शिशुओं को गाय का दूध पिलाना

शिशुओं को गाय का दूध पिलाना

Last Updated On

हम में से कई लोगों के पास ऐसी प्रिय यादें होंगी कि, जब हम छोटे थे तब हमारी माँ हमे गाय का दूध दिया करती थी। यह स्वादिष्ट और पौष्टिक पेय अक्सर बच्चों को ऐसे ही या कॉर्नफ्लेक्स के साथ, ओट्स के साथ, मिल्कशेक बना कर या किसी और तरीके से दिया जाता है।हालांकि, शिशु का पाचन तंत्र एक दस साल के बच्चे जितना विकसित नहीं होता है, इसलिए यह सोचने वाली बात है कि, क्या यह आदर्श पेय बच्चे के लिए ठीक है? यहाँ हम चर्चा करेंगे कि क्या गाय का दूध शिशुओं के लिए अच्छा है और अगर नहीं है, तो उन्हें यह कब से दिया जा सकता है।

क्या हम नवजात शिशु को गाय का दूध दे सकते हैं?

गाय का दूध नवजात शिशुओं को नहीं दिए जाने की सलाह दी जाती है जिसके कई कारण है ।

  • सबसे पहले, बच्चे का पाचन तंत्र गाय के दूध में मौजूद बड़ी मात्रा में प्रोटीन को पचाने के लिए पर्याप्त विकसित नहीं होता है।

  • दूसरा, शुरुआत में ही अपने शिशु को गाय का दूध देना उसके शरीर को इसके प्रति असहनशील बना सकता है।

  • बाद में, गाय का दूध आपके नवजात शिशु में लौह की कमी कर सकता है क्योंकि यह उनके शरीर में लौह के अवशोषण में हस्तक्षेप करता है।

हालांकि दूध पिलाने की सलाह नहीं दी जाती है, लेकिन दूध से बने उत्पाद जैसे दही और पनीर एक वर्ष से कम उम्र के शिशुओं के लिए स्वीकार्य माने जाते हैं। फिर भी हमें उन्हें अलग से गाय का दूध नहीं देना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि गाय के दूध में मौजूद सोडियम की मात्रा एक बच्चे के गुर्द द्वारा उसे संभालने की तुलना में बहुत ज़्यादा होती है।

गाय का दूध कब से देना चाहिए?

अधिकांश मातापिता जो अपने बच्चों को फार्मूला दूध पिलाते हैं, वे गाय का दूध देने के लिए तत्पर रहते है। यह इसलिए भी क्योंकि फॉर्मूला दूध महंगा और विशेष रूप से बच्चे के उपभोग के लिए होता है। इसके अलावा गाय का दूध पूरे परिवार के लिए खरीदा जाता है और उस वजह से यह एक सस्ता विकल्प है। यदि शिशु के परिवार में लैक्टोज असहिष्णुता या डेयरी एलर्जी जैसी समस्या पहले कभी नहीं रही है, तो उसे छह महीने के बाद गाय का दूध दिया जा सकता है। हालांकि, यह केवल पके हुए ठोस आहार का एक हिस्सा होना चाहिए। स्वतंत्र रूप से शिशु को दूध पिलाने के लिए आपको अभी भी लगभग एक साल तक इंतजार करना होगा।

याद रखें कि यदि आपका बच्चा अपने पहले जन्मदिन तक स्तनपान करता है, तो उन्हें सबसे अच्छा पोषण दूध मिल रहा है! यह मानव बच्चों के लिए सिर्फ आदर्श ही नहीं बल्कि इसमें पोषक तत्वों का सही मिश्रण भी है जो आपके बच्चे की वृद्धि और विकास के लिए चाहिए। माँ के दूध में वसा की मात्रा भी अधिक होती है जो आपके बच्चे की वृद्धि के लिए महत्वपूर्ण है (हाँ ! गाय के दूध से भी अधिक)। गाय का दूध (जो प्रजातिविशिष्ट रचना भी है) सिर्फ कैल्शियम, प्रोटीन, वसा और विटामिन डी का सबसे सुविधाजनक स्रोत है। हालांकि स्तनदूध से इसका कोई मुकाबला नहीं है, लेकिन यह उन माताओं के लिए एक व्यवहार्य विकल्प प्रदान करता है जो एक वर्ष की आयु के बाद अपने बच्चे को स्तनपान बंद करने का सोच रहीं हैं।

बच्चे को गाय का दूध कैसे पिलाएं ?

