गर्भावस्था के दौरान उल्टी के लिए 15 घरेलू उपचार

गर्भावस्था के दौरान उल्टी के लिए 15 घरेलू उपचार

Last Updated On

गर्भावस्था एक वरदान है जो एक स्त्री को पूरा करता है और एक ऐसा एहसास है जो लफ्जों में बयान नहीं किया जा सकता। यह एक महिला के जीवन में काफी उत्साह लेकर आता है। हालांकि, इन सब के साथ एक माँ को 9 महीनों के दौरान कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता  है। गर्भवतियों को होने वाली कई परेशानियों में से एक है – उल्टी। ये लक्षण आमतौर पर गर्भावस्था के पहले महीने से दिखाई देते हैं और लगभग तीन महीने तक रह सकते हैं। ये इतनी आम समस्या है कि प्रत्येक दो गर्भवती महिलाओं में से एक को इसकी शिकायत जरूर होती है।

गर्भावस्था के दौरान उल्टी रोकने के लिए 15 प्रभावी घरेलू उपचार

क्या आप मातृत्व की नई और रोमांचक यात्रा शुरू करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं? लेकिन गर्भावस्था के इन 9 यादगार महीनों से जुड़ी सभी कठिनाइयों के प्रति भी सजग रहना चाहिए ।  हार्मोन, बदलते हुए मिजाज और मॉर्निंग सिकनेस या मतली आपकी सामान्य दिनचर्या  प्रभावित क्र सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तनों के कारण आपका पेट भी अजीब तरह से व्यवहार करना शुरू कर देता है, और वे सभी खाद्य पदार्थ जो कभी आपके पसंदीदा थे, अब आपको मतली की भावना देंगे। और हर दिन बा-बार उल्टी आना गर्भावस्था के शुरूआती कुछ महीनों के लिए जीवन का हिस्सा बन जाता है।

गर्भावस्था के दौरान मॉर्निंग सिकनेस के कुछ घरेलू उपचार नीचे दिए गए हैं:

1. पानी

पानी अनमोल है। यदि आपको अक्सर उल्टी होती है तो अपने शरीर में आवश्यक लवण और खनिजों को बनाए रखने के लिए बहुत सारा पानी पीने की कोशिश करें।

क्या करें:

खुद को पानी की कमी से दूर रखने के लिए और पाचन को बेहतर बनाने के लिए आपको दिन में कम से कम 8 गिलास पानी पीना चाहिए। मतली और उल्टी की भावना को रोकने के लिए आप कुछ बर्फ के टुकड़े चूस सकते हैं।

2. अदरक

अदरक, गर्भावस्था के दौरान उल्टी के सबसे प्रभावी प्राकृतिक उपचारों में से एक हैं। अदरक की गंध या स्वाद आपको मतली और उल्टी की भावना को कम करने में मदद करती है। अदरक पाचन में सुधार करता है और पेट की अम्लता को कम करता है। उल्टी को रोकने के लिए इसे विभिन्न तरीकों से खाया जा सकता है।

क्या करें:

  • सुबह अदरक वाली चाय पिएं। आप इसे एक कप उबले पानी में एक चम्मच पिसा हुआ अदरक और शहद मिला कर बना सकते हैं।
  • अदरक की कैंडी आपको बेहतर महसूस कराने का एक और तरीका है।
  • आप दिन में किसी भी समय अदरक की बनी कुकीज़ या अदरक का एक कच्चा टुकड़ा खा सकते हैं।

3. पुदीना

यह एक बहुत प्रभावी जड़ी-बूटी है जिसका पेट पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। सर्वोत्तम परिणामों के लिए किसी भी रूप में पुदीने का सेवन किया जा सकता हैं।

क्या करें:

  • आप सूखे पुदीने को उबलते पानी में शहद के साथ मिलाकर, पुदीने की चाय बना सकते हैं। मतली से राहत के लिए इस काढ़े को सुबह-सुबह पिएं।
  • एक रूमाल पर पेपरमिंट के गंध या अर्क के तेल की कुछ बूंदें छिड़कें और जब भी आप उल्टी महसूस करें, इसे सूंघते रहें।
  • पेपरमिंट की पत्तियों को चबाएं।
  • पेपरमिंट कैंडीज भी समान रूप से प्रभावी होती हैं।

