शिशुओं को ठोस आहार खिलाने की शुरुआत करना

शिशुओं को ठोस आहार खिलाने की शुरुआत करना

Last Updated On

शिशु के आहार में ठोस आहार को धीरेधीरे बढ़ाने से उसे दूध या फॉर्मूला से रोज़मर्रा के खाने के लिए परिवर्तित होने में मदद होगी। हालांकि, यह सुनिश्चित करने के लिए ध्यान रखा जाना चाहिए कि परिवर्तन बच्चे के लिए भारी न हो ।

ठोस आहार क्या हैं

शिशुओं के लिए ठोस आहार ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो बच्चे को दूध से भोजन खाने के लिए परिवर्तित करते हैं। लगभग 4-6 महीने के बाद, दूध से पोषण, फॉर्मूला या माता का दूध, बच्चे की पोषणसंबंधी जरूरतों के लिए पर्याप्त नहीं होता और बच्चे के आहार में ठोस खाद्य पदार्थों को शामिल करने की आवश्यकता होती है।

ठोस आहार क्या हैं

शिशुओं को ठोस आहार खिलाना शुरू करना

अधिकांश शिशु भोजन के बारे में तभी उत्सुक हो जाते हैं जब वे थोड़े और बड़े हो जाते हैं, लेकिन ठोस आहार से परिचय उस अवस्था से काफी पहले ही होना चाहिए।

1. मुझे अपने शिशु को ठोस आहार खिलाना कब शुरु करना चाहिए?

शिशुओं का पाचन तंत्र 4 महीने में या उसके बाद ठोस भोजन के लिए तैयार हो जाएगा,व उस समय तक उनके पास ठोस खाद्य पदार्थों को निगलने के शारीरिक कौशल भी आ जाएँगे। शिशुओं के लिए ठोस आहार तभी शुरू करना चाहिए जब आपका शिशु तत्परता दिखाए।

2. मुझे अपने शिशु को ठोस आहार कैसे देना चाहिए?

एक बार में अनाज या फल को पीसकर, भाँप में पकाकर या मसल कर बच्चे को खिलाया जा सकता है। एक अनाज से शुरू करें, और धीरेधीरे फलों और सब्जियों तक जाएँ। 2-3 दिनों के लिए एक ही प्रकार का भोजन दें ताकि पता चल सके कि शिशु को उस भोजन से एलर्जी तो नहीं है। याद रखें कि खाने में बिल्कुल भी नमक या चीनी न डालें। एक छोटे चम्मच से शुरू करें, और देखें कि बच्चा चम्मच और भोजन की बनावट पर कैसे प्रतिक्रिया करता है। यदि शिशु इनकार करे, तो उसके साथ जबरदस्ती न करें, लेकिन एक या दो सप्ताह बाद फिर से प्रयास करें।

3. एक शिशु को कितनी बार और कितना खिलाना है

4-6 महीने का होने पर दिन में एक बार 1 बड़े चम्मच से शुरू करें। एक 6 महीने के शिशु को 2-4 बड़े चम्मच । दिन में दो बार दे सकते है।

मेरा शिशु ठोस आहार के लिए तैयार है इसके संकेत

आपको ठोस आहार शुरू करने के लिए अपने शिशु की तत्परता जाँचने की जरूरत है। निम्नलिखित संकेतों को ध्यान में रखे :

  • आपका शिशु अपने सिर को सीधा रख सकता है और उस स्थिति में टिका रह सकता है। आपका शिशु एक शिशुओं को खिलाने वाली सीट या ऊँची कुर्सी पर सीधा बैठने में सक्षम होना चाहिए ताकि वह ठीक से निगल सके।
  • आपके शिशु का वजन काफी बढ़ गया होगा और वह उसके जन्म के वजन से लगभग दोगुना हो गया होगा।
  • आपका शिशु इस बात से उत्सुक है कि आप क्या खा रहे हैं और आप जो खा रहे हैं उसे देखता है या उस तक पहुँचने की कोशिश करता है।