अपने पहले जन्मदिन के बाद शिशुओं को कम मात्रा में गाय का दूध पिलाया जा सकता है। इसे स्तन या फॉर्मूला दूध के साथ मिलाकर इसकी शुरुआत की जा सकती है ताकि यह परिवर्तन बच्चे के लिए भी आसान हो। आप शुरू में यह जांच ले कि क्या वे इसे बिना किसी समस्या के पचा पा रहे हैं। उनकी पसंद के अन्य खाद्य पदार्थों में चुपके से मिलाकर यह जाना जा सकता हैं।

आप गाय के दूध को स्तन के दूध के साथ 1:3 के अनुपात में मिला सकती हैं। इसका मतलब यह है कि मिश्रित दूध का एक भाग गाय का दूध और तीन भाग स्तनदूध का होगा। आप धीरेधीरे गाय के दूध के अनुपात में वृद्धि करना शुरू कर सकती हैं, साथ ही साथ स्तनदूध के अनुपात को कम कर सकती हैं। आखिरकार, बच्चे को गाय के दूध दिया जा सकता है। आदर्श रूप से, खाने के समय से कम से कम एक घंटा पहले इसे दिया जाना चाहिए। यह उन्हें अन्य खाद्य पदार्थों के लिए अपनी भूख से समझौता नहीं करते हुए दूध से सही पोषण प्राप्त करने में मदद करता है।

बच्चे को गाय का दूध कैसे पिलाएं ?

स्वास्थ्य के लिए फ़ायदे

गाय का दूध शिशुओं के लिए अच्छा है, क्योंकि इसमें कैल्शियम की अच्छी मात्रा होती है, जो मजबूत हड्डियों, दांतों को विकसित करने और मांसपेशियों की वृद्धि के लिए महत्वपूर्ण है। इसमें विटामिन ‘डी’ होता है जो शरीर में कैल्शियम के अवशोषण में मदद करता है।

दूध में उच्च मात्रा में प्रोटीन भी होता है, जो आपके बच्चे को बढ़ने में मदद करता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट भी होते हैं, जो आपके बच्चे को वह ऊर्जा देते हैं जिसकी उन्हें दिन भर ज़रूरत होती है। कैल्शियम के प्रचुर मात्रा में स्तर वाले बच्चे में मजबूत हड्डियाँ, एक स्वस्थ रक्तचाप और एक स्वस्थ दिल होगा।

आपके बच्चे को कितने दूध की आवश्यकता है ?

नियमित शुरुआत के बाद एक वर्षीय बच्चे को 8 से 12 औंस दूध दिया जा सकता है। आप दुग्ध उत्पाद के रूप में उतनी ही मात्रा में दही या पनीर भी दे सकती हैं। कुछ बच्चे इस स्वाद को पसंद कर सकते हैं, और नियमित भोजन की जगह भी इसे पसंद कर सकते हैं। हालांकि, आपको इसका सेवन सीमित करना चाहिए क्योंकि यह अन्य ठोस पदार्थों के लिए उनकी भूख को सीमित कर सकता है। यह उल्टा हो सकता है, क्योंकि आपके बच्चे को संतुलित आहार नहीं मिलेगा।

आप भोजन के बीच दूध को पेय के रूप में पेश करने पर भी विचार कर सकती हैं लेकिन भोजन के विकल्प के रूप में नहीं। यह याद रखना महत्वपूर्ण है, कि आपका बच्चा बोतल के फीड के समान इस दूध के गिलास को उतनी तेज़ी से नही पी सकता। यह पूरी तरह से ठीक है। गाय के दूध का सेवन एक पोषण पूरक और एक वैकल्पिक पेय है। एक ही पोषक तत्व कई अन्य खाद्य पदार्थों से भी प्राप्त किया जा सकता है।

गाय के दूध के नुकसान

हमेशा की तरह, अपने बच्चे को किसी भी भोजन की शुरूआत कराने के बाद तीनदिवसीय नियम का पालन करना चाहिए। किसी भी नए भोजन को शुरू करने के बाद, अपने बच्चे की बारीकी से निगरानी करें। यही बात गाय के दूध पर भी लागू होती है।

कुछ बच्चे अपनी माँ के दूध के सेवन के लिए भी संवेदनशील हो सकते हैं। समग्र बेचैन व्यवहार, दस्त, उल्टी, लगातार रोना, पेट फूलना या आंतों से आवाज आना जैसे लक्षणों की नज़दीकी निगरानी इसके संकेत दे सकती है।

आपको आश्चर्य हो सकता है, ‘गाय का दूध शिशुओं के लिए बुरा क्यों होता है? गाय के दूध में प्रोटीन, सोडियम, कैल्शियम और विटामिन डी’ की मात्रा अधिक होती है और यह कभीकभी शिशुओं के पाचन तंत्र को भी प्रभावित करता है। आपको यह सुनिश्चित करने के लिए निम्नलिखित लक्षणों को ध्यान में रखना होगा कि आपका बच्चा गाय के दूध को अच्छी तरह से पचा सकता है या नहीं।

1. एलर्जी: शिशुओं में गाय के दूध की एलर्जी के कारण चकत्ते, सांस लेने की समस्या और घरघराहट सभी हो सकते हैं।यह लक्षण अधिक भी हो सकते हैं जैसे कि कब्ज, पित्ती या खुजली वाली नाक।

2. लैक्टोज असहिष्णुता: लैक्टोज असहिष्णुता उल्टी, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल या पेट में गड़बड़ी और यहाँ तक कि गाय के दूध की शुरुआत पर बच्चों में दस्त के रूप में दिख सकती है।

यदि आपके बच्चे को गाय के दूध से एलर्जी है, तो आपको गाय के दूध के सोया जैसे विकल्प के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

अगर आपका बच्चा गाय का दूध पीने से इनकार करता है तो क्या करें?

कुछ सुझाव हैं जो आपके बच्चे को गाय के दूध को अधिक स्वेच्छा से स्वीकार करने में मदद कर सकते हैं।

1 . दूध को देने से पहले हल्का गर्म करें। अधिकांश समय बच्चे दूध को मना कर देते हैं, क्योंकि ठंडा दूध कुछ ऐसा होता है जो उनके लिए असामान्य होता है। थोड़ा सा तापमान में परिवर्तन इसे उनके पीने के लिए आसान कर सकता है।

2. यदि बच्चा स्वाद पसंद नहीं करता है, तो आप इसे मिल्कशेक या अन्य भोजन जैसे कि अनाज, दलिया आदि के साथ मिलाकर देने पर विचार कर सकते हैं। आप प्राकृतिक रंगों को जोड़कर भी दूध को दिलचस्प बना सकते है।

3 . अपने बच्चे के लिए दूध पीने को मज़ेदार बनाएं! उनके दूध पीने के लिए शाबाशी या अन्य पुरस्कारों के साथ सकारात्मक स्थिति बनाएं।

4. इसे रंगीन सिप्पी कप में या स्ट्रॉ के साथ पेश करें। आप केवल इस उद्देश्य के लिए एक नया कप खरीदने पर विचार कर सकती हैं और इसे एक विशेष कप घोषित कर सकती हैं ताकि आपका बच्चा इसमें से कुछ भी पीने के लिए उत्सुक हो।

5. अंतिम उपाय के रूप में, आप दूध को मीठा बना सकती सकती हैं। इस अभ्यास से दूर रहना सबसे अच्छा है, क्योंकि इसमें बच्चे को स्वाद की आदत हो जाती है। आप दूध में फल या ड्राई फ्रूट्स डालकर प्राकृतिक रूप से मीठा बनाने की कोशिश कर सकती हैं।

अगर आपका बच्चा गाय का दूध पीने से इनकार करता है तो क्या करें?

शिशुओं के लिए किस प्रकार का गाय का दूध चुनें: संपूर्ण दूध या कम वसा वाला दूध

दो साल की उम्र तक, बच्चों को पूरा दूध लेने की आवश्यकता होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें जो वसा है वह उनकी वृद्धि के लिए आवश्यक है। उसके बाद, कम वसा वाले या नियमित दूध के लिए इसे परिवर्तित किया जा सकता है। बच्चे के वजन के आधार पर, एक अच्छा विकल्प बनाया जा सकता है। यदि बच्चा अधिक वजन का है, या भारी है, तो उन्हें शुरू से ही कम वसा वाला दूध दिया जा सकता है।

हालांकि दूध दुनिया भर में एक लोकप्रिय पेय है, लेकिन आपको यह सुनकर आश्चर्यजनक लग सकता है कि यह शुरुआत में शिशुओं के लिए अनुशंसित नहीं है। एक वर्ष की आयु के बाद, बच्चे को दूध और दूध आधारित उत्पाद दिए जा सकते है।