शिशुओं में गैस की समस्या

शिशुओं में गैस की समस्या

Last Updated On

दिन में अक्सर गैस छोड़ना शिशुओं में एक सामान्य बात है। दिन भर दूध पीने के कारण, लगभग 15 से 20 बार गैस छोड़ना आश्चर्य की बात नहीं होनी चाहिए। लगभग हर बच्चे को पेट में गैस बनने के कारण कभी न कभी परेशानी होती ही है और हर बच्चे में यह अलगअलग होती है, कुछ आसानी से गैस छोड़ते हैं और कुछ बच्चों को इसके लिए अत्यधिक ज़ोर लगाना पड़ता है। गैस को रोकने और उसका इलाज करने का तरीका सीखना आपको और आपके बच्चे को बहुत सारे तनाव से बचा सकता है।

शिशुओं में गैस कैसे बनती है

शिशुओं में गैस स्तन के दूध या उसे खिलाए जानेवाले आहार में मौजूद प्रोटीन और वसा के पाचन से बनती है। गैसें पेट में बहती रहती है और थोड़ी मात्रा में दबाव बनाकर और पाचन तंत्र के साथसाथ बहते हुए बाहर निकलती है। कभीकभी, खिलाने या स्तनपान के दौरान बननेवाली या चूसने की क्रिया से अंदर जानेवाली अतिरिक्त गैस आंतों में फंस सकती है और दबाव पैदा कर सकती है जिससे शिशुओं को दर्द हो सकता है। निम्नलिखित कारक हैं जो शिशु के पेट में गैस बनने का कारण बनते हैं:

  • दूध पीते समय स्तन या दूध पिलाने की बोतल का ठीक से मुँह में नहीं बैठना अतिरिक्त हवा निगलने का कारण हो सकता है।
  • दूध पिलाने से पहले, शिशु का अत्यधिक रोना उनके हवा निगलने का कारण हो सकता है।यह भी एक गैस के निर्माण का कारण बन सकता है।
  • जन्म से ही एक नवजात शिशु की आंत विकसित होने लगती है और यह क्रिया बाद तक जारी रहती है। इस चरण में, शिशु यह सीख रहा होता है कि भोजन कैसे खाया जाए और मलत्याग कैसे किया जाए, जिस कारण भी अतिरिक्त गैस बनती है।
  • शिशुओं में गैस, आंतों में अविकसित जीवाणु के पनपने का एक परिणाम भी हो सकती है।
  • स्तन के दूध में माँ के द्वारा खाए गए भोजन के अंश होते हैं, स्तनपान करते समय कुछ खाद्य पदार्थ शिशुओं में गैस बनने का कारण बनते हैं, जैसे नट्स, कॉफ़ी, दूध से बने उत्पाद पनीर, मक्खन, घी) बीन्स और मसाले।
  • अत्यधिक स्तनपान कराने से बच्चे की आंत का भारीपन भी गैस के उत्पादन का कारण हो सकता है। यह भी माना जाता है कि स्तनपान के दौरान शुरुआत का दूध और आखिरी में आता दूध शिशु के पेट में गैस बनने को प्रभावित करता है। शुरु का दूध लैक्टोज़, जैसे शक्कर से भरपूर होता है और आखिरी का दूध वसा से भरपूर होता है। लैक्टोज़ की अधिकता शिशुओं में गैस और चिड़चिड़ापन का कारण हो सकती है।
  • हॉर्मोन संचालन, कब्ज़ और कार्बोहाइड्रेट का सेवन जैसे अनेकों कारक भी पेट में गैस बनने के कारण हो सकते हैं ।

