शिशु का 36वेंं सप्ताह में समयपूर्व जन्म

शिशु का 36वेंं सप्ताह में समयपूर्व जन्म

Last Updated On

9 महीने को एक पूर्ण गर्भावस्था माना जाता था और इसलिए गर्भधारण के 36वें सप्ताह में पैदा होने वाले शिशुओं को पूर्ण विकसित समझा जाता था। हालांकि, समय के साथ विज्ञान और चिकित्सा जगत की प्रगति के साथ यह मालूम पड़ा है, कि पूरी तरह से विकसित होने और जन्म के बाद पूर्ण रूप से स्वस्थ रहने के लिए एक शिशु को, कम से कम 37 सप्ताह तक गर्भ में रहने की आवश्यकता होती है। इसलिए यदि गर्भावस्था के 36वें सप्ताह में शिशु का जन्म होता है तो उसे समय पूर्व जन्मा या प्रीमैच्योर शिशु कहा जाता है । 

36वें सप्ताह में शिशु के जन्म के कारण

36वें सप्ताह में शिशु के जन्म के कई कारण हो सकते हैं।

  • यदि माँ संक्रमण, मुख्य रूप से बैक्टीरियल संक्रमण से पीड़ित है तो ये एम्नियोटिक सैक की झिल्ली को प्रभावित कर सकते हैं और उसे विभाजित करना शुरू कर सकते हैं। कोई भी योनि संक्रमण जिसके कारण जननांग में जलन के साथ-साथ मूत्र त्याग करते समय जलन होती है, तो यह संक्रमण होने का पक्का संकेत है। सूजाक (गोनोरिया) और क्लैमाइडिया जैसे अन्य संक्रमण भी समय से पहले प्रसव को प्रेरित कर सकते हैं।
  • शिशु के समय पूर्व जन्म की संभावना उन माताओं में भी अधिक होती है जिनकी पिछली गर्भावस्था में भी प्रीमैच्योर शिशु का जन्म हुआ हो। 
  • कभी-कभी, शिशु या माँ में कुछ विशेष स्वास्थ्य समस्याओं के कारण समय पूर्व प्रसव आवश्यक हो जाता है । यदि प्रसव न कराया गया तो कई बार इसमें शिशु मृत्यु दर का जोखिम बढ़ जाता है। आमतौर पर ऐसे मामलों में सी सेक्शन तरीके से प्रसव किया जाता है।
  • माँ की स्वास्थ्य संबंधी परेशनियों कैसे कि हृदय विकार, मधुमेह, रक्तचाप या कम अंतराल में लगातार गर्भधारण और आई.वी.एफ. आदि कुछ कारण समय पूर्व प्रसव की वजह बन सकते हैं। दूसरी ओर खराब जीवन शैली का चुनाव जैसे शराब पीना, नशा और धूम्रपान के साथ तनावपूर्ण और खराब माहौल में जीना या बहुत अधिक काम का तनाव, घरेलू हिंसा आदि भी इसका कारण बन सकते हैं।

36वें सप्ताह में जन्मे शिशु का विकास

36वें सप्ताह में जन्मे शिशु का, औसत वजन आमतौर पर 2.5 से 3 किलोग्राम और लंबाई लगभग 44 से 49 सेंटीमीटर होती है। गर्भ के अंदर शिशु के शरीर को ढंकने वाले महीन बाल, गर्भ में शिशु को सुरक्षित रखने वाले एम्नियोटिक द्रव की परत के साथ निकल जाते हैं। सामान्यतः शिशु द्वारा इसका सेवन किया जाता है। जिसके प्रमाण स्वरूप आपके शिशु का पहला मल हरे-काले रंग का होता है – जिसे जातविष्ठा (मेकोनियम) कहा जाता है।

36वें सप्ताह में, आपके शिशु के फेफड़े पूरी तरह से परिपक्व होते हैं और विकास की संभावना 50-50 होती है, क्योंकि कुछ शिशु इस स्तर पर अभी भी अपरिपक्व फेफड़ों के साथ पैदा होते हैं। शिशु की संचार प्रणाली और इम्युनिटी काफी अच्छी अवस्था में होती है इसलिए उनके जीवित रहने की संभावना अधिक होती है ।हालांकि, पाचन तंत्र अभी भी अच्छी तरह से परिपक्व नहीं हुआ होता है।

36वें सप्ताह में जन्मे शिशु का विकास

36वें सप्ताह में जन्मे शिशुओं में जटिलताएं

इन शिशुओं में होने वाली कुछ जटिलताओं में शामिल हैं :

