4 से 6 महीने के बच्चों को क्या खिलाएं?

4 से 6 महीने के बच्चे को क्या खिलाएं?

Last Updated On

नवजात बच्चों का विकास बहुत तेजी से होता है जिसे देखकर आप भी आश्चर्य कर सकती हैं कि आपका छोटा सा बच्चा इतनी जल्दी बड़ा हो गया है। बच्चे में इस तेज विकास का कारण उसका नियमित आहार होता है जो वह रोजाना खाता है। 

4-6 महीने के बच्चों के लिए आवश्यक पोषक तत्व 

पहले छह महीने तक किसी भी बच्चे के लिए माँ का दूध सबसे ज्यादा स्वास्थ्यप्रद होता है। लेकिन सिर्फ इतना ही काफी नहीं है। जब आपका बच्चा 4 महीने का हो जाएगा तो आप उसे ठोस खाद्य पदार्थ खिलाना भी शुरू करें। आपके बच्चे के लिए न्यूट्रिशन से भरपूर ठोस खाद्य पदार्थ कुछ इस प्रकार हैं;

  1. एक बच्चे को सबसे पहले जिस न्यूट्रिशन की आवश्यकता होती है, वह प्रोटीन है। हमारे शरीर के लिए प्रोटीन अनिवार्य क्यों है या यह एक मूल खाद्य पदार्थ क्यों माना जाता है, इसका एक कारण है। प्रोटीन शारीरिक विकास और मांसपेशियों व टिश्यू को ठीक करने में मदद करता है। बच्चों को इसकी आवश्यकता इसलिए होती है क्योंकि इस आयु में उनका विकास तेजी से होता है। 
  2. दूसरा आवश्यक पोषक तत्व आयरन है जो मस्तिष्क के कार्यों और हीमोग्लोबिन के लिए बेहतरीन होता है। एक नवजात शिशु में पर्याप्त आयरन होता है जो बच्चे में लगभग 4 महीने तक बना रहता है। उसके बाद आपको आयरन की आवश्यकता बच्चे के आहार में पूरी करनी होती है। 
  3. बच्चों के लिए ओमेगा-3 फैटी एसिड भी जरूरी है क्योंकि यह आपके बच्चे की दृष्टि, मस्तिष्क के विकास और संज्ञानात्मक विकास के लिए जरूरी है। 
  4. 4 से 6 महीने के बच्चे के लिए कैल्शियम भी बहुत जरूरी होता है, यह बच्चों के दाँत और हड्डियों को मजबूत करने में मदद करता है। बच्चों को रोजाना कम से कम 500 मिलीग्राम कैल्शियम देना जरूरी है। माँ के दूध और फार्मूला दूध में कैल्शियम पर्याप्त मात्रा में होता है। बच्चे की हड्डियों और दाँतों को मजबूत बनाने के लिए उन्हें कैल्शियम देना शुरू करें। 
  5. विटामिन भी आवश्यक होते हैं, बच्चे की त्वचा और अच्छी दृष्टि के लिए विटामिन ‘ए’ और ‘सी’ जरूरी होता है। बच्चों के मेटाबॉलिज्म और इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए विटामिन ‘बी’ की आवश्यकता होती है। विटामिन ‘डी’ बच्चों की हड्डियों और विटामिन ‘ई’ तंत्रिका तंत्र के लिए बेहतरीन माना जाता है। विटामिन ‘के’ ब्लड क्लॉटिंग को रोकता है। 
  6. बच्चों के लिए कम से कम 3 मिलीग्राम जिंक भी जरूरी है क्योंकि यह सफेद रंग की ब्लड सेल को बनाने में मदद करता है जो बच्चों के इम्युनिटी को बढ़ाने में मदद करते हैं। 
  7. कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा को बढ़ाने में मदद करता है इसलिए यह पोषक तत्व भी आपके बच्चे के लिए आवश्यक है। 

क्या 4-6 महीने के बच्चों को ठोस आहार खिलाना शुरू कर सकते हैं?

