प्रीस्कूलर (3-5 वर्ष)

मेरा घर पर निबंध (My House Essay in Hindi)

घर एक ऐसी जगह है जहां हम अपने परिवार वालों के साथ रहते हैं। सभी इमारत घर नहीं होते हैं। इमारत को घर बनाने में बहुत सी चीजों की आवश्यकता होती है। जैसे कि परिवार में आपसी प्रेम, आपसी सहयोग, सम्मान, इत्यादि। आज के लेख का विषय मेरा घर है, जिसके बारे में क्या लिख सकते हैं, कैसे लिख सकते हैं, इत्यादि के बारे में बताएंगे। घर की जरूरत क्यों होती है, घर किस चीज से बनता हैं? इन सभी प्रश्नों के उत्तर आज के लेख के माध्यम से आपको मिल सकते हैं। साथ ही जिन बच्चों को मेरा घर पर निबंध लेखन सीखना है या फिर मेरा घर पर निबंध तैयार करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको हमारा आज का आर्टिकल जरूर पढ़ना चाहिए। इस लेख में आपको 1, 2, 3, 4, 5 क्लास तक के बच्चों के लिए मेरा घर पर निबंध लिखने में मदद मिल सकती है। इस लेख को जरूर पढ़ें।

मेरा घर पर 10 लाइन (10 lines on My House in Hindi)

क्लास 1 में पढ़ने वाले छोटे बच्चों के लिए निबंध लिखना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। इसीलिए उनके मुश्किल को आसान करने के लिए शिक्षकों को आसान विषय पर निबंध लेखन की प्रैक्टिस करानी चाहिए। मेरा घर पर निबंध लिखना बच्चों के लिए आसान विषय हो सकता है। तो चलिए आपको मेरा घर पर 10 लाइन में क्या लिखा जाए बताते हैं –

  1. अपने परिवार के साथ रहने वाले स्थान को घर कहा जाता है।
  2. मेरा घर दिल्ली में स्थित है।
  3. मेरे घर चार कमरों वाला हवादार घर है।
  4. हमारे घर में एक बड़ा सा हॉल, एक किचन और एक शौचालय है।
  5. मेरे घर में पूजा घर भी है जिसमें हमारे बड़े पूजा-पाठ करते हैं।
  6. हमारे घर में कुल 8 सदस्य है।
  7. हमारे घर में एक नलकूप है जिसके माध्यम से पूरे घर में पानी की सुविधा की गई है।
  8. घर हमारी बुनियादी आवश्यकता है। यह हमें ठंड, गर्मी और बरसात के मौसम से बचाती है।
  9. मेरे घर के हर सदस्य एक दूसरे से बहुत प्रेम करते हैं।
  10. मुझे मेरा घर बहुत पसंद है क्योंकि घर में हम सब बड़े प्रेम से रहते हैं।

मेरा घर पर छोटा निबंध 200-300 शब्दों में (Short Essay on My House in Hindi 200-300 words)

यदि आपको आपके स्कूल में मेरे घर के बारे में छोटा निबंध लिखने के लिए कहा गया है। तो यह आपके लिए एक उत्साह वर्धक विषय हो सकता है। मेरा घर पर निबंध लेखन का एक ऐसा विषय है जिसे सभी बच्चे बड़े शौक से लिखना चाहेंगे। इसी विषय में आगे बढ़ते हुए मेरा घर पर छोटा निबंध 200-300 शब्दों में के बारे में बताया गया है, इससे आपको मदद मिल सकती है।

जीवन को सुचारू रूप से चलाने के लिए हर व्यक्ति की तीन मूलभूत आवश्यकता होती है और वो आवश्यकताएं है रोटी, कपड़ा और मकान। इस लाइन के बारे में आपने फिल्मों में भी सुना होगा। घर एक ऐसी जगह होती है जहां परेशान मन भी शांत हो जाता है। खुद का घर लगभग सभी के लिए जरूरी है। इससे जीवन में ठहराव आता है। हर इंसान की घर को लेकर अलग-अलग इच्छाएं होती हैं और वो उसी हिसाब से घर का निर्माण भी करवाता है। जैसे की किसी को बड़े-बड़े घरों में रहना पसंद होता है तो किसी को सामान्य घरों में रहना पसंद होता है।

