी हड्डी टूट गई है, तो आपको इस पर ध्यान देने की जरूरत है। 

फ्रैक्चर या हड्डी टूटना क्या होता है?

जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है, हड्डी का टूटना एक ऐसी स्थिति होती है जहां हड्डी में क्रैक या छोटी सी दरार आ जाती है, इसे बोन फ्रैक्चर कहा जाता है। बोन फ्रैक्चर के प्रकारों को दो हिस्सों में बांटा गया है:

1. ओपन फ्रैक्चर

यह फ्रैक्चर तब होता है जब आपका घाव खुला हुआ हो, आमतौर पर इसमें त्वचा के बीच से हड्डी का टूटना शामिल है। ओपन फ्रैक्चर को खतरनाक माना जाता है और इस पर तुरंत ध्यान देने की जरूरत पड़ती है क्योंकि बैक्टीरिया और अन्य बाहरी कारक इंफेक्शन फैला सकते हैं।

2. क्लोज फ्रैक्चर

इसमें कोई घाव खुला नहीं होता है और इंफेक्शन का खतरा भी काफी कम होता है। हालांकि, इसमें टिश्यू को चोट पहुंच सकती है और इसका इलाज सॉफ्ट टिश्यू को होने वाले नुकसान पर आधारित होता है।

बच्चों में हड्डी के फ्रैक्चर के सामान्य प्रकार

आपके बच्चे को होने वाले कुछ सामान्य प्रकार के फ्रैक्चर में शामिल हैं:

1. बकल फ्रैक्चर

यह फ्रैक्चर काफी अलग है क्योंकि इसमें हड्डी टूटती नहीं है बल्कि बस झुक जाती है या टेढ़ी हो जाती है। यह फ्रैक्चर छोटे बच्चों में होता है क्योंकि उनकी हड्डियां अभी भी बढ़ रही होती हैं और लचीली होती हैं। इस प्रकार के फ्रैक्चर वाले बच्चे इलाज के दौरान अच्छा रिस्पांस देते हैं और कुछ ही समय में ठीक हो जाते हैं।

2. ग्रीनस्टिक फ्रैक्चर

इस प्रकार के फ्रैक्चर में हड्डी पहले झुकती है और फिर टूट जाती है। हालांकि, यह फ्रैक्चर अधूरा रह जाता है क्योंकि इसमें हड्डी पूरी तरह से टूटती नहीं है।

3. सुप्राकोंडाइलर फ्रैक्चर

यह आमतौर पर तब होता है जब बच्चा अपने हाथों के बल जमीन पर गिर जाता है और कोहनी के पास की हड्डी टूट जाती है। कभी-कभी, टूटी हुई हड्डी (ह्यूमरस) उन नसों को प्रभावित करती है जो मोटर फंक्शन को कंट्रोल में रखती हैं जिससे उसके लिए इंडेक्स फिंगर यानी तर्जनी अंगुली की टिप को मोड़ना या ओके साइन करना मुश्किल हो जाता है। बच्चों में टूटी हुई कोहनी की रिकवरी का समय छह हफ्ते है।

4. मिड शाफ्ट फोरआर्म फ्रैक्चर

इस तरह का फ्रैक्चर बांह के बीच के हिस्से में होता है और खासकर मंकी बार्स या ट्रैम्पोलिन से गिरने के कारण होता है। यह एक ओपन फ्रैक्चर है और ज्यादातर मामलों में, इसमें बांह में मौजूद दोनों हड्डियां (रेडियस और उल्ना) प्रभावित होती हैं। स्टडीज से पता चला है कि दस साल से कम उम्र के बच्चे बिना सर्जरी के भी इससे ठीक हो सकते हैं।

5. गलएआजी फ्रैक्चर

यह फ्रैक्चर कलाई के पास मौजूद रेडियस हड्डी को नुकसान पहुंचाता है। ऐसा होने की अधिक संभावना तब होती है यदि बच्चा अपनी कलाई के सहारे अपने साइड में नीचे गिर जाए।

6. मोंटेगिया फ्रैक्चर

यह एक ऐसा फ्रैक्चर है जो मुख्य रूप से कोहनी से कुछ सेंटीमीटर नीचे के हिस्से को प्रभावित करता है। 60 प्रतिशत मामलों में, इसमें केवल उल्ना हड्डी प्रभावित होती है। हालांकि, कभी-कभी ऐसा होता है जब रेडियस बोन या तो जगह से खिसक जाती है या टूट भी जाती है। यह एक गंभीर चोट है और इसके लिए सर्जरी की जरूरत पड़ती है।

7. मेटाफिसियल फ्रैक्चर

यह टिबिया, फीमर आदि जैसी लंबी हड्डियों के बढ़ते कार्टिलेज की चोट से जुड़ा हुआ है। फ्रैक्चर का यह रूप तब होता है जब आपके बच्चे के किसी अंग को हिंसक तरीके से हिलाया गया हो। इस तरह के फ्रैक्चर के इलाज में लगभग तीन महीने का समय लगता है।

