भारत में शिशुओं और बच्चों के लिए वैकल्पिक और अनिवार्य टीके

भारत में शिशुओं और बच्चों के लिए वैकल्पिक और अनिवार्य टीके

Last Updated On

हर कोई जानता है कि बच्चों को टीका लगाया जाना कितना महत्वपूर्ण है, भारत में कुछ टीकाकरण अनिवार्य हैं जबकि अन्य ऐसे भी टीके हैं जिन्हें वैकल्पिक माना जाता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप उन्हें खारिज कर दें क्योंकि आज वे टीके भी एक आवश्यकता बन गए हैं।

वैकल्पिक और अनिवार्य टीकों की सूची

भारत में शिशुओं के लिए अनिवार्य टीकाकरण और वैकल्पिक टीके इस प्रकार हैं:

1. जन्म के समय

शिशु को निम्नलिखित टीकों की आवश्यकता होगी:

) बी.सी.जी. (बेसिलस कैलमेट गुएरिन)

शरीर के जिस स्थान पर यह टीका दिया जाता है, वहाँ थोड़ी सूजन हो सकती है।

रोकथाम

यह टीकाकरण, तपेदिक (टी.बी.) रोग का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है?

यह टीका अनिवार्य है क्योंकि तपेदिक एक घातक बीमारी है जो हर साल करीब 20 लाख मौतों के लिए जिम्मेदार है।

) .पी.वी. (ओरल पोलियो वैक्सीन)

.पी.वी. शिशु के पहले वर्ष के दौरान तीन नियमित खुराक के रुप में दिया जाता है। इसकी तरल बूँदें मुँह में डाली जाती है।

रोकथाम

पोलियोमाइलाइटिस (पोलियो) का निवारण करता है ।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है, और क्यों?

.पी.वी. एक अनिवार्य टीकाकरण है क्योंकि पोलियो एक ऐसी बीमारी है जो तंत्रिका तंत्र को नुकसान पहुँचाती है और मांसपेशियों की कमज़ोरी, और यहाँ तक कि पक्षाघात (पैरालिसिस) की ओर ले जाती है।

) हेपेटाइटिस बी

यह महत्वपूर्ण है कि टीका आपके शिशु को जन्म के बारह घंटे के भीतर ही दिया जाए ताकि आप और आपके शिशु के बीच वायरल स्थानांतरण को रोका जा सके।

रोकथाम

हेपेटाइटिस बी वायरस से बचाव करता है ।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह टीका अनिवार्य है क्योंकि इसके न लगने से आपके बच्चे में यकृत (लीवर) संक्रमण की समस्याएं पैदा हो सकती हैं ।

2. 6 सप्ताह (1.5 महीने) का होने पर

आपके शिशु को निम्नलिखित की आवश्यकता होगी:

) डी.पी.टी. 1

टीके के स्थान पर सूजन, दर्द और हल्का बुखार हो सकता है।

रोकथाम

यह टीका डिप्थेरिया, पर्टुसिस (काली खांसी) और टेटनस से बचाव करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह टीका अनिवार्य है क्योंकि इसके न लगने से शिशु को संक्रामक और घातक रोग हो सकते हैं।

) एच.आई.टाइप बी (इन्फ्लुएंजा टाइप B)

यह टीके तरल पदार्थ और लियोफिनेटेड फॉर्मूलों में पाए जाते हैं।

रोकथाम

मस्तिष्क और रीढ़ की क्षति से बचाव करता है ।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

मस्तिष्क और रीढ़ की क्षति को रोकने के लिए यह टीका वैकल्पिक है लेकिन लगाने की सलाह दी जाती है।

) रोटावायरस 1

यह टीकाकरण दो बार दिया जाता है और पहला छठवें सप्ताह पर दिया जाता है।

रोटावायरस 1

रोकथाम

यह टीकाकरण, रोटावायरस संक्रमण से बचाव करता है जो बीमारी खासकर नवजात शिशुओं में गंभीर दस्त और उल्टी का कारण बनता है।

क्या यह टीकाकरण अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह टीका वैकल्पिक माना जाता है, लेकिन इसका अत्यधिक सुझाव दिया जाता है कि आप अपने शिशु को एक संक्रामक संक्रमण से बचाने के लिए यह टीकाकरण करवाएं ।

) पी.सी.वी. 1 (न्यूमोकोकल कंजुगेट वैक्सीन)

अधिकांश न्यूमोकोकल संक्रमण, बच्चे के जीवन के पहले दो वर्षों के दौरान होता है, यही कारण है कि यह टीका शिशुओं और बच्चों को दिया जाता है।

रोकथाम

यह रक्त और कान में संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है, और क्यों?

