12 महीने के बच्चे की वृद्धि एवं विकास

12 महीने के बच्चे की वृद्धि एवं विकास

Last Updated On

आपको शायद यह पता चल गया होगा कि प्रत्येक माह बल्कि प्रत्येक सप्ताह, आपके शिशु में काफी बदलाव लाता है। यह सबसे आश्चर्यजनक प्रक्रियाओं में से एक है जिसे आप अपने शिशु की शारीरिक वृद्धि और उनके समग्र विकास के संदर्भ में देख सकती हैं। आपका जिगर का टुकडा इस पड़ाव में थोड़ी उछल-कूद करने लगता है और आपके लिए प्यारी सी परेशानियाँ पैदा करता है, साथ ही वह माँ जैसे शब्दों को भी बोलने लगता है, यदि आपका लाडला अब भी ज़मीन में रेंग कर चलता है तो चिंता न करें! वह अपने समय से सब सीख जाएगा।

शिशु की वृद्धि

शिशु की वृद्धि

शिशु की शारीरिक वृद्धि एक अनूठे मार्ग का अनुसरण करती है और हर महीने कई आश्चर्यजनक और नई चीजों को सामने लाती है।

शिशु का विकास

आपका बच्चा अपने 12 महीनों में एक बहुत बड़ी उपलब्धि हासिल कर चुका है। इस समय, वह बुनियादी निर्देशों को समझना शुरू करता है और धीरे-धीरे चलना शुरू करता है। वह परिवार के तथा बाहर के परिचित चेहरों को भी पहचानने लगता है और वह उन चीजों पर प्रसन्नता व्यक्त कर सकता है जो उसे पसंद है। वह कभी इस तरफ तो कभी उस तरफ झुककर अपनी दुनिया की खोज करने में व्यस्त रहता है। आप बस देखते रहिए, एक एक मुकाम आते रहेंगे।

48वें सप्ताह में शिशु का विकास

आपका बच्चा अब थोड़ा बड़ा हो गया है और आप उसमें आने वाले परिवर्तनों को देखने के लिए अत्यधिक उत्साहित होंगे । उसकी बड़बड़ाहट जल्द ही शब्दों और पूरे वाक्यों में बदल जाएगी, रेंगने वाले छोटे पैरों से जल्द ही चलने की आवाज़ भी आने लगेगी। इससे पहले कि आप बहुत ज़्यादा उत्सुक हों हम आपको बताएंगे कि ग्यारह महीने के बच्चों से आप क्या उम्मीद कर सकते हैं। शिशु थोड़ा पैदल चल सकते हैं, लेकिन पास की चीजों का सहारा लेकर चलने की अधिक संभावना है। यदि वे खुद से चलने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाते हैं तो भी ठीक है, वे जल्द ही वहाँ तक पहुँचेंगे। उनकी बड़बड़ाहट उन सवालों और वाक्यों की तरह लगने लगेगी जैसे हम बड़े बोलते हैं।

49वें सप्ताह में शिशु का विकास

हाँ जी! आपने कर दिखाया ! आपका बच्चा अंततः 12 महीने का हो गया है और इसपर आपको बहुत ज़्यादा गर्व होना स्वाभाविक है। अब आपको अपने शिशु से उसकी बोतल की आदत छुड़वानी होगी और थोड़े बड़े बच्चों वाली आदतें डालनी होगी। बोतल का उपयोग अब सोने के समय ही करें और उसे धीरे-धीरे दूध के कप और कहानियों के सहारे सुलाने की आदत डालें ।

आपके शिशु के मुँह से निकली आवाज़ वास्तविक शब्दों की तरह लगने लगे है, है ना? आप अपने शिशु के हर उस बड़बड़ाहट को प्रोत्साहित करें जो भी वह बोलना चाहता हो, चाहे वह स्पष्ट न भी हो। उसके छोटे से मुँह से निकलने वाले हर एक शोर का जवाब दें और उसे प्रोत्साहित करें।