शिशुओं में गैस की समस्या के संकेत और लक्षण

शिशुओं के पास अपनी आवश्यकताओं को बताने का केवल एक ही मौखिक तरीका होता है, “रोना”। यह भूख, दर्द, बेचैनी, थकान, अकेलापन या गैस इनमें से क्या है, यह जानने के लिए कुछ अवलोकन कौशल की ज़रूरत होती हैऔर प्रत्येक को समझने के लिए संकेत होते हैं। जब वे पेट की गैस के कारण दर्द से रोते हैं, तो रोना अक्सर तेज़, उन्मत्त और अधिक तीव्र होता है जो शारीरिक इशारों के साथ होता है, जैसे फुहार करना, मुट्ठियों को दबाना, दबाव डालना, घुटनों को छाती तक खींचना और घुरघुराना।

शिशुओं में गैस की समस्या के संकेत और लक्षण

नवजात शिशु में गैस के कारण होने वाली समस्या घरेलू उपचार

यदि आप सोच रहे हैं कि नवजात शिशुओं को गैस से राहत देने में मदद कैसे करें, तो निम्नलिखित प्रक्रियाएं आपकी मदद कर सकती हैं:

शिशुओं में गैस के कुछ घरेलू उपचारों में शामिल हैं:

1. उन्हें दूध पिलाते समय उचित स्थिति बनाए रखें

स्तनपान कराते समय, बच्चे के सिर और गर्दन को ऐसे कोण पर रखें ताकि वे पेट की तुलना में अधिक ऊपर हों। इससे यह सुनिश्चित होता है कि दूध पेट में नीचे तक जाता है और हवा ऊपर आ जाती है। यही बात बोतल से दूध पिलाने पर भी लागू होती है, बोतल को इस प्रकार झुकाएं ताकि हवा ऊपर की ओर उठे और निप्पल के पास जमा न होने पाए ।

2. खाने या दूध पीने के बाद शिशु को डकार लेने में मदद करें

खाने या दूध पीने के बाद शिशु को डकार लेने में मदद करें

यह शिशु द्वारा ग्रहण अतिरिक्त वायु को रोकने का सबसे अच्छा तरीका है। दूध पिलाते समय, हर 5 मिनट का एक ब्रेक लें और धीरे से बच्चे की पीठ पर थपकी दें ताकि उसे डकार लेने में मदद मिल सके। जिससे दूध को पेट में स्थिर होने और गैस को बुलबुलों के रूप में बाहर आने में मदद मिलती है।

3. रोना बंद करने के लिए ध्यान भटकाना

रोने से बच्चे हवा निगलते हैं और जितना अधिक वे रोते हैं, उतना ही अधिक हवा निगलते हैं। लक्ष्य यह होना चाहिए कि शिशु का ध्यान, वस्तुओं और ध्वनियों से भटकाकर जितना ज़ल्दी संभव हो सके उसका रोना रोक दिया जाए।

4. पेट की मालिश

पेट की मालिश

शिशुओं में गैस बनना कम करने के लिए पेट की मालिश एक बेहतरीन तरीका होता है। बच्चे को पीठ के बल लिटाएं और पेट पर धीरेधीरे, घड़ी की दिशा में सहलाएं और फिर हाथ को उसके पेट के नीचे की गोलाई तक ले जाएं । यह प्रक्रिया आंतों के बीच से फंसी हुई गैस को सरलता से निकलने में मदद करती है।

5. पैडियाट्रिक प्रोबायोटिक्स

दही जैसे प्रोबायोटिक्स, भरपूर मात्रा में सहायक बैक्टीरिया से परिपूर्ण होता है जो आंतों के लिए अच्छे होते हैं। नए शोध से पता चला है कि पैडियाट्रिक प्रोबायोटिक्स, जब कई हफ्तों की अवधि के लिए दिए जाते हैं तो गैस और पेट की समस्याओं से निपटने में आसानी होती है।

6. ग्राईप वाटर

शिशुओं की गैस समस्याओं और उदरशूल को शांत करने के लिए दशकों से ग्राइप वॉटर का उपयोग किया जाता रहा है। ग्राइप वाटर, सोडियम बाइकार्बोनेट, डिल का तेल और चीनी के साथ मिश्रित पानी का एक घोल होता है जो 5 मिनट से कम समय में गैस से सुरक्षित और प्रभावी राहत देता है।

