बच्चों में समय से पूर्व सफेद बाल: कारण व उपचार

बच्चों में समय से पूर्व सफेद बाल

Last Updated On

सफेद बाल हमारे उम्र का हिसाब दे ही देते हैं । है ना? पर, यदि आप अपने बच्चे के सिर पर सफेद बाल देखें, तो आप अवश्य चिंतित होंगी। एक या दो सफेद बाल तो आम है, लेकिन अगर उससे ज्यादा बाल सफेद है, तो आपको ध्यान देने की जरुरत है।

असमय सफेद बालों का बच्चे के स्वास्थ्य पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है, लेकिन यह शरीर में कुछ अन्य समस्याओं का संकेत हो सकता है। यह बच्चे पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव भी डाल सकता है, क्योंकि सफेद बालों वाला बच्चा जहाँ भी जाएगा, सबसे अलग दिखाई देगा। इसलिए, इस स्थिति का सामना करने का सबसे अच्छा तरीका इसके कारण की जड़ तक पहुँचना है और बालों को सफेद होने से रोकने की कोशिश करना है।

बच्चों में समय से पहले सफेद बाल होने के कारण

जब बच्चे के सिर पर सफेद बाल दिखाई देते हैं, तो यह बच्चे के शरीर में किसी समस्या का संकेत हो सकता है। बचपन में बाल सफेद होने के कई कारण होते हैं, जिनमें से अधिकांश का उपचार कर ठीक किया जा सकता है। सबसे सामान्य कारणों में से कुछ यहाँ दिए गए हैं।

१. आनुवांशिक (जेनेटिक)

बच्चों में समय से पहले बाल सफेद होने का सबसे आम कारण उनका जेनेटिक गठन है। सीधे शब्दों में कहें, तो अगर माता-पिता या दादा-दादी को समय से पहले बालों के सफेद होने की समस्या रही है, तो बच्चों को भी इसी तरह की समस्या होने का अधिक खतरा होता है। समय से पहले बालों के सफेद होने की समस्या को आनुवांशिक तौर पर देखा जा सकता है और यह बच्चों में समय से पहले बालों के सफेद होने का एक प्रमुख कारण है।

२. चिकित्सीय स्थितियाँ

बच्चों में बालों का समय से पहले सफेद होना कुछ गंभीर होने का संकेत हो सकता है। बालों का रंग बिगड़ना कई विकारों का लक्षण हो सकता है। इन विकारों में से कुछ न्यूरोफाइब्रोमैटोसिस, विटिलिगो, वॉर्डनबर्ग सिंड्रोम और ट्यूबरस स्केलरोसिस है। मेलेनिन त्वचा और बालों के रंग के लिए जिम्मेदार घटक है, और विटिलिगो की विशेषता त्वचा की मेलेनिन का उत्पादन करने की क्षमता में व्यवधान पहुँचाना है। इसी तरह, यदि थायरॉयड ग्रंथि ठीक से काम न करे, तो उसके परिणामस्वरूप अति सक्रियता या अल्प सक्रियता की स्थिति हो सकती है। यह स्थिति विभिन्न रोगों जैसे ‘ग्रेव की बीमारी’ या ‘हाशिमोटो की बीमारी’ से होती है और इसके परिणामस्वरूप बाल समय से पहले सफेद होने लगते हैं। हालांकि, इन मामलों में यह एकमात्र लक्षण नहीं है; बच्चे में बालों के रंग की हानि के अलावा ट्यूमर, कम सुनाई देना और दौरे पड़ने जैसे लक्षण भी हो सकते हैं।

३. विटामिन बी 12 की कमी

व्यापक शोध के बाद यह पाया गया कि शरीर में विटामिन बी 12 की कमी से अक्सर बच्चों में समय से पहले बाल सफेद हो जाते हैं। शाकाहारी भोजन में विटामिन बी 12 पर्याप्त मात्रा में नहीं पाया जाता, इसलिए शाकाहारी आहार लेने वाले बच्चों का इस स्थिति में आने का खतरा अधिक होता है। विटामिन की कमी का एक अन्य कारण सर्जरी है, जो पाचन तंत्र के सामान्य कामकाज में हस्तक्षेप करती है। पेट विटामिन की पर्याप्त मात्रा को अवशोषित करने में विफल रहता है, जिससे बाल समय से पहले सफेद हो जाते हैं। इन मामलों में, बालों को सफेद होने से रोकने के लिए बस भोजन के साथ सप्लीमेंट के रूप में विटामिन की गोलियाँ लेना पर्याप्त है।