50वें सप्ताह में शिशु का विकास

वह दिन आ ही गया जब आपका नन्हा सा शिशु अब एक बच्चा बन चुका है। इस समय तक आपके शिशु का वज़न, जन्म के समय रहे वज़न से लगभग तीन गुना बढ़ जाता है। उनकी पैरों की मांसपेशियाँ और वज़न दोनों ही विकसित हो जाते हैं और इस दौरान वे वास्तव में अपने पैरों पर चलने लगते हैं। औसतन 12 से 13 महीने बाद एक बच्चा अपना पहला कदम रखता है। आप, उनकी शब्दावली का विस्तार करें और उनके सामने ऐसे सर्वनामों का उपयोग करें, जैसे “मैं पार्क में जा रही हूँ”, बजाय इसके कि “मम्मा पार्क जा रही है”।

51वें सप्ताह में शिशु का विकास

आपके शिशु के पहले जन्मदिन के लिए सिर्फ एक हफ्ते का समय शेष है और आप अभी उसे शुरुआती आहार दें रही हैं और उन्हें चलने और विकसित करने के लिए प्रोत्साहित कर रही हैं। अगर आपको उन्हें सुलाने और बोतल से दूध पीने की आदत को छुड़ाने में परेशानी हो रही है, तो चिंता न करें। आपके शिशु को दूध की बोतल छोड़ने में मुश्किल हो सकती है ऐसा करने के लिए आप उनके दूध में पानी मिला सकती हैं जब तक उसे पानी की आदत न पड़ जाए और फिर आप बोतल की जगह कटोरी में देना शुरू करें। सुनिश्चित करें कि उसके सोने का समय बेहतर रहे और पूरे दिन-भर में उनकी सारी ऊर्जा सक्रिय रहे।

आपका बच्चा अब बड़ा हो रहा है और यह चुनौतियों की एक पूरी नई श्रृंखला प्रस्तुत करता है। अपने परिवार के जिज्ञासु कुत्ते को उसकी पहुँच से बाहर रखना होगा। अब आपके लिए एक बड़ी चुनौती उसे सुलाने की भी है। शिशु की समझ बढ़ रही है, उसे यह समझ आया है कि उसकी खाट पर पट्टियाँ हैं जिस पर वह झूल सकता है और आप उसे अपने हाथों से रोकने का प्रयास करेंगी।

शिशु का स्वास्थ्य

अब आपके शिशु के बढ़ते हुए शारीरिक वज़न को सहारा देने के लिए उसके पैर और मांसपेशियाँ मज़बूत हो गई हैं। अधिकांश शिशु इस आयु में 25 से.मी. बढ़ते हैं और आप उनके आसपास की दुनिया की खोज करने के उत्साह के लिए धन्यवाद देंगी। अब वे इस गतिविधि में बहुत अधिक ऊर्जा खर्च करेंगे और थोड़ा वज़न भी कम करेंगे, और यह सब उनके लिए अत्यधिक अच्छा है। आप अपेक्षा कर सकती हैं कि आपका बच्चा लंबा और दुबला हो जाए क्योंकि वह छोटेपन से ही व्यायाम करता आ रहा है।

12 महीने के शिशु की उपलब्धियाँ

तीन प्रकार की उपलब्धियाँ हैं जिनका आपको पर्यवेक्षण करने की आवश्यकता है – संज्ञानात्मक, भौतिक और सामाजिक व भावनात्मक विकास की उपलब्धियाँ।

  • अब वह बिना मदद के बैठ सकता है।
  • खुद को खड़ा करने के लिए किसी सहारे का उपयोग करता है।
  • फर्नीचर को पकड़कर चलता है।
  • सहारे के बिना कुछ कदम चलता है, जो कि शिशु के बड़े होने की शुरुआत को चिह्नित करता है।
  • वह अपने हाथों की चुटकी और कभी संपूर्ण हथेली से चीजों को पकड़ने के लिए विभिन्न प्रकार की पकड़ का उपयोग करता है।
  • अपनी तर्जनी उंगली से चीजों को छूता है।
  • उसके दाँतों के तीन ऊपरी और निचले जोड़े भी निकल चुके हैं।
  • बेहतर हाथ-आँख का समन्वय और दूरी का बेहतर निर्णय के लिए दृष्टि में सुधार भी हो रहा है।

