12 स्वस्थ खाद्य पदार्थों की सूची शिशुओं और बच्चों के वज़न बढ़ाने के लिए

स्वस्थ खाद्य पदार्थों की सूची शिशुओं और बच्चों के वज़न बढ़ाने के लिए

Last Updated On

हालांकि बच्चों में वज़न न बढ़ना ज्यादातर भारतीय माताओं के लिए एक प्राथमिक चिंता होती है, फिर भी यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि आपका उद्देश्य एक संतुलित आहार सुनिश्चित करना होना चाहिए जो आपके बच्चे को बढ़ने के लिए आवश्यक सभी प्रकार का पोषण प्रदान करता हो। यह स्वतः ही बच्चे को एक स्वस्थ वज़न प्राप्त करने में मदद करेगा। अपने बच्चे को दिन में तीन स्वस्थ, संतुलित भोजन और बीचबीच में स्वास्थ्य के अनुकूल नाश्ता दें। एक विविधतापूर्ण आहार यह भी सुनिश्चित करता है कि उन्हें पर्याप्त पोषक तत्व, विभिन्न विटामिन और सभी खनिज मिलें जो उनके मस्तिष्क और शरीर के समग्र विकास के लिए आवश्यक हैं।

बच्चों में वज़न कैसे बढ़ाएं?

कुछ बच्चों का वज़न कभी बढ़ता हुआ लगता ही नहीं और इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि मातापिता की आनुवंशिक रचना। यदि माता और पिता दोनों दुबले हैं, तो शिशु की शारीरिक गुण भी समान हो सकते हैं। चयापचय या मेटाबॉलिज्म भी बच्चे का वज़न बढ़ाने के स्वरूप या पैटर्न में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि आपका बच्चा सक्रिय और स्वस्थ है, तो वज़न का अपेक्षित स्तर अंततः पा ही लेगा।

आप अपने बच्चे के लिए एक आहार डायरी रखने पर विचार कर सकती हैं और पसंद, नापसंद, वरीयताओं और एलर्जी की एक सूची बना सकती हैं, और अपने और बच्चे दोनों के लिए भोजन के समय को मजेदार और बहसमुक्त बनाने के लिए साप्ताहिक मेनू तैयार कर सकती हैं। बच्चों में वज़न बढ़ाने में मदद करने के लिए यहाँ कुछ सुझाव दिए गए हैं:

  • बच्चे का पर्याप्त व्यायाम और शारीरिक गतिविधियाँ होती रहें जिससे उसको भूख अच्छी लगती है।
  • बच्चे को स्वस्थ, संतुलित और पौष्टिक आहार देने पर ध्यान दें ना कि वज़न बढ़ाने पर।
  • जैसेजैसे बच्चा बढ़ता है, उन्हें तैराकी, साइकिल चलाना आदि खेलों से परिचित कराएं। यह बच्चे की भूख बढ़ाने में मदद करेगा और उसके शरीर का विकास भी विकसित करेगा।

आपके बच्चे के लिए स्वस्थ आहार क्यों महत्वपूर्ण है?

बच्चों में स्वस्थ भोजन की आदतों के विकास के लिए जीवन के प्रारंभिक वर्ष महत्वपूर्ण होते हैं। जब आप अपने बच्चे को शुरुआती वर्षों में स्वस्थ भोजन की आदतों से परिचित कराते हैं, तो जीवन भर यह आदतें उनके साथ रहने की संभावना होती है। इससे उनके बड़े होने के साथ भोजन के समय के विवाद और खाने को देखकर अजीबोगरीब मुंह बनाने जैसी बातें नहीं होंगी। यह यात्रा पर जाने या बाहर जाकर खाने के दौरान भी आपके लिए राह आसान बना देगा। वे जंक फूड के आदि होते हैं या फलों व सलाद के, यह आपको इसी समय तय करना है। स्वस्थ भोजन के अलावा, आपको यह भी ध्यान देना है कि आपके बच्चे सक्रिय हैं, खेलतेकूदते हैं और सूरज की रोशनी में पर्याप्त समय खेल रहे हैं। यह उनकी रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है जिससे आपको डॉक्टर के पास भी कम जाना पड़ेगा।

