हिंदी दिवस 2021: महत्व, कविताएं और भाषण

हिंदी दिवस 2021: महत्व, कविताएं और भाषण

हम सभी 14 सितंबर को बतौर हिंदी दिवस के रूप में मनाते हैं, लेकिन इस दिन के पीछे का क्या इतिहास है? कैसे 14 सितंबर को हिंदी दिवस की घोषणा की गई, हिंदी सप्ताह क्या है, आइए हिंदी दिवस से जुड़ी बातें हम इस आर्टिकल के जरिए जानते हैं, इतना ही नहीं यहाँ आपको हिंदी दिवस से संबंधित छोटी कविताएं और बच्चों के लिए भाषण दिए गए हैं, जिन्हे आप अपने बच्चों को उनके स्कूल में होने वाले हिंदी दिवस प्रतियोगिता के लिए तैयार करा सकती हैं।   

हिंदी दिवस का महत्व 

जब भारत के संविधान पर काम किया जा रहा था उस समय भारत में बोली जाने वाली इतनी सारी भाषाएं थी कि देश की आधिकारिक भाषा किसे चुना जाए यह एक बड़ा मुद्दा था। काफी तर्क वितर्क के बाद यह तय हुआ कि भारत की आधिकारिक भाषा को हिंदी और अंग्रेजी में रखा जाएगा, इस प्रकार 14 सितंबर 1949 हिंदी की देवनागरी लिपि और अंग्रेजी को संविधान सभा द्वारा चुना गया और इस दिन को पहली बार हिंदी दिवस के रूप में 14 सितंबर साल 1953 को मनाया गया और उसके बाद हर साल इस दिन को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। इस दिन हिंदी के ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए पंडित जवाहरलाल नेहरू ने इसकी हिंदी दिवस के तौर पर घोषणा की थी। 

पर क्या आप जानते हैं कि भारत में रहने वाले लोगों की पहचान हिंदी भाषा आज खुद अपनी पहचान बनाने के लिए इतना संघर्ष क्यों कर रही है। इसकी सबसे बड़ी वजह हम खुद ही हैं, हम ही हैं जो कहीं न कहीं हिंदी भाषा को उसके हक का सम्मान दिलाने में चूक गए हैं। उत्तर भारत के अलावा पश्चिम भारत अधिकतर राज्यों में हिंदी भाषा का उपयोग किया जाता था, लेकिन दक्षिण भारतीय और पूर्वोत्तर राज्यों में हिंदी भाषा को अपनाया नहीं गया, जिसकी वजह से भारत के आजाद होने के बावजूद भी इसे राजभाषा के सम्मान से वंचित रखा गया। उस समय यही मांग थी कि पहले सरकार हिंदी भाषा का ज्यादा से ज्यादा प्रचार करें और जब लोग इससे पूरी तरह सहज हो जाएं तो फिर हिंदी को राजभाषा घोषित कर दिया जाए। लेकिन जब भी इसे राजभाषा बनाने का प्रयास किया गया तब-तब कुछ इस प्रकार देश में परिस्थितियां पैदा हो गई कि कोई निष्कर्ष न निकल सका और यह मुद्दा आज भी वैसे का वैसा ही बना हुआ है। वैसे तो हिंदी दुनिया की प्रमुख भाषाओं में से एक पर अपने ही देश में उसे अपना अधिकार पूर्ण रूप से नहीं मिल सका है। लेकिन इसका अस्तित्व बना रहे इसके लिए ही हिंदी दिवस को इतना महत्व दिया जाता है, आप अपने बच्चों को हिंदी का खूबसूरत इतिहास बताएं, उन्हें बताएं कि वे गर्व से हिंदी भाषा का प्रयोग करें, बिना किसी झिझक के या शर्मिंदा हुए बिना। हम सब एक भारत के निवासी हैं और हमे सबसे पहले अपनी आधिकारिक भाषा को महत्व देना चाहिए, फिर चाहे आप किसी भी धर्म, जात या समुदाय से ताल्लुक क्यों न रखते हो।  