व्यवहार

आप पाएंगे कि इस समय शिशुओं में माता-पिता से दूर होने की चिंता काफी आम होती है। वे दुनिया का अन्वेषण करना चाहते हैं लेकिन आपको छोड़ने का डर उनके अन्तर्मन में रहता है, कुछ शिशु शर्मीले होते हैं जबकि अन्य नहीं होते हैं। अपने शिशु के साथ किसी प्रकार की जबर्दस्ती न करें क्योंकि वे अपने समय पर ही चीज़े करेंगे। आप यह अपेक्षा कर सकती हैं कि बच्चों में चिड़चिड़ापन होता है क्योंकि उनके सोने का समय और बोतल से दूध पीने जैसी चीजों के पैटर्न बदलने से उन्हें फिर से समायोजित होने में परेशानी होती है। वे आसानी से नहीं खाते हैं और आपको कई मौकों पर परेशान भी कर सकते हैं।

12 महीने के शिशु की गतिविधियाँ

कई तरह की गतिविधियाँ विभिन्न विकासात्मक कौशल को थोड़ा और बढ़ाने में मदद करती हैं और संभवतः इससे आपका व आपके शिशु का मनोरंजन भी होगा।

  • कार्ड-बोर्ड को किसी मोहक चीज, जैसे एक स्टार या उसके पसंदीदा जानवर के आकार में काटकर किसी ऊँचाई में टाँगे और फिर उसे पकड़ने के लिए एक मज़बूत डिब्बे या चीज को रखें। यह आपके शिशु को घंटों तक व्यस्त रखेगा और उसे खड़ा होने के लिए प्रोत्साहित करेगा। यह खेल आपके शिशु के लिए अधिक मनोरंजक है किन्तु इसे और भी ज़्यादा मनोरंजक बनाने के लिए आप रोचक चीजों का उपयोग कर सकती हैं।
  • बाज़ार में उपलब्ध उन सभी ब्लॉक खेलों और खिलौनों के पीछे एक तर्क होता है और आप इन पर विश्वास कर सकते हैं यह सिर्फ पैसा कमाने के ले नहीं होते हैं। ब्लॉक गेम्स निपुणता और रंगों को समझने में प्रोत्साहित करते हैं, और छोटे बच्चों में बेहतर हाथ-आँख को समन्वय करने में मदद करता है। यह कैसा भी खेल हो सकता है, जैसे आप जिस रंगीन ब्लॉक को नाम देते हैं या जिस ब्लॉक के आकार को नाम देते हैं, बच्चा उस ब्लॉक को एक टोकरी से दूसरी टोकरी में स्थानांतरित करता है (जैसे, शिशु को बताएँ कि यह एक तारा है और यह इस छेद में जाता है) यह साहस और संज्ञानात्मक क्षमताओं के विकास को प्रोत्साहित करता है) हाँ, बहुत सारे मनोवैज्ञानिक शोध उपलब्ध हैं जो इन सरल खेलों पर किए गए हैं और अगर आपके शिशु को इसका चयन करने में परेशानी होती है तो भी, चिंता न करें। आपने भी स्कूल में कई विषयों में संघर्ष किया होगा पर फिर भी आगे बढ़े हैं, है ना!
  • टेलीफोन जैसे खिलौने वाला गेम बहुत सारे माता-पिता को पसंद है। यह बच्चों में बात करने की कौशलता और आपसी संबंध को बढ़ाता है। आपका बच्चा आपकी सहायता से यह पता लगाएगा कि यह क्या है और इसका किस लिए उपयोग किया जाता है। यह गतिविधि अद्भुत है क्योंकि इसे अन्य वस्तुओं के साथ दोहराया जा सकता है और यह आप पर निर्भर करता है कि आप शिशु के लिए इसे रोमांचक और मज़ेदार बनाएं। इस गतिविधि के दौरान अपने शिशु से बात करने से आपको उनकी शब्दावली का विस्तार करने में भी मदद मिलेगी। इसे संजोए क्योंकि इससे आप अपनी आँखों के सामने अपने छोटे से शिशु को बढ़ते हुए देख सकते हैं।

