शिशु का पेट के बल सोना

शिशु का पेट के बल सोना

Last Updated On

एक शिशु के जीवन के पहले बारह महीने सबसे नाजुक़ होते हैं। उनमें विकसित होनेवाले कई संक्रमणों, एलर्जी और अवस्थाओं के अलावा, उन्हें अचानक शिशु मृत्यु सिंड्रोम या एस.आई.डी.एस. का खतरा भी रहता है। माना जाता है कि पेट के बल सोना एस.आई.डी.एस. के कारणों में से एक है।

क्या पेट के बल सोना शिशु के लिए सुरक्षित है?

यह सिद्धांत दिया गया है कि जीवन के पहले बारह महीनों में बच्चे को पेट के बल नहीं सोना चाहिए क्योंकि जब वे ऐसा करते है तो वे अपनी खुद के छोड़े हुए साँस में दोबारा साँस लेते हैं। इस पुनरावर्तित हवा में ऑक्सीजन कम होता है और फेफड़ों की कार्यक्षमता कम हो जाती है। इससे एस.आई.डी.एस. हो सकता है। इस प्रकार, पेट के बल सोने वाले बच्चे में ऑक्सीजन की कमी के कारण मृत्यु हो सकती है। डॉक्टरों द्वारा यह अनुसंशा की जाती है कि मातापिता को इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि शिशु अपने पेट पर ज्यादा देर तक न सो रहा हो।

शिशु कब अपने पेट के बल सो सकते हैं?

द अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स’ के अनुसार, एस.आई.डी.एस. के कारण होने वाली मृत्यु की संख्या में 50% की कमी आई है क्योंकि नवजात शिशुओं को कम से कम एक वर्ष के लिए अपनी पीठ पर सोने के लिए निर्देशित किया जाता है। यह उनकी श्वसन प्रणाली को स्वाभाविक रूप से मजबूत और विकसित करने मे मदद करते है। वे अधिक ऑक्सीजन में साँस ले सकते हैं, इस प्रकार एस.आई.डी.एस के जोखिम कम हो जाता हैं। एक साल बाद भी, यह सुनिश्चित करना सबसे अच्छा है कि बच्चे लंबे समय तक अवधि के लिए अपने पेट के बल न सोएँ।

क्या हो अगर मेरा बच्चा पेट के बल सोना पसंद करता है?

यह समझना महत्वपूर्ण है कि एक नवजात शिशु को पहले चार महीनों में अपने पेट के बल पलटने के लिए आवश्यक मोटर कौशल नहीं होता है। एक बार जब बच्चा पलटना शुरू कर देता है, तो बच्चे और उनके स्वास्थ्य की निगरानी करना आवश्यक होता है, खासकर जब वे जागते समय अपने पेट के बल लेटे रहते हैं। शिशु के जीवन के पहले वर्ष मे उसे किसी भी क़ीमत पर पेट पर न सोने दे। एक नवजात शिशु के शरीर ने अभी तक ऑक्सीजन के पुन: संचलन का प्रबंधन करने की क्षमता विकसित नहीं की है। जब शिशु अपने पेट के बल सोते हैं तो अत्यधिक कार्बन डाइऑक्साइड शिशु के शरीर में वापस प्रसारित हो जाता है जो उसके लिए घातक साबित हो सकता है। यदि आपका शिशु अपनी पीठ के बल नहीं सो पाता है, तो तुरंत बाल चिकित्सक से संपर्क करें।

यदि आपका बच्चा अपने पेट के बल पलटता है, तो क्या आपको चिंता करनी चाहिए?

किड्सहेल्थ’ द्वारा किए गए अध्ययन से पता चलता है कि एस.आई.डी.एस के अधिकांश मामले नवजात शिशु के जीवन के पहले वर्ष के दौरान होते हैं जिनमें से अधिकांश मामले दो से छह महीने के बीच होते हैं। स्वाभाविक रूप से कम शारीरिक शक्ति वाले बच्चे छठे महीने तक पलटना शुरु कर देते हैं। इसके अपने लाभ हैं, क्योंकि जो बच्चे पहले छह महीनों में जागते हुए अपने पेट के बल लेटकर समय बिताते हैं, वे अपने शरीर को जमीन से तेजी से उठाने के लिए ऊपरी शरीर की ताकत का निर्माण कर सकते हैं।

यदि आपका बच्चा अपने पेट के बल पलटता है, तो क्या आपको चिंता करनी चाहिए?

