बच्चों के लिए आयरन युक्त 15 खाद्य पदार्थ

बच्चों के लिए आयरन युक्त 15 खाद्य पदार्थ

Last Updated On

बच्चों और शिशुओं में पर्याप्त वृद्धि और विकास से लेकर एनीमिया को दूर रखने तक, आयरन एक आवश्यक पोषक तत्व है जो उचित स्वास्थ्य और कल्याण सुनिश्चित करता है। अधिकांश शिशुओं को कम से कम चार महीने की उम्र तक किसी भी तरह के आयरन के सप्लीमेंट की आवश्यकता नहीं होती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि गर्भावस्था की अंतिम तिमाही में सभी शिशुओं को अपनी मांओं से भरपूर आयरन मिलता है। यदि आपका बच्चा समय से पहले पैदा हुआ है, तो उसमें आयरन की कमी होने की संभावना हो सकती है। यह तब भी हो सकता है, जब आपको मधुमेह हो या आपने गर्भावस्था के दौरान पर्याप्त पोषक तत्वों का सेवन न किया हो।

बच्चे के आहार में सम्मिलित करने के लिए आयरन युक्त खाद्य पदार्थ

आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थों की दो श्रेणियां होती हैं – हीम के साथ और बिना हीम के। हीम, हीमोग्लोबिन से उत्पन्न होता है और आमतौर पर पशु उत्पादों, विशेषकर मीट और चिकन में पाया जाता है। हीम-आयरन बिना हीम के आयरन की तुलना में शरीर में जल्दी अवशोषित हो जाता है। शिशुओं और बच्चों के लिए आयरन से भरपूर कई मांसाहारी और शाकाहारी खाद्य पदार्थ निम्नलिखित हैं, आइए जानते हैं;

१. मीट और चिकन

यह हीम आयरन के सबसे अच्छे स्रोत हैं, खासकर लाल मीट और लिवर। पकाने से पहले मांस के सभी फैट वाले हिस्सों को हटा दें क्योंकि इसमें आयरन नहीं होता है । अपने बच्चे को मीट खिलाने से पहले इसे अच्छी तरह से पका लें। अन्यथा उसके लिए इसे चबाना और पचाना मुश्किल हो सकता है।

२. अंडे की जर्दी

यह भी बच्चों के लिए आयरन के अच्छे स्रोतों में से एक है। यह खाद्य पदार्थ हर जगह उपलब्ध होते हैं और इसे सरलता से बनाया जा सकता है। अंडे की जर्दी को विभिन्न व्यंजनों में शामिल करने का प्रयास करें, यह सुनिश्चित करता है कि आपके बच्चे को हर दिन एक जैसा व्यंजन खाए बिना नियमित रूप से भरपूर मात्रा में आयरन मिलता है। कैरामल कस्टर्ड या कस्टर्ड फ्लान, अंडे की जर्दी से बने स्वादिष्ट व मीठे व्यंजन हैं।

३. रेड राइस और ब्राउन राइस

बच्चों के लिए बिना हीम के आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थों में से एक है ब्राउन राइस। हो सकता है आपके बच्चे को सादे ब्राउन राइस न पसंद आए इसलिए उसे विभिन्न प्रकार की सब्जियों को मिलाकर ब्राउन राइस खिलाएं। आप सब्जियों के अलावा मीट व चिकन मिलाकर भी ब्राउन राइस के अनेक स्वादिष्ट व्यंजन बना सकती हैं।

रेड राइस और ब्राउन राइस 

४. बीन्स

लगभग सभी प्रकार की बीन्स आयरन से भरपूर होती हैं । दाल, राजमा, छोले और सोयाबीन इसके कुछ उदाहरण हैं। आप बीन्स को उबालकर पकाएं और इसमें स्वाद के लिए थोड़ा सा चाट मसाला व नमक मिलाकर अपने बच्चे को खिलाएं । स्वाद बदलने के लिए आप इसे मीट या चावल के साथ भी पका सकती हैं।

५. शकरकंद और आलू

आलू या शकरकंद में अधिकांश आयरन को बनाए रखने के लिए, यह सुनिश्चित करें की इसे छिलके के साथ पकाएं या उबालें। बेक किए हुए और उबले हुए आलू या शकरकंद ज्यादातर बच्चों के पसंदीदा होते हैं। आप इसे फ्रेंच फ्राइज के रूप में भी बना सकते हैं क्योंकि आपका बच्चा इसे फिंगर फूड की तरह खा सकेगा । आप आलू को मसल कर भी एक नया व्यंजन बना सकती हैं, शिशुओं को यह भी पसंद आता है।

६. समुद्री भोजन (सी फूड)

समुद्री भोजन (सी फूड) में बच्चों के लिए आवश्यक विभिन्न पोषक तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं, जिसमें आयरन भी शामिल है। ट्यूना, क्लैम और झींगा में आयरन भरपूर मात्रा में होता है। आप इनकी अलग-अलग रेसिपीज बनाकर नियमित रूप से अपने बच्चे को खिला सकती हैं। हालांकि, इस बात का ध्यान रखें कि कुछ बच्चों को विशिष्ट सी फूड से एलर्जी हो सकती है, इसलिए खिलाने से पहले जांच लें।

समुद्री भोजन (सी फूड)

७. पीनट बटर

पीनट बटर ज्यादातर बच्चों को पसंद होता है और इसमें भी भरपूर मात्रा में आयरन मौजूद होता है। इसे ब्रेड में लगाकर अपने बच्चे को नाश्ते में खिलाएं। किसी विशेष अवसर पर आप पीनट बटर को कुकीज बनाने में उपयोग कर सकती हैं। इसके लिए आप अच्छी गुणवत्ता वाला आटा या ओट्स का उपयोग कर सकती हैं।

८. टोफू

शाकाहारी लोगों के लिए टोफू एक बेहतरीन विकल्प है जिसमें आयरन की प्रचुर मात्रा होती है। आप टोफू को टुकड़ों में काटकर हल्का सा तल लें और अपने बच्चे को खिलाएं। जिन बच्चों को लेक्टोज से एलर्जी है वे भी इसे खा सकते हैं।

९. प्रून और क्रैनबेरी का जूस

यह उन चुनिंदा फलों के रस में से एक है जिसमें लौह तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं। इसका मीठा स्वाद बच्चों को अवश्य पसंद आएगा, लेकिन ध्यान रहे कि उन्हें यह जूस प्रतिदिन एक गिलास से अधिक न दें। क्रैनबेरी का जूस, मूत्रमार्ग के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा होता है और कब्ज को रोकता है। इनमें फैट या कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बिलकुल भी नहीं होती है।

प्रून और क्रैनबेरी का जूस 

१०. सूखे बीज

सूखे बीज बच्चों के लिए यात्रा के दौरान या खेल के बाद एक बढ़िया नाश्ता है। सूरजमुखी, कद्दू और तिल कुछ ऐसे बीज हैं, जिनमें काफी मात्रा में आयरन मौजूद होता है। आप इससे ग्रेनोला बार बनाने का प्रयास भी कर सकती हैं या हलवा और अन्य मिठाई में इन बीजों को ऊपर से डालकर गार्निश कर सकती हैं।

११. गेहूँ और ओट्स

सभी अनाजों की तुलना में ओट्स में सबसे अधिक आयरन है। सिर्फ एक कटोरी ओट्स आपके बच्चे की रोज की आयरन की जरूरतों का लगभग 60% दे सकता है। एक कटोरी वीट क्रीम आपके बच्चे की रोज की आयरन की जरूरतों को पूरा कर सकता है। लेकिन बिना हीम के आयरन होने के कारण, शरीर द्वारा पूर्ण आयरन को अवशोषित करना कठिन हो सकता है।

१२. ड्राई फ्रूट (सूखे मेवे)

सूखे खजूर, अखरोट, आलूबुखारे और किशमिश सभी में बड़ी मात्रा में आयरन होता है। बच्चे को हल्की भूख लगने पर या नाश्ते में आप सूखे मेवे दे सकती हैं। नियमित रूप से सूखे मेवे खाने की आदत डालना बच्चे को हमेशा आयरन देने का एक अच्छा विकल्प है जिसका अनुसरण वह बड़े होने तक भी कर सकता है।

ड्राई फ्रूट (सूखे मेवे)

१३. हरी पत्तेदार सब्जियां

बच्चे अक्सर हरी या उबली हुई सब्जियां खाना पसंद नहीं करते हैं और पालक, ब्रोकोली, कोलार्ड और केल जैसी हरी सब्जियां आयरन से भरपूर होने के साथ-साथ कई अन्य आवश्यक पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत होती हैं। आप इस सब्जियों का पेस्ट बनाकर और इन्हें ग्रेवी या सूप में मिलाकर अपने बच्चे को खिला सकती हैं। आप चाहें तो आवश्यकता अनुसार इसमें सौम्य मसाले भी मिला सकती हैं।

१४. टमाटर

यदि बच्चा ताजे कटे टमाटर खाने से मना करता है, तो टमाटर को ओवन में या धूप में सुखाने का प्रयास करें। फिर आप इससे सॉस और सूप बना सकती हैं। आप बच्चे को सूप या स्पघेटी व मैक्रोनी के साथ टमाटर का सॉस भी दे सकती हैं।

१५. कार्बनिक डार्क चॉकलेट

बच्चों को चॉकलेट बहुत पसंद होती है और बड़े होने पर उन्हें इससे दूर रखना मुश्किल हो सकता है। उनकी भूख को संतुष्ट करने का एक तरीका यह है कि उन्हें कार्बनिक डार्क चॉकलेट दें। यह चॉकलेट आयरन से भरपूर होने के साथ-साथ इसमें चीनी कम होती है।

कार्बनिक डार्क चॉकलेट

स्तनपान करने वाले शिशु या वे शिशु जिन्हें आयरन के साथ फोर्टिफाइड फार्मूला दूध दिया जाता है, उन्हें किसी भी आयरन सप्लीमेंट की आवश्यकता नहीं होती है। जो बच्चे पर्याप्त मात्रा में आयरन युक्त संतुलित आहार खाते हैं, उन्हें किसी भी सप्लीमेंट की आवश्यकता नहीं है। बच्चों में लौह तत्वों की कमी, कम एकाग्रता का कारण बन सकती है और वे थका हुआ व कमजोर महसूस कर सकते हैं। इसलिए अपने बच्चे को नियमित रूप से रोजाना भोजन में आयरन-युक्त आहार दें।