बच्चों के लिए हिंदी दिवस पर कविताएं 

1. तू है हमारी पहचान हिंदी

है हर हिंदुस्तानी के दिल-ओ-जान में बस्ती हिंदी,
है आन-बान-शान मेरी प्यारी हिंदी,
है गर्व मुझे तेरे होने पर,
तू है मेरी पहचान हिंदी।

दुनिया भर में तेरा डंका है,
तेरे वर्चस्व की धूम है,
है अभिलाषा तेरे राजभाषा बनने की,
जग में और ऊँचा तेरा नाम करने की।

एकता की मिसाल को कायम तुमने किया,
संघर्ष की तपती रेत को पार तुमने किया,
आलोचनाओं के हर वार को तुमने सहा है,
आज यूँ ही नहीं है विश्व भर में चौथा तेरा स्थान हिंदी।

है गर्व मुझे भारत का हिस्सा होने पर,
है गर्व मुझे हिंदी अपनाने पर,
हिंदी विकल्प नहीं मेरा चुनाव है,
है गर्व मुझे हिंदी पढ़ने लिखने पर।

2. हिंदी दिवस मनाएंगे

अपने आधार से जुड़े रह कर,
हिंदी दिवस मनाएंगे,
हिंदी का दीप जलाएंगे,

ये मात्र एक भाषा नहीं,
परंपरा, संस्कृति व शैली का उल्लेख है,
है महाकाव्य की साक्षी जो,
वही अद्भुत रचनाओं की सारथी है!!

हिंदी दिवस मनाएंगे,
हिंदी का दीप जलाएंगे,

कश्मीर से कन्याकुमारी तक,
हिंदी भाषा के चर्चे हैं,
अब तो सारे जग में हिंदी-हिंदी के चर्चे हैं,
है खूब ये नारा हिंदी का!!

हिंदी दिवस मनाएंगे,
हिंदी का दीप जलाएंगे,

बढ़ते चलना हिंदी की डगर पर,
चाहे अकेले का हो ये सफर,
जो ज्ञानी है अपनी भाषा का,
वो शीश नहीं झुकने देगा!!

हिंदी दिवस मनाएंगे,
हिंदी का दीप जलाएंगे,

संकल्प तो करना ही होगा,
एक पार लगाना है हिंदी,
तेरे सम्मान पर लगी ठेस को,
अब मिटाना ही होगा!!

हिंदी दिवस मनाएंगे,
हिंदी का दीप जलाएंगे,

जो देश की भाषा बचा न सके,
वो वतन परस्त हो कैसा भला,
जी जान लगाना अब होगा,
हिंदी को बचाना ही होगा!!

हिंदी दिवस मनाएंगे,
हिंदी का दीप जलाएंगे,

बच्चों की भाषा में मिश्री सी घोल दो आज हिंदी को,
ये भारत के गौरव गाथा की सखी रही है सालों से,
मधुर से कटु वाणी तक सब पाठ पढ़ाना जाने है,
तुम बैर न लेना हिंदी से, वरना फिर टिकना मुश्किल है!!

हिंदी दिवस मनाएंगे,
हिंदी का दीप जलाएंगे!!

हिंदी दिवस पर बच्चों के लिए भाषण 

अगर आपके बच्चे को हिंदी दिवस के मौके पर अपने स्कूल में या किसी प्रतियोगता में भाषण देना हैं, तो नीचे दिए भाषण उन्हें तैयार करा सकती हैं, लेकिन ध्यान रहे कि आप उन्हें इसे रटाए नहीं बल्कि उन्हें इस दिन के बारे में कहानी के रूप में बताएं ताकि वो हमेशा इस दिन को याद रख सके!