शिशु को खिलाए जाने वाले शुरुआती खाद्य पदार्थ

प्रत्येक शिशु अलग होता है, इसलिए आपका डॉक्टर ठोस पदार्थों के बारे में सबसे अच्छी सलाह दे सकता है। वास्तव में, ‘द अमेरिकन अकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स’ (..पी) लौह की भरपाई के लिए माँस खिलाने का सुझाव देती है, जो 6 महीने से कम होने लगता है। अधिकांश मातापिता बिना नमक या चीनी के एक ही पदार्थ वाला भोजन देना शुरू करते हैं। आप शुद्ध एक ही अनाज का पिसा दलिया, शकरकंद, आड़ू या केले भी दे सकते हैं।

1. कौन से खाद्य पदार्थ खाने चाहिए

शिशुओं के लिए ठोस आहार 4-6 महीने से शुरू होना चाहिए। एक छोटे शिशु को ठोस आहार के साथ धीरेधीरे और सावधानी से परिचित करवाया जाना चाहिए। हालांकि, विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ खाना अच्छा है, सामान्य नियम से, शिशु को पिसे भोजन, फिर मसले या छने भोजन और फिर शिशु के द्वारा हाथों से पकड़कर चबाने लायक भोजन से ठोस आहार तक ले जाएँ। सुझाई गई सबसे पहली सब्जियों में से एक शकरकंद है।

जब आपका शिशु अनाज से भिन्न भोजन खाकर देख रहा हो, तो आप शिशु के भोजन में तरहतरह के मेल आज़मा सकते हैं। अनाज के साथ कुछ बड़े चम्मच फल और सब्जियों के मिलाएँ और देखें कि शिशु की क्या प्रतिक्रिया रहती है। भोजन बहुत नरम होना चाहिए ताकि शिशु आसानी से उसे अपनी जीभ से अपने मुँह के तालु पर दबा सकें।

2. किन खाद्य पदार्थों से बचें

शहद

शहद

शहद मीठा है और पूरी तरह प्राकृतिक है लेकिन इसमें क्लोस्ट्रीडियम बोटुलिनम बैक्टेरीया के बीजाणु हो सकते हैं। ये बीजाणु शिशु की आँतों में बढ़ सकते हैं और शिशु को बोटुलिज़्म हो सकता है। थोड़े बड़े शिशुओं के पाचन तंत्र विकसित होते हैं जो इस प्रकार के बोटुलिज़्म से लड़ सकते हैं, लेकिन 1 साल तक के शिशुओं में इसके गंभीर असर हो सकते हैं। इसलिए, एक वर्ष से कम उम्र के शिशुओं के लिए शहद देने की सलाह नहीं दी जाती।

दूध

दूध

सीधे डिब्बों से निकले गाय के दूध या सोया दूध में वे प्रोटीन हो सकते हैं जिन्हें शिशु पचा नहीं सकता। कुछ खनिजों का उनके गुर्दे पर भी असर पड़ सकता है। पहले वर्ष तक, केवल माता का दूध या फॉर्मूला दूध ही पिलाएँ। कुछ शिशु ऐसे उत्पादों में मौजूद लैक्टोज के लिए असहिष्णु हो सकते हैं और जिससे डायरिया जैसी एलर्जी प्रतिक्रियाएँ हो सकती हैं।

पीनट बटर

पीनट बटर

यह कभीकभी गंभीर एलेर्जी का कारण बन जाने के लिए जाना जाता है। इसका गाढ़ापन भी शिशु के लिए गला घुटने का खतरा बन सकता है।

कुछ सब्जियां

कुछ सब्ज़ियाँ

पालक, बीट, और सलाद पत्ता जैसी सब्जियों में नाइट्रेट होते हैं जिन्हें शिशु के पाचन तंत्र द्वारा संसाधित नहीं किया जा सकता है, यहाँ तक कि पकाई और पिसी गई हों, तब भी शिशु को देने से बचना चाहिए।