1. शरीर का कम तापमान

36वें सप्ताह में भी, आपके शिशु में वसा की आवश्यक मात्रा नहीं होती है, जो एक इष्टतम शारीरिक तापमान बनाए रखने हेतु शरीर में मौजूद होना आवश्यक है। शरीर का तापमान कम होने के कारण उसे हाइपोथर्मिया हो सकता है। इसलिए लगातार उसके तापमान को बनाए रखने और उसे इन्क्यूबेटर में रखने की आवश्यकता होती है।

2. स्तनपान संबंधी समस्याएं

समयपूर्व जन्मे बच्चे के लिए माँ के दूध को चूसना और निगलना मुश्किल होता है क्योंकि अन्य बच्चों की तुलना में वह काफी कमजोर होते हैं। इसके परिणामस्वरूप भूख लगने पर भी वे सोते रहते हैं या जब वह दूध पीना चाहते हैं, तब भी किसी प्रकार की आवाज करने या स्तनपान करने में विफल हो सकते हैं। 

3. श्वास संबंधी समस्याएं

इस समय तक शिशु के फेफड़े पूरी तरह से विकसित हो भी सकते हैं और नहीं भी, लेकिन अगर इनका विकास ठीक से नहीं हुआ है तो यह आपके शिशु में सांस संबंधी समस्या का कारण बन सकता है। ठीक से सांस न ले पाने का एक और संभावित कारण एपनिया हो सकता है। यह मुख्य रूप से अविकसित मस्तिष्क के कारण होता है ,जो सांस लेने की क्रिया को रोक देता है ।

4. संक्रमण का खतरा

कमजोर इम्युनिटी शिशु को बैक्टीरिया के हमले और अन्य बीमारियों के प्रति अतिसंवेदनशील बनाती है। यह आगे जाकर शिशु को उसके शरीर में तापमान को बनाए रखने में परेशानी पैदा कर सकता है, जिससे सूक्ष्म जीवों द्वारा उसे संक्रमित करना आसान हो जाता है।

5. पीलिया

अधिकांश प्रीमैच्योर शिशु अपने कमजोर लिवर के कारण पीलिया (जॉन्डिस) के सम्पर्क में आते हैं। बिलीरुबिन के निर्माण के कारण त्वचा और आँखें पीली हो जाती है, इसका इलाज जल्द से जल्द करना चाहिए ।

पीलिया

36वें सप्ताह में जन्मे शिशु की देखभाल कैसे करें

समय पूर्व जन्मे शिशुओं की देखभाल करना स्वस्थ शिशुओं की देखभाल से थोड़ा अलग होता है। यहाँ कुछ बातें बताई गई हैं, जिन्हें आपको ध्यान में रखना चाहिए।

1. त्वचा से त्वचा का संपर्क

अपने शिशु के स्वास्थ्य को बेहतर करने के लिए इलाज के साथ साथ आपको अपने और शिशु के बीच गहरा संबंध बनाना अत्यंत आवश्यक होता है। जितना संभव हो सके शिशु के साथ त्वचा से त्वचा का संपर्क बनाए रखें, जिससे आपके शिशु को यह पता चले कि आप उसकी देखभाल कर रही हैं और वह आपकी मौजूदगी में खुद को सुरक्षित महसूस करे। 

2. स्तनपान

एक बार जब आपके डॉक्टर शिशु को सामान्य रूप से स्तनपान करवाने की अनुमति दे दें, तो आप उसे स्तनपान कराना शुरू कर सकती हैं। यदि शुरुआत में शिशु स्तनपान नहीं कर रहा है तब भी आप अपने स्तन से दूध निकालना जारी रखें। स्तनपान आपके शिशु की इम्युनिटी को बढ़ाता है और यह उसे आवश्यक रोग-प्रतिकारक (एंटीबॉडीज) प्रदान करता है। यदि आपके शिशु के लिए स्तनपान करने में अभी भी समस्या हो रही है, तो आप उसे बोतल से दूध पिला सकती हैं। फार्मूला दूध का उपयोग केवल तभी किया जाना चाहिए जब आपको अपने दूध के उत्पादन में समस्या हो।

36वें सप्ताह में जन्मे शिशुओं के जीवित बचने की दर क्या है

36वें सप्ताह में जन्मे प्रीमैच्योर शिशु की, जीवित दर बहुत अच्छी होती है, जो लगभग 98 से 99 प्रतिशत के आसपास है।

भले ही आपका शिशु समय पूर्व जन्मा हो लेकिन उसे अपनी गोद में उठाने का अहसास अद्भुत होता है। एक बार जब उसकी अच्छे से देखभाल हो जाती है और वह स्वस्थ रूप से विकास करने लगता है, अच्छी तरह से श्वसन करने लगता है, ठीक से स्तनपान करने लगता है और अपने शरीर का तापमान बनाए रखने में सक्षम हो जाता है, तो आप उसे अस्पताल से घर ला सकती हैं ।