मेरा घर दिल्ली की एक कॉलोनी में स्थित है जो मेन रोड से थोड़ी दूर है। रोड से दूर होने के कारण हमारे घर में बाहरी शोर शराबा कम रहता है। हमारे यहां का वातावरण रास्ते के किनारे बने घरों से बेहतर है क्योंकि यहां पर प्रदूषण कम है। तीन रूम, एक किचन, एक बाथरूम और एक हॉल का मेरा घर बहुत सुंदर है। मेरे घर में एक मंदिर भी है। हमारे घर में जगह-जगह पर पौधें लगाए गए हैं ताकि घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहे। हमारे घर में दादा-दादी, माता-पिता और दो भाई-बहन मिलाकर कुल छह सदस्य हैं। हमलोग आपस में बड़े प्रेम से रहते हैं। हमारे घर में एक सुंदर सा बगीचा है जिसकी देखभाल दादा जी के द्वारा की जाती है। दिवाली के समय हर साल घर की साफ-सफाई की जाती है।

घर में जो शांति और सुकून मिलता है वो कहीं और नहीं मिलता है। मेरा घर मुझे बहुत प्रिय है। घर के बारे में सोचते ही ऐसा दृश्य प्रतीत होता है जहां पर परिवार के सभी सदस्य एक साथ हंसते-खेलते नजर आते हैं।

मेरा घर पर निबंध 400-500 शब्दों में (Essay on My House in Hindi 400-500 Words)

यदि आप मेरा घर पर एक आकर्षक निबंध लिखना चाहते हैं तो नीचे इसके बारे में विस्तार से बताया गया है। जिसका उपयोग छोटे से लेकर बड़े बच्चे सभी कर सकते हैं। मेरा घर पर निबंध 400-500 शब्दों में ऊंचे क्लास के बच्चों को ध्यान में रखकर लिखा गया है, तो इसे जरूर पढ़ें।

परिचय (Introduction)

सामान्य तौर पर एक ऐसा स्थान जहां पर हम अपने परिवारजनों के साथ रहते हैं उसे घर कहा जाता है। घर कई तरह के हो सकते हैं, जैसे कि गांव में मिट्टी के घर, बांस के घर, शहर में कंक्रीट के घर, फ्लैट इत्यादि। घर में आवश्यकता के हिसाब से वे सभी वस्तुएं होती हैं जो हमारी दिनचर्या को सुचारू रूप से चलाने के लिए जरूरी होती हैं।

घर की आवश्यकता (Need of house)

प्राचीन समय में लोग गुफाओं में निवास करते थे। ताकि जंगली जानवर और मौसम में आए परिवर्तनों से बच सकें। धीरे-धीरे वो गुफाओं से झोपड़ी में रहने लगे और इस तरह से घर की आवश्यकता बढ़ने लगी। आधुनिक समय में अब सभी अपने सपनों का घर तैयार करना चाहते हैं। हर इंसान की ख्वाहिश होती है कि उसका एक ऐसा आवास हो जहां पर वो अपने पूरे परिवार के साथ हंसी खुशी रह सके। हर कोई अपने जरूरत के हिसाब से घर बनवाता है। कुछ लोगों के पास रुपए अधिक होते हैं तो अपने लिए बहुत बड़े घर का निर्माण करते हैं। घर का निर्माण बहुत ही सूझबूझ के साथ करना चाहिए। घर ऐसा होना चाहिए जिसमें सभी तरह की आवश्यकता की पूर्ति हो सके। जैसे घर में जरूरत के हिसाब से शयनकक्ष, रसोई, पूजाघर, बरामदा, शौचालय, आदि होने चाहिए।

घर के प्रकार (Different Types of House)

