जल्द गर्भधारण के लिए 15 सर्वश्रेष्ठ घरेलू उपचार

Woman pregnant

Last Updated On

बच्चे को जन्म देना एक महिला के लिए सबसे संतोषजनक और परमानंद की भावनाओं में से एक है । जहाँ कुछ महिलाएं आसानी से गर्भवती हो जाती हैं, वहीं अन्य महिलाओं को गर्भवती होने के लिए थोड़ा इंतज़ार करना पड़ सकता है। हालांकि, यदि आपने और आपके पति ने मातापिता बनने का फैसला कर लिया है और अगर आप ऐसा जल्द ही चाहते हैं, तो यह लेख आपकी मदद कर सकता है। इस लेख में हम गर्भवती होने के विभिन्न घरेलू उपायों पर चर्चा करेंगे जो आपके मातापिता बनने के सपने को पूरा करने में मदद कर सकते हैं। हालांकि गर्भधारण करने के लिए कोई पूर्णप्रमाणित घरेलू उपचार नहीं है, फिर भी निम्नलिखित तरीके आपको जल्द ही गर्भधारण करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

जल्द गर्भधारण करने के लिए 15 प्राकृतिक उपचार

जब आप गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हों, तो ऐसे कई कारक हैं जिन पर ध्यान देने की आवश्यकता है, जैसे कि आपका डिंबोत्सर्जन, आपके साथी के शुक्राणु की गुणवत्ता, आपकी जीवनशैली और आहार। यदि आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं, तो निम्नलिखित प्राकृतिक तरीके मददगार साबित हो सकते हैं:

1. खजूर और धनिए की जड़ों के पेस्ट को गाय के दूध में मिलाएं

खजूर विटामिन ए, बी, , लौह तत्व और अन्य आवश्यक खनिजों से परिपूर्ण एक समृद्ध स्रोत है। खजूर में अत्यधिक पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो आपके लिए गर्भधारण के समय और गर्भावस्था के दौरान भी उपयुक्त व लाभकारी हो सकते हैं। 10-12 खजूर (बीज रहित) को दो चम्मच धनिया की जड़ों के साथ पीस लें और इस पेस्ट को एक कप गाय के दूध में मिलाकर उबाल लें। प्रजनन क्षमता में सुधार के लिए मासिक धर्म के बाद लगभग एक सप्ताह तक इस मिश्रण का सेवन करें।

2. गुनगुने पानी के साथ अनार के पेड़ की छाल का पाउडर

अनार, श्रोणिक क्षेत्र में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने में बहुत प्रभावी माना जाता है। यह फल महिलाओं में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए जाना जाता है और गर्भाशय की अंदरूनी परत को मोटा करने में सहायक है, जिससे गर्भपात की संभावना कम हो जाती है। अनार के पेड़ की छाल और बीजों को बराबर मात्रा में लें और उसका पाउडर बना लें, कुछ हफ्तों के लिए, रोज़ाना आधा चम्मच इस पाउडर का सेवन करें।

3. माका की जड़ का पाउडर और दूध

माका की जड़ महिलाओं और पुरुषों दोनों में बाँझपन के इलाज के लिए बेहद फायदेमंद हैं। यह जड़ शारीरिक हॉर्मोन के स्तर को संतुलित करके प्रजनन क्षमता में सुधार करने में फायदेमंद होती है। आप माका की जड़ के पाउडर को एक कप गर्म पानी या दूध के साथ, कुछ महीनों के लिए ले सकती हैं, लेकिन गर्भवती हो जाने पर इसका सेवन बंद कर दें।

