बच्चों के दाँत देर से निकलना – कारण और जटिलताएं

बच्चों के दाँत देर से निकलना

Last Updated On

एक बच्चे का पहला दाँत आमतौर पर तब दिखाई देता है जब वह छह महीने का होता है। लेकिन हर बच्चा अलग होता है, इसलिए कुछ बच्चों में यह देर से भी हो सकता है। हालांकि, यदि आपका बच्चा एक वर्ष का हो गया है और अभी भी उसके दाँत निकलने के कोई लक्षण नहीं दिखाई दे रहे हैं, तो यह चिंता का विषय हो सकता है।

देर से दाँत निकलना क्या होता है

जब शिशु के पहले कुछ दाँत, जिन्हें दूध के दाँत या गिरनेवाले दाँत के रूप में भी जाना जाता है, दिखाई देते हैं, तो इसे बच्चे का दाँत निकलना कहा जाता है। यह आमतौर पर तब होने लगता है जब आपका बच्चा छह महीने का होता है। लेकिन कुछ बच्चों में सब कुछ देर से शुरू होता है; इस तरह के बच्चों का पहला दाँत जब वे एक साल की उम्र के हो जाते हैं तब निकलता है। यदि आपका बच्चा एक वर्ष से अधिक उम्र का है और अभी भी उसके दाँत निकलने के कोई लक्षण नहीं दिखाई दे रहे हैं, तो आप इसे देर से दाँत निकलना कह सकते हैं।

दाँत निकलने का चार्ट

ऊपरी दाँत निकलना गिरना
मध्य कृंतक (काटने के दाँत) 8-12 माह 6-7 साल
पार्श्व कृंतक 9-13 माह 7-8 साल
रदनक (फाड़ने के दाँत) 16-22 माह 10-12 साल
पहली दाढ़ 13-19 माह 9-11 साल
दूसरी दाढ़ 25-33 माह 10-12 साल
निचले दाँत निकलना गिरना
दूसरी  दाढ़ 23-31 माह 10-12 साल
पहली दाढ़ 14-18 माह 9-11 साल
रदनक (फाड़ने के दाँत) 17-23 माह 9-12 साल
पार्श्व कृंतक 10-16 माह 7-8 साल
मध्य कृंतक 6-10 माह 6-7 साल

उपरोक्त चार्ट आपको आपके बच्चे के दाँतों का एक-एक करके निकलने के बारे में एक अनुमान प्रदान करता है। हालांकि, ये समय सारणी केवल अनुमान है और कई अन्य कारकों पर भी निर्भर करती है। आपके बच्चे को कब दाँत निकल सकते हैं  इस बात का अंदाजा लगाने के लिए और इस प्रक्रिया के दौरान होने वाले दर्द से निपटने में उसकी मदद करने के लिए आप बच्चे के दाँत निकलने के साधन का भी उपयोग कर सकती हैं। लेकिन यदि आपके छोटे बच्चे में, ट्रैकर में उल्लिखित निर्धारित समय के बाद भी दाँत निकलने के कोई भी लक्षण नहीं दिखाई देते हैं, तो आप यह निश्चित  जानना चाहेंगीं कि आपके बच्चे में देरी से दाँत निकलने के क्या कोई अन्य कारण हैं।

देर से दाँत निकलने के कारण

कुछ बच्चे बस देर से सब करने वाले होते हैं यही कारण है कि उनके मामलों में दाँत निकलने के समय में देरी हो सकती है। इसके अलावा, शिशुओं में देर से दाँत निकलने के कुछ अन्य कारण इस प्रकार हैं:

देर से दाँत निकलने के कारण

1. वंशानुगत कारण

यदि परिवार में देरी से दाँत निकलने का इतिहास रहा है, तो यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि आपका बच्चा भी इसका पालन करेगा। आपके और आपके पति दोनों के परिवार आपके बच्चे के दाँत निकलने में देरी के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। अपने माता-पिता या रिश्तेदारों से पूछें कि क्या आपने या उन्होंने देर से दाँत निकलने की इस समस्या का सामना किया था, और यदि हाँ, तो यह एक कारण हो सकता है कि आपके बच्चे में अभी तक दाँत निकलना शुरू नहीं हुआ है।