बच्चों मे उनकी उम्र के हिसाब से वज़न न बढ़ना

बच्चों मे उनकी उम्र के हिसाब से वज़न न बढ़ना
चित्र सौजन्य – www.parentinginshort.com

वज़न बढ़ने का पैटर्न एक बच्चे से दूसरे बच्चे में भिन्न होता है, और तुलना करने का कोई सटीक तरीका नहीं है। तथापि, डॉक्टर भारतीय बच्चों के औसत वज़न के आधार पर बनाई गई एक वज़न तालिका का उपयोग करते हैं। मातापिता के लिए यह सलाह दी जाती है कि वे इस तालिका को केवल एक सामान्य दिशानिर्देश के रूप में देखें और याद रखें कि आपके बच्चे की किसी विशेष आवश्यकता के लिए बाल रोग विशेषज्ञ की सलाह सबसे अच्छी तरह काम करेगी।

1. शिशु – 0 से 12 महीने

आपका बच्चा शुरुआती कुछ महीनों में तेजी से बढ़ेगा। हर महीने, आपके शिशु के वज़न और ऊंचाई में वृद्धि होती जाएगी। आपको बारबार कपड़ों की ख़रीददारी करनी होगी।सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे को पर्याप्त नींद मिलती है और आहार अच्छी तरह से दिया जाता है, तय क्रम के अनुसार टीकाकारण किया जाता है और नियमित जांच के लिए ले जाया जाता है। यह अनुशंसा की जाती है कि बच्चे को पहले 6 महीनों के दौरान विशेष रूप से स्तनपान कराया जाए और अंत में माँ के दूध के साथ अन्य तरल आहार या अर्ध ठोस खाद्य पदार्थों से परिचित कराया जाए। बच्चे को आदर्श रूप से 4-6 महीने की आयु तक जन्म के वज़न से दोगुना होना चाहिए।

2. छोटे बच्चे – 12 से 36 महीने

यह आपके बच्चे के जीवन में एक सक्रिय चरण है, और इस उम्र में उनका भावनात्मक और सामाजिक विकास काफी तेजी से होता है। इस आयु में बच्चे अपने आसपास की चीजों की खोज करना शुरू कर देते है और डेकेयर में या जब आप उन्हें आसपासघुमाने के लिए ले जाएं तो वे अन्य बच्चों के संपर्क में आएंगे। तो पहले साल में बनी रोग प्रतिरोधक क्षमता और भोजन की आदतें अब और भी महत्वपूर्ण होंगी। बच्चों के वज़न की घटतीबढ़ती मात्रा विभिन्न कारकों और मन की भावनात्मक स्थिति, मातापिता से अलगाव, नए वातावरण और भोजन की आदतों में बदलाव के आधार पर दिखाई देती है।

3. प्रीस्कूलर – 4 से 6 साल

इस उम्र का बच्चे का विकास जीवन भर कायम रहेगा। इन बच्चों को व्यस्त दिनचर्या और सक्रिय जीवनशैली में कैलोरी की अधिक मात्रा और विभिन्न प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर भोजन की आवश्यकता होती है। औसतन, उनमें प्रति वर्ष लगभग 2 किलोग्राम वज़न की वृद्धि होती है।

4. बड़े बच्चे – 7 से 12 वर्ष

जैसेजैसे वे प्रीस्कूलर्स से पूर्वकिशोर आयु के वर्ग में जाते हैं, बच्चों की पोषण संबंधी आवश्यकताओं में वृद्धि होगी , और वज़न में वृद्धि प्रति वर्ष 3 किलोग्राम हो जाएगी। इस उम्र में, ये परिवार के अन्य सदस्यों के समान ही भोजन करते हैं।

शिशुओं और बच्चों में वज़न बढ़ाने के लिए सर्वश्रेष्ठ खाद्य पदार्थ

शिशुओं और बच्चों के लिए भोजन बनाते समय, मातापिता को बच्चे की पोषण संबंधी आवश्यकता को ध्यान में रखना होगा। बच्चों को एक अच्छी तरह से संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए जो पर्याप्त और स्वस्थ कैलोरी प्रदान करे। मातापिता को भोजन के समय को भी दिलचस्प बनाने की आवश्यकता है ताकि बच्चे इसके लिए उत्सुक हों और वे उधम मचाते हुए खाना खाने वाले न बनें।