छोटे बच्चों के लिए हिंदी दिवस पर भाषण (10 पंक्तियां)

  1. हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। 
  2. हिंदी को 14 सितंबर 1949 को राष्ट्रभाषा का दर्जा दिया गया था।
  3. महात्मा गाँधी ने हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने की बात सबसे पहले रखी थी। 
  4. संविधान सभा द्वारा देवनागरी लिपि में हिंदी भाषा का चुनाव किया गया था।
  5. हिंदी दुनिया की चौथी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है।
  6. लगभग 80 करोड़ लोग दुनिया भर में हिंदी भाषा बोलते हैं।
  7. हिंदी भाषा का इतिहास हजारों वर्ष पुराना है। 
  8. हिंदी सबसे ज्यादा भारत, नेपाल, फिजी, गुयाना आदि देशों में बोली जाती है। 
  9. तुलसीदास, मैथिलीशरण गुप्त, जयशंकर प्रसाद, जैसे कई लेखक हुए जिन्होंने हिंदी महाकाव्य लिखे। 
  10. हिंदी को राजभाषा के रूप में अपनाने वाला पहला राज्य बिहार था। 

बड़े बच्चों के लिए हिंदी दिवस पर भाषण

माननीय प्रधानाचार्य, आदरणीय शिक्षक गण एवं मेरे प्यारे साथियों! आप सभी को मेरा सादर प्रणाम! मैं आप सबके सामने हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में अपने विचार साझा करने आया/आई हूँ।

आप सभी यह जानते हैं कि आज हम यहाँ हिंदी दिवस का जश्न मनाने इकट्ठा हुए हैं। आज का दिन हमारे लिए बहुत खास है। ये हिंदी ही है, जो हमे हमारी संस्कृति से जोड़े रखती है। इसमें कोई दो राय नहीं कि आज हिंदी दुनिया में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली चौथी भाषा बन चुकी है। लेकिन हिंदी को यहाँ तक पहुँचाने में बहुत सारे महापुरुषों का प्रयास रहा है जिनमें मैथिलीशरण गुप्त, राजेंद्र सिंह, काका कालेलकर, सेठ गोविन्द दास, हजारी प्रसाद द्विवेदी जैसे लोगों का बहुत बड़ा योगदान रहा। आज इन्हीं की वजह से हिंदी का सम्मान कायम रह सका।

रिकॉर्ड की माने तो बताया जाता है कि हिंदी भाषा को लगभग दुनिया भर में 80 करोड़ लोग बोलते हैं और अपने आप में बहुत गर्व की बात है। 14 सितंबर को जवाहरलाल नेहरू द्वारा यह घोषणा की गई कि अब से हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाएगा। इससे हमारे देश में हिंदी की क्या अहमियत है लोगों को पता चल सके और यह हम सभी के लिए बहुत गर्व की बात है कि हम इस जश्न का हिस्सा हैं। इस दिन का जश्न सरकारी दफ्तरों से लेकर स्कूल कॉलेज और पूरे भारत में मनाया जाता है! हमारी मातृ भाषा हिंदी और देश के प्रति इसके आदर को बताने के हिंदी दिवस का आयोजन करते हैं।   

लेकिन हमारे बीच हिंदी भाषा को लेकर चिंता का विषय भी उठता है कि जिस भाषा का इतना महान इतिहास हो उसके जानकार बहुत काम हो रहे हैं, लोग अपनी भाषा को छोड़ कर दूसरी भाषाओं को प्राथमिकता दे रहे हैं! क्या आधुनिकीकरण का यह अर्थ है कि हम अपने आधार को ही भूल जाएँ? यदि हालात ऐसे ही बने रहे तो वो दिन दूर नहीं जब हमारे बीच से हिंदी का अस्तित्व मिट जाएगा! अगर हमे हिंदी भाषा का वजूद बचाना है तो जगह-जगह हिंदी का प्रचार करना होगा और ज्यादा से ज्यादा हिंदी भाषा का प्रयोग करना होगा। आइए हम सब युवा पीढ़ी अपनी हिंदी भाषा को बचाने का संकल्प लें और भारत को एक हिंदी राष्ट्र बनाएं! आप सभी को हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!