बच्चा 4 महीने की आयु का होने तक ठोस आहार को पचाने में सक्षम नहीं होता है इसलिए जब आपका बच्चा 4 महीने का हो जाए तो आप उसे अर्ध-ठोस आहार (सेमी-सॉलिड फूड) और थोड़ा-थोड़ा ठोस आहार (सॉलिड फूड) खिलाना शुरू कर सकती हैं। 

सबसे पहले देखें कि आपका बच्चा अपने सिर को सहारा देकर उसे सीधा रखने में सक्षम हुआ है या नहीं। फिर जब आप उसे बैठाना शुरू करती हैं तो वह बिना सहारे के उस पोजीशन पर बैठने में सक्षम होना चाहिए। यदि अभी आपके बच्चे का वजन जन्म से दोगुना है तो उसे ठोस आहार खिलाने का यह बिलकुल सही समय है। यदि आपका बच्चा खाने को मुंह के बाहर निकालने के बजाय अंदर लेता है तो यह भी एक संकेत है कि आप उसे ठोस आहार देना शुरू कर सकती हैं। 

4-6 महीने के बच्चों के लिए आहार 

आपके बच्चे का पेट अभी बहुत छोटा सा है। इसका मतलब है कि आपको अपने बच्चे को ठोस आहार देने की शुरूआत थोड़ी मात्रा में और धीरे करने की आवश्यकता है। 4-6 महीने के बच्चों को निम्नलिखित खाद्य पदार्थ दिए जा सकते हैं, आइए जानें;

  1. केला – केला सिर्फ स्वादिष्ट ही नहीं होता है बल्कि यह बच्चों के लिए एक बेहतरीन खाद्य पदार्थ भी है। वास्तव में यह फल बहुत मुलायम और सरलता से मैश किया जा सकता है। केले में पोटैशियम भरपूर मात्रा में मौजूद है जो बच्चों के लिए एक अच्छा मिनरल है। 
  2. चावल – चावल भी बच्चों के लिए अच्छा होता है। इसे अच्छे से उबालें, पूरा पकने के बाद इसे मैश करें और दूध में मिलाकर बच्चे को दें। 
  3. ओटमील – आप अपने बच्चे को चावल की तरह ही दूध में ओट्स मिलाकर भी दे सकती हैं। ओट्स में फाइबर और मिनरल की मात्रा पर्याप्त होती है। 
  4. एवोकाडो – केला की तरह ही एवोकाडो भी मुलायम होता है और इसे सरलता से मसला जा सकता है। यह फल विटामिन और मिनरल से भरपूर होता है। 
  5. सेब – आप अपने बच्चे को सेब भी दे सकती हैं। सेब को पहले अच्छी तरह से छील कर काटें और बीज निकाल लें। यदि आप छिलके को नहीं हटाना चाहती है तो सेब को अच्छी तरह पीस लें और बच्चे को दें। 
  6. गाजर – गाजर को उबालें और इसे मैश करके अपने बच्चे को दें। हो सकता है कि आपके बच्चे को स्वाद उतना पसंद न आए, लेकिन यह उसके लिए एक बेहतरीन खाद्य पदार्थ है।
  7. मटर – हरे मटर को उबाल कर मैश किया जा सकता है। इसमें थोड़ा सा नमक मिलाकर आप अपने बच्चे को दे सकती हैं।
  8. आलू – उबले हुए आलू में एक चुटकी नमक मिलाकर मैश कर लें और अपने बच्चे को दें। इसमें कार्ब्स की मात्रा अधिक होती है जो आपके बच्चे को पसंद आएगी। 

ऊपर दिए हुए फल और सब्जियों से आप अपने 6 महीने के बच्चे के लिए बेहतरीन व्यंजन बना सकती हैं। 

बच्चों को ठोस आहार खिलाने के लिए उपयोगी टिप्स 

  • आपका बच्चा अचानक से नए खाद्य पदार्थों को खाना पसंद नहीं करेगा। उसे कोई भी नया भोजन खिलाते समय धैर्य रखें। 
  • नया ठोस आहार खिलाते समय खिलौने से बच्चे का ध्यान भटकाएं। बच्चे को नए भोजन का स्वाद समझ आने पर उसे खिलाना सरल हो सकता है। 
  • बच्चे को जबरदस्ती न खिलाएं। 
  • ध्यान रहे बच्चे को ठोस आहार खिलाते से उसे थोड़ा-थोड़ा पानी भी पिलाती रहें। 
  • यदि आपका बच्चा रो रहा है तो उसे खाना न खिलाएं क्योंकि यह उसके गले में अटक सकता है। 

आपके बच्चे के जीवन का हर एक पड़ाव उसके लिए एक बड़ी बात है, हर पड़ाव एक नया पड़ाव है। उसे नए ठोस आहार से परिचित कराना भी इन पड़ावों में से एक है। सही प्रकार का खाद्य पदार्थ और खिलाने का सही तरीका बच्चों को जल्द नए आहार को अपनाने में मदद करता  है।

यह भी पढ़ें:

शिशुओं को ठोस आहार खिलाने की शुरुआत करना
6 माह के शिशु के आहार संबंधी सुझाव