कुछ मातापिता शिशुओं में वज़न बढ़ाने के लिए चीनी से भरपूर मिठाइयाँ खिलाते हैं; हालांकि, यह अस्वास्थ्यकर है और अंततः यह आपके बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित करेगा। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आपके बच्चे के आहार में स्वस्थ कैलोरी हो और अच्छी तरह से संतुलित भोजन हो।

शिशुओं और बच्चों में वज़नबढ़ाने के लिए यहाँ बेहतरीन खाद्य पदार्थ बताएं गए हैं जिन्हें आपको उनके आहार में शामिल करना चाहिए:

1. स्तनपानस्तनपान

यह अनुशंसा की जाती है कि बच्चे को जन्म के बाद पहले 6 महीनों के दौरान केवल स्तनपान कराया जाए। यह पौष्टिक, आसानी से पचने वाला, पूरी तरह से संतुलित और स्वस्थ सुपर फूड है जो जीवन भर बच्चे की प्रतिरक्षा शक्ति बनाये रखता है। यह माँ और बच्चे के बीच के बंधन को भी बढ़ाता है। यदि आपका बच्चा सक्रिय है, स्वस्थ दिख रहा है, एलर्जी से मुक्त है, एक दिन में 4-6 बार मल विसर्जन करता है और 6-8 डायपर गीले करता है, तो इससे यह इंगित होता है कि उसे माँ का दूध पर्याप्त मात्रा में मिल रहा है। आप आश्वस्त हो सकते हैं कि बच्चे का विकास स्वस्थ रूप से हो रहा है।

6 महीने की उम्र के बाद, आप स्तनपान के साथ बच्चे के आहार में तरल और अर्ध ठोस भोजन शामिल कर सकते हैं। यहाँ आप बच्चों के एक स्वस्थ आहार में क्या शामिल कर सकते हैं यह बताया गया है।

2. केलेकेले

यह शानदार फल पोटेशियम, विटामिन सी, विटामिन बी 6 और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर है। इसमें प्रचुर मात्रा में कैलोरी होती है और यह शिशुओं में वज़न बढ़ाने का सही स्रोत है।

केले को मसलकर स्मूदी या शेक बनाकर दें। उबले हुए केले को मैश किया जा सकता है और बच्चों को शानदार परिणाम के लिए खिलाया जा सकता है। यह कहीं यात्रा के दौरान साथ लेकर जाया जा सकता है और इससे एक आसान नाश्ता बन सकता है।

3. शकरकंदशकरकंद

शकरकंद को उबालना और मैश करना आसान है। यह स्वादिष्ट, पौष्टिक, पचाने में आसान और स्वास्थ्यकर होता है। इसमें विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन बी 6, कॉपर, फास्फोरस, पोटेशियम और मैंगनीजवज़न बढ़ाने के लिए बच्चों के लिए सबसे अच्छा विटामिन, होता है।

शकरकंद में का आहार फाइबर से भी प्रयुक्त होता हैं। आप इससे स्वादिष्ट प्यूरी और सूप भी बना सकते हैं।

4. दालेंदालें

दालें पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं। वे प्रोटीन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, लोहा, फाइबर और पोटेशियम से समृद्ध होती हैं। 6 महीने के बाद, आप सूप या दाल के पानी के रूप में दालें देसकते हैं, जो बच्चों के लिए सबसे लोकप्रिय वज़न बढ़ाने वाले पेय में से एक है।

आप अच्छी तरह से मैश की हुई खिचड़ी भी खिला सकती हैं। मूंग दाल आसानी से पच जाती है और शिशुओं के लिए एक अच्छा विकल्प है। एक पौष्टिक और फाइबर युक्त भोजन के लिए चावल और / या सब्जियों के साथ दालें पकाएं।

लगभग 7-9 महीने की आयु आपके बच्चे को कुछ और नए स्वादों और भोजन प्रकार से परिचित कराने का उपयुक्त समय है। अर्धठोस, चंकी और मसला हुआ भोजन खिलाना शुरू करें। आप घर का बना दलिया या बाजार में उपलब्ध अनाज का मिश्रण देना शुरू कर सकती हैं। घर के बने अनाज के लिए, आप दाल, बाजरा, फली, चावल को धोकर और धूप में सुखा कर, हल्के से भूनें और इसे मिक्सर में पीस लें और इससे आप आसान आहार बना सकती हैं। यदि आप कम वज़न के बच्चे के लिए भोजन तैयार कर रही हैं तो त्वरित भोजन के विकल्पों के लिए कई तरह के पाउडर तैयार करें और लेबल वाली बोतलों में रखें। आवश्यकता पड़ने पर उपयोग करें।