2. खराब पोषण

यदि आपके बच्चे को पर्याप्त मात्रा में माँ का दूध नहीं मिल रहा है, या यदि वह जिस पाउडर के दूध का सेवन कर रहा है, वह सभी पोषक तत्वों को प्रदान करने के लिए पर्याप्त नहीं है, जिसकी उसे आवश्यकता होती है, तो इससे देरी होने की संभावना होगी। पाउडर के दूध में प्रायः कैल्शियम, फास्फोरस, और विटामिन ए, सी और डी जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो हड्डियों और ऊतकों की वृद्धि और मरम्मत, इम्युनिटी और आपके बच्चे के समग्र विकास में मदद करते हैं। कैल्शियम मजबूत और स्वस्थ दाँतों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण होता है, लेकिन अगर आपके द्वारा उपयोग किए जाने वाले पाउडर के दूध में इन सभी पोषक तत्वों की पर्याप्त मात्रा नहीं है या यदि आपका बच्चा इसका पर्याप्त मात्रा में सेवन नहीं कर रहा है, तो इससे दाँतों के निकलने में देरी हो सकती है।

3. हाइपोथायरॉयडिज्म और दाँत निकलना

हाइपोथायरॉयडिज्म एक ऐसी स्थिति है जिसमें थायरॉइड ग्रंथियां शरीर को सुचारू रूप से चलाने के लिए पर्याप्त मात्रा में थायरॉइड हार्मोन का उत्पादन नहीं करती हैं। हाइपोथायरॉयडिज्म आमतौर पर हृदय गति, चयापचय और शरीर के तापमान को प्रभावित करता है। यदि आपके बच्चे को असामान्य रूप से निष्क्रिय थायरॉयड की समस्या है, तो उसे अनेक बातों में देरी होने की बहुत अधिक संभावना है, जैसे कि चलना, दाँत निकलना और यहाँ तक कि बात करना।

देर से दाँत निकलने पर होने वाली जटिलताएं

देर से आने वाले दाँतों की एक बड़ी जटिलता यह है कि यदि बच्चे के पहले दाँत देरी से निकले हैं तो उसके स्थाई दाँत टेढ़े-मेढ़े तरीके से विकसित हो सकते हैं।

आपके बच्चे को अपना भोजन ठीक से चबाने में सक्षम होने के लिए भी दाँतों की आवश्यकता होती है। देरी से दाँत निकलने की एक और जटिलता है – चबाने में असमर्थता।

कभी-कभी, बच्चे के देर से निकलने वाले दाँतों के साथ स्थाई दाँत भी दिखाई देते हैं, जिससे बच्चे में दाँतों की दो पंक्तियां दिखाई देती हैं।

देर से आने वाले दाँत, छिद्र होने का या दाँत के सड़ने का कारण हो सकते हैं।

डॉक्टर से परामर्श कब करें

पहले आपके माता/पिता और परिवार से जानकारी लें कि कहीं देरी से दाँत निकलने का उनका इतिहास तो नहीं है अगर नहीं है, और यदि आपका बच्चा एक वर्ष से अधिक बड़ा है, तो आपको डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। वजन बढ़ने (जब आपका बच्चा नहीं खा रहा है), समग्र विकास में देरी, असामान्य मेटाबॉलिज्म (चयापचय) और सुस्ती जैसे अन्य संकेतों की जांच करें। बहुत से लोग देर से दाँत निकलने को बुद्धिमानी का संकेत मानते हैं, लेकिन ऐसा होना जरूरी नहीं है। कभी-कभी, उच्च बुद्धि वाले बच्चे सब जल्दी करने वाले होते हैं, जबकि कभी-कभी, वे देर से करने वाले भी हो सकते हैं।

आपके बच्चे के दाँत देर से आने से आपको चिंता हो सकती है। अपने बच्चे का निरीक्षण करें और कर्कश रोने, कब्ज या असामान्य हृदय गति जैसे किसी भी असामान्य लक्षण पर ध्यान दें। अपने परिवार के इतिहास का अध्ययन करें और अपने उन रिश्तेदारों की एक सूची तैयार करें जिनके दाँत निकलने की प्रक्रिया देर से शुरु हुई थी। यदि इस सब के उत्तर हाँ में मिलते हैं, तो संभवत: आपका बच्चा देर से दाँत आने के संकेत दे रहा है। अगर ऐसा है तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें।