बच्चों के लिए टमाटर – स्वास्थ्य लाभ और सूप बनाने की विधि

बच्चों के लिए टमाटर

Last Updated On

बच्चे की परवरिश करना एक चुनौती हो सकती है और यह सुनिश्चित करने के लिए कि उनका पोषण और विकास सही ढंग से हो रहा है, उन्हें पौष्टिक भोजन खिलाना सबसे महत्वपूर्ण है। टमाटर एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसमें बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ होते हैं और वे अनेक गुणों से भरपूर होते हैं। आप अपने बच्चों को अलग-अलग तरीके से टमाटर खिला सकते हैं लेकिन आपको भी यह जानकारी होनी चाहिए कि क्या ऐसा करना सुरक्षित है।

एक बार जब आप टमाटर के स्वास्थ्य लाभों के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेते हैं और साथ ही उसे पकाने की व्यंजन विधियां जान लेते हैं तब आप उसे अपने बच्चे को खाने क लिए दे सकते हैं।

आप अपने बच्चे को टमाटर खिलाना कब शुरू कर सकते हैं?

बच्चों को टमाटर खिलाया जा सकता है, क्योंकि उसके अनेकों स्वास्थ्य लाभ है। लगभग 8 से 10 महीने के बाद आप अपने बच्चे को टमाटर खिलाना शुरू कर सकते हैं। आमतौर पर टमाटर से किसी भी प्रकार की एलर्जी नहीं होती है, लेकिन टमाटर का सेवन करने के बाद, अपने बच्चे की त्वचा पर चकत्ते होने का ध्यान रखें।

टमाटर के पोषक तत्व

टमाटर के पोषक तत्व

टमाटर में भरपूर पोषक तत्व होते हैं। यहाँ बताया गया है कि, प्रति 100 ग्राम टमाटर में कितने पोषक तत्व होते हैं :

 पोषक तत्व 100 ग्राम में
पानी 94.78 ग्राम
ऊर्जा 16 किलो कैलोरी
प्रोटीन 1.16 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट 3.18 ग्राम
कैल्शियम 5 मिग्रा
फाइबर 0.9 ग्राम

स्रोत: https://parentinghealthybabies.com/health-benefits-of-tomato-for-babies/

शिशुओं के लिए टमाटर के स्वास्थ्यप्रद लाभ

शिशुओं के लिए टमाटर से जुड़े बहुत से स्वास्थ्य लाभ हैं:

1. विटामिन ए

टमाटर विटामिन ए का एक समृद्ध स्रोत है और उनका लाल और नारंगी रंग, उनमें अल्फा-कैरोटीन और बीटा-कैरोटीन की उपस्थिति का परिचायक है। विटामिन ए बच्चे के शरीर में आँखों के विकास के लिए बहुत लाभकारी है।

2. एंटीऑक्सिडेंट का एक प्रमुख स्रोत

टमाटर एंटीऑक्सिडेंट का भी एक उत्कृष्ट स्रोत है जो बच्चे के आहार के लिए बहुत आवश्यक है। एक बच्चे में मेटाबोलिज्म की दर एक वयस्क की तुलना में बहुत अधिक होती है और इससे मुक्त कणों (फ्री रेडिकल्स) की संख्या बढ़ जाती है। यदि मुक्त कणों की संख्या बढ़ती है, तो कोशिकाओं और डीएनए को क्षति होने की संभावना भी बढ़ जाती है। एंटीऑक्सिडेंट इसे रोकते हैं और इसे बेअसर करने में मदद करते हैं।

3. मजबूत हड्डियों का निर्माण

टमाटर में विटामिन ‘के’ प्रचुर मात्रा में पाया जाता है और यह समय के साथ शिशु की हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।

4. मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्युनिटी)

टमाटर में बहुत सारे जैविक रासायनिक तत्व पाए जाते हैं, जो प्रतिरक्षा तन्त्र को मजबूत करने में मदद करते हैं और जो बच्चे के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

5. अम्लरक्तता (एसिडोसि) का उपचार करता है

हालांकि यह माना जाता है कि टमाटर में बहुत अधिक अम्ल होता है, वे वास्तव में बच्चे के शरीर में स्वयं एसिड पर प्रतिक्रिया करने में मदद करते हैं। ऐसा करके, आप क्षारीय तत्व की मात्रा बढ़ा सकते हैं और अम्लरक्तता का उपचार कर सकते हैं।