5. रागीरागीचित्र सौजन्य

फिंगर मिलेट या नाचनी के रूप में भी जाना जाता है, यह सुपर फूड वज़नबढ़ाने और बच्चे के विकास के लिए एकदम सही भोजन है। यह आहार फाइबर, कैल्शियम, लौह, प्रोटीन, और विभिन्न अन्य विटामिन और खनिजों में समृद्ध है।

यह आसानी से पच जाता है और इसे शिशुओं को इडली, डोसा, दलिया, माल्ट या सिरील के रूप में और केक, कुकीज और पुडिंग के रूप में बच्चों को दिया जा सकता है।

6. घीघी

घी बहुत अधिक पोषक पदार्थ है। अपने बच्चे की उम्र के 8 वें महीने के आसपास इसे आहार में शामिल करें। थोड़ा सा घी दलिया में डाला जा सकता है या मैश की हुई खिचड़ी या दाल के सूप के ऊपर डालकर दिया जा सकता है।

अगर आप मिलावट से परेशान हैं तो दूध या मलाई से बना घी आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है। शिशुओं में स्वस्थ वज़न बढ़ाने के लिए यह एक बेहतरीन भोजन है। याद रखें कि घी का उपयोग अधिक नहीं होना चाहिए क्योंकि इसका अधिक मात्रा में सेवन बच्चे के पेट को परेशान कर सकता है।

जब आपका बच्चा 8-10 महीने की आयु तक पहुँच जाए, तो आप वज़न बढ़ाने के लिए उनके आहार में निम्नलिखित खाद्य पदार्थों को शामिल कर सकते हैं।

7. दुग्ध पदार्थदुग्ध पदार्थ

अब अपने बच्चे के आहार में दही जैसे दुग्धउत्पादों को शामिल कर सकती हैं। दही बच्चे में स्वस्थ वज़न बढ़ाने के लिए वसा और पौष्टिक कैलोरी प्रदान करता है।

दही पाचन में सुधार करता है, रोग प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ाता है और गैस संबंधी परेशानियों को दूर करने में मदद करता है। बच्चों का वज़न बढ़ाने के लिए योगर्ट स्मूदी या शेक बनाकर, इसमें फलों के टुकड़े डालकर इसे दिलचस्प बनाया जा सकता है।

पैक किया हुआ दूध, मक्खन, पनीर, आदि, 12 महीने की आयु के बाद या बाल रोग विशेषज्ञ की राय लेने के बाद प्रयोग किया जाना चाहिए। मक्खन और पनीर से बच्चों को भोजन में दिलचस्पी बढ़ती है और इनमें स्वस्थ वज़न बढ़ाने के लिए आवश्यक वसा की मात्रा होती है।

गाय का दूध 1 वर्ष की आयु के बाद बच्चों को देना चाहिए। अपने बच्चे के आहार में एक दिन में कम से कम 2 गिलास दूध शामिल करना सुनिश्चित करें जब तक कि वे अपनी किशोरावस्था तक नहीं पहुँचते। सूखे मेवे या बाज़ार में विभिन्न स्वादों में मिलने वाले पौष्टिक पाउडर को मिलाकर दूध को स्वादिष्ट बनाया जा सकता है। दुग्ध उत्पादों की मात्रा को ध्यान में रखते हुए उपयोग करना चाहिए, क्योंकि बहुत अधिक या बहुत कम मात्रा परेशानी पैदा कर सकती है। यदि आपका बच्चा लैक्टोज के कारण या दुग्ध उत्पादों का सेवन करने के बाद गैस की समस्याओं से पीड़ित होता हैं, तो कृपया बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श करें।