कुछ मछलियाँ

कुछ मछलियाँ

मैकरल, शार्क, स्वोर्डफ़िश और ट्यूना में उच्च मात्रा में पारा होता है जो इतना ज़्यादा है कि ये एक वर्ष से कम उम्र के शिशुओं द्वारा सेवन नहीं किए जाने चाहिए। यदि आपके परिवार में शेलफिश से एलर्जी का कोई इतिहास है, तो यह शिशुओं को न खिलाएँ। सीप और लॉबस्टर जैसी कुछ शेलफिश गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाओं का कारण बन सकती हैं, इसलिए जब तक शिशु तीन साल का नहीं हो जाता, तब तक उसे ये न खिलाएँ।

खट्टे फल

जामुन और खट्टे फल

स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी, रास्पबेरी और ब्लैकबेरी जैसे बेरों में एक प्रोटीन होता है जो शिशुओं को पचाने में मुश्किल होती होता है। संतरे या चकोतरे अम्लीय प्रकृति के होते हैं और पेट की ख़राबी का कारण बन सकते हैं। सबसे अच्छा होगा कि ऐसे खट्टे या बेरीवाले फल को शिशु को देने से पहले छोटे टुकड़ों में काटकर पानी से पतला किया जाए। इन्हें अपने शिशु के आहार में डालने से पहले किसी भी प्रतिक्रिया का निरीक्षण करें।

नमक

नमक

शिशुओं को एक दिन में 1 ग्राम से कम की आवश्यकता होती है। नमक की बड़ी मात्रा को संसाधित करने के लिए शिशु के गुर्दे अभी तक अच्छी तरह से विकसित नहीं हुए हैं। प्रोसेस्ड खाना जिसमें सोडियम होता है, वह बिलकुल नहीं देना चाहिए।

बीज और मेवे

बीज और मेवे

बीज और मेवा सामान्य रूप से अत्यधिक एलर्जी करते हैं। शिशु का वायुमार्ग छोटा है और इसलिए इससे दम घुटने का खतरा भी हो सकता है।

अंगूर और किशमिश

अंगूर और किशमिश

वे सख्त और बड़े हैं और गला घुटने का कारण बन सकते हैं। शिशुओं के लिए इनका छिलका पचाना भी मुश्किल होता है।

अंडे की सफेदी

अंडे की सफेदी

शिशुओं को अंडे, विशेष रूप से अंडे की सफेदी से एलर्जी हो सकती है। और यह बेहद आम है।

चॉकलेट

चॉकलेट

चॉकलेट में मौजूद कैफीन से एलर्जी हो सकती है। चॉकलेट का डेयरी घटक पचाने में मुश्किल हो सकता है। गला घुटने का जोखिम भी है। चाय और कॉफी में भी कैफीन होता है, इसलिए इनसे बचना चाहिए।

खाद्य पदार्थ जो गले में फँस सकते हैं

खाद्य पदार्थ जो गले में फँस सकते हैं

कच्ची गाजरें या कोई भी कच्ची सब्जियां जो ठोस और सख्त होती हैं, पॉपकॉर्न, सख्त टॉफी और गम गले में फँसने के जोखिमों से जुड़े खाद्य पदार्थ हैं और इसलिए इनसे बचना ही अच्छा है।

गेहूँ

गेहूँ

यदि आपके परिवार में ग्लूटन असहिष्णुता का कोई ज्ञात इतिहास है, तो शिशु को बड़ी मात्रा में गेहूँ युक्त भोजन देने के लिए तब तक इंतजार करना बेहतर है जब तक शिशु एक साल का न हो जाए।

कार्बोनेटेड ड्रिंक्स

कार्बोनेटेड ड्रिंक्स

कोला और सोडा में उच्च मात्रा में चीनी, सोडियम और कृत्रिम स्वादवर्धक तत्व होते हैं। ये तत्व शिशुओं के लिए अच्छे नहीं हैं। इन तरह के पेयों को कार्बोनेट करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली गैस से शिशुओं का पेट खराब हो सकता है।

