प्रसव के बाद पेट और स्तन पर स्ट्रेच मार्क्स को हटाने के प्रभावी उपाय

प्रसव के बाद पेट और स्तन पर स्ट्रेच मार्क्स को हटाने के प्रभावी उपाय

Last Updated On

एक नई माँ होने के नाते, आप पेट पर पड़े स्ट्रेच मार्क्स से परेशान हो सकतीं हैं, हालांकि यह किसी भी तरह से आपके स्वास्थ्य के लिए ख़तरा नहीं हैं। हालांकि ये मुख्य रूप से पेट और स्तनों पर दिखाई देते हैं, यह आपकी जांघों और ऊपरी बांहों पर भी हो सकते हैं। याद रखें, ये निशान समय के साथ फीके पड़ जाएंगे और इससे कोई स्थायी नुकसान नहीं होगा।

गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स क्या हैं?

गर्भावस्था के बाद आमतौर पर त्वचा पर विकसित होने वाली लंबी और संकीर्ण रेखाएं स्ट्रेच मार्क्स कहलाई जाती हैं। गर्भावस्था के दौरान, जैसेजैसे बच्चा बढ़ता है, महिला का वजन 15 किलोग्राम तक बढ़ सकता है। इससे पेट, स्तनों और कूल्हों के आसपास के क्षेत्र सबसे अधिक प्रभावित होते हैं, और यही कारण है, कि आमतौर पर इन क्षेत्रों में स्ट्रेच मार्क्स विकसित होते हैं, पेट में स्ट्रेच मार्क्स सबसे आम हैं। ये निशान इसलिए होते हैं क्योंकि आपका शरीर त्वचा की तुलना में तेजी से बढ़ रहा होता है और त्वचा के नीचे के तंतु खिंचाव के कारण टूट जाते हैं। हालांकि स्ट्रेच मार्क्सों के कारण किसी भी चिकित्सीय समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता, यह गर्भावस्था के दौरान और बाद में सौंदर्य के दृष्टिकोण से चिंता का विषय होता हैं।

प्रसव पश्चात स्ट्रेच मार्क्स होने की संभावना

90% से अधिक गर्भवती महिलाओं के पेट में स्ट्रेच मार्क्स होते हैं, ज़्यादातर तीसरे त्रैमासिक के दौरान, इसलिए आप निश्चित रूप से अकेले नहीं हैं जिनको यह निशान पड़े हैं। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं का वज़न अधिक (15 से 18 किलो के बीच) बढ़ जाता है, और यदि यह वजन बढ़ने की दर तेज़ है, तो शरीर की त्वचा इस बढ़ते वजन के साथसाथ बढ़ने में असमर्थ रहती है, और स्ट्रेच मार्क्स दिखाई देने लगते हैं।

  • कुछ रिपोर्टों से पता चलता है कि गर्भावस्था के दौरान या बाद में स्ट्रेच मार्क्स का होना आनुवंशिकी से जुड़ा हो सकता है। अगर आपकी माँ की त्वचा पर वह निशान हैं, तो संभावना है कि आपके भी वह निशान रहेंगे, इसलिए उन से आप पता कर लें कि उनके वह निशान है या नहीं जिससे कि आपको पता रहे कि आपके निशान पड़ेंगे या नहीं।

  • त्वचा के रंग और चेहरे के रंग के अनुसार स्ट्रेच मार्क्स का रंग अलगअलग होगा। गोरी महिलाओ में गुलाबी रंग के स्ट्रेच मार्क्स विकसित होते हैं, जबकि गहरे रंग की महिलाओं को उनकी त्वचा के रंग की तुलना में हल्के निशान पड़ते हैं।

  • उच्च बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्स) वाली महिलाओं में कम बीएमआई वाले लोगों की तुलना में अधिक स्ट्रेच मार्क्स होने का खतरा होता है।

हालांकि, यह अनुमान लगाना मुश्किल है कि स्ट्रेच मार्क्स आप के लिए किस प्रकार के होंगे। आप उन महिलाओं में से एक हो सकती हैं, जिन पर स्ट्रेच मार्क्स बिल्कुल नहीं होते हैं। कई महिलाओं ने स्वीकार किया है कि उन्होंने इनसे बचने के लिए कभी कोई कदम नहीं उठाया और फिर भी गर्भावस्था के दौरान इस प्राकृतिक घटना का कभी सामना नहीं किया।

