16 महीने के बच्चे की वृद्धि और विकास

16 महीने के बच्चे की वृद्धि और विकास

Last Updated On

जैसे-जैसे आपका बच्चा बड़ा होने लगता है आपकी दिनचर्या में बहुत अंतर आ जाता है। अपने 16 महीने के बच्चे के आगे-पीछे दौड़ते हुए एक माँ इतनी व्यस्त हो जाती है कि उसे हर समय सावधान और चौकन्ना रहने की आश्यकता होती है। आप दोनों की इस अद्भुत यात्रा को और बेहतर बनाने के लिए आइए हम बताते हैं कि आपको बच्चे के 16 महीने की आयु में किन-किन बातों का खयाल रखना चाहिए।

16 महीने के बच्चे का विकास

बच्चे को बड़ा होते देखना एक मनोरम अनुभव होता है। यहाँ हम आपके बच्चे के विकास और वृद्धि के पड़ावों के बारे में चर्चा करेंगे।

1. शारीरिक विकास

बच्चे की 16 महीने की आयु में डॉक्टर हर 2 महीने में उसके विकास की जांच कर सकते हैं। आप अनुभव करेंगी कि बच्चे का विकास अब उतना तीव्र नहीं है जितना कि पहले वर्ष में था। इस आयु में प्रत्येक बच्चे का वजन अलग-अलग होता है। आपके 16 महीने के बच्चे का वजन लगभग 8.5-12.9 किलोग्राम के बीच होना चाहिए।

  • आप देखेंगे कि आपका बच्चा अपनी शारीरिक क्षमताओं को बढ़ाने का प्रयास कर रहा है। उसे मालूम है कि वह पूर्ण आत्मविश्वास के साथ चल सकता है इसलिए वह ब्लॉक्स खेलने के दौरान उसके डिब्बे का भार उठाता है। वह एक कुर्सी को धक्का देकर किचन में ले जाने का प्रयास भी करता है और उसमें चढ़ने की कोशिश भी करता है। ऐसी स्थिति में आप अपना खाना पीछे वाले बर्नर में बनाएं और पैन के हैंडल को अंदर की ओर रखें। एक 16 महीने के बच्चे के लिए किचन खतरनाक जगह हो सकती है इसलिए उस पर पूरी तरह से नजर रखें।
  • इस समय पर आपके बच्चे का फाइन मोटर स्किल का विकास अधिक तीव्रता से होता है। वह हर चीज को करने के लिए अपनी मोटर स्किल का उपयोग करेगा। वह अपनी छोटी-छोटी उंगलियों से ड्रॉर, अलमारी खोलकर यह देखने की कोशिश करेगा कि वह कैसे खुलता है और उसमें क्या रखा जाता है। यदि आपने अब तक अपने बच्चे के लिए घर को सुरक्षित नहीं किया है तो यह बिलकुल सही समय है जब आप ऐसा कर सकते हैं। ड्रॉर व अलमारियों में ताले लगवाएं और साथ ही हानिकारक केमिकल और दवाइयां अपने बच्चे की पहुँच से दूर रखें।
  • 16 महीने की आयु में बच्चा अपने छोटे-छोटे हाथों व उंगलियों का उपयोग ज्यादा से ज्यादा करने की कोशिश करेगा। आप अपने बच्चे को क्रेयॉन का बॉक्स व एक कागज दें और उसकी बेहतरीन क्रिएटिविटी को आप खुद देखें। यदि आपके घर की दीवारें यह दर्शाती हैं कि बच्चा क्रेयॉन्स से कलाओं को करने के लिए आतुर रहता है तो उसे वह क्रेयॉन्स दें जो परमानेंट न हों और जिसके रंगों के दाग को सरलता से साफ किया जा सके।

