बड़े बच्चे (5-8 वर्ष)

बेहद संवेदनशील बच्चे को संभालने के टिप्स

क्या आपने कभी सोचा है कि आपका बच्चा छोटी-छोटी बातों पर अपनी उम्र के अन्य बच्चों की तुलना में अधिक क्यों रोता है? बता दें कि, आपका बच्चा एक हाइली सेंसिटिव यानी बेहद संवेदनशील बच्चा है और आप यह महसूस कर चुकी होंगी कि एक संवेदनशील बच्चे को संभालना कितना चुनौतीपूर्ण होता है। इसके लिए बहुत धैर्य और समझ की आवश्यकता होती है। यदि आप अभी भी यह नहीं समझ पाई हैं कि अपने संवेदनशील बच्चे को कैसे मैनेज किया जाए, तो यह आर्टिकल आपके लिए बहुत मददगार होगा।

बेहद संवेदनशील (हाइली सेंसिटिव) बच्चा क्या है?

एक अति संवेदनशील बच्चा एक संवेदनशील नर्वस सिस्टम के साथ पैदा होता है जो ऐसी छोटी से छोटी बात पर भी जल्दी प्रतिक्रिया करता है जो शायद ही दूसरों के लिए कोई महत्व रखती हो। ऐसा बच्चा हर चीज पर प्रतिक्रिया देने में तेज होता है और हर चीज को बहुत गहराई से सोचता है। वह दूसरों को भावनात्मक संकट में देखकर आसानी से परेशान भी हो जाता है। देखा गया है कि अति संवेदनशील बच्चे या तो बहुत शांत, इंट्रोवर्ट और पालने में काफी आसान होते हैं या फिर स्वभाव से बेहद एक्टिव, जिद्दी और बहुत मांग करने वाले होते हैं। आमतौर पर यह देखा गया है कि सभी अति संवेदनशील बच्चे अपने भावनात्मक और शारीरिक वातावरण के प्रति हाइपर सेंसिटिव होते हैं।

अत्यधिक संवेदनशील बच्चों के लक्षण

कई पेरेंट्स अपने बच्चों को आसानी से व्याकुल या तंग होते देखकर अक्सर यह सोचते हैं कि “क्या मेरा बच्चा अत्यधिक संवेदनशील है?” आमतौर पर यह देखा गया है कि अति संवेदनशील बच्चे के लक्षण बहुत कम उम्र से ही दिखाई देने लगते हैं। अति संवेदनशील बच्चों के 12 लक्षण नीचे बताए गए हैं।

1. अधिक सहानुभूति रखते हैं

जो बच्चे अत्यधिक संवेदनशील होते हैं वे दूसरों के प्रति बहुत सहानुभूति रखते हैं और हमेशा दूसरों की भावनात्मक जरूरतों को अपने से पहले रखते हैं। जिसका नतीजा यह होता है कि, वे दूसरे के भावनात्मक दर्द को खुद पर लेते हैं जो उनके शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक विकास को प्रभावित करता है।

2. अति उत्तेजित रहते हैं

वे आसानी से शोर, गंध, स्पर्श, दृश्य, हलचल और स्वाद के लिए स्टिम्युलेट होते हैं। इतना कि यह उनके जीवन को प्रभावित करता है। ऐसे अत्यधिक संवेदनशील बच्चों के लिए, एक निश्चित शोर या दृश्य उन्हें व्यथित या अभिभूत कर सकता है।

3. हमेशा दूसरों को खुश करने की कोशिश करते हैं

चूंकि ये बच्चे दूसरों को चोट नहीं पहुंचाना चाहते हैं, तो वह हमेशा लोगों को खुश करने में उनकी मदद करने के लिए अपने रास्ते से भटक जाते हैं। यह कई बार उनके लिए हानिकारक साबित होता है।

4. अकेले रहते हैं

अत्यधिक संवेदनशील बच्चे एक्सट्रोवर्ट, बातूनी, लोगों से प्यार करने वाले लग सकते हैं, लेकिन वे आसानी से अतिउत्तेजित हो जाते हैं और इसलिए उन्हें थोड़े “मी-टाइम” की जरूरत होती है। बाहरी दुनिया से खुद को अलग करने के लिए उन्हें अकेले रहने के लिए कुछ समय चाहिए होता है।

5. दिमाग के बजाय दिल की सुनते हैं

ये बच्चे स्वभाव से इतने भावुक होते हैं कि वह हमेशा अपने दिमाग से काम लेने के बजाय अपने दिल की सुनते हैं। इसलिए उनकी पहली वृत्ति उनके दिल को फॉलो करना होता है।