गर्भावस्था के बाद स्ट्रेच मार्क्स के कारण

वैज्ञानिक रूप से, हमारी त्वचा तीन परतों का एक सम्मेलन है: हाइपोडर्मिस या त्वचा के नीचे (सबसे गहरी परत), डर्मिस (मध्य परत) और एपिडर्मिस (ऊपर की परत)। स्ट्रेच मार्क्स जो आप देखते हैं वे डर्मिस पर बनते हैं जब तेज़ी से संकुचन या विस्तार, त्वचा की लोच को अत्यधिक बढ़ता है। गर्भावस्था के दौरान पड़ने वाले स्ट्रेच मार्क्स आमतौर पर तेज़ी से वज़न के बढ़ने या पेट में बच्चे के बढ़ने के कारण होते हैं। आपकी त्वचा की सबसे ऊपरी परत के नीचे मौजूद, डर्मिस का फटना, नीचे की परत को उजागर करता है और इस प्रकार स्ट्रेच मार्क्स बनते हैं।

स्ट्रेच मार्क्स त्वचा के विस्तार या खिंचाव का सीधा परिणाम है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान आपका वजन बढ़ता है और आपका शरीर फूल जाता है। याद रखें, आपका शरीर आपके बच्चे के लिए अधिक से अधिक जगह बनाने की कोशिश कर रहा है, और इसके कारण लगातार खिंचाव और फ़ैलाव होता है जिससे गर्भावस्था के स्ट्रेच मार्क्स बन जाते हैं।

  • थोड़े से समय में ही आपका वजन बहुत बढ़ जाता है, और यह स्ट्रेच मार्क्स का कारण हो सकता है।

  • हो सकता है कि आप के पेट में एक से अधिक बच्चे पल रहे हों और यह त्वचा को अत्यधिक खींच रहा हो जिससे स्ट्रेच मार्क्स पड़ रहे हों।

  • हो सकता है कि आपके पेट में पल रहा बच्चा बहुत बड़ा हो।

  • आपकी त्वचा की लोच का नुकसान हो सकता है क्योंकि आपके शरीर में इस दौरान एक स्वाभाविक रूप से उत्पादित हार्मोन, कोर्टिसोन का अधिक मात्रा में उत्पादन हो रहा हो।

  • कोर्टिकोस्टेरोइड क्रीम और लोशन को लगाने से भी आपके शरीर पर स्ट्रेच मार्क्स पड़ सकते हैं। ये शोथरोधी दवाएं हैं जिन्हें आपके डॉक्टर ने आपको अस्थमा, त्वचा रोग या गठिया जैसी स्थितियों के लिए दी होंगी।

  • गर्भावस्था के दौरान शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन भी स्ट्रेच मार्क्स के पड़ने के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं।

क्या प्रसव के बाद स्ट्रेच मार्क्स पड़ने से रोका जा सकता है?

यदि गर्भावस्था की शुरुआत में आवश्यक कदम उठाए जाते हैं, तो गर्भावस्था के स्ट्रेच मार्क्स को प्रकट होने से रोका जा सकता है। कुछ जीवनशैली में बदलाव और त्वचा की देखभाल पर ज़्यादा ध्यान देने से स्ट्रेच मार्क्स के पड़ने को रोका जा सकता है।

  • जब आप अपने बच्चे के लिए सबसे अच्छा पोषण सुनिश्चित करने के लिए एक विशुद्ध आहार का पालन करती हैं, तो भोजन में ऐसे खाद्य पदार्थ भी शामिल करें जो आपकी त्वचा के लोच को सुधारने में मदद कर सकें। एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन ‘ई’ और ‘ए’ और ओमेगा 3 से भरपूर खाद्य पदार्थ स्ट्रेच मार्क्स को प्रकट होने से रोक सकते हैं। अपने डॉक्टर से चर्चा करने के बाद, अपने आहार में से कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल करें:जैसे संतरा , पालक, गाजर, शकरकंद और शिमला मिर्च।

  • हर दिन कम से कम 8 गिलास पानी पी कर खुद को हाइड्रेटेड रखें। आप ककड़ी, दही और तरबूज़ जैसे स्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों और पेय का सेवन करके भी हाइड्रेटेड रह सकती हैं।

  • गर्भावस्था योग, स्ट्रेच, केगेल व्यायाम और अन्य कम ज़ोर लगने वाले व्यायाम त्वचा की लोच बनाए रखने और रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद करने के लिए अत्यधिक अनुशंसित हैं।

गर्भावस्था के बाद स्ट्रेच मार्क्स से कैसे छुटकारा पाया जाए

स्ट्रेच मार्क्स का पड़ना कई महिलाओं के लिए काफी तनाव का कारण बन सकता है। कुछ अन्य लोग इसका सामना शांति से और आसानी से करते हैं, और इसे एक बदलाव के रूप में स्वीकार कर सकते हैं ,जो उन्हें एक माँ बनने पर प्राप्त हुआ है। हालांकि, कई नई माताएं जो जानना चाहती है कि क्या गर्भावस्था के बाद स्ट्रेच मार्क्स को ख़त्म करने के उपाय हैं या नहीं।