आपने अगर विभिन्न जगहों का भ्रमण किया होगा तो पाया होगा कि हर जगह घरों की संरचना अलग-अलग प्रकार से होती है। जैसे कि कुछ घरों में छत नहीं होती हैं और कुछ घरों में होती है। इन घरों के नाम अलग-अलग हैं। घरों के कुछ मुख्य प्रकार निम्नलिखित हैं:

  • कच्चा घर: ऐसा घर जो मिट्टी, लकड़ी आदि से बने होते हैं, उसे कच्चा घर कहते हैं। ऐसे घर आमतौर पर गांवों में देखने को मिलते हैं।
  • पक्का घर: घरों के ऐसे प्रकार जो ईंट, बालू, सीमेंट आदि से बने होते हैं उसे पक्का घर कहते हैं। भारत में पाया जाने वाला यह घर एक या दो मंजिला का हो सकता है।
  • केबिन घर: ये घर पहाड़ी इलाकों में बनाए जाते हैं। तेज ढलान वाली छत इसकी विशेषता है।
  • स्टिल्ट घर: इन घरों का निर्माण बांसों से किया जाता है। इस तरह के घर मुख्य रूप से उत्तर पूर्वी भारत में देखने को मिलता है।
  • नाव घर: नाव में बने होने के कारण इसे नाव घर या बोट हाउस कहा जाता है। इसे तैरता हुआ घर भी कहा जाता है। ये केरल और कश्मीर की शोभा को बढ़ाता है।
  • फ्लैट: ऐसे घर बड़े-बड़े शहरों में देखने को मिलते हैं। इसमें एक ही बिल्डिंग में कई सारे घर होते हैं।
  • बंगला: एक ऐसा घर जो अन्य घरों से काफी बड़ा और दूर होता है। ऐसे घर बहुत बड़े भाग में बने होते हैं।

मेरा घर (My House)

हमारा घर तीन कमरों, एक हॉल, एक बाथरूम और एक किचन का एक पक्का घर है। मेरा घर बनारस में स्थित है। मेरे घर का नाम ‘लक्ष्मी आवास’ है। यहां पर हम अपने परिवार के साथ रहते हैं। घर में एक छोटा सा पूजा घर है। जहां हम सब भगवान की पूजा अर्चना करते हैं। घर के बाहरी हिस्से में फूलों से भरा बगीचा है। जिसकी देखभाल हम सभी के द्वारा की जाती है। हम सभी अपने खाली समय में यहां पर बैठते हैं और इसकी सुंदरता का लुत्फ उठाते हैं। साल में एक बार घर की लिपाई पोताई जरूर होती है ताकि घर की साफ सफाई भी हो जाए और घर की सुंदरता बरकरार रहे। मेरे घर का वातावरण बहुत अच्छा है। यहां पर मुझे बहुत शांति मिलती है।

निष्कर्ष (Conclusion)

घर एक ऐसी जगह है जहां हमें खुशी का एहसास होता है। परिवार के सभी सदस्य एक साथ रहते हैं। सभी एक दूसरे की खुशियों का ख्याल रखते हैं। आशा है मेरा घर इस लेख से आपको निबंध लेखन में बहुत मदद मिलेगी।

घर के बारे में रोचक तथ्य (Interesting Facts About My House)

घर तो सभी के होते हैं। लेकिन क्या आपने इसके रोचक तथ्यों पर ध्यान दिया है। आगे इस लेख में घर के बारे में कुछ मजेदार जानकारी दी गई है, इसे पढ़ें।

  1. प्रतिवर्ष दुनिया में लगभग 6,438 घरों का निर्माण होता है।
  2. घर की छतों और पेंट को देखकर घर की आयु का पता लगाया जा सकता है।
  3. घर में वाटर प्रूफिंग तो सुना होगा लेकिन आज के समय में अत्यधिक गर्मी से बचने के लिए लोग हिट प्रूफिंग भी करवाते हैं।
  4. जगह के अनुसार घर की संरचना अलग होती है। जैसे कि उत्तर भारत में कंक्रीट, बालू इत्यादि से घर बनाए जाते हैं। जबकि उत्तर पूर्वी भागों में बास के घर ज्यादा देखने को मिलते हैं।
  5. भारत की डल झील में बोट हाउस का भी प्रचलन है। जिसमें घर से संबंधित सभी व्यवस्था उपलब्ध होती है।

घर के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

घर के बारे में पूछे जाने वाले कुछ ऐसे प्रश्न जिनकी जानकारी बच्चों को अवश्य होनी चाहिए, वो कुछ इस प्रकार हैं –

1. दुनिया का सबसे बड़ा घर कहां है और इसका क्या नाम है?