४. तनाव

हालांकि यह सामान्य बात नहीं है, पर बच्चों के बाल तनाव के कारण भी समय से पहले सफेद हो सकते हैं। वैसे इसका मतलब दिमागी तौर पर तनाव नहीं है, यह जीनोटॉक्सिक तनाव हो सकता है, जो पर्यावरण में कुछ कारकों के कारण होता है और परिणामस्वरूप बच्चों में सफेद बालों का कारण हो सकता है। उदाहरण के लिए, पराबैंगनी किरणों के भी ज्यादा संपर्क में आने के वजह से बाल सफेद हो सकते हैं।

तनाव

५. सिंथेटिक साबुन और शैंपू

इसमें कोई संदेह नहीं है कि गत वर्षों में बाल संबंधी उत्पादों की गुणवत्ता में गिरावट आई है। वे तेल और जड़ी-बूटियाँ जो हमारे दादा-दादी इस्तेमाल करते थे, वे बेहतर गुणवत्ता के थें। जबकि, आज जो सिंथेटिक साबुन और शैंपू बच्चे इस्तेमाल करते हैं, वे बालों को रूखा बनाते हैं और बालों के सफेद होने का कारण भी बनते हैं। बचपन के शुरुआती चरणों में देखभाल की जानी चाहिए, क्योंकि वयस्कों के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शैंपू बच्चों के बालों को रूखा और उलझा हुआ बना सकते हैं। आपको आपके बच्चे के लिए बेबी शैम्पू का इस्तेमाल करना चाहिए, क्योंकि इसमें विटामिन और मिनरल्स होते हैं। आप अपने बच्चे के बाल धोने के लिए हर्बल शैंपू का विकल्प भी चुन सकती हैं।

६. ज्यादा धुंए के संपर्क में आना

यदि कोई बच्चा हमेशा धुएं के संपर्क में रहता है तो उसका सीधा परिणाम बालों का समय से पहले सफेद होना हो सकता है। निष्क्रिय धूम्रपान आपके बच्चे के शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव का कारण बनता है, और यह मेलेनिन के उत्पादन को कम करता है। इसकी रोकथाम के लिए बच्चों के आस-पास धूम्रपान करने से बचना चाहिए।

७ . अस्वास्थ्यकर भोजन

फास्ट फूड की लोकप्रियता के कारण, यह कोई आश्चर्य नहीं है कि आधुनिक दुनिया में समय से पहले बालों का सफेद होना आम होता जा रहा है। अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट और चीनी के सेवन से शरीर में मेलेनिन के उत्पादन की क्षमता में बाधा आ सकती है, जिसके परिणामस्वरूप यह स्थिति होती है। इसका मतलब है कि सोडा, चॉकलेट, कैंडी और अन्य शर्करा वाले खाद्य पदार्थों का अत्यधिक सेवन एक स्तर तक ही रखा जाना चाहिए।

८. खून की कमी

आयरन की कमी से एनीमिया हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप थकान होती है और बाल सफेद हो जाते हैं।

९. ल्युकेमिया

इससे बच्चे के शरीर में मेलेनिन की कमी हो जाती है, जिससे उसके बाल सफेद हो सकते हैं।

बच्चों में समयपूर्व होने वाले सफेद बालों के लिए उपचार

सफेद बालों के उपचार में मुख्य रूप से आहार में सुधार और बच्चे के भोजन में पोषक तत्वों की वृद्धि शामिल है। ज्यादातर मामलों में, स्थिति अनुपयुक्त पोषण के परिणामस्वरूप होती है। विटामिन या खनिज की कमी के कारण भी बाल सफेद होते हैं और इसे बच्चों को अतिरिक्त विटामिन देकर या पौष्टिक भोजन देकर नियंत्रित करने की आवश्यकता होती है। यदि बच्चे का बाल जेनेटिक कारणों से समय से पहले सफेद हो रहा है, तो आपको ध्यान देना चाहिए। आपको यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि कोई भी बच्चों के पास धूम्रपान न करें। यदि बालों का सफेद होना अन्य स्थितियों या सिंड्रोम का परिणाम है, तो उन स्थितियों का इलाज करें, और समय से पहले बालों का सफेद होना कम हो जाएगा।

