33 सप्ताह का बच्चा – विकास, पड़ाव और देखभाल

33 सप्ताह का बच्चा - विकास, पड़ाव और देखभाल

Last Updated On

33 सप्ताह के अंत तक आप अपने शिशु को शारीरिक और मानसिक दोनों ही रूपों से विकास के मामले में अच्छी प्रगति करते देखेंगी। इस समय आपके शिशु का मिजाज अचानक बदल सकता है – एक पल में वह हँस देगा, आपके साथ खेलेगा, किलकारियां मारेगा और अगले ही पल अचानक रोने लगेगा।

भोजन के मामले में, आपके शिशु की पसंद एक समान नहीं रहेगी। एक दिन, वह ठोस भोजन खुशी से खा लेगा और हो सकता है अगले ही दिन वह दूध के अलावा किसी भी चीज में दिलचस्पी नहीं दिखाए। यह समय माता-पिता के लिए एक थोड़ा परेशानी भरा हो सकता है, क्योंकि इस समय शिशु तेजी से विकास कर रहा होता है और आपको हर चीज उनके विकास के हिसाब से ही करनी होगी।

33 सप्ताह के शिशु का विकास

एक 33 सप्ताह के शिशु के विकास में तेजी आना आम है। कुछ महीनों के भीतर, आपका बच्चा घुटने के बल चलना शुरू कर देगा और फिर खड़े होने, यहाँ तक कि यह भी मुमकिन है की वो चलने भी लगे। इस समय शिशु का वजन भी जल्दी बढ़ेगा और उसकी मांसपेशियां भी मजबूत होती जाएंगी। अब वह चीजों को पकड़ने और फेंकने की कोशिश करेगा।

कभी-कभी, बच्चे का तेजी से विकास स्वयं उसके लिए थोड़ा भारी पड़ सकता है। इस चरण में हो सकता है कि बच्चा किसी-किसी दिन अकेला रहना चाहे, वहीं आप कभी-कभी पाएंगी कि वह दिनभर आपसे चिपका रेहगा। इस अवधि के अंत तक, शिशु में नए कौशल और क्षमताओं के साथ हर पहलू में काफी बदलाव आने की संभावना है।

इस उम्र में बच्चे बहुत जल्दी घुटने के बल तेजी से चलने लगते है। इस प्रकार अब वह घर में मौजूद फर्नीचर के सहारे खुद से खड़े होने की कोशिश कर सकते हैं और शायद आपकी मदद से अपनी बाहों का उपयोग करके थोड़ा सा चल भी सकते हैं। हालांकि, आपको हर समय बच्चे पर नजर रखने की जरूरत है, क्योंकि बच्चा इन गतिविधियों को करते समय गिर सकता है। जब तक वह इस प्रक्रिया को अच्छी तरह सीख नहीं जाते वह बार-बार गिरेंगे, इसलिए सुनिश्चित करें कि उसके पास कोई तेज धार वाली वस्तु न हो या उसके आसपास कोई नुकीली सतह न हो जो उन्हें चोट पहुँचा सकती है।

बातचीत के मामले में, आपका बच्चा पहले ही बड़बड़ाना सीख चूका होगा । इस समय तक वह कुछ-कुछ शब्दों का उच्चारण करना सीख सकता है। जैसे – “मामा” इसका मतलब वास्तव में माँ से होता है। वह इस उम्र तक कुछ निश्चित ध्वनियों का संबंध चीजों से जोड़ सकता है, इसलिए इस समय अपने शिशु द्वारा बोले जाने वाले पहले शब्दों के लिए अपने आप को तैयार कर लीजिए।

अब बच्चा चीजों पर अपनी पकड़ को और मजबूत करेगा, इस प्रकार चीजों को पकड़ने का कौशल उनमें अच्छी तरह से विकसित हो जाएगा। आप देख सकेंगी कि वह दूध पीने के दौरान अपनी बोतल को खुद से पकड़ता है। लेकिन, अगर वह अपनी बोतल को ज्यादा देर पकड़कर नहीं रखता है, तो भी चिंता न करें – इस बात की बहुत संभावना है कि वह ऐसा केवल इसलिए कर रहा है, क्योंकि वह बोतल को पकड़ना नहीं चाहता है।