6. सभी नकारात्मक चीजों को नापसंद करते हैं

ऐसे बच्चे किसी भी की हिंसा या हॉरर फिल्म जैसी चीजें बिलकुल नापसंद करते हैं। यह स्वाभाविक रूप से झगड़े और वाद-विवाद से दूर रहते हैं।

7. अक्सर शिकायत करते हैं

जो बच्चे अत्यधिक संवेदनशील होते हैं वे अक्सर शिकायत करते हैं और थोड़ी सी भी समस्याओं जैसे खुजली वाले कपड़ों, मोजे में सीम या यहां तक ​​​​कि उनकी त्वचा के खिलाफ ब्रश करने वाले लेबल पर भी कराहते हैं।

8. बदलाव के साथ सहज नहीं होते

ये बच्चे परिवर्तन से घृणा करते हैं। उनके कमरे, घर या आसपास में जरा सा भी बदलाव उन्हें असहज महसूस कराता है।

9. किसी भी शोर को बर्दाश्त नहीं करते हैं

आपने अक्सर देखा होगा कि तेज आवाज होने पर ये बच्चे चौंक जाते हैं। अत्यधिक संवेदनशील बच्चों के लिए शोरगुल वाला वातावरण बिलकुल भी सही नहीं होता है।

10. गहराई से सोचते हैं

ये बच्चे अक्सर गहरे, उत्तेजक सवाल पूछते हैं जो बड़ों को चौका देते हैं। ऐसे बच्चे बहुत सोचते हैं और अपने आस-पास बहुत कुछ देखते हैं। इससे वे कई सवाल पूछते हैं, जिससे अक्सर बड़े लोग परेशान हो जाते हैं।

11. जानवरों से प्यार करते हैं

जानवरों के प्रति उनका विशेष लगाव होता है। घर पर किसी पालतू जानवर की मौत एक अत्यधिक संवेदनशील बच्चे को कई दिनों तक उदास कर देती है। जानवरों के प्रति इनका प्यार इतना गहरा होता है कि उनके प्रति किसी की भी क्रूरता देखकर उन्हें गुस्सा आता है।

12. इनका स्वभाव शर्मीला होता है

अत्यधिक संवेदनशील बच्चे पूरी तरह से अजनबी लोगों के सामने बहुत शर्मीले होते हैं। अनजान लोगों के आसपास होने पर वे कमजोर प्रदर्शन करने लगते हैं। हालांकि, किसी को जानने के बाद, वे उनके साथ मिलने-घुलने लगते हैं और आसानी से खुल जाते हैं, लेकिन इसमें काफी समय लगता है।

यदि आप अपने बच्चे में ऊपर बताए गए लक्षणों में से कोई भी लक्षण देखती हैं, तो आपको उसके साथ थोड़ा अलग व्यवहार करने की जरूरत पड़ेगी। हाइपरसेंसिटिव बच्चे से निपटने के तरीकों के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ें।

अत्यधिक संवेदनशील बच्चे के साथ कैसे व्यवहार करें?

घर में अत्यधिक संवेदनशील बच्चे का होना कभी-कभी मुश्किल या निराशाजनक भी हो जाता है। हाइपरसेंसेटिव बच्चों की परवरिश करना माता-पिता के लिए एक चुनौती होती है। हालांकि, यह जरूरी है कि माता-पिता उन्हें समझें और उन्हें वैसे ही स्वीकार करें जैसे वे हैं। वे बहुत बुद्धिमान होते हैं जिनमें काफी अच्छा सेंस ऑफ ह्यूमर होता है। वे बहुत सहज और जबरदस्त निरीक्षक होते हैं। उन्हें दूसरों के प्रति सहानुभूति गिफ्ट में मिली होती है जो उन्हें बाकी सबसे अलग करती है।

नीचे कुछ पेरेंटिंग टिप्स दिए गए हैं जो आपको अपने अत्यधिक संवेदनशील बच्चे से निपटने में मदद करेंगे।

1. उन्हें अकेले समय बिताने दें

एक अत्यधिक संवेदनशील बच्चे के माता-पिता के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उसे समझें और उसे वैसे ही स्वीकार करें जैसा वह है। एक बेहद संवेदनशील बच्चे को खुद को रिचार्ज करने के लिए थोड़ी व्यक्तिगत जगह और समय की आवश्यकता होती है। उसके लिए यह उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि सांस लेना।

2. सहानुभूति दिखाएं

कई माता-पिता एक सामान्य सवाल पूछते हैं कि बहुत संवेदनशील बच्चे की मदद कैसे करें? खैर, आपको बस इतना करना है कि उसे समझें और उसके साथ सहानुभूति रखें। यह समझना महत्वपूर्ण है कि घर पर एक बेहद सेंसिटिव बच्चा होने का अर्थ है अधिक चौंकना, भावनात्मक रूप से अधिक भड़कना, अधिक दर्द और अधिक रोना। ऐसे बच्चों के माता-पिता के लिए कभी-कभी निराश होना और उनका धैर्य खोना आम है, लेकिन आपको इसे नियंत्रण में रखने की जरूरत है।