2. सामाजिक और भावनात्मक विकास

  • बच्चा आपको खुद के विस्तारित रूप में देखने की कोशिश करेगा। वह आप पर उन चीजों को प्राप्त करने के लिए और अधिक निर्भर रहेगा जो वह चाहता है लेकिन प्राप्त नहीं कर सकता है। हो सकता है वह ऊंची अलमारी पर रखा खिलौना चाहता हो और चूंकि वह उसे पाने में शारीरिक रूप से असमर्थ है, इसलिए उसे नीचे लाने के लिए आपसे कहने का प्रयास करे। अपने बच्चे की अधिक मदद करने से बचें और जल्द ही आप देखेंगी कि वह खुद से सफल होने के रास्ते खोज लेगा। उसे रोने दें और अपने गुस्से को बाहर निकालने दें क्योंकि इसी से वह सीखेगा।
  • 16 महीने का बच्चा यह समझने का प्रयास करता है कि उसके अच्छे व्यवहार के लिए उसकी तारीफ होती है और बुरे व्यवहार के लिए उसे डांट भी पड़ती है। वह यह भी समझेगा कि आपको उसका कौन सा व्यवहार गलत लगता है और उसके किस व्यवहार से आपको हंसी आ सकती है। भविष्य में आपके गुस्से से बचने के लिए बच्चा अपनी इस चंचलता का उपयोग कर सकता है।
  • 16 महीने का बच्चा खुद को स्वतंत्र समझता है और स्थितियों को नियंत्रित करने में आनंद लेता है। आप उसके साथ उसके प्ले किचन में खेल सकती हैं और उससे अपने लिए स्वादिष्ट खाना बनाने के लिए कह सकते है। इस तरह, वह अपने आप में गर्व और खुशी की भावना को खोजने और महसूस करने के लिए प्रोत्साहित होगा।

16-month-old baby scribbling on a piece of paper

3. संज्ञानात्मक और भाषा विकास

  • बच्चे अपने आप स्वतंत्र हो जाते हैं और हमें बस उनकी सहायता करने की आवश्यकता होती है। आप यह अपने 16 महीने के बच्चे के साथ जल्द ही सीख जाएंगी। जब बच्चा बात करना शुरू कर देगा, तो उसे जल्द ही एहसास होगा कि वह हर तरह से स्वतंत्र हो सकता है। वह शायद केवल कुछ शब्द ही बोल पाएगा और ज्यादातर बिना बोले ही इशारों में बात करेगा, लेकिन वह निश्चित रूप से जितना संवाद कर सकता है उससे अधिक समझ सकता है।
  • जैसा कि बच्चा अपने पहले शब्दों को बोलना शुरू कर देता है, वह समझने लगेगा कि खुद को समझाने के लिए अपने होठों, जीभ और सांस को एक साथ समन्वयित करना चुनौतीपूर्ण है। उससे धीरे-धीरे और छोटे वाक्यों में बात करने की कोशिश करें ताकि वह समझ सके।

व्यवहार

16 महीनों में आपका बच्चा चुनौतियों के कुछ संकेत दे सकता है जिसमें उसका व्यवहार भी शामिल हो सकता है।इस समय वह नखरे दिखा सकता है या अलग होने की चिंता के लक्षण दिखा सकता है। कुछ बच्चे अजीब व्यवहार कर सकते हैं। यहाँ तक कि सबसे अच्छे व्यवहार वाले बच्चे भी नखरे वाला स्वभाव दिखा सकते हैं। 2 साल की आयु में बच्चा अपनी पूर्ण स्वतंत्रता को समझने का प्रयास करता है। उन्हें अपना रास्ता पसंद होता है और चुनौतियों से वह जल्दी परेशान भी हो सकता है। यदि आप उसके नखरों के कारण को जानती हैं तो आप सरलता से उसे संभाल सकती हैं।

अधिकांश बच्चे सुपर-मार्केट के खिलौने व विभिन्न चीजों को देखकर उत्साहित हो जाते हैं। उसे टालना आपके बच्चे के गुस्से व नखरों को संभालने में मदद कर सकता है। अपने बच्चे की भूख और नींद के संकेतों के लिए चौकन्ने रहें। अक्सर, यह आपके संघर्ष के छिपे हुए कारण होते हैं। बच्चे को समय देना, उसे शांत करने में मदद करने के साथ-साथ उसके गुस्से के नखरे को रोकने में भी एक बड़ी भूमिका अदा करता है और उसे बेहतर तरीके से अपनी भावनाओं को नियंत्रित करने में मदद करता है।