अध्ययनों से पता चला है, कि समय के साथ, ये स्ट्रेच मार्क्स गायब हो सकते हैं ,या कम से कम इतने हल्के हो सकते हैं जिससे कि नज़र न आएं। यदि आप गर्भावस्था से पहले पहनने वाले सभी कपड़े फिर से पहनने की इच्छुक हैं, तो आप उन स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाना और अपना आत्मविश्वास वापस पाना चाह सकती हैं। बच्चे के पैदा होने के बाद स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने के लिए इंटरनेट पर कई अच्छी सलाह और युक्तियों दी गई हैं। नीचे स्ट्रेच मार्क्स हटाने के कुछ अनुशंसित घरेलू उपचारों और वैकल्पिक उपचारों के बारे में बताया गया है।

गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स के लिए घरेलू उपचार

गर्भावस्था के कारण माँ के शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं, वजन बढ़ने के साथ और बाद में शरीर के आकार में बदलाव सबसे स्पष्ट होते हैं। जब गर्भावस्था के अंतिम तिमाही के दौरान स्ट्रेच मार्क्स दिखाई देते हैं, तो आप माँ और दादियों की वृद्ध पीढ़ी के पास जाती हैं, उनसे त्वरित इलाज की उम्मीद करते हुए। ऐसे कुछ घरेलू उपचार हैं, जो एक गर्भवती महिला या एक नई माँ के स्ट्रेच मार्क्स को बहुत हद तक हल्का करने में मदद कर सकते हैं। स्ट्रेच मार्क्स के लिए सबसे अच्छे लोशन का नुस्खा जानने के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें।

 गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स के लिए घरेलू उपचार

1. घर पर बना मॉइस्चराइज़र

शरीर पर मॉइस्चराइज़र का उपयोग करने से आपकी त्वचा चिकनी और कोमल बनी रहती है, और इससे त्वचा के लोच को वापस लाने में मदद मिलेगी । यहां घर पर मॉइस्चराइज़र बनाने से पहले अपनी त्वचा के प्रकार का पता लगाना महत्वपूर्ण है। यदि आपकी कॉम्बिनेशन या शुष्क त्वचा है, तो एलोवेरा जेल, व्तेहीट जर्लम ऑयल और जैतून का तेल समान अनुपात में मिलाएं और इसका उपयोग स्ट्रेच मार्क्स से प्रभावित क्षेत्रों की मालिश करने के लिए करें। अगर आपकी त्वचा सूखी है, तो मॉइस्चराइज़र जिनमें कोकोआ बटर होता है, वो इसके बेहतरीन होते हैं। अगर आपकी तैलीय त्वचा है, तो मिट्टी के साथ उपरोक्त मिश्रण का उपयोग करें।

2. घर पर बनी क्रीम

दो चम्मच कद्दूकस किया हुआ मधुमोम और एक चम्मच विटामिन ‘ई’ तेल को आधा कप कोकोआ बटर में मिलाएं। उचित मात्रा में व्हीट जर्म ऑयल,और खूबानी के बीज का तेल को मिला कर लगाने से निशान हटाने में मदद मिलेगी। इस मिश्रण को तब तक उबालें जब तक कि मधुमोम पूरी तरह से गल न जाए। इस क्रीम को एक बोतल में भर लें और दैनिक उपयोग के लिए इसे फ्रिज में स्टोर करें।

3. घर पर बना लोशन

एक चौथाई कप एलोवेरा जेल को आधा कप एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल में मिलाकर छह विटामिन ‘ई’ और चार विटामिनए कैप्सूल से लिए गए तेल में मिलाएं। इस स्ट्रेच मार्क्स को हटाने के लिए क्रीम को बनाकर एक कांच के पात्र, या बोतल में करके फ्रिज में रखें और रोज़ इसे अपनी मालिश के लिए उपयोग करें।

4. अल्फाल्फा

अल्फला के पत्तों को उनके एंटीफंगल गुणों के लिए जाना जाता है जो त्वचा को डिटॉक्स करने में मदद करता है और विटामिन ‘ई’ प्रोटीन और अमीनो एसिड का यह एक विश्वसनीय स्रोत है। ये सभी गुण प्राकृतिक तरीक़े से गर्भावस्था के दौरान स्ट्रेच मार्क्स के उपचार में चमत्कार का काम करते हैं। कैमोमाइल तेल के साथ अल्फाल्फा पाउडर को मिलाकर एक चिकना पेस्ट बनाया जा सकता है जो लगाने में आसान रहता है। इस घर के बने पेस्ट को दिन में दो या तीन बार लगाया जा सकता है, और आपको कुछ ही हफ़्ते में इसका असर दिखेगा।