12 महीने के शिशु की देखभाल

आपके शिशु की देखभाल के नियम उनके विकास के हर चरण के साथ बदल जाते हैं, और यह 12 महीने के नियमों के साथ भी लागू होता है। आप अपने शिशु को पूरी तरह से नए रूप में पाएंगे और उनके खाने के लिए नई चीजों की आवश्यकता भी होगी क्योंकि उन्होंने बोतल से दूध पीना बंद कर दिया है और उनकी दिनचर्या भी बदल चुकी है क्योंकि उन्हें एहसास हो गया है कि दुनिया में सोने से ज़्यादा और भी बहुत रोचक चीजें हैं। अपने शिशु पर उसके द्वारा किए जा रही खोजबीन के दौरान नज़र रखें। अब जूतों पर विचार करने का समय है क्योंकि आपके शिशु को अपने पैरों के लिए सुरक्षा की आवश्यकता है। आप उसे लचीले तलवों वाले जूते पहनाएं और अनुमान लगाएंकि इससे क्या होता है? वह हल्के या शोर करने वाले जूते हैं ? वे आपके शिशु को अधिक चलने के लिए प्रोत्साहित करते हैं!

अब आपका बच्चा हर तरह के नए खाद्य पदार्थ खा रहा है और उसके दाँत भी अच्छी तरह से निकल आए हैं, तो अब शिशु के दाँतों को किसी मुलायम टूथब्रश या साफ कपड़े से साफ करना शुरू करें। इसके अलावा, अपने शिशु के लिए दंत- चिकित्सक के साथ पहली भेंट निर्धारित करें।

आहार

यह वह समय है जब आप शिशु के लिए स्तनपान के स्थान पर डिब्बा-बंद या गाय के दूध का प्रयोग करें। कम वसा वाले दूध का प्रयोग न करें क्योंकि आपके शिशु के विकास के लिए वसा की आवश्यकता होती है। यह आपके शिशु के समग्र शारीरिक विकास के अलावा मानसिक वृद्धि को दर्शाता है। जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, अब आपको अपने शिशु से उसकी बोतल की आदत छुड़वानी होगी और कप से दूध पिलाने की आदत ड़ालनी होगी। अपने डॉक्टर से प्यूरीज़ और अधिक ठोस भोजन के बारे में बात करें। दूध पिलाने से भोजन में बदलाव करना आसान हो सकता है यदि आप इसे मज़ेदार बनाते हैं और आपका नन्हा इसके लिए उत्सुक है अगर शिशु को बीच में थोड़ा थोड़ा नाश्ता देते रहा जाता है, तो चीजें बहुत बेहतर होंगी।

अब जब आपका बच्चा हर तरह के खाद्य पदार्थ खा सकता है, तो आपको उसके निगल जाने के खतरों पर ध्यान देने की आवश्यकता है, उनके भोजन के दौरान उन पर नज़र रखने की भी आवश्यकता है। आप उसके आहार में शहद को भी शामिल कर सकती हैं क्योंकि वह आपके शिशु की भूख के लिए बेहतरीन है!