चेतावनी : इस अवधि के दौरान बच्चे पर नज़र रखना आवश्यक है क्योंकि एस.आई.डी.एस अभी भी एक स्वाभाविक जोख़िम बना रहता है। अपने बच्चे को निगरानी के बग़ैर उसके पेट के बल लेटा हुआ न छोड़े।

यदि आपका शिशु दोनों जागते समय और सोते समय पलटता है, तो यह पहले छह महीनों के बाद सुरक्षित हो सकता है। इस पर अभी भी नज़र रखने और सावधानी बरतने की आवश्यकता है। पहले छह महीनों के बाद, यदि आपका बच्चा सोते समय अपने पेट पर पलटता है, तो हवा के संचरण में किसी भी बाधा को दूर करना महत्वपूर्ण है। इसका मतलब है कि कोई कंबल, सॉफ्ट टॉयज़ , खिलौने आदि नहीं होना चाहिए। उनके साथ पालना के अंदर। अपने चिकित्सक से परामर्श करें और आवश्यक सावधानी बरतें ताकि आपके बच्चे के नींद में पलटने पर कोई समस्या न हो।

शिशु का पेट के बल सोना: सोने के सुरक्षित दिशानिर्देश

यह सुनिश्चित करने के लिए कई तरीके हैं कि आपके बच्चे को सुरक्षित और अच्छी तरह से आराम में हैं और पेट के बल आपके बच्चे के सोने की स्थिति कोई नुकसान न पहुँचाए।

  • एक सख़्त गद्दे का उपयोग करें: एक सख़्त गद्दे के उपयोग से यह सुनिश्चित होगा कि शिशु को वह सहायता मिले जो उसे चाहिए। उसे किसी तकिए, वॉटर बेड, सोफे या किसी अन्य नरम सतह पर न रखें क्योंकि यह उस हवा की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है जिसमें वह साँस लेता है। विशेषज्ञ यह भी सलाह देते हैं कि आप अपने बच्चे को सोते समय पालने के अंदर कुछ भी न रखें।

  • बम्पर पैड्स हटा दें: ये सामान काफी सामान्य हैं और लगभग हर पालना पैड के फिट होने के विकल्प के साथ आएगा। हालांकि, यह अनुशंसा की जाती है कि आप इन्हें अपने बच्चे के पालने में न रखे क्योंकि ये एक घुटन का कारण बन सकते हैं।

  • अपने बच्चे को ज्यादा गर्म न होने दें: अपने बच्चे के सोने के लिए आदर्श तापमान को जानना कठिन हो सकता है। हालांकि, यदि आप छोटी बाजू के कपड़े पहनकर अपने कमरे में आराम महसूस करते हैं, तो तापमान सही है। आमतौर पर कमरे के तापमान को 23 और 25 डिग्री सेल्सियस के बीच रखने की सिफारिश की जाती है।

  • बच्चे के सिर को न ढंकें: आपके बच्चे के लिए हल्के कंबल का उपयोग कर उसे केवल छाती तक ढंके और उसके बाज़ू बाहर रखें, ताकि कंबल शिशु के सिर की ओर न जाए।

  • एक पैसिफ़ायर का उपयोग करें: ये उपकरण आपके बच्चे को शांत करने के लिए पर्याप्त हो सकते हैं ताकि उसे बेहतर नींद मिल सके। हालांकि, अगर वह इससे असहज होता है, या जब वह सो रहा होता है, तब वह बाहर गिर जाता है, तो उसे मजबूर न करें।

जब बच्चा जाग रहा हो तब उसे टम्मी टाइम (पेट के बल लिटाना) दें

शिशुओं के लिए पेट के बल सोने की सलाह नहीं दी जाती है, पर जब वे जाग रहे हो तब यह आवश्यक है कि वे अपने पेट के बल लेटें। अपने बच्चे को पेट के बल लिटाने के लिए एक कठोर सतह पर चटाई का उपयोग करें। कैरेन सोकलगुटिरेज़, एम.डी., एम.पी.एच. के अनुसार, शिशु जब जाग रहे होते हैं तो उन्हें अपने पेट के बल लेटने की ज़रूरत होती है इससे उन्हें अपने ऊपरी शरीर को मजबूत बनाने में मदद मिलती है और सोते समय उन्हें बेहतर साँस लेने में मदद मिलती है।

इस गतिविधि के लिए अपने बच्चे पर ज़्यादा दबाव न डालें। शुरुआत में उसे लगातार केवल तीन से पांच मिनट तक लिटाएं । आप बाद में समय बढ़ा सकते हैं क्योंकि आपके बच्चे को इसकी आदत होने लगती है और इसके लिए वह सही शक्ति का निर्माण करता है।

निष्कर्ष : एक नवजात शिशु दिनभर सो सकता है। यह केवल तब बाधित होता है जब बच्चे को खिलाने की आवश्यकता होती है। शिशु के विकास के इस महत्वपूर्ण हिस्से को अत्यधिक सावधानी और ध्यान के साथ प्रबंधित करना चाहिए। ये सुनिश्चित करें कि आप अपने प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल चिकित्सक और बाल रोग विशेषज्ञों से अपने बच्चे की नींद की आदतों के बारे मे क्या करना चाहिए और क्या नही करना चाहिए इसकी पूरी सूची के बारे में बात करें।