8. अंडेअंडे

प्रोटीन का यह प्रचुर भंडार 12 महीने की आयु के उपरांत ही बच्चों को दिया जाना चाहिए। अंडे संतृप्त वसा, प्रोटीन, विटामिन और खनिजों से समृद्ध होते हैं; आप उन्हें आमलेट, तले हुए, उबले हुए, अंडेचावल या फ्रेंच टोस्ट के रूप में परोस सकते हैं।

एलर्जी की जांच करने और स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से बचने के लिए अच्छी गुणवत्ता, रोग मुक्त फार्म के अंडे खरीदने की कोशिश की जानी चाहिए। ऐसे परिवार जो मांसाहारी भोजन पसंद करते हैं, वे बाल रोग विशेषज्ञ के परामर्श के बाद आहार में मांस या मछली शामिल कर सकते हैं।

9. सूखा मेवासूखा मेवा

बादाम, पिस्ता, अखरोट, खुबानी, काजू, किशमिश और तिल, कद्दू, अलसी आदि के बीज बच्चों का वज़न बढ़ाने के लिए उन्हें सर्वोत्तम विटामिन प्रदान करते हैं। उन्हें कई दिलचस्प तरीकों से भोजन में डाला जा सकता है। इसका पाउडर करें और दूध में डालें या अनाज के ऊपर बुरक दें, या बस उन्हें मुट्ठी भर नट्स और बीज खाने के लिए दें।

पीनट बटर या बादाम का दूध स्वास्थ्य और वज़न बढ़ाने के लिए स्वादिष्ट विकल्प हैं। रोटियाँ या पराठे बनाते समय आप उनका एनर्जी बार बना सकते हैं या उन्हें आटे में मिला सकते हैं। खजूर की चाशनी को दूध में मिलाने से यह बच्चों के लिए आयरन से भरपूर खाद्य विकल्प बन जाएगा। यह अक्सर वज़न बढ़ाने वाले पेय के रूप में उपयोग किया जाता है।

10. अवोकैडोअवोकैडो

यह विटामिन बी 6, , सी, के, फोलेट, कॉपर, फाइबर, पैंटोथेनिक एसिड का एक समृद्ध स्रोत है, और इसमें वसा भी भरपूर होता है। डिप्स या स्प्रेड के रूप में परोसा गया, एवोकाडो किसी भी भोजन के लिए एक अनूठा अतिरिक्त आहार है। इसे मिल्क शेक में भी मिलाया जा सकता है!

11. चिकनचिकन

यह आसानी से पचने योग्य प्रोटीन का एक समृद्ध स्रोत है। सरलता से उपलब्ध और सस्ता, यह बच्चे की मांसपेशियों का निर्माण करने में मदद करता है और जिससे उसका स्वस्थ वज़न बढ़ सकता है।

चिकन एक बहुमुखी भोजन विकल्प है और इसे किसी भी रूप में परोसा जा सकता है ताजा सलाद के साथ एक शानदार भारतीय चिकन करी के रूप में, या एक मनोरम कबाब के रूप में भी।

12. फल और सब्ज़ियाँ

फल और सब्ज़ियाँ

प्राकृतिक शर्करा से भरपूर, आवश्यक विटामिन और प्रतिरक्षानिर्माण खनिज से युक्त फल और सब्ज़ियाँ हर बच्चे के आहार चार्ट में जरूरी हैं। इनमें पपीता, आम और अनानास शामिल हैं।

कुछ उबली हुई सब्जियों में मक्खन मिलाकरदें या अपने बच्चे को नाश्ते के समय में खाने के लिए रंगबिरंगे फलों को सलाद की तरह दें।

वज़न बढ़ाने के लिए बच्चों के लिए आहार तालिका

वज़न बढ़ाने के लिए बच्चों के लिए आहार तालिका
चित्र सौजन्य – www.beinghappymom.com

आहार तालिका साप्ताहिक मेनू या भोजन योजना के रूप में हो सकता है जिसमें बच्चे के आहार में होने के लिए सभी आवश्यक पोषक तत्वों को शामिल किया गया हो। इसे रेफ्रिजरेटर के ऊपर पदिलचस्प आहार चित्रों के साथ रखा जा सकता है। आप यह सुनिश्चित करें कि मातापिता और बच्चा दोनों मेनू को रोमांचक और खाने के समय को मज़ेदार बनाने में भाग ले रहें हैं। हर हफ्ते, आप एक नया भोजन पेश कर सकते हैं और अपने बच्चे के लिए भोजन के विकल्पों का विस्तार कर सकते हैं।