4. संतरे

संतरे में साइट्रिक एसिड होता है जिसकी सुगंध को अंदर लेते ही मतली से राहत मिलती है। इसके अलावा, संतरे को गर्भावस्था के दौरान सबसे ज्यादा किया जाने वाला फल माना जाता है।

क्या करें:

आप बस उल्टी की सनसनी को कम करने के लिए संतरे के रस का एक घूंट या संतरे की ताजगी से भरी साँस ले सकते हैं।

5. दालचीनी

भारतीय घरों में व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला यह मसाला, गर्भावस्था के दौरान सुबह सवेरे के अवसाद को कम करने के लिए अत्यधिक प्रभावी माना जाता हैं।

क्या करें:

दालचीनी की चाय के लिऐ, एक कप उबलते गर्म पानी में 1 इंच दालचीनी की डंडी डालें और 10 मिनट के लिए उबाल लें। इसे ठंडा होने दें और इसमें एक चम्मच शहद मिलाएं। जब भी आपको उल्टी जैसा महसूस हो, दालचीनी की चाय पिएं । यह पाचन में भी सुधार करता है।

6. नींबू

अपने खट्टे स्वाद के कारण, नींबू गर्भवती महिलाओं में मतली से तुरंत राहत प्रदान करता है। नींबू खनिजों में भी समृद्ध है जो आपके संपूर्ण स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करता है।

क्या करें:

एक गिलास गर्म पानी में आधा नींबू निचोड़ें और एक चम्मच शहद मिलाएं और इस रस को रोजाना सुबह पिएं। वैकल्पिक रूप से, आप फौरन  राहत के लिए एक रूमाल पर छिड़का हुआ नींबू की गंध का तेल भी डाल सकते हैं।

7. एप्पल साइडर विनेगर

एप्पल साइडर विनेगर में रोगाणुरोधी गुण होते हैं और यह आवश्यक अम्लों से समृद्ध हैं। यह पेट की अम्लता को बेअसर करता है और आपके शरीर के पी.एच. को बनाए रखता है, जिससे मतली और उल्टी की भावना बंद हो जाती है। एप्पल साइडर विनेगर गर्भवती महिलाओं में तीव्र उल्टी की भावना को ठीक करने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है।

क्या करें:

आप सुबह एक चम्मच एप्पल साइडर विनेगर और शहद को गर्म पानी में मिलाकर इसका सेवन कर सकते हैं। आप सिरके की कम मात्रा का सेवन दिनभर भी कर सकते हैं।

8. लौंग

अपने निहित गुणों के कारण लौंग, गर्भवती महिलाओं में दस्त, अपचन और मतली से राहत देती है।

क्या करें:

जब भी आपको उल्टी जैसा महसूस हो, बस एक लौंग की कली को चबाएं। वैकल्पिक रूप से, आप लौंग वाली चाय और पेय बनाने के लिए उबलते पानी या चाय में 2-3 लौंग डाल सकते हैं ताकि सुबह सवेरे के अवसाद से फौरन राहत मिल सके।

9. दही

दही का उल्टी और मतली पर जादुई प्रभाव पड़ता है। दही प्रोबायोटिक्स से समृद्ध है, जैसे जो अच्छे बैक्टीरिया होते हैं जो पाचन में सुधार करते हैं। इसलिए, ये उल्टी की भावना को कम करने में मदद करते हैं।

क्या करें:

आप संतृप्ता के लिए दिन में 1-2 बार दही का सेवन कर सकते हैं। या स्वाद बढ़ाने के लिए ताजी स्ट्रॉबेरी या अपनी पसंद का कोई फल मिलाएँ।

10. कीवी

कीवी, जो महत्वपूर्ण खनिजों और विटामिन का संग्रह माना जाता है, फोलेट, पोटेशियम, विटामिन सी, के और ई का एक प्राकृतिक रूप से समृद्ध स्रोत है। इसमें पानी की मात्रा भी अधिक होती है जो दिन में कई बार उल्टी होने पर भी आपको पानी की कमी से दूर रखेगी।

क्या करें:

आप इसे अपने फलों के सलाद के साथ सेवन कर सकते हैं या इसे केले और एक कप पानी के साथ मिला सकते हैं और एक ताजा कीवी पेय बनाने के लिए थोड़ा शहद डाल सकते हैं।