यह टीका वैकल्पिक है, लेकिन सलाह दी जाती है कि आप अपने बच्चे को संक्रमण से बचाने के लिए यह टीका लगवाएं ।

) हेपेटाइटिस बी

आपके शिशु को हेपेटाइटिस बी के टीके की दूसरी खुराक की आवश्यकता होगी।

रोकथाम

यह आपके शिशु को हेपेटाइटिस बी वायरस से बचाव करता है।

क्या यह अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह एक अनिवार्य टीका है और यह वायरस आपके शिशु में यकृत संक्रमण का कारण बन सकता है।

3. 10 सप्ताह पूरे होने पर (2. 5 महीने का शिशु)

आपके शिशु को निम्नलिखित टीके लगाने की आवश्यकता होगी:

) आई. पी. वी. 2 (निष्क्रिय पोलियो वैक्सीन)

यह शिशु के लिए दूसरी खुराक होगी।

रोकथाम 

पोलियो से बचाव करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक और क्यों?

यह टीका वैकल्पिक है, लेकिन इसे शिशु की बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए सलाह दी जाती है ।

) डी.पी.टी. 2

यह डी.पी.टी. टीके की दूसरी खुराक है ।

रोकथाम

डिप्थेरिया, पर्टुसिस (काली खांसी ) और टेटनस का निवारण करता है।

क्या टीका यह अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

शिशु को अतिसंक्रामक रोगों से बचाने के लिए इस टीके को लगवाना अनिवार्य है।

) एच.आई. बी 2

यह दूसरी खुराक है।

रोकथाम

मस्तिष्क और रीढ़ की क्षति से बचाव करता है ।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह टीका वैकल्पिक है लेकिन अनुशंसित किया जाता है ।

) रोटावायरस 2

यह दूसरी आवश्यक खुराक है ।

रोकथाम

रोटावायरस संक्रमण का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह टीका वैकल्पिक है, लेकिन यह अतिसंक्रामक रोग के कारण अत्यधिक अनुशंसित किया जाता है ।

) पी.सी.वी. 2

पी.सी.वी. की दूसरी खुराक भी दी जाती है ।

पी.सी.वी. 2

रोकथाम

रक्त और कान के संक्रमण का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य वैकल्पिक है और क्यों?

यह टीका वैकल्पिक है, लेकिन खतरनाक संक्रमण के कारण इसे लगवाने की सलाह दी जाती है ।

4. 14 सप्ताह पूरे होने पर (5 महीने का बच्चे)

इस समय में, आपके शिशु को निम्नलिखित टीकों की आवश्यकता होगी:

) आई.पी.वी 3

इस टीके की यह तीसरी खुराक होगी।

रोकथाम

पोलियो से बचाव करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह वैकल्पिक टीकाकरण है, लेकिन बेहतर प्रतिरक्षा के लिए अनुशंसित किया जाता है ।

) डी.पी.टी. 3

यह तीसरी खुराक है।

रोकथाम

डिप्थेरिया, पर्टुसिस से बचाव करता है जिसे काली खांसी और टेटनस के नाम से भी जाना जाता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

रोग के अत्यधिक संक्रामक होने के कारण यह टीका अनिवार्य है।

) एच.आई.बी. 3

यह तीसरी खुराक है।

रोकथाम

मस्तिष्क और रीढ़ की क्षति से बचाव करता है ।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक और क्यों?

यह टीका वैकल्पिक है लेकिन बेहतर रोग क्षमता के लिए अनुशंसित किया जाता है।

) रोटावायरस 3

यह तीसरी ज़रूरी खुराक है ।

रोकथाम

रोटावायरस संक्रमण का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

वैकल्पिक, लेकिन यह करने का सुझाव दिया जाता है क्योंकि संक्रमण संक्रामक हैं।

) पी.सी.वी. 3

यह पी.सी.वी. की तीसरी खुराक है ।

रोकथाम

रक्त और कान के संक्रमण का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

वैकल्पिक, लेकिन सलाह दी जाती है कि आप अपने शिशु को संक्रामक संक्रमण से बचाने के लिए यह टीका लगवाएं ।

5. 6 महीने होने पर

इस समय शिशु को निम्नलिखित टीके की आवश्यकता होगी:

) हेपेटाइटिस बी 3

हेपेटाइटिस बी के टीके की अंतिम खुराक।

रोकथाम

आपके शिशु को हेपेटाइटिस बी वायरस से बचाव करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह टीका आपके शिशु में यकृत संक्रमण की समस्याओं से बचाव के लिए अनिवार्य है।

) . पी. वी. 1 (ओरल पोलियो वैक्सीन)

यह खुराक ओरल ड्रॉप्स द्वारा दी जाती है।

ओ. पी. वी. 1 (ओरल पोलियो वैक्सीन)

रोकथाम

पोलियोमाइलाइटिस (पोलियो) का निवारण करता है।

क्या यह टीला अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

इस खुराक को अनिवार्य माना जाता है क्योंकि यह आपके बच्चे को बेहतर सुरक्षा देता है ।

6. 9 महीने होने पर

आपके शिशु को निम्नलिखित टीके की आवश्यकता होगी:

) . पी. वी. 2

यह टीका ओरल ड्रॉप्स द्वारा दिया जाता है।

रोकथाम

पोलियोमाइलाइटिस (पोलियो) का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों है?