हर आयु वर्ग के साथ आहारचार्ट बदलता है। सुनिश्चित करें कि आप इसे अच्छी तरह से संतुलित भोजन बनाने के लिए फलों, सब्जियों, दुग्ध पदार्थों, स्टार्च और प्रोटीन के कुछ हिस्सों को भोजन में शामिल कर रहीं हैं।

बच्चे को स्वास्थ्यकर खाने के लिए कैसे प्रेरित करें

आपके बच्चे आपके नक्शेकदम पर चलेंगे। इसलिए, अपने बच्चों को स्वस्थ खाने की आदतों का पालन करने के लिए, आपको अपना उदाहरण पेश करने की आवश्यकता होगी। जैसे, यदि आप पैकेज्ड जंक फूड खाते हैं, तो आप अपने बच्चे को ऐसा करने से रोक नहीं सकते हैं।

स्वस्थ भोजन युक्तियाँ

  • रंगीन प्लेट, कटलरी, संगीत, बेबी पार्टी आदि शुरू करके भोजन के समय को रोचक और सुखद बनाएं। आप कभीकभार बच्चे को पार्क में सैर सपाटे के लिए ले जा सकते हैं।

  • खिलाते समय जल्दी न करें। धैर्य रखें और यदि आवश्यक हो, तो परिवार के अन्य सदस्य बच्चों को खिलाने के लिए समय निकालें। यह उनके बीच के स्वस्थ संबंधों को बढ़ावा देगा और अन्य चीजों को करने के लिए आपके तनाव को दूर करेगा।

  • कभीकभी, बच्चे खाने से इनकार करते हैं; उन्हें खाने के लिए मजबूर न करें और ना ही उन पर गुस्सा करें। धैर्य ही कुंजी है; आपको किसी अन्य दिन या किसी अन्य तरीके से भोजन खिलाने की कोशिश करनी होगी।

  • बच्चे में होनेवाली एलर्जी का ध्यान रखें। यह गिरी, ग्लूटेन, मछली या लैक्टोज से हो सकती है। तत्काल चिकित्सा सहायता लें और इसे स्वत: दवाओं के माध्यम से हल करने का प्रयास न करें।

  • भोजन का समय निश्चित करें ताकि बच्चे का शरीर चक्र उसके अनुसार तय हो सके। भोजन के समय के अलावा आहार न दें।

  • अत्यधिक भोजन के साथसाथ बहुत कम खाने से भी बचना चाहिए।

  • शिशुओं को घर का बना भोजन दें; यात्रा करते समय, जंक या अस्वास्थ्यकर भोजन के बजाय फलों जैसे स्वस्थ विकल्पों को चुनें।

  • जैसेजैसे बच्चे बढ़ते हैं, उन्हें भोजन के विकल्प चुनने और खाना पकाने में आपकी मदद करने के फैसलों में शामिल करें। यदि वे इसे स्वयं चुनते हैं और इसे तैयार करने में मदद करते हैं तो वे भोजन को अधिक पसंद करेंगे।

  • अपने पसंदीदा खाद्य पदार्थों के साथ साप्ताहिक अंतराल पर नए खाद्य पदार्थों को शामिल करें। जब वे कुछ नया करने की कोशिश करें तो उनकी सराहना करें।

याद रखें कि बच्चों में स्वस्थ भोजन की आदतों को बनाए रखना उनके वज़न के लक्ष्य तक पहुंचने से अधिक महत्वपूर्ण है। यदि आपके बच्चे स्वस्थ और पौष्टिक आहार का सेवन करते हैं, तो वे अंततः स्वस्थ वज़न तक पहुँच ही जाएंगे ज्यादा खाने या कम आहार सेवन की स्थिति नहीं आने दें क्योंकि इससे आपके बच्चे के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है। यदि उपरोक्त सुझावों और खाद्य पदार्थों को देने के बावजूद आप अपने बच्चे के वज़न के बारे में चिंतित हैं, तो डॉक्टर से परामर्श करें वह स्थिति का मूल्यांकन करेंगे और आवश्यकता होने पर बच्चों के लिए वज़न बढ़ाने की खुराक देने के लिए परामर्श देंगे।