समय से पहले बालों का सफेद होना रोका जा सकता है इन पोषक तत्वों से

कम उम्र में बालों का असामयिक सफेद होना रोकने के लिए आप अपने बच्चे के आहार में सुधार कर सकती हैं। इसलिए, जो भी आप बच्चे को खिलाएं, सुनिश्चित करें कि वह पोषक तत्वों से भरा हुआ हो। कुछ महत्वपूर्ण विटामिन और खनिज जो समय से पहले बाल सफेद होने की स्थिति को कम करने में मदद करते हैं, नीचे दिए गए हैं।

१. विटामिन ए

हरी सब्जियों और पीले फलों में पाया जाता है, यह सामान्य रूप से आपके बच्चे की सिर की त्वचा और बालों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह बालों को चमकदार और स्वस्थ रखता है। विटामिन ए आंखों की रोशनी में भी सुधार करता है।

२. विटामिन बी

विटामिन बी स्वस्थ बालों के लिए महत्वपूर्ण है। विटामिन बी तेल के स्राव को नियंत्रित रखता है, और इस तरह बालों को लंबे समय तक स्वस्थ और मुलायम बनाए रखता है। विटामिन बी दही, हरी पत्तेदार सब्जियों, टमाटर, फूलगोभी और केलों में पाया जाता है। इसलिए सुनिश्चित करें कि आप अपने बच्चे के आहार में इन खाद्य पदार्थों को शामिल करें।

विटामिन बी

३. खनिज पदार्थ (मिनरल्स)

आयरन, जिंक और कॉपर सबसे महत्वपूर्ण खनिज हैं, जो बच्चे के बालों की गुणवत्ता बनाए रखने और समय से पहले बाल सफेद होने को कम करने में मदद करते हैं। हरी सब्जियां, चिकन और लाल मांस में जिंक पाया जाता है, जबकि आयरन अंडे, सूखे खुबानी, गेहूं, अजमोद (पार्सले) और सूरजमुखी के बीज में पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। साबुत अनाज या समुद्री भोजन का सेवन करके शरीर में कॉपर के स्तर को बनाए रखा जा सकता है और ये सभी आपके बच्चे के बाल समय से पहले सफेद होने को कम करने या रोकने में मदद करते हैं।

४. प्रोटीन

प्रोटीन बालों को चमकदार बनाए रखने में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है, वहीं इसकी प्रकृति में भी सुधार करता है। साबुत अनाज, सोया, अन्न और मांस प्रोटीन के महत्वपूर्ण स्रोत हैं। तो, अपने बच्चे के आहार में इन प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों को जोड़ने में संकोच न करें।

सफेद बालों से छुटकारा पाने के घरेलू उपचार

बच्चों में बालों को सफेद होने से बचाया जा सकता है और घर पर उपलब्ध उपचारों का उपयोग करके कम किया जा सकता है। यदि आप सोच रही हैं कि बच्चों में असामयिक सफेद बालों को कैसे रोका जाए, तो आजमाने के लिए कुछ घरेलू चीजें हम यहाँ बता रहे हैं :

१. आंवला और नारियल का तेल

आंवले में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो बालों के सफेद होने को कम करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं। नारियल तेल सिर की त्वचा को नमी देता है, और बालों की मजबूती में सुधार करता है। आपको बस इतना करना है कि, ताजा आंवला या शुद्ध आंवला पाउडर को नारियल के तेल में मिलाकर एक साथ उबालना है, और फिर ठंडा होने पर सिर पर अच्छी तरह से मालिश करें।

२. आंवला जूस और बादाम का तेल

बादाम के तेल में विटामिन ‘ई’ होता है, जो बालों को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाला एक अन्य पोषक तत्व है। यह बालों के समय से पहले सफेद होने की प्रक्रिया को प्रभावित करता है। बादाम के तेल और आंवले के रस को बराबर मात्रा में मिलाएं, और इस मिश्रण से सिर की मालिश करें, सर्वोत्तम परिणाम मिलेगा।

आंवला जूस और बादाम का तेल

३. करी पत्ते और नारियल तेल

करी पत्ते का उपयोग पारंपरिक रूप से बालों के रंग को काला बनाए रखने के लिए किया जाता है। पत्तियों को नारियल के तेल में तब तक उबालें, जब तक वे काली न हो जाएं। फिर बालों को असामयिक सफेद होने से रोकने के लिए बालों पर लगाएं।

४. घी (गाय के दूध का)