8. क्लेविकल फ्रैक्चर

इस फ्रैक्चर में कॉलरबोन प्रभावित होती है। बच्चों में क्लेविकल फ्रैक्चर कंधे के बल या फैले हुए हाथ के बल गिरने की वजह से होता है।

फ्रैक्चर क्यों होता है

बच्चों में फ्रैक्चर होने के कई कारणों में शामिल हैं:

  • गलत पोजीशन में गिरना
  • चीजों के बीच अंगुली का फंस जाना
  • किसी अंग का अचानक से ट्विस्ट हो जाना

बच्चों में हड्डी टूटने के संकेत और लक्षण

इनमें शामिल हैं:

  • सूजन
  • शरीर पर चोट का दिखना
  • दर्द
  • टूटी हड्डी वाले अंग को हिलाने पर दर्द होना

टूटी हड्डी की पहचान कैसे होती है?

कुछ प्रक्रियाएं हैं जो इसकी जांच और निदान ​में शामिल हैं:

1. एक्स-रे

यह प्रक्रिया शरीर के अंदर के हिस्सों जैसे हड्डियों की तस्वीरें लेने के लिए इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव्स का उपयोग करती है।

2. सीटी स्कैन

सीटी स्कैन कंप्यूटर टोमोग्राफी का शार्ट फॉर्म है, यह स्कैन अधिक डिटेल में जांच करने वाला एक्स-रे है जो शरीर के अलग-अलग एंगल से तस्वीर निकालने के लिए इस तकनीक का उपयोग करता है। इसमें इमेजिंग की गुणवत्ता एक्स-रे से अधिक अच्छी होती है।

3. अल्ट्रासाउंड

ट्रांसड्यूसर के रूप में जाना जाने वाला एक डिवाइस, शरीर के अंदरूनी स्ट्रक्चर को मैप करने के लिए साउंड वेव्स का उपयोग करता है। एक्स-रे की क्षमताओं के समान, अल्ट्रासाउंड का उपयोग बच्चों में विशेष रूप से कंधे से जुड़ी चोटों के लिए किया जाता है।

फ्रैक्चर का इलाज कैसे होता है?

बच्चों में टूटी हुई हड्डियों का इलाज कास्ट की मदद से किया जाता है। आमतौर पर सर्जरी की सलाह नहीं दी जाती है। यदि हड्डी ठीक से जगह पर नहीं लगती, तो उसे वापस सही जगह में रखा जाता है और वहीं कुछ समय तक बांधकर रखा जाता है जिसे रिडक्शन के रूप में जाना जाता है।

फ्रैक्चर का घरेलू उपचार

घर पर फ्रैक्चर से निपटने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं:

  • कोल्ड कंप्रेस (ठंडी सिकाई) से सूजन को कम करने में मदद मिलती है।
  • जल्द से जल्द किसी हड्डी के डॉक्टर को दिखाएं।

टूटी हड्डी कैसे ठीक होती है?

हड्डी टूटने के तुरंत बाद खून का बहाव तेज हो जाता है और इसमें प्रोटीन जिसे हेमेटोमा कहा जाता है, उसका उपयोग हड्डी में गैप को भरने के लिए किया जाता है। नई हड्डी का विकास टूटी हुई हड्डी के किनारों पर होता है। इसके अतिरिक्त, कार्टिलेज टिश्यू का निर्माण गैप को भरने के लिए होता है जिसे मजबूज कार्टिलेज द्वारा बदला जाता है, जब तक कि हड्डी पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाती।

बच्चों में हड्डियों का टूटना आम बात है। हालांकि, बड़ों की तुलना में बच्चों में बहुत ही लचीला स्केलेटन स्ट्रक्चर (हड्डियों का ढांचा) होता है जिसके कारण वह ठीक भी जल्दी होते हैं ।

यह भी पढ़ें:

बच्चों में (गुर्दे की पथरी) किडनी स्टोन होना
बच्चों को दाद होना: कारण, लक्षण और उपचार
बच्चों में पैर दर्द की समस्या – कारण और घरेलू उपचार

समर नक़वी

Recent Posts

श्रेया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shreya Name Meaning in Hindi

हम आपको इस लेख के जरिए श्रेया जैसे बेहतरीन नाम का मतलब, राशि और इन…

2 days ago

साक्षी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Sakshi Name Meaning in Hindi

कुछ लड़कियों का नाम इतना यूनीक और प्यारा होता है कि हर कोई उनके माता-पिता…

2 days ago

शिवानी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shivani Name Meaning in Hindi

किसी भी इंसान के जीवन में उसके नाम का काफी योगदान होता है। आपको शायद…

2 days ago

प्रिया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priya Name Meaning in Hindi

कुछ नाम ऐसे होते हैं जो रखे ही उन लोगों के लिए जाते हैं, जो…

2 days ago

प्रीति नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priti Name Meaning in Hindi

बेटियां जितनी प्यारी होती हैं माता-पिता उनका उतना ही प्यारा नाम रखने की कोशिश करते…

4 days ago

शुभम नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shubham Name Meaning in Hindi

बच्चे का आपके घर में जन्म लेना ही इस बात का सबूत है कि ईश्वर…

4 days ago