प्रसव की नियत तारीख की गणना कैसे करें

प्रसव की नियत तारीख की गणना कैसे करें

Last Updated On

एक औसतन गर्भावस्था 40 सप्ताह तक चलती है जबकि मनुष्य में वास्तविक गर्भधारण की अवधि लगभग 38 सप्ताह होती है। यही कारण है कि 38 सप्ताह के बाद किसी भी समय पैदा हुए बच्चे को पूर्णअवधि के बाद पैदा हुआ बच्चा माना जाता है। प्रसव की नियत तारीख की गणना आमतौर पर एल.एम.पी., ‘नेईगेल के नियम’ या गर्भावस्था चक्र जैसे विभिन्न तरीकों में से किसी के द्वारा की जाती है। ये सभी विधियाँ अनुमानित तारीख की गणना करने में मदद करती हैं परंतु केवल 5% महिलाएँ ही वास्तव में अपनी नियत तारीख पर बच्चे को जन्म देती हैं। आइए गहराई से नियत तारीख की गणना पर एक नज़र डालें।

प्रसव की नियत तारीख क्या है?

जिस तारीख पर आपके बच्चे के जन्म की उम्मीद की जाती है, उसे प्रसव की नियत तारीख के रूप में जाना जाता है। यह आमतौर पर आपके आखिरी मासिक धर्म के पहले दिन से लगभग 40 सप्ताह बाद की रहती है। लेकिन यदि आपको गर्भधारण की सही तारीख पता हो तो उस दिन से ठीक 38 सप्ताह बाद आपके प्रसव का समय होगा।

प्रसव की नियत तारीख क्या है?

बच्चे के विकास या अन्य कारणों के आधार पर आपकी गर्भावस्था के दौरान आपके चिकित्सक आपकी नियत तारीख को बदल सकते हैं। नियत तारीख आपके चिकित्सक को विभिन्न प्रसवपूर्व परीक्षणों का समय निर्धारित करने, भ्रूण के विकास का अनुमान लगाने, और प्रसव की तारीख निकल जाने पर किसी हस्तक्षेप की आवश्यकता है या नहीं इस बात पर विचार करने में मदद करती है।

प्रसव की नियत तारीख की गणना

हर डॉक्टर प्रसव की नियत तारीख पर की गणना अपने पसंदीदा तरीके से करता है। नियत तारीख का अनुमान लगाने के लिए आपको विभिन्न प्रकार के तरीके ऑनलाइन मिल सकते हैं। हालांकि, उपयोग में आने वाले तीन सबसे लोकप्रिय तरीके हैं:

1. प्रसव की नियत तारीख की गणना के लिए ‘नेईगेल का नियम’

यह नियम जर्मन प्रसूति विशेषज्ञ ‘फ्रांज़ कार्ल नेईगेल’ के नाम पर है, और इस नियम के अनुसार गर्भावस्था 280 दिनों तक की होती है और एक मासिक धर्म 28 दिनों की अवधि का होता है। इसका अर्थ है कि आपकी अपेक्षित नियत तारीख (.डी.डी.) आपके आखिरी मासिक धर्म के पहले दिन में 280 दिन (9 महीने और 7 दिन) जोड़कर अनुमानित की जा सकती है। लेकिन अगर आपका मासिक धर्म छोटा होता है, मान लीजिए 27 दिन का होता है, तो आपको एक दिन कम जोड़ना होगा, अर्थात 9 महीने और 6 दिन, आदि। यदि आपका चक्र लंबा है, तो आपको अपने ई. .डी. का अनुमान लगाने के लिए अतिरिक्त दिनों को 9 महीने और 7 दिनों में जोड़ना होगा।

2. प्रसव की नियत तारीख की गणना करने के लिए गर्भाधान की तारीख विधि

इसे एल.एम.पी (अंतिम मासिक धर्म) विधि के रूप में भी जाना जाता है, और इस तरीके में आपके गर्भधारण की तारीख के आधार पर आपके प्रसव की अपेक्षित नियत तारीख का अनुमान लगाया जाता है। इस विधि के सिद्धांत के अनुसार अधिकांश महिलाओं का मासिक धर्म 28 दिनों का होता है और इस मामले में, 14 वें दिन पर या उसके थोड़ा आगे पीछे डिंबोत्सर्जन होता है। इस पद्धति में, 40 सप्ताह उस तारीख में जोड़े जाते हैं जिस दिन आपका आखिरी मासिक धर्म हुआ था। इस तारीख से, आप प्रसव की अपेक्षित नियत तारीख प्राप्त करने में दो सप्ताह का समय कम कर दें। यह डिंबोत्सर्जन होने के लिए है जो आपके पिछले मासिक धर्म के बाद पहले दो हफ्तों के भीतर हुआ होगा।

3. गर्भावस्था का पहिया

गर्भावधि कैलकुलेटर के नाम से भी जाना जाने वाला गर्भावस्था का पहिया आपके प्रसव की अपेक्षित नियत तारीख का अनुमान लगाने का एक आसान तरीका बन गया है। यह आपके अंतिम मासिक धर्म की तारीख के आधार पर आपके प्रसव की नियत तारीख की गणना करता है।

गर्भावस्था का पहिया

आमतौर पर, इसमें आपकी गर्भावस्था के विभिन्न चरणों की जानकारी भी होती है। एक गर्भावस्था के पहिये में साल के महीनों, प्रसवपूर्व विकास के चरणों एवं तिमाहियों की शुरुआत और अंत को प्रदर्शित करने के लिए अलगअलग छड़ियां होती हैं।

क्या गणना की गई प्रसव की नियत तारीख गलत हो सकती है?