4. धूप में बाहर निकलें

आपके शरीर में विटामिन डी की कमी से बाँझपन और गर्भपात हो सकता है, इसलिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि आप अपने शरीर में विटामिन डी की आवश्यकताओं को पूरा करें। कई वैज्ञानिक अनुसंधानों ने महिला प्रजनन क्षमता पर विटामिन डी की कमी के प्रतिकूल प्रभाव को साबित किया है। विटामिन डी प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि रोज़ सुबह की धूप में लगभग 10 मिनट के लिए रहें, या आप विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे अंडे की जर्दी और चीज़ भी खा सकती हैं।

5. गुनगुने पानी में दालचीनी पाउडर मिलाएं

यह चमत्कारी मसाला, महिलाओं के अंडाशय की कार्यशीलता को बेहतर करने में सहायक है और इस तरह बाँझपन से बचने में मदद करता है। इसका उपयोग पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम या पी.सी..एस. के उपचार में किया जाता है, जो महिलाओं में बाँझपन के प्रमुख कारणों में से एक है। एक कप गर्म पानी में, एक चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाएं और इसे लगातार कुछ महीनों के लिए पी सकती हैं।

6. गर्म दूध में बरगद की छाल का पाउडर मिलाएं

बरगद के पेड़ की जड़ें गर्भधारण करने के प्रभावी घरेलू उपचारों में से एक हैं। आप अपने मासिक धर्म पूरा होने के बाद लगातार तीन दिनों तक बरगद के पेड़ की जड़ के पाउडर को गर्म दूध के साथ ले सकती हैं। उपयुक्त परिणाम के लिए कुछ महीनों तक इसे पिएं।

7. कच्चा लहसुन खाएं

लहसुन का सेवन, गर्भवती होने के लिए प्रभावी प्राकृतिक उपचारों में से एक है। लहसुन को महिलाओं की प्रजनन क्षमता में सुधार के लिए भी जाना जाता है। लहसुन की चार से पाँच फांके लें और उन्हें ऐसे ही कच्चा खाएं और इसे खाने के बाद एक गिलास गर्म दूध पिएं। प्रजनन क्षमता में सुधार के लिए खासकर सर्दियों में इस प्रक्रिया को नियमित रूप से करें।

8. रुई के साथ फिटकरी का उपयोग

जल्द से जल्द गर्भवती होने के लिए फिटकरी सबसे बेहतरीन घरेलू उपचारों में से एक है। यदि आपका मासिक धर्म नियमित हैं लेकिन आपको गर्भवती होने में कठिनाई हो रही है तो आपके लिए सर्वोत्तम उपाय फिटकरी है। फिटकरी का एक छोटा टुकड़ा लें और इसे रुई में लपेटकर रात को अपनी योनि में डालें। यह प्रक्रिया रोज़ाना तब तक दोहराएं जब तक डाली गई रुई साफ ​​न निकले (रुई पर किसी भी दूधिया या सफ़ेद परत के बिना)। सफेद परत का न होना इस बात का संकेत है कि आप गर्भवती होने के लिए तैयार हैं।

9. गर्म दूध में जायफल मिलाएं

यह मसाला महिला प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में फायदेमंद होता है। आप गर्भवती होने की संभावना को बढ़ाने के लिए अपने आहार में जायफल शामिल कर सकती हैं। समान मात्रा में जायफल पाउडर और चीनी पाउडर (लगभग 3 ग्राम प्रत्येक) लें और इसे अपनी मासिक धर्म के दौरान एक कप दूध (अधिमानतः गाय का दूध) के साथ पिएं।

10. पानी में सेंधा नमक मिलाकर पिएं

गर्भवती होने की संभावना बढ़ाने के लिए आप सेंधा नमक का उपयोग कर सकती हैं। सेंधा नमक महिलाओं में बाँझपन से लड़ने में बहुत प्रभावी माना जाता है। एक चम्मच सेंधा नमक लें और इसे 750 मिली लीटर पानी में भिगो दें। सर्वोत्तम परिणाम के लिए तीन से छह महीनों तक इस पानी को रोज़ सुबह (सूर्योदय से पहले) पिएं।