5. हल्दी और चंदन

हल्दी और चंदन को त्वचा को चमकदार और चिकना करने की अपनी क्षमता के लिए जाना जाता है। हल्दी और चंदन का मिश्रण गर्भावस्था के स्ट्रेच मार्क्स पर प्रभावी होता है। चंदन की लकड़ी को खुरदुरी सतह पर रगड़कर और एक चम्मच पानी डालकर चंदन का पेस्ट तैयार किया जा सकता है। इसी तरह, ताज़ी हल्दी का पेस्ट बनाकर चंदन के पेस्ट के साथ मिलाया जा सकता है। सर्वोत्तम परिणामों के लिए धोने से पहले इस पेस्ट को सूखने के लिए छोड़ दिया जाना चाहिए।

6. खुबानी

खुबानी का बीज निकालने के बाद, उसे छोटे टुकड़ों में काट लें फिर उसे पीस कर एक चिकना पेस्ट बना लें। इसे स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं और 20 मिनट तक सूखने के बाद गुनगुने पानी से इसे धो दें।

7. अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखें

दिन में कम से कम 10-12 गिलास पानी का सेवन करने से, आपकी त्वचा अच्छी तरह से हाइड्रेटेड, कोमल रहती है, और त्वचा में लोच बनाए रखती है, जिससे खिचाव के निशान को हल्का करने में मदद मिलती है। यह त्वचा को नम रखने और शरीर से अवांछित विषाक्त पदार्थों को निकालने का सबसे आसान है। इस अवधि के दौरान कैफीन और वातित पेय के सेवन से बचें क्योंकि वे निर्जलीकरण एजेन्ट के रूप में कार्य करते हैं।

8. तेल उपचार

स्ट्रेच मार्क्स के लिए कई सिद्ध गर्भावस्था के तेल हैं जिन्हें नियमित रूप से स्ट्रेच मार्क्स पर मालिश करने से यह निशान हल्के हो जाते हैं। निम्नलिखित तेल स्ट्रेच मार्क्स को ख़त्म करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं:

9. जैतून का तेल

जैतून का तेल अपने एक्सफ़ोलीएटिंग और मॉइस्चराइजिंग गुणों के लिए जाना जाता है। जैतून का तेल एक प्रभावी माध्यम है जो रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और स्ट्रेच मार्क्स को हल्का करने के लिए एकदम सही है। गर्म पानी से नहाने से 30 मिनट पहले प्रभावित क्षेत्र पर जैतून के तेल की मालिश करने की सलाह दी जाती है।

10. अरंडी का तेल

अरंडी का तेल स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं और उस स्थान पर हाथ को गोल गोल घुमाते हुए तेल की मालिश करें जिससे तेल को त्वचा सोख ले। इस तरह की मालिश 5 से 10 मिनट तक करें और फिर इसके ऊपर एक प्लास्टिक शीट लगाने के बाद गर्म पानी की बोतल को उस पर फेरें। इससे तेल त्वचा में घुस पाता है, क्योंकि गर्मी छिद्रों को खोलती है। प्रभावी परिणामों के लिए इसे रोज़ किया जा सकता है।

11. आवश्यक तेल

लैवेंडर, जेरेनियम या गुलाब जैसे आवश्यक तेलों की कुछ बूँदें नियमित रूप से लगाए जाने वाले जैतून या अरंडी के तेल में मिला कर स्ट्रेच मार्क्स पर 30 मिनट के लिए मालिश करें।कई माताओं ने नियमित रूप से इसके उपयोग के बाद स्ट्रेच मार्क्स के खुरदरेपन और रंग में काफी सुधार का अनुभव किया है।

बच्चा होने के बाद स्ट्रेच मार्क्स के लिए वैकल्पिक उपचार

जब स्ट्रेच मार्क्स की बात आती है, तो डॉक्टर आमतौर पर चिकित्सा उपचार के बजाए प्राकृतिक उपचार आज़माने की सलाह देते हैं। हालांकि, आप अपने चिकित्सक से परामर्श करने के बाद, वास्तव में त्वरित परिणामों के लिए निम्नलिखित को आज़मा सकते हैं:

बच्चा होने के बाद स्ट्रेच मार्क्स के लिए वैकल्पिक उपचार

1. स्ट्रेच मार्क्स हटाने की क्रीम

स्ट्रेच मार्क्स हटाने वाली क्रीम का प्राथमिक उद्देश्य प्रभावित क्षेत्र को चिकना करना और रंग में परिवर्तन पर काम करना है। क्रीम में रेटिनोल, कोलेजन, इलास्टिन, जोजोबा तेल, कोकोआ बटर या शीया बटर और विटामिन ई तेल होते हैं जो गर्भावस्था के बाद स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने में प्रभावी होते हैं।

2. ट्रेटिनोइन क्रीम

कम समय में स्ट्रेच मार्क्स को हटाने के लिए एक अत्यधिक प्रभावी क्