प्रसव की अपेक्षित नियत तारीख की गणना करने की विधियों में से कोई भी विधि दोष मुक्त नहीं है और यह गारंटी नहीं दी जा सकती कि आपका बच्चा किसी विशेष तारीख को ही पैदा होगा। आपकी अनुमानित नियत तारीख से दो सप्ताह पहले या बाद में प्रसव होनासामान्य है। आंकड़े इंगित करते हैं कि 20 में से केवल 1 महिला ही अपनी नियत तिथि पर शिशु को जन्म देती है। पहली बार गर्भधारण कर रही महिलाओं में से लगभग 10 प्रतिशत प्रसव की अपेक्षित नियत तारीख के दो सप्ताह बाद शिशु को जन्म देती हैं। इसके अलावा, लगभग 70 प्रतिशत गर्भावस्था जो प्रसव की नियत तारीख के बाद तक चलती हैं, आमतौर पर उनमें तारीख की गणना में गलती हुई होती है।

प्रसव की नियत तारीख के लिए सुझाव

जैसेजैसे आपकी नियत तारीख नजदीक आती है, आप में कई सारी भावनाएं उथलपुथल करती हैं चिंता से लेकर खुशी और फिर राहत कि लंबा इंतजार लगभग खत्म हो गया है। इस समय शिशु के लिए आपके गर्भ में जगह की कमी होने के कारण आपकी शारीरिक अस्वस्थता अपने चरम पर होगीयह तो निश्चित है। यदि यह आपका पहला बच्चा है, तो प्रसवपीड़ा और जन्म देने की चिंता से आप परेशान हो सकती हैं। तो, यहाँ बताया गया है कि उन अंतिम दिनों में आप क्या कर सकती हैं:

व्यायाम गर्भावस्था के दौरान आप जो भी व्यायाम करती रही हैं, उसे करना जारी रखें। यह प्रसवपीड़ा को प्रेरित कर सकता है और आपको प्रसव के लिए लचीला बनाने में मदद कर सकता है।

अस्पताल ले जाने वाले थैले में रखने वाली चीज़ों के लिए जाँच करेंअच्छा होगा अगर आप अस्पताल ले जाने वाले थैले में रखने वाली चीज़ों की एक बार फिर जाँच कर लें। देखें कि क्या कुछ है जो आप भूल गई हैं जिसकी आपको या शिशु को पहले दो दिनों में ज़रूरत पड़ सकती है।

भरपूर सोएं दिन में भी जितना हो सके सो लें एक बार जब आपका शिशु घर आ जाएगा, तो शुरुआती कुछ महीनों के दौरान नींद तो खराब होनी ही है!

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. प्रसव की नियत तारीख कितनी सही होती है?

सभी शिशुओं में से लगभग 5% शिशु प्रसव की नियत तारीख पर पैदा होते हैं । 90% शिशुओं का जन्म नियत तारीख से दो सप्ताह पहले या बाद में होता है। 37 सप्ताह से 42 सप्ताह के बीच का कोई भी समय सामान्य माना जाता है।

2. क्या नियत तारीख बदल सकती है?

हाँ , भ्रूण के विकास, गर्भावस्था में समस्याओं और माँ के समग्र स्वास्थ्य जैसे विभिन्न कारणों के आधार पर नियत तारीख बदल सकती है।

3. क्या नियत तारीख की गणना करने के लिए कोई अन्य तरीके हैं?

हाँ! अल्ट्रासाउंड आपको अपेक्षित नियत तारीख जानने में भी मदद कर सकता है। ये आमतौर पर गर्भावस्था के आठ और बीस सप्ताह के बीच में किए जाते हैं। बच्चे के शरीर और अंगों के विभिन्न हिस्सों के माप डॉक्टरों और रेडियोलॉजिस्ट को अनुमानित गर्भावस्था के चरण का पता लगाने में मदद करते हैं। पहली तिमाही के अल्ट्रासाउंड को नियत तारीख के अनुमान के लिए सबसे सटीक माना जाता है।

4. क्या होगा अगर मुझे अपनी आखिरी अंतिम मासिक धर्म की तारीख मालूम न हो?

ऐसे अन्य तरीके हैं जिनसे आपके डॉक्टर नियत तारीख का पता कर सकते हैं, जैसे कि अल्ट्रासाउंड।

5. क्या होगा यदि मेरा मासिक धर्म चक्र लंबे समय तक चलता है या अनियमित है?

ऐसे मामलो मे गर्भावस्था का पहिया बच्चे की नियत तारीख की गणना करने में मदद कर सकता है।

यह जानने के स्पष्ट लाभ के अलावा कि आपके शिशु के कब पैदा होने की संभावना है, यह जानना कि आपकी नियत तारीख कब है कुछ अन्य तरीकों से मददगार साबित हो सकती है। यह आपको बच्चे का कमरा तैयार करने के लिए आपके हाथ में आने वाले समय का अंदाजा देता है और यह भी निर्धारित करने में मदद करता है कि आप गर्भावस्था और मातृत्व अवकाश कब शुरू करें। लेकिन याद रखें कि यह तारीख सिर्फ एक अनुमान है और इसके बारे में चिंता नहीं करनी चाहिए। बस अपने स्वास्थ्य और अपने अजन्मे बच्चे की सेहत और तंदरुस्ती का ध्यान रखें!

डिस्क्लेमर : यह जानकारी एक डॉक्टर द्वारा दी जाने वाली चिकित्सा सलाह के विकल्प के रूप में नहीं ली जानी चाहिए।