3. स्वीकृति

उनकी हरकतों के लिए लोगों के सामने कभी शर्मिंदा न हों। वह ऐसे ही पैदा हुए हैं और आपका अपने आस-पास के लोगों से अक्सर माफी मांगते हुए देखना उसे उसकी भावनाओं, सहानुभूति, संवेदनशीलता या जिस तरह से वह महसूस करता है या व्यवहार करते है, उसके लिए सही नहीं है। यह उसके आत्मसम्मान को कम कर सकता है।

4. धीरे-धीरे डर पर काबू पाने के लिए कहें

अपने हाइपर सेंसिटिव बच्चे को कुछ ऐसा करने के लिए प्रेरित करें जिससे वह घृणा करता है या डरता है, इससे उसे उस बात या स्थिति के डर को दूर करने में मदद मिल सकती है। हालांकि, यह धीरे-धीरे किया जाना चाहिए न कि जल्दबाजी में।

उदाहरण के तौर पर, अगर वह कार्डिगन पहनने से घृणा करता है क्योंकि उसे इसमें खुजली होती है, लेकिन उसे इसे कुछ समय के लिए पहनने के लिए कहना और उसकी प्रशंसा करना उसे फिर से लंबे समय तक पहनने के लिए प्रेरित करता है। इसे इतनी बारीकी से किया जाना चाहिए कि यह उसे सजा की तरह महसूस न हो।

5. पालतू जानवर पालें

अति संवेदनशील बच्चे जानवरों से बेहद प्यार करते हैं। इसलिए, उनकी आत्मीयता का उपयोग करें और उनके लिए एक पालतू जानवर घर ले आएं। घर में पालतू जानवर होने से वे शांत हो जाएंगे और उनके पास खेलने के लिए एक साथी भी होगा। हालांकि, इस बात का ध्यान रखें कि आपके बच्चे को पालतू जानवरों से एलर्जी न हो।

6. अति संवेदनशील बच्चे पर अनुशासन के गंभीर तरीकों का प्रयोग न करें

सजा के सामान्य गंभीर तरीकों जैसे पिटाई, चिल्लाना आदि का उपयोग करना केवल एक अति संवेदनशील बच्चे के लिए मामले को बदतर बना देगा। वह चिल्लाने, रोने और गुस्से में नखरे करके दूसरी तरह से जवाब दे सकते हैं। इसलिए अनुशासन अत्यधिक संवेदनशील बच्चों को अलग तरह से किया जाना चाहिए। 

उदाहरण के लिए, आप आइसक्रीम खाने की जिद पर आप बच्चे से पूछ सकती हैं कि आइसक्रीम खाने का क्या प्रभाव पड़ेगा, जबकि अभी-अभी उसकी सर्दीखांसी ठीक हुई है, इसके बजाय कि अगर वह इसे खाएगा तो उसे मार पड़ेगी।

7. परेशान होने पर बच्चे से बात करें

जब आप अपने बच्चे को रोते हुए देखें, तो उससे पूछें कि उसे किस बात ने परेशान किया है। उसे जवाब देने में मदद करने के लिए सवाल पूछकर थोड़ा मनाएं। जब वह आपको कारण बताता है, तो आप उससे पूछ सकती हैं कि आप उसे फिर से अच्छा महसूस कराने के लिए क्या कर सकती हैं। इसके लिए भी आपको उसकी मदद करने की आवश्यकता होती है और आप उसे समाधान देकर ऐसा कर सकती हैं। हालांकि, कुछ बच्चों को यह बताने से पहले रोने में कुछ समय लगता है कि उन्हें क्या परेशान कर रहा है।

8. धमकियों के खिलाफ खड़े होने में मदद करें

अत्यधिक संवेदनशील बच्चे अक्सर सामान्य परिस्थितियों में भी रो देते हैं या अलग तरह से कार्य करते हैं। इसलिए, उन्हें हमेशा स्कूल में अन्य बच्चों द्वारा धमकाए जाने का खतरा होता है। ऐसे में सबसे पहले अपने बच्चे को डरना नहीं सिखाएं। यदि ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है, तो उसे बताएं कि वह बदमाशों के सामने बहादुर और आत्मविश्वास से भरा रहे और टीचर को इसके बारे में बताए। साथ ही उसे अकेले चलने के बजाय भीड़ में चलना सिखाएं। एक अभिभावक के रूप में, आप भी जा सकती हैं और उसकी क्लास टीचर और स्कूल से जुड़े अधिकारियों के साथ स्थिति के बारे में बात कर सकती हैं।