आहार और पोषण

आपके 16 महीने के बच्चे का आहार बिलकुल आपके आहार जैसा ही होगा। भोजन की पसंद जीवन में अक्सर बहुत जल्द ही बन जाती है इसलिए यह आवश्यक है कि आप अपने बच्चे को सही व स्वस्थ भोजन खाने की आदत डालें। बच्चों का पेट छोटा सा होता है, इसलिए उस छोटे से पेट को भरने के लिए उन्हें दिनभर में 3-4 बार भोजन की आवश्यकता पड़ सकती है। सुनिश्चित करें कि आप उसे वही खाद्य पदार्थ खिलाती हैं जो पोषण से भरपूर होता है और उसे मीठे खाद्य पदार्थ और सिर्फ कैलोरी नहीं खिलाती हैं। आप देखेंगी कि इस आयु में आपका बच्चा अलग बर्तन में खाना लेकर अपने हाथ से खाने का प्रयास करता है। उसे इन स्किल का अभ्यास करने दें किंतु यदि वह चिड़चिड़ा जाता है तो उसकी मदद करें। जैसे-जैसे उसका विकास होगा वैसे-वैसे आप एक कदम पीछे हटें और उसकी नई स्वतंत्रता का आनंद लें। आपके धैर्य रखने से आपके बच्चे को सही और स्वस्थ चयन करने में मदद मिलेगी।

जब आप डाइनिंग टेबल पर अपने परिवार के साथ बैठती हैं, तो बच्चे को उसका भोजन चुनने में थोड़ी स्वतंत्रता दें। उसे खाने के विकल्पों के बारे में बताएं और उसे अपनी पसंद बनाने दें। वह नया भोजन पसंद कर सकता है या हो सकता है कि वह उस खाद्य पदार्थ को बिलकुल भी हाथ न लगाए। एक बच्चे को नए आहार को पसंद करने के लिए लगभग उसे 20-30 बार वह खिलाना पड़ता है। हमेशा एक समय में केवल एक ही नए खाद्य पदार्थ का परिचय करवाएं। इससे आपको यह जानने में मदद मिलेगी कि आपके बच्चे को किसी चीज से एलर्जी तो नहीं है। पॉपकॉर्न, अंगूर, हार्ड कैंडी, नट्स और किशमिश जैसे खाद्य पदार्थों से बचना अच्छा है जो घुटन का खतरा पैदा करते हैं। हमेशा भोजन के समय अपने बच्चे की देखरेख करें।

नींद

A mother kissing her sleeping baby

आपको जल्द ही पता चल जाएगा कि आपके बच्चे को दिन में कम नींद की आवश्यकता है। वह अपनी सुबह और दोपहर की नींद को छोड़कर केवल मध्याह्न में सो सकता है। शुरुआत में, मध्याह्न की नींद थोड़ी अधिक लंबी हो सकती है क्योंकि वह धीरे-धीरे अपनी नई दिनचर्या में ढलना शुरू करता है। दोपहर में उसे देर तक न सुलाएं क्योंकि इससे उसका रात को सोना मुश्किल हो सकता है। बच्चे हर दिन एक ही दिनचर्या पसंद करते हैं, इसलिए उसे लगातार एक ही समय पर सुलाने की कोशिश करें। बच्चे को सोफे के बजाय पलंग या झूले में सुलाएं।बच्चा थकने के बाद भी सोने से इंकार कर सकता है क्योंकि उसमें नई चीजें जानने की अत्यधिक इच्छा व उत्साह होता है।

आपको दृढ़ रहने की जरूरत है ताकि वह एक और साहसिक कार्य करने से पहले अपनी नींद पूरी कर सके। उसका साथ देने के लिए उसके कमरे में कुछ किताबें व खिलौने रखना एक समझदारी होगी और उसे आराम से सोने दें।