अनिवार्य है क्योंकि यह आपके शिशु को बेहतर सुरक्षा देता है ।

) एम. एम. आर. 1

यह टीका दो खुराक में दिया जाता है।

रोकथाम

खसरा, कण्ठमाला का रोग और रूबेला का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

अनिवार्य है, क्योंकि यह टीका गंभीर बीमारियों का निवारण करता है।

) टी. सी. वी. 1

यह टीका दो खुराक में दिया जाता है।

रोकथाम

आंत्र ज्वर से बचाव करता है।

क्या यह अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह अनिवार्य है क्योंकि यह टाइफाइड को रोकता है जिससे जान जाने का खतरा हो सकता है।

7. 12 महीने होने पर

आपके बच्चे को निम्नलिखित टीकाकरण की आवश्यकता होगी:

) हेपेटाइटिस ए

यह आमतौर पर दो खुराक में दिया जाता है।

रोकथाम

हेपेटेटिस ए, यकृत रोग का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

यह टीका संक्रामक बीमारी होने के कारण, देना अनिवार्य है।

8. 15 महीने होने पर

आपके बच्चे को इस समय निम्नलिखित टीके की आवश्यकता होगी:

) एम. एम. आर. 2

यह टीके की दूसरी खुराक है ।

एम. एम. आर. 2

रोकथाम

खसरा, कण्ठमाला का रोग और रूबेला का निवारण करता है।

क्या यह अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों है?

अनिवार्य है, क्योंकि इससे गंभीर बीमारियों का निवारण किया जा सकता हैं।

) छोटी चेचक या छोटी माता

इसके लिए दो खुराक की आवश्यकता होगी।

रोकथाम

चेचक का निवारण करता है।

क्या यह अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों है?

यह बीमारी अत्यधिक संक्रामक होती है, इसलिए आपके बच्चे को इसकी खुराक देना अनिवार्य है।

) पी. सी. वी. बूस्टर

यह अंतिम पी. सी. वी. बूस्टर खुराक है ।

रोकथाम

कान का संक्रमण और रक्त संक्रमण का निवारण करता ।

क्या यह टीका अनिवार्य है / वैकल्पिक और क्यों?

संक्रमण की समस्या को रोकने के लिए वैकल्पिक लेकिन आवश्यक है।

9. 18 महीने होने पर (1.5 वर्ष के बच्चे)

आपके छोटे बच्चे को निम्नलिखित टीके की आवश्यकता होगी:

) हेपेटाइटिस ए 2

इस टीके की दूसरी खुराक है ।

रोकथाम

हेप ए, यकृत रोग का निवारण करता है ।

क्या यह टीका अनिवार्य / वैकल्पिक है और क्यों?

संक्रमण की समस्या का निवारण के लिए यह टीका अनिवार्य है।

) डी. पी. टी. 1

डी. पी. टी. टीके का बूस्टर है ।

रोकथाम

डिप्थेरिया, पर्टुसिस (काली खांसी ) और टेटनस का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य है / वैकल्पिक है और क्यों?

संक्रमण की समस्या को रोकने के लिए यह टीका अनिवार्य है।

10. 2 वर्ष होने पर

आपके छोटे बच्चे को निम्नलिखित टीके की आवश्यकता होगी:

) टी. सी. वी. बूस्टर

यह टीके की दूसरी खुराक है।

रोकथाम

टायफायड जैसी समस्या से निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य है / वैकल्पिक है और क्यों?

रोग गंभीर होने के कारण यह अनिवार्य है।

11. 4 वर्ष होने पर

निम्नलिखित टीके की आवश्यकता होगी:

) एम. एम. आर. 3

यह इस टीके की तीसरी खुराक है।

रोकथाम

खसरा, कण्ठमाला का रोग और रूबेला जैसे रोगों का निवारण करता है।

क्या यह टीका अनिवार्य है / वैकल्पिक है और क्यों?

गंभीर बीमारियों से बचाव के लिए यह अनिवार्य है।

12. 5 वर्ष होने पर

आपके बच्चे को निम्नलिखित टीके की आवश्यकता होगी:

5 वर्ष के बच्चे

a) डी. पी. टी. बी 2

डी. पी. टी. बी 2 – यह इस टीके का दूसरी खुराक है ।

रोकथाम

डिप्थेरिया, पर्टुसिस जैसी बीमारियों का निवारण करता है जिसे काली खांसी और टेटनस के नाम से भी जाना जाता है।

क्या यह टीका अनिवार्य /वैकल्पिक है और क्यों?

संक्रामक रोगों से बचाव के लिए यह अनिवार्य है

नई मांओं को हमेशा डॉक्टरों से परामर्श लेना चाहिए ताकि वे उन सभी जानकारियों का पता लगा सकें जिनकी उन्हें आवश्यकता पड़ सकती है और इससे वे अपनी परेशानियों से संबंधित कोई भी प्रश्न को पूछने में सक्षम हो सकेंगी। टीकाकरण प्रक्रिया के दौरान बच्चे को होने वाली पीड़ा और दर्द किसी भी माँ को परेशान कर सकता है, लेकिन याद रखें कि आपके बच्चे की प्रतिरक्षा महत्वपूर्ण है, खासकर जब आसपास बहुत सारे वायरस और संक्रमण मौजूद हों।