9. उसे बदलने की कोशिश न करें

अत्यधिक संवेदनशील बच्चे इस बात के लिए कुछ नहीं कर सकते, क्योंकि जैसा वे महसूस करते हैं वैसा ही करते हैं। वे ऐसे जन्मे होते हैं। इस प्रकार, पेरेंट्स वे जैसे हैं, वैसे स्वीकार करें और उन्हें बदलने की कोशिश न करें। ऐसे बच्चे को बदलने की कोशिश करना उसके पूरे विकास के लिए हानिकारक ही साबित होगा।

10. अपने बेहद संवेदनशील बच्चे को स्वीकार करें और उसकी तारीफ करें

एक अत्यधिक संवेदनशील बच्चा कई अच्छे गुणों से संपन्न होता है जिन पर आपको गर्व करना चाहिए। आप महसूस करेंगी कि वह अपनी उम्र के कई बच्चों की तुलना में लोगों और जानवरों के प्रति अधिक देखभाल करने वाला, दयालु और सहानुभूति रखने वाला है। वह बहुत सहज है और एक व्यक्ति को अच्छी तरह से पढ़ सकता है। अति संवेदनशील बच्चे भी बहुत क्रिएटिव होते हैं और महान लेखक, कहानीकार, अभिनेता और कलाकार बनते हैं। इसलिए, अपने उसे, जैसा है वैसे स्वीकार करें और उसकी सराहना करें कि वह एक अद्भुत व्यक्ति है।

11. अति संवेदनशील बच्चे को रिलैक्स करने में मदद करें

कुछ हल्के व्यायाम आपके बेहद सेंसिटिव बच्चे को आराम करने और शांत करने में मदद करते हैं। आप उसके रूटीन में आधे घंटे के प्राणायाम और योगासन शामिल कर सकती हैं। उसे प्रोत्साहित करने के लिए आप भी उसका साथ दे सकती हैं। उसे किसी आर्ट क्लास या उसके इंट्रेस्ट की किसी चीज में भाग लेने को कहें, उसे शाम वॉक पर ले जाना भी उसे शांत होने और रिलैक्स करने में मदद करेगा।

12. स्पर्श

उसकी तारीफ करने के लिए उसे थपथपाना या उसे यह बताने के लिए गले लगाना कि आप उसके लिए हैं, उसे प्यार और सुरक्षित महसूस कराने के लिए बहुत कारगर होता है।

ऊपर बताए गए किसी भी सुझाव का पालन करने से पहले, यह जानना महत्वपूर्ण है कि आपके बच्चे के लिए सबसे अच्छा क्या काम करता है। जो चीजें एक अति संवेदनशील बच्चे के लिए अच्छी तरह से काम करती हैं, हो सकता है कि वह दूसरे अति संवेदनशील बच्चे पर समान प्रभाव न डालें। इसलिए, अपने बच्चे को एक स्वस्थ, संवेदनशील व्यक्ति बनने में मदद करने के लिए पहले उसे अच्छी तरह से समझना बेहद जरूरी है।

यह भी पढ़ें:

बच्चों को स्वावलंबी बनाने के लिए टिप्स
गुड मैनर्स जो बच्चों को जरूर सिखाना चाहिए
बेहद संवेदनशील और भावुक बच्चे को कैसे संभालें

समर नक़वी

Recent Posts

क्या एक्सरसाइज करने से फर्टिलिटी बढ़ती है

जब भी कोई कपल प्रेगनेंसी की प्लानिंग करके अपना परिवार पूरा करना चाहता है, तो…

3 days ago

रक्षाबंधन पर भाई-बहन के लिए स्पेशल कोट्स और मैसेजस

हमेशा टॉम एंड जेरी की तरह लड़ने व एक दूसरे को चिढ़ाने वाले भाई-बहन का…

5 days ago

रक्षाबंधन विशेष: बच्चों के लिए खास पहनावे

हम जानते हैं कि अपने खूबसूरत और प्यारे बच्चों को तरह-तरह के कपड़ों में सजाना…

6 days ago

लजीज पकवान जो रक्षाबंधन को बना सकते हैं और भी खास

त्यौहारों का मौसम है और इस मौसम में परिवार की खुशियाँ अक्सर दोगुनी हो जाया…

6 days ago

बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा है

बहन और भाई के बीच प्यार का सबसे बड़ा त्यौहार रक्षाबंधन इस साल 11 अगस्त…

6 days ago

अपने भाई या बहन को डेडिकेट करने के लिए 20 रक्षाबंधन स्पेशल गाने

चाहे भाई-बहन सगे हों या कजिन, राखी उनके बीच की बॉन्डिंग और प्यार को दर्शाने…

6 days ago