खेल और गतिविधियां

कभी-कभी, सिर्फ एक कदम पीछे लेने से हमारे बच्चे खुद की वृद्धि कर सकते हैं। इससे आपका बच्चा कभी भी प्रयोग करने के लिए तैयार होगा और नई कल्पनाओं को आजमाएगा। उसे ऐसा करने का अवसर दें ताकि आप वास्तव में उसे अपना मनोरंजन खुद करने में मदद करेंगे, और उसे अपनी रचनात्मकता का पता लगेगा। खेलने के दौरान वह समस्याओं को हल करना और और मोटर प्ले भी सीखेगा। इस उम्र में, आपका 16 महीने का बच्चा अपनी चीजों को स्वतंत्र रूप से करना पसंद करेगा। नई चीजों को सीखने में उसकी मदद करें। आप उसके मोजे एक दराज में रख सकती हैं जिस तक वह पहुँच सके या उसके जूते घर के दरवाजे के पास एक प्लास्टिक डिब्बे में रख सकते हैं ताकि वह बाहर जाने पर उन्हें अपने आप पहन सके।

आप उसकी आयु के हिसाब से गतिविधियों की योजना बना सकती हैं, जैसे अपनी प्लेट ले जाना और उसे सिंक में रखना। पूर्णता की उम्मीद न करें और यदि वह लड़खड़ाता है तो उसके प्रति स्नेह रखें। इस तरह से आप उसे अपनी चीजों का पता लगाने और स्वतंत्र होने के लिए और अधिक अवसर दे सकेंगी। आप बच्चे को किताब पढ़कर सुनाएं क्योंकि इससे उसके श्रवण कौशल को बढ़ावा देने में सहायता मिलती है। यह भाषा के विकास को भी बढ़ाता है और ध्यान अवधि व स्मृति को विकसित करने में सहायता करता है। जब आप अपने बच्चे को एक किताब पढ़कर सुनाती हैं, तो आप उसके साथ ज्यादा से ज्यादा बिताती हैं और साथ ही उसे पढ़ने में रूचि उत्पन्न होने में मदद करती हैं।

माता-पिता के लिए सुझाव

आपका बच्चा शायद अपने आस-पास के स्थान का पता लगाने के लिए उत्सुक है। इस दौरान आप उसे अधिक सक्रिय व नियमित गति का उपयोग करते देख सकती हैं। यहाँ आपके लिए कुछ सुझाव दिए हुए हैं जो आपको 16 महीने के बच्चे के बेहतर प्रबंधन में मदद कर सकते हैं:

  • कभी भी उसे अपनी आँखों से दूर न होने दें। बच्चों को यह समझने का ज्ञान नहीं होता है कि उन्हें कहाँ से चोट लग सकती है और उनके लिए क्या हानिकारक है।
  • सर्दी और पेट की समस्याएं बच्चों में बहुत सामान्य हैं। खाने से पहले उसके हाथों को धोएं और उचित स्वच्छता बनाए रखें। इस तरह बहुत सारे संक्रमणों से आपके बच्चे का बचाव हो सकता है।
  • बच्चे को दिन में दो बार ब्रश करवाएं और उसके दाँतों की स्वच्छता बनाए रखें।
  • भले आपका बच्चा बिस्तर में सोने के लिए तैयार लग रहा हो लेकिन फिर भी आप उसके लिए पालने का उपयोग करें । यह ज्यादा सक्रिय बच्चों को नुकसान से दूर रखेगा।
  • अपने घर को बच्चों के दृष्टिकोण से सुरक्षित करें।

डॉक्टर से परामर्श कब करें

प्रत्येक बच्चा अद्वितीय होता है और सभी बच्चे एक ही समय में अपने पड़ाव हासिल नहीं करेंगे। यदि कुछ महीनों से आपके बच्चे में विकास नहीं हो रहा है या कोई कठिनाई है तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

एक 16 महीने का बच्चा जो आपको चारों ओर दौड़ाता है या थका देता है, उसका माता-पिता होना सरल नहीं है। परंतु यह समय भी जीवन के सबसे अनमोल अनुभवों में से एक होता है।