शिशु को खिलाने की सारणी

खिलाने का कोई निश्चित समयसारणी नहीं है। यदि आप शिशु को स्तनपान करा रहे हैं, और आप जानते हैं कि आपके दूध की आपूर्ति कब कम होगी, तो उस समय कोशिश करके ठोस पदार्थ खिलाएँ। कुछ शिशुओं को नाश्ते में ठोस भोजन करना पसंद हो सकता है। तो शिशु आपको दिखा देगा कि वह ठोस भोजन के लिए तैयार है या नहीं, या तो अपना मुँह पूरा खोलकर या मुँह मोड़कर।

आप एक दिन में एक भोजन के साथ शुरू कर सकते हैं, और फिर सुबह में एक और शाम को एक का प्रयास करें। धीरेधीरे बारंबारता बढ़ाने की कोशिश करें और जैसेजैसे आपका शिशु बढ़ता है वैसे ही प्रतिदिन तीन ठोस भोजन दें। तब तक प्रयोग करें जब तक आपको ऐसा क्रम नहीं मिल जाता जो आपको और आपके शिशु दोनों के लिए सही हो।

जब शिशु 6-9 महीने का होता है तो उसे नियमित भोजन नाश्ते, दोपहर के भोजन और रात के खाने के समय पर देना शुरू करना चाहिए। यह उसे खाने की सारणी का आदी होने का समय देगा।

यहाँ एक चार्ट है जिसे आप अपने शिशु के भोजन की सारणी के लिए संदर्भ के रूप में उपयोग कर सकते हैं:

यहाँ एक चार्ट है जिसे आप अपने शिशु के भोजन की सारणी के लिए संदर्भ के रूप में उपयोग कर सकते हैं:

आयु

भोजन

प्रति दिन भोजन की संख्या

सर्विंग की मात्रा

खिलाने के सुझाव

0-4 महीने

माँ का दूध

मांग पर

प्रत्येक स्तन से 5 – 10 मिनट तक

  • 6-8 गीले डायपर इंगित करते हैं कि बच्चे ने पेट भर कर दूध का सेवन किया है

  • बच्चे और बोतल दोनों को पकड़ें

  • बोतलों को माइक्रोवेव में न गर्म करें

  • ज़रूरत से ज़्यादा दूध पिलाने से बचें

फार्मूला दूध – 1 महीने

6-8 बार

60-100 मिलीलीटर

फार्मूला दूध – 1-2 महीने

5-7 बार

90-150 मिलीलीटर

फार्मूला दूध– 2-3 महीने

4-6 बार

120 – 200 मिलीलीटर

फार्मूला दूध – 3-4 महीने

4-6 बार

150 – 250 मिलीलीटर

4-6 महीने

माँ का दूध या फार्मूला दूध

4-6 बार

150-250 मिलीलीटर

  • फ़ीड के बीच पैसिफ़ायर का उपयोग करें

  • यदि बच्चा 950 मिलीलीटर से अधिक दूध पी रहा है, तो ठोस खाद्य पदार्थ देने का समय हो गया है