घी ऐसे एंजाइमों से भरा होता है जो बालों की चमक को बनाए रखने में मदद करता और जड़ों को भी काफी मजबूत बनाता है। सप्ताह में दो बार बालों में घी लगाएं और उत्तम परिणामों के लिए इसे एक घंटे के लिए बालों में रहने दें।

५. नारियल तेल और नींबू का रस

नींबू के रस और नारियल के तेल के मिश्रण से बालों की नियमित रूप से मालिश करें। इससे बाल मजबूत होंगे, और समय से पहले सफेद होना बंद हो जाएगा।

नारियल तेल और नींबू का रस

६. बादाम का तेल और तिल

एक ब्लेंडर में बादाम का तेल और तिल मिलाएं। इस मिश्रण को सिर पर लगाएं और 20 मिनट तक मालिश करें। इसके बाद 20 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ें और फिर हर्बल शैंपू और गुनगुने पानी से धो लें।

७. नींबू का रस और आंवला पाउडर

2 चम्मच पानी और नींबू के रस में 4 चम्मच आंवला पाउडर मिलाएं और इसे एक घंटे के लिए रख दें। लेप सिर पर लगाएं और पानी से धोने से पहले 25 मिनट तक रुकें। इसके तुरंत बाद बालों पर शैम्पू या साबुन का इस्तेमाल न करें।

नींबू का रस और आंवला पाउडर

८. तिल का तेल और संतरे के बीजों का तेल

एक गहरे रंग की कांच की बोतल में 4 चम्मच तिल का तेल और आधा चम्मच संतरे के बीज का तेल मिलाएं। इसे अच्छी तरह से हिलाएं और सिर की त्वचा और जड़ों पर तेल लगाएं। 30 मिनट बाद शैम्पू और कंडीशनर लगा लें।

९. मेंहदी और मेथी के बीजों का पाउडर

2 चम्मच मेंहदी, 1 चम्मच मेथी के बीजों का पाउडर, दही, कॉफी पाउडर, 2 चम्मच तुलसी के पत्तों का रस और 2 चम्मच पुदीने की पत्तियों का रस एक कटोरे में लें और एक महीन पेस्ट बनाएं। इस पेस्ट को बालों पर लगाएं और 2 घंटे तक लगा रहने दें। बाद में अपने बालों को एलोवेरा शैम्पू से धो लें।

१०. दही और यीस्ट

बालों को असमय सफेद होने को रोकने के लिए, एक कटोरी दही में एक चम्मच खमीर (यीस्ट) मिलाकर खाने की भी सलाह दी जाती है। हालांकि, आपको 2 साल से कम उम्र के बच्चों को खमीर नहीं देना चाहिए। अपने बच्चे के असमय बाल सफेद होने के इलाज के लिए इस घरेलू उपचार का चयन करने से पहले बच्चों के डॉक्टर से भी सलाह लें।

ये घरेलू उपचार बेहद प्रभावी होते हैं, लेकिन कोई खतरा मोल न लेते हुए डॉक्टर की मंजूरी लेने के बाद ही इन उपायों को आजमाएं।

कुछ सावधानियां और सुझाव

यदि आपको अपने बच्चे के सफेद बाल दिखाई देते हैं, तो इन सुझावों को अपनाएं :

  • बच्चे के बाल गर्म पानी से न धोएं। गर्म पानी मेलेनिन के उत्पादन में सहायता करने वाले मेलानोसाइट्स को नष्ट कर सकता है।
  • समय से पहले सफेद बालों का एक अन्य कारण परा बैंगनी किरणों के संपर्क में अधिक होना है, इसलिए अत्यधिक धूप न सेंके।
  • यदि आप बच्चे के सिर में सफेद बाल देखती हैं, तो उसे नोचकर निकालें नहीं ।
  • यह सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे में आयोडीन की मात्रा पर्याप्त है। न तो कम और न बहुत अधिक, क्योंकि यह थायरॉयड ग्रंथि को प्रभावित कर सकता है, और समय से पहले बालों को सफेद करने में तेजी ला सकता है।

समय से पहले सफेद बाल कई बच्चों को प्रभावित करता है। हालांकि, घरेलू उपचार का उपयोग करके और बच्चे के आहार को नियंत्रित करके इसे आसानी से कम किया जा सकता है। इसलिए डॉक्टर से सलाह लेने के बाद इन घरेलू उपायों को आजमाएं।