इस समय बच्चे का डायपर बदलना पहले से भी कठिन हो जाता है। पहले, आपका बच्चा डायपर बदलते समय शांत रहता होगा, लेकिन अब, उसकी बढ़ती गतिविधियों के कारण एक डायपर भी बदलना मुश्किल हो जाता है। इसलिए, जब भी बच्चे का डायपर बदले उसे कोई ऐसी चीज थमा दें जिसमें वह व्यस्त रह सकें और आप आराम से उनका डायपर बदल सकें ।

33 सप्ताह के शिशु की विकासात्मक उपलब्धियां

३३ सप्ताह  के शिशु के पड़ाव

इनमें से कुछ पड़ाव आपके बच्चे ने पहले से ही पार कर लिए होंगे, लेकिन कुछ मामलों में हो सकता है कि कुछ पड़ाव पार करना बाकी हो – यह आपके शिशु की क्षमताओं को किसी भी तरह से संकेतक नहीं हैं। बच्चे का पड़ाव माता-पिता को केवल यह बताने के लिए है कि उनके शिशु का विकास कैसे हो रहा है, ऐसा बिलकुल जरूरी नहीं है कि बच्चा बताए गए पड़ाव के अनुसार ही विकास करे।

  • आपके बच्चे की अँगुलियों में इस समय तक इतनी मजबूती आ गई होगी, कि वह उन वस्तुओं को इंगित करने में सक्षम होगा, उसे जो खिलौना या सामान चाहिए वह अब वह उसे पकड़ सकता है। 
  • पिछले कुछ समय से आपका शिशु तरह तरह की आवाजें निकालता रहा होगा लेकिन अब हो सकता है कि वह कुछ-कुछ शब्द बोलने लग जाए जैसे की ‘नहीं’, ‘मामा’ या ‘दादा’ आदि शब्द।
  • अब तक आपके शिशु के कुछ दाँत निकल आए होंगे। इसका मतलब है कि बच्चे के हाथ आने वाली हर चीज वह अपने मुँह में डालने की कोशिश करेगा। इसलिए उस पर हर समय नजर बनाए रखना बहुत जरूरी है ।

स्तनपान

भले ही बच्चे ने ठोस आहार लेने पहले से शुरू कर दिया हो, लेकिन अभी भी वह अक्सर माँ के दूध की मांग कर सकता है। वैसे अब उसकी प्राथमिकता ठोस आहार के प्रति ज्यादा होगी जो परिवार के बाकि लोग भी खाते होंगे। आप उसे चम्मच से थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पिसी या मैश की हुई चीजें खिलाना शुरू कर सकती हैं।

हालांकि उसके चव (मोलर) अभी निकले नहीं होंगे, फिर भी वह अपने मजबूत मसूड़ों से चबा सकेगा। वह अब अधिकांश खाद्य पदार्थों को चबाने में सक्षम हो जाएगा। हम सलाह देंगे कि जब भी आप बाहर जाएं, तो अपने शिशु के लिए कुछ खाद्य पदार्थ जरूर रख लें, क्योंकि हो सकता है कि बाहर उपलब्ध भोजन आपके शिशु के लिए उपयुक्त नहीं हो (जैसे कि फास्ट फूड)। यह उन माओं के लिए बहुत जरूरी है जो अपने बच्चे के साथ बहुत यात्रा करती हैं।

यदि आपका शिशु ठोस भोजन के लिए ज्यादा रुचि नहीं दिखा रहा है, तो उसे जबरदस्ती न खिलाएं। इससे भविष्य में उस खाद्य पदार्थ के संबंध में बुरी भावना विकसित हो सकती है। इस बात का ख्याल रखें कि भले ही आप बच्चे ठोस आहार देना शुरू कर दें, लेकिन उनके लिए अभी भी माँ का दूध पोषण का मुख्य स्रोत है।

नींद

एक 33 सप्ताह के शिशु के लिए रात में होने वाली मांसपेशियों के विकास के कारण नींद बाधित हो जाती है। इस अवधि में, दिन के समय झपकी लेने की आदत कम हो जाती है, अब वह दिनभर में हो सकता है सिर्फ दो बार ही झपकी लें। इसके परिणामस्वरूप आप दोनों के नींद के समय में बंधा उत्पन्न होती है। इस बदलाव के शुरुआती दिनों में, आपका शिशु सामान्य से अधिक परेशान करेगा और थक भी जाएगा ।