दुनिया का सबसे बड़ा घर ब्रूनेई में है जिसका नाम इस्ताना नुरुल इमान पैलेस है।

2. दुनिया का सबसे छोटा घर कितने वर्ग फीट में फैला हुआ है?

दुनिया का सबसे छोटा घर कितने वर्ग फीट में फैला हुआ है।

3. दुनिया का सबसे सुंदर घर कहां है और इसका क्या नाम है?

दुनिया का सबसे सुंदर घर ड्रैकुला पैलेस है और इसका नाम रोमानिया है ।

4. दुनिया का सबसे महंगा घर किसका है और कहां है?

दुनिया का सबसे महंगा घर एंटीलिया भारत में स्थित है और जिसके मालिक मुकेश अंबानी हैं।

इस निबंध से बच्चों को क्या सीख मिलती है? (What Will Your Children Learn from this Essay)

हर निबंध के पीछे कोई न कोई सार तो जरूर छुपा होता है। जिसका अंदाजा आपको लेख पढ़ते पढ़ते समझ आ जाता होगा। इस लेख से हम और हमारे बच्चे बहुत कुछ सीख सकते हैं। बच्चे यह सीख सकते हैं कि घर सभी के लिए एक मूलभूत आवश्यकता है। घर एक ऐसा स्थान होता है जहां पर सभी दुःख, चिंताएं, परेशानियां दूर हो जाती हैं। साथ ही बच्चे यह सीख ले सकते हैं कि हमें अपने घरों की साफ सफाई करते रहनी चाहिए। घर को सुंदर बरकरार रखने में हमें अपने बड़ों की मदद करनी चाहिए। इस निबंध से एक बात और सीखने को मिलती है कि जिस घर में लोगों को एक दूसरे प्रेम होता है वही घर घर होता है।

यह भी पढ़ें:

मेरी माँ पर निबंध (My Mother Essay in Hindi)
मेरा परिवार पर निबंध (My Family Essay in Hindi)
प्रिय मित्र पर निबंध (Essay on Best Friend in Hindi)

पायल कश्यप

Recent Posts

पंचतंत्र की कहानी: ब्राह्मणी और तिल के बीज | Panchatantra Story: Brahmani And Sesame Seeds In Hindi

यह कहानी एक निर्धन ब्राह्मण और उसकी पत्नी की है। भिक्षाटन से जीवन चलाने वाले…

5 days ago

हाथी और दर्जी की कहानी | The Elephant And The Tailor Story In Hindi

यह कहानी है एक पुजारी और उसके पालतू हाथी की है, जो रोजाना पुजारी के…

5 days ago

शेर और हाथी की कहानी | Lion And Elephant Story In Hindi

शेर और हाथी की इस कहानी में शेर अपनी ताकत पर बैठा अफसोस कर रहा…

5 days ago

एक घमंडी हाथी और चींटी की कहानी | Elephant & Ant Story In Hindi

घमंडी हाथी और चींटी की कहानी में दुष्ट हाथी सबको बहुत परेशान किया करता था…

5 days ago

अकबर-बीरबल की कहानी: बीरबल का बच्चा बनना | Akbar-Birbal Story: Birbal As A Child Story In Hindi

अकबर-बीरबल की प्रसिद्ध कहानियों में से या एक बहुत ही मनोरंजक किस्सा है। एक बार…

6 days ago

लालची मिठाईवाला की कहानी | Greedy Sweet Seller Story In Hindi

ये कहानी एक लालची मिठाई वाले रमेश की है। इसमें रमेश ने ज्यादा पैसे के…

1 week ago