सोने का समय

आपका 12 महीने का छोटा सा बच्चा अब पहले की तुलना में कम नींद ले रहा होगा। उसे न केवल कम नींद की आवश्यकता है, बल्कि वे दुनिया-भर को जानने की खोज करने के लिए उत्साहित होते हैं क्योंकि अब वे चलना सीख गए हैं। चिंता न करें क्योंकि यह पूरी तरह से स्वस्थ है और अब आपका बच्चा चलने के लिए कदम उठा रहा है। उनकी सुबह की झपकी निश्चित रूप से अतीत की बात होगी, और आपको उन्हें और अधिक गतिविधियाँ देने के लिए अपनी सूची को फिर से तैयार करना होगा और उनके इस नए कार्यक्रम के साथ तालमेल करना होगा।

हालांकि, जब तक आपका बच्चा दो साल का न हो जाए, उन्हें तब तक भी एक दिन में 14 घंटे की नींद लेनी चाहिए, आपके शिशु को शायद 90 मिनट या लगभग 3 घंटे के आराम की आवश्यकता होती है । यह जानकर आप खुश हो जाएंगी कि आपके पास खुद के आराम करने के लिए अब कुछ समय होगा।

माता-पिता के लिए टिप्स

माता-पिता को भी अपने बच्चों के पालन पोषण की सलाह की आवश्यकता होती है, और एक टॉडलर की अवधि की शुरुआत अलग नहीं है क्योंकि आप जानती हैं कि आपको अपने 1 वर्षीय शिशु के विकास की प्रगति को प्रोत्साहित करने के लिए कुछ चीजें करने की आवश्यकता है। यहाँ कुछ चीजें दी गई हैं, जो आपको अपने शिशु का पोषण करने की यात्रा में सहायता प्रदान करेंगी।

  • उन्हें रात के सोने का समय निर्धारित करने के लिए संस्कारित करें। यह शिशु को समय पर कार्य समाप्त करने में मदद करता है और शेष दिन उनकी सारी ऊर्जा को शिथिल करता है। उन्हें कुछ समय के लिए तेजी से दौड़ने दें ताकि शिशु थोड़ा थक जाएं, उन्हें नहलाएं, उनके लिए पढ़ें या गाएं, ध्यान रखें कि आप घर पर हैं या नहीं, यह दिनचर्या लगातार बनी रहे। अगर शिशु के आसपास कोई और देखभाल करने वाला है तो वह उन्हें भी समान दिनचर्या सिखाए। इससे शिशु को सांत्वना मिलती है और उनमें अपने परिवेश पर नियंत्रण की भावना विकसित होती है।
  • उपरोक्त बिंदुओं आधार पर अपने शिशु की जीवनचर्या को बनाए रखना सुनिश्चित करें। इससे उन्हें बेहतर संरचना मिलती है, और यहाँ तक कि 1 साल के शिशु की गतिविधियों को भी निरंतर बनाए रखना भी अनिवार्य है। चाहे वह पार्क का समय हो, दिन में सोने का समय हो, भोजन करने का या माता-पिता को घर लौटते हुए देखने का हो, बच्चों के लिए नियम का पालन करना आवश्यक है ।
  • अपने शिशु को पूर्ण वसा वाले खाद्य पदार्थों को खाने से मना न करें क्योंकि 12 महीने के शिशु का वज़न उनके जन्म के वज़न का तीन गुना होना चाहिए, उन्हें इस समय इसे विकसित करने और अपनी रोगक्षमता बनाए रखने की आवश्यकता है।आपके परिवार के आहार या किसी अन्य समान तत्वों के बावजूद, आपके शिशु का स्वास्थ्य पहले आता है और वसा तत्व से परिपूर्ण पदार्थ, मस्तिष्क के विकास जैसी चीजों को बढ़ावा देते हैं।

आपका नन्हा सा बच्चा एक नई यात्रा में दुनिया को जानने का प्रयास कर रहा है । जल्द ही आप अपने शिशु के नए पहलू को जानेंगी, और वे कई नए तरीकों से अपनी आवश्यकताएं, मांग और स्नेह का प्रदर्शन करेंगे। इस पड़ाव का आनंद लें और अपने शिशु की जरूरतों को अपनाते हुए ऊपर दिए गए सलाह का पालन करें।