11. बादाम

बादाम में उच्च मात्रा में प्रोटीन होता है और यह एक आवश्यक पोषक तत्वों से समृद्ध स्रोत है। यह पाचन में मदद करता है और गर्भावस्था के दौरान सुबह के अवसाद से राहत प्रदान कराने वाला भी माना जाता है।

क्या करें:

आप सुबह के अवसाद से बचने के लिए नाश्ते के रूप में या पूरे दिन में 2-3 बादाम खा सकते हैं या रात को सोने से पहले 10-12 भिगोए हुए बादाम का सेवन कर सकते हैं।

12. गंध या अर्क वाले तेलों के साथ अरोमाथेरेपी

यह मतली की भावना को काफी हद तक राहत देने में मदद करेगा।

क्या करें:

आप रूमाल पर पेपरमिंट के गंध के तेल के साथ लैवेंडर के गंध के तेल की कुछ बूंदों को छिड़क सकते हैं औ रअच्छे प्रभाव के लिए उनकी वाष्पों को सूंघ सकते हैं। लैवेंडर के गंध का तेल, इंद्रियों को शांत और पीड़ा से आराम दिलवाने के लिए जाना जाता है। आप लेमनग्रास या संतरे के गंध के तेल की कुछ बूंदों को अपने रूमाल पर छिड़क सकते हैं।

13. सौंफ

सौंफ की सुगंध काफी सुखदायक और ताजा होती है और ये बीज खुद सुबह के अवसाद को दूर रखने के लिए बहुत अच्छे हैं।

क्या करें:

मतली से तुरंत राहत के लिए आप सौंफ को चबा सकते हैं। आप एक कप गर्म उबलते पानी में सौफ को मिलाकर, उसे 10 मिनट उबाल कर सौंफ की चाय बना सकते हैं। मिश्रण को छान लें और एक चम्मच शहद मिलाएं। सुबह के अवसाद को रोकने के लिए इस चाय को सुबह पिएं।

14. जीरा

जीरा उल्टी और मतली के लिए एक और प्रभावी उपाय है।

क्या करें:

उबलते पानी में कुछ जीरा डालें और कुछ मिनट के लिए उबाल लें। गर्भावस्था में मतली और उल्टी को खत्म करने के लिए दिन में 2-3 बार इसे छानकर पिएं ।

15. एक्यूप्रेशर

गर्भावस्था की मतली और उल्टी को रोकने के लिए एक्यूप्रेशर एक प्रभावी और प्राकृतिक तरीका है।

क्या करें:

आप दोनों कलाईयों पर एक्यूप्रेशर रिस्टबैंड लगा सकते हैं। जब भी आपको मिचली का आभास हो तो बस कलाई पर बटन को एक सेकंड के अंतराल पर 20 बार दबाएं। मतली और उल्टी से बेहतर महसूस करने के लिए दोनों कलाईयों पर इस प्रक्रिया का पालन करें।

वैकल्पिक रूप से, आप दबाव बिंदुओं की मसाज भी कर सकते हैं।

  • कलाई पर तीन उंगलियों को रखें और अपने अंगूठे को कलाई पर तर्जनी के नीचे रखें।
  • कुछ मिनट के लिए घुमावदार गति में इस बिंदु पर दृढ़ता से मालिश करें।
  • सुबह के अवसाद और मतली से राहत के लिए दूसरी कलाई पर यही प्रक्रिया दोहराएं ।

गर्भावस्था के मतली और उल्टी के लिए ये त्वरित और आसान घरेलू उपचार है जो मतली से काफी हद तक राहत दे सकते हैं। लेकिन अगर आपकी उल्टी बेहद गंभीर है, और आप जो भी खाते या पीते हैं, उसकी उल्टी हो जाती है, तो यह एक खाद्य एलर्जी या संक्रमण के कारण हो सकता है। तो, उचित दवा के लिए डॉक्टर से परामर्श करना बेहतर है।

मॉर्निंग सिकनेस या मतली का अनुभव ज्यादातर गर्भवती महिलाओं को पहली तिमाही के दौरान ही होता है। हालांकि, कुछ मामलों में, इसे पूरी गर्भावस्था के दौरान अनुभव किया जाता है। उपर्युक्त प्राकृतिक उपचार निश्चित रूप से आपकी गर्भावस्था के दौरान आपको बेहतर और मजबूत महसूस करायेंगे।