7. सरसों के तेल की मालिश

शिशु को गुनगुने सरसों के तेल से मालिश करने और गुनगुने पानी से स्नान कराने से गैस की समस्या से छुटकारा मिल सकता है । मालिश की क्रिया, आंत से गैस को निकालने में मदद करती है और गर्म पानी उनींदापन लाता है, जिस कारण शिशु को शांति मिलती है।

8. हींग

हींग

यदि शिशु, गैस से पीड़ित है तो लगभग दो सरसों के दाने के आकार की हींग को गर्म पानी में मिलाकर उसे पिलाएं, इसकी थोड़ी सी मात्रा गैस से राहत दिलाने में कारगर है। चूंकि यह एक तेज़ मसाला भी है, इसलिए ऊपर दी गई मात्रा से ज़्यादा हींग का उपयोग न करें ।

9. सीमेथिकॉन

सीमेथिकॉन, यह शिशु के लिए एक प्रकार की दवा है जिसे गैस की समस्याओं को ख़त्म करने के लिए दिया जाता है। यह दवा पेट में गैस के छोटे बुलबुलों को मिलाकर एक बड़े बुलबुले का रूप देने में मदद करती है है जिसे आसानी से बाहर निकाला जा सकता है। यह दवा कृत्रिम स्वाद और रंगों के साथ आती है इसलिए इसका उपयोग करने से पहले बाल रोग विशेषज्ञ से सलाह लेना अनिवार्य है ।

गैस की समस्या को रोकने के लिए आप क्या कर सकते हैं

जैसे कि कहावत है, “रोकथाम इलाज से बेहतर है”। शिशु को दिए जाने वाले उन खाद्य पदार्थों पर नज़र रखें जिनके कारण पेट में गैस इकठ्ठा हो सकती है। यह आपको कुछ प्रकार के खाद्य पदार्थों को प्रतिबंधित करने या दिन में अलगअलग समय पर उन्हें देने में मदद कर सकती है। यह भी सलाह दी जाती है कि स्तनपान कराने वाली मांओं को कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचना चाहिए जो गैस उत्पादन का कारण बनते हैं, जैसे सूखी मछली और झींगे, मसालेदार मांस के व्यंजन, मेवे, दालें, दूध के उत्पाद और ब्रोकोली, फूलगोभी इत्यादि । कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ भी हैं जो गैस से राहत देने के लिए खाए जा सकते हैं जैसे अदरक, हींग, लहसुन, सौंफ के बीज, जीरा, पानी आदि।

सुनिश्चित करें कि शिशु को कुछ समय के लिए पेट के बल लिटाया जाए। शिशु को कुछ मिनटों के लिए पेट के बल लिटाने के बाद पेट पर डाला गया हल्का सा दबाव गैस को निकालने में मदद करता है और बच्चे की पीठ और गर्दन की मांसपेशियों को भी मज़बूत बनाता है। जब आप बच्चे को पकड़ें और उसके साथ खेलें तो उसकी पीठ को ज़रूर थपथपाएं, यह उसकी प्रणाली में गैस को एकत्रित करने और आसानी से बाहर निकालने में मदद करता है।

डॉक्टर से सलाह कब लेना चाहिए

यदि बच्चा लंबे समय तक रोता रहे और असामन्य व्यवहार के साथ उसे बुखार, उल्टी की समस्या हो या फिर उसे भोजन करने में समस्या हो तो किसी भी गंभीर समस्या का पता लगाने के लिए डॉक्टर से सलाह लेना अनिवार्य है।

निष्कर्ष: जब बच्चा यह बताने में सक्षम नहीं होता है कि वह गैस की परेशानी का सामना कर रहा है, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप उसके संकेतों पर ध्यान दें। गैस का बनना जबकि आम है, अगर इसका ध्यान न रखा जाए तो बच्चे के लिए गंभीर असुविधा और दर्द का कारण बन सकता है और उसे अत्यधिक परेशानी हो सकती है।