वह रात में अक्सर आपका ध्यान आकर्षित करने के लिए रोएगा, इसलिए जब वह सो रहा हो तो आप भी उसके साथ अपनी नींद पूरी कर लें, यह आप दोनों के लिए अच्छा रहेगा। सुनिश्चित करें कि आप शिशु को ऐसी जगह सुलाएं जहाँ उनकी नींद में किसी प्रकार का कोई खलल न पड़े और उसके रोने पर तुरंत उसके पास जाने के बजाए थोड़ी देर रुकने के बाद जाए, हो सकता है वह खुद से ही तुरंत ही सो जाए। रात में वह ज्यादा लंबे समय तक गहरी नींद सो सके, इसके लिए आप उनके दिन के सोने को कम कर सकती हैं।

 33 सप्ताह के बच्चे की देखभाल के टिप्स

  • शिशु के सोने के समय खुद भी सोना सबसे अच्छा विकल्प है, ताकि आप रात में ज्यादा देर सो सकें।
  • यदि आपका बच्चा आधी रात में रोना शुरू कर देता है, तो पहले उसे कुछ शांत होने दे यदि वह रोना जारी रखता है तो उसे उठाकर शांत कराएं । ज्यादातर मामलों में, शिशु खुद ही जल्दी गहरी नींद में वापस सो जाएगा।
  • दाँत निकलते वक्त बच्चे को ऐसे खिलौने दें जिसे वह चबा सके यह उनके मसूड़ों में होने वाली असुविधा को कम करने में मदद करता है। इसके आलावा आप उन्हें ठंडी चीजें चबाने को दें।

परीक्षण और टीकाकरण

आपके बच्चे को उसके 6 महीने के चेकअप के दौरान कई टीके लगाए गए होंगे और टीकाकरण का अगला चरण उसके एक साल के होने के बाद ही निर्धारित किया जाएगा। हालांकि, टीकाकरण अनुसूची के बारे में अधिक जानने के लिए अपने बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श कर लें – यदि उनके विचार से शिशु को मेनिनजाइटिस या फ्लू के टीके को लगाने की आवश्यकता है तो जरूर लगवाएं।

खेल और गतिविधियां

इस चरण में हर गतिविधि को ठीक से करना सबसे आवश्यक है, इसलिए अपने शिशु को अधिक से अधिक हाथ हिलाने और ताली बजाने के लिए प्रोत्साहित करें। यह शिशु के मोटर स्किल को विकसित करने में मदद करता है और उसके शरीर की मांसपेशियों को मजबूत करने में भी मदद करता है। आप बच्चे के साथ में खेलकर इन गतिविधियों को और मजेदार बना सकती हैं, क्योंकि बच्चे आपका अनुसरण करते हैं इसलिए आप जैसा करेंगी वह आपको देख वैसा ही करने की कोशिश करेगा, इसके अलावा यह आपके बंधन को भी मजबूत करता है ।

इस समय बच्चा आवाजों के प्रति बहुत उत्सुक होता उन्हें तरह तरह की आवाज और संगीत सुनना बहुत पसंद होता है । तो आप उसके साथ अलग-अलग जानवरों और चीजों की आवाजें निकालकर उनके साथ खेलें और साथ ही उस जानवर या जिस चीज से बच्चा खेल रहा है उस खिलौने को बच्चे के पास रखें, ताकि वह समझ सकें आपने किसकी आवाज निकाली है। इसके अलावा बर्तन को बजाकर आवाज निकालना या उन खिलौनों का प्रयोग करना जिसमें आवाज होती उन्हें खेलने के लिए दें और उसे उसके चारों ओर विभिन्न ध्वनियों का पता लगाने दें। साथ ही, उससे जितना संभव हो बात करें।

चिकित्सक से परामर्श कब करें     

यदि आप बच्चे को कोई भी टीका लगवाना भूल गई हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से जरूर मिलें। टीकाकरण के बाद बच्चे को बुखार या चकत्ते पड़ने जैसी समस्या हो सकती है, लेकिन यह चिंता का विषय नहीं है। यदि आपको अपने बच्चे के व्यवहार में कुछ गड़बड़ी नजर आए, तो बेहतर होगा कि आप डॉक्टर से जाँच करा लें। 

इस उम्र के दौरान, आपका शिशु अपने व्यक्तित्व को निखारना शुरू कर देता है और बहुत चंचल भी हो जाएगा। अपने बच्चे को यूँ विकास करते देखना आपके लिए खूबसूरत पलों से कम नहीं होता है। भले ही इस दौरान आपको बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है लेकिन इसके बावजूद भी यह अहसास अद्भुत है। इसलिए अपने बच्चे की सभी नटखट हरकतों को कैमरे में कैद करना न भूलें।