11. रोज़ाना आहार के साथ सरसों के पेस्ट का सेवन

आप इस सरल घरेलू उपाय का उपयोग करके गर्भवती होने की संभावना बढ़ा सकती हैं। अपने मासिक धर्म चक्र के चौथे दिन के बाद आप प्रभावी रूप से अपने रोज़मर्रा के आहार में सरसों का पेस्ट शामिल करें। सरसों महिलाओं में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में बहुत कारगर है, लेकिन ज़रूरत से ज़्यादा इसका सेवन न करें।

12. दूध के साथ तुलसी की पत्तियों का सेवन

तुलसी का उपयोग विभिन्न चिकित्सकीय बीमारियों और रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है। तुलसी का उपयोग महिलाएं बाँझपन के इलाज के लिए भी कर सकती हैं और यह अत्यधिक कारगर भी माना जाता है। रोज़ाना तुलसी की कुछ पत्तियों को (तीन से चार) चबाकर, एक गिलास दूध पीने से आपके गर्भधारण की संभावना में सुधार आ सकता है। इसके बदले प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए तुलसी के बीजों को भी खाया जा सकता है।

13. सौंफ़ और गुलाब की पंखुड़ियों के मिश्रण के साथ दूध

यदि गर्भवती होने की संभावना को बढ़ाने के लिए आप योग और व्यायाम नहीं कर सकती हैं, तो अपनी प्रजनन क्षमता को बेहतर करने के लिए सौंफ और गुलाब की पंखुड़ियों का सेवन करें। 10 ग्राम सौंफ और 50 ग्राम गुलकंद को एक साथ मिलाएं और रोज़ाना रात को गर्म दूध (गाय के दूध) के साथ इस मिश्रण का सेवन करें।

14. सूखी चेस्टबेरी को पानी में उबालें

हॉर्मोनल असंतुलन से जूझती महिलाओं के लिए चेस्टबेरी बहुत फायदेमंद होती है। इस असंतुलन के कारण शरीर में प्रोलैक्टिन का स्तर बढ़ने से बाँझपन की संभावना बढ़ सकती है। चेस्टबेरी के सेवन से पी.सी. .एस. को नियंत्रित करने में मदद मिलती है और अंडोत्सर्ग में भी सुधार होता है। एक चम्मच सुखाए हुए चेस्टबेरी लें और इसे उबलते पानी में दस मिनट के लिए डाल दें। प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए कुछ हफ्तों तक दिन में एक बार इसे पिएं।

15. सौंफ और मक्खन (बटर) का मिश्रण

स्थूल या भारी वज़न वाली महिलाओं की प्रजनन क्षमता में सुधार के लिए सौंफ और मक्खन (बटर) का मिश्रण अत्यधिक प्रभावी है। सौंफ का पाउडर (लगभग 6 ग्राम) लें और शुद्ध मक्खन के दो भागों में इसे मिला लें और लगभग तीन से चार महीनों के लिए इस मिश्रण का सेवन करें।

ऊपर बताए गए घरेलू उपचार, गर्भवती होने की संभावनाओं को बढ़ाने में प्रभावी हैं। अनियमित मासिक धर्म की स्थिति में भी गर्भवती होने के लिए आप इन घरेलू उपचारों को आज़मा सकती हैं। हालांकि, अपनी प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए किसी भी घरेलू उपचार को अपनाने से पहले चिकित्सक से परामर्श ज़रूर लें।

ध्यान रखने योग्य अतिरिक्त बातें

उपर्युक्त प्राकृतिक उपचार के अलावा, निम्नलिखित युक्तियाँ भी आपको गर्भवती होने में मदद कर सकती हैं, जानने के लिए पूरा पढ़ें:

1. चाय / कॉफ़ी (कैफीन) का सेवन सीमित रूप से करें

अधिक मात्रा में कैफीन लेने से रक्त में लौह तत्व का अवशोषण बाधित होता है और यह शरीर में पानी की कमी भी कर सकता है। सामूहिक रूप से इन सभी चीजों के कारण महिलाओं में बाँझपन की समस्या उत्पन्न हो सकती है। इससे गर्भधारण में समस्या आ सकती है और गर्भपात या समय से पहले प्रसव का खतरा भी हो सकता है।

2. चीनी से बचें

चीनी कार्बोहाइड्रेट के घातक रूपों में से एक है, आवश्यकता से अधिक मात्रा में चीनी के सेवन से शरीर में इंसुलिन का स्तर बाधित हो सकता है। उच्च कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार से शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध उत्पन्न होता है और अगर आप गर्भधारण करना चाहती हैं तो इसमें भी अनेक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। चीनी का उपयोग करने के बजाय एक स्वस्थ विकल्प के रूप में प्राकृतिक शर्करा या फल का सेवन करें।

3. पर्याप्त पानी पिए

यदि आप गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो आपको पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। पानी न केवल गर्भाशय को स्वस्थ रखता है, बल्कि यह गर्भाशय ग्रीवा में बलगम को बढ़ाने में भी सहायक माना जाता है। शुक्राणु गाढ़े ग्रीवा में बलगम से बेहतर तरीके से जुड़ते हैं और आपको गर्भवती होने में मदद करते हैं।

4. स्वस्थ और तंदरुस्त रहें

हर दिन व्यायाम करना बहुत महत्वपूर्ण है, यदि आप स्थूल या अधिक वज़नदार हैं तो थोड़ा वज़न घटाएं जिससे आपके गर्भवती होने की संभावना में सुधार होगा। हालांकि, अगर आपका वज़न कम है तो आपको अंडोत्सर्ग में समस्या हो सकती है। शरीर को स्वस्थ और तंदरुस्त बनाए रखें क्योंकि इससे आपके गर्भवती होने की संभावना बढ़ जाती है।

5. अच्छी नींद लें

सभी आंतरिक अंगों को सुचारु रूप से कार्य करने के लिए अच्छी नींद लेना आवश्यक है। अनियमित या अस्थिर नींद की आदत आपके हॉर्मोन लिए हानिकारक है और साथ ही बाधित हॉर्मोनल संतुलन से गर्भधारण में समस्या हो सकती है।

6. तनाव से दूर रहें

तनाव से कई स्वास्थ्य जटिलताएं हो सकती हैं और इसके कारण गर्भधारण करने में अनेक समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं। तनाव का बढ़ता स्तर उन हॉर्मोन को प्रभावित कर सकता है जो अंडाशय से डिंब को मुक्त करने के लिए जिम्मेदार होते हैं इसलिए तनाव के कारण अंडोत्सर्ग में रुकावट या देरी हो सकती है।

7. धूम्रपान त्यागें

जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं वे उन महिलाओं की तुलना में गर्भधारण करने में अधिक समय ले सकती हैं जिन्हें धूम्रपान का शौक नहीं होता है या धूम्रपान नहीं करती हैं । इसके अलावा, अगर गर्भवती महिला धूम्रपान करती हैं तो उनका आनुवंशिक असामान्यताओंयुक्त शिशु को जन्म देने का खतरा अत्यधिक बढ़ जाता है।

8. शराब का सेवन न करें

शराब के सेवन से अनियमित मासिक चक्र, अंडोत्सर्ग से जुड़ी समस्याएं और हॉर्मोन का स्तर बाधित हो सकता है और इन सभी समस्याओं के कारण गर्भवती होने में जटिलताएं उत्पन्न हो सकती हैं।

यदि आप गर्भवती होना चाहती हैं तो आप उपर्युक्त सुझावों से लाभ उठा सकती हैं। हालांकि, यह सलाह दी जाती है कि आप किसी भी आहार या जीवनशैली में बदलाव करने से पहले चिकित्सक की सलाह ज़रूर लें।