6. सीसा (लीड) विषाक्तता को कम करता है

लीड विषाक्तता एक और मुद्दा है, जिसका मुकाबला टमाटर के साथ किया जा सकता है। टमाटर में बड़ी मात्रा में विटामिन सी मौजूद होता है जो लीड के हानिकारक प्रभावों को कम करने में मदद करता है।

शिशुओं को टमाटर खिलाते समय ली जाने वाली सावधानियां

हालांकि टमाटर शिशुओं के लिए बहुत लाभकारी हैं, उन्हें देने से पहले यह महत्वपूर्ण है कि टमाटर चुनते समय आप इन सावधानियों का पालन करें:

1. रंग और बनावट

अपने बच्चे के लिए टमाटर चुनते वक्त यह सुनिश्चित करें कि उनका रंग और बनावट सही हो। मुख्य रूप से लाल और नारंगी रंग के टमाटर अच्छे होते हैं और वे धब्बों या दरारों के बिना ठोस होने चाहिए।

2. रसायनयुक्त के बजाय जैविक/आर्गेनिक

कोशिश करें कि आप जैविक टमाटर खरीदें जो पारंपरिक विधि से उगाए जाते हैं। उनमें पोषक तत्वों की मात्रा अधिक होती है।

3. एलर्जी की जाँच करें

कुछ शिशुओं को टमाटर से एलर्जी हो सकती है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप इसकी जाँच करें।

4. उचित विधि

क्योंकि कुछ शिशुओं में अभी तक दाँत पूरी तरह से विकसित नहीं होते हैं, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप उन्हें टमाटर को सूप के रूप में दें ताकि वह गले में अटके नहीं।

टमाटर खरीदने व स्टोर करने के उपयोगी टिप्स

टमाटर खरीदते समय, यह महत्वपूर्ण है कि आप उन्हें रेफ्रिजरेटर में न रखें। आप उन्हें धूप से बचाकर कमरे के तापमान पर रख सकते हैं। यह भी सलाह दी जाती है कि खरीदने के कुछ दिनों के भीतर ही उनका सेवन किया जाए। यदि आप कच्चे टमाटर खरीदते हैं, तो वे कमरे के तापमान पर कुछ दिनों में पक जाते हैं।

बच्चों के लिए टमाटर का सूप कैसे बनाएँ ?

बच्चों के लिए टमाटर का सूप कैसे बनाएँ

यहाँ बच्चों के लिए एक बेहतर टमाटर सूप बनाने की रेसिपी दी हुई है जो बनाने में बेहद आसान और स्वास्थ्यप्रद भी है:

सामग्री

  • टमाटर (4)
  • नमक (एक चुटकी)
  • बटर (1/2 चम्मच)
  • पानी  (1/2 कप)

विधि 

  • टमाटर को धोकर साफ कर लें। सुनिश्चित करें कि वे धोने से पहले नहीं काटे गए हैं क्योंकि इससे उनका पोषण खत्म हो जाएगा।
  • टमाटर को बड़े टुकड़ों में काटे और बीज निकाल लें।
  • पानी में टमाटर के टुकड़ें डाल दें और ढक्कन लगा दें। नरम होने तक कुछ मिनटों के लिए उबालें।
  • टमाटरों को छील लें।
  • टमाटरों में हल्का पानी मिलाकर उसकी प्यूरी बनाएं।
  • एक बर्तन में थोड़ा बटर डालें।
  • अब उसमे टमाटर का प्यूरी डालें और लगभग एक मिनट के लिए इसे गर्म करें।
  • स्वाद के लिए थोड़ा नमक डालें। वैसे बटर में आमतौर पर नमक होता है, इसलिए आपको अतिरिक्त डालने की आवश्यकता नहीं होगी।

टमाटर शिशुओं के पोषण का एक बड़ा स्रोत है और यदि नियमित रूप से खिलाए जाएं तो वे बेहतरीन हैं। हालांकि टमाटर कुछ शिशुओं में मामूली चकत्ते या एलर्जी पैदा कर सकते हैं, लेकिन वे शारीरिक और मानसिक दोनों ही दृष्टिकोण से शिशु के समग्र विकास के लिए बहुत अच्छे होते हैं। शिशुओं को वे टमाटर खिलाए जाने चाहिए जो ताजा हों और सूप बनाकर दें क्योंकि उनके दाँत पूरी तरह से विकसित नहीं हुए हैं।

टमाटर को कमरे के तापमान पर स्टोर किया जाना चाहिए ताकि वे सड़े या पीले न हों। टमाटर किसी भी आहार में एक आवश्यक घटक हो सकता है और उन बच्चों के लिए एकदम सही है जो खाने के मामले में काफी चुनिंदा हैं।