  • राइस सीरियल से शुरुआतकरें

  • सीरियल खिलाने के लिए बोतल का उपयोग न करें

बेबी सीरियल

1-2 बार

1-2 बड़े चम्मच

6-8 महीने

माँ का दूध

3-5 बार

150-250 मिलीलीटर

  • ठोस पदार्थ खिलाने से पहले माँ का दूध या फार्मुला दूध न दें

  • माइक्रोवेव में भोजन गर्म न करें

  • ठोस भोजन को फ्रिज में रखें

  • एक समय में एक फल या सब्जी ही खिलाएं

फार्मूला दूध

3-5 बार

2-4 बड़े चम्मच

बेबी सीरियल

1-2 बार

2-3 बड़े चम्मच

छलनी से छने हुए फल और सब्जियां

2-4 बार

8-12 महीने

माँ का दूध

3-4 बार

150 – 250 मिलीलीटर

  • कप में देना शुरू करें

  • लंबे पतले टुकड़ों में कटे खाद्य पदार्थ देना शुरू करें

  • शिशु के लिए ऊँची कुर्सी खरीदें

  • नरम खाना खिलाएं

  • पड़े बड़े टुकड़े न खिलाएं

फार्मूला दूध

3-4 बार

2-4 बड़े चम्मच

दही

3-4 बार

150 – 250 मिलीलीटर

पनीर

शुरू करें / उसके सामने रखें

¼ से ½ कप

बेबी सीरियल

शुरू करें / उसके सामने रखें

1-2 बड़े चम्मच

रोटी या क्रैकर

1– 2 बार

2-4 बड़े चम्मच

सूखा अनाज

1– 2 बार

कम मात्रा में

सब्जियां और फल (छलनी से छने हुए और मसले हुए)

3-4 बार

3-4 बड़े चम्मच

फलों का रस (संतरा नहीं दें)

एक बार

120 मिलीलीटर

मांस और बीन्स (शुद्ध और छना हुआ)

1-2 बार

3-4 बड़े चम्मच

अगर आपका बच्चा खाना खाने से इनकार करता है तो क्या होगा

शिशुओं का ठोस भोजन से परहेज करना बहुत आम है। उन्हें हो सकता है उसकी बनावट पसंद नहीं या उन्होंने अब तक भोजन को अपने गले में धकेलने का कौशल नहीं सीखा है। यह बहुत महत्त्वपूर्ण है कि शिशु के साथ खाने के लिए जबरदस्ती न की जाए। सुनिश्चित करें कि आप उसे भरपूर दूध पिलाएँ।

अपने शिशु को भोजन छूने और उसके साथ खेलने के लिए प्रोत्साहित करें। इससे उन्हें भोजन की बनावट और आकार की आदत हो जाएगी। उन्हें भोजन के साथ छेड़खानी करने दें। जितना अधिक वे करेंगे, उतना ही वे भोजन के साथ सहज हो जाएँगे। चम्मच से परिचित होने के लिए उन्हें समय दें। शिशु भोजन इधरउधर फेंकेंगे, इसका मतलब यह नहीं है कि वे भोजन को नापसंद करते हैं, इसका मतलब है बस यही है कि अभी अव्यवस्थित है।

जब शिशु अपने हाथों पर भोजन को सहन कर रहा है, तो उन्हें दिखाएँ कि उसे अपने मुँह में कैसे डालें और उसका स्वाद कैसे लें। कई बार दोहराएँ। एक बार जब वे अपने हाथों से खाने लगें, तो उन्हें चम्मच पेश करें। उन्हें समय दें, क्योंकि खाना, चबाना और निगलना एक कौशल हैं जिन्हें उन्हें सीखना होगा। यह स्वाभाविक रूप से शिशुओं को नहीं आता है।

भोजन को मुँह तक ले जाने के लिए आवश्यक शारीरिक समन्वय शिशुओं के लिए एक चुनौती है। प्राकृतिक प्रतिक्रिया भोजन को अपनी जीभ से बाहर धकेलने की है। इसलिए अपने शिशु को आदी होने के लिए समय दें।

शिशुओं के लिए ठोस आहार का चार्ट

शिशु कब शिशुओं वाला आहार खाना शुरू करते हैं, यह एक सवाल है जो माताओं को अक्सर परेशान करता है। उम्र के अनुसार बना निम्नलिखित चार्ट शिशु आहार के बारे में कुछ संदेह दूर करेगा।

समय

ठोस खाद्य पदार्थ की मात्रा

0 – 4 महीने

  • कोई ठोस खाद्य पदार्थ न दें

4 – 6 महीने

  • कोई एक अनाज या मसला हुआ फल और सब्जी के 1 से 4 बड़े चम्मच

6 – 7 महीने

  • फल, अनाज और सब्जियों के 4 से 9 बड़े चम्मच पूरे दिन में, दिन में 2 से 3 बार के भोजन में शामिल करें

  • 1 से 6 बड़े चम्मच प्रोटीन दिन भर में जो संभवत: मांस, पनीर, दही या स्क्रैम्बेल्ड अंडे के रूप में हो

7 – 9 महीने

  • अधिकांश शिशुओं के दांत इस समय तक निकल आते हैं और वे मसले हुए और एक से ज्यादा प्रकार के खाद्य पदार्थ मिला कर दिए गए भोजन के लिए तैयार होते हैं। खाद्य पदार्थों को मिलाने के लिए एक समय में कोई भी नया खाद्य पदार्थ शामिल करें।

  • माँ का दूध और फार्मूला दूध भोजन का बड़ा हिस्सा होते हैं।

9 – 12 महीने

  • 9 महीनों में, आप अंडे की जर्दी और मछली और नरम पराठों जैसे कॉम्प्लेक्स खाद्य पदार्थ खिलाने की कोशिश कर सकते हैं।

  • 10 महीनों में, आप छोटे स्नैक्स और मांसाहारी भोजन खिलाने की कोशिश कर सकते हैं। आप अनाज खिलाने की कोशिश भी कर सकते हैं, लेकिन परीक्षण करा कर सुनिश्चित करें कि शिशु को उन अनाजों से एलर्जी न हो। आप पास्ता और नूडल्स भी खिला सकते हैं।

  • 12 महीने की उम्र में, बच्चा बाकी परिवार की तरह ही खाना खा सकता है। बस यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि भोजन को छोटेछोटे टुकड़ों में दिया जाए।

भोजन अच्छी तरह से मसले और पकाए हुए होने चाहिए। सुनिश्चित करें कि शिशु को ज़रूरत के हिसाब से माता का दूध या फॉर्मूला दूध मिले। शिशु के दूध का सेवन धीरेधीरे कम करके दिन में तीन से चार बार तक कर सकते हैं और साथ ही ठोस आहार का सेवन बढ़ा सकते हैं।

शिशुओं में विभिन्न खाद्य एलर्जी

एक नए भोजन की एलर्जी की प्रतिक्रिया के संकेत लगभग तत्काल से कुछ घंटों तक में दिख सकते हैं। आमतौर पर प्रतिक्रिया हल्की होती है। यदि गंभीर है, जैसे पित्ती, दस्त या उल्टी, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

ज़्यादा गंभीर प्रतिक्रियाएं घरघराहट, साँस लेने में कठिनाई या चेहरे की सूजन हो सकती हैं। इसके लिए तत्काल अस्पताल में भर्ती करवाने की आवश्यकता है।

क्या होगा अगर मेरे शिशु के गले में कुछ फँस गया है

यदि आप देखते हैं कि शिशु साँस लेने में असमर्थ है, तो यह वायुमार्ग में रुकावट हो सकती है। स्थिति का जल्दी से आकलन करें और आपको उसे निकालने में मदद करनी होगी। गले में फँसी हुई चीज को निकालने के लिए पीठ और छाती पर हल्के जोर से थपथपाए। अपनी कलाई का उपयोग करके शिशु के कंधे की हड्डी पर मारें। ज़्यादा संभावना है कि मार से बाधा निकल जाएगी।

यदि कोई बाधा दिखाई देती है तो आप इसे निकालने का प्रयास कर सकते हैं। हालांकि, यह सलाह नहीं दी जाती है कि शिशु के मुँह में अपनी उंगलियाँ घुसा दें क्योंकि इससे बाधा उसके गले में और आगे बढ़ सकती है।

धीरे से बच्चे को कंधे पर थपथपाए और चिल्लाएँ। अगर शिशु हरकत नहीं करता या आप देखें कि शिशु साँस नहीं ले रहा है तो सी.पी.आर शुरू करें। शिशु को पीठ के बल लिटाने के बाद, प्रति मिनट 100-120 की दर से छाती को धीरे से दबाएँ। आपके शिशु को प्रत्येक नए भोजन के स्वाद, बनावट और स्पर्श का आदी होने के लिए समय लगेगा। तो आपको यह सब ध्यान में रखते हुए परिवर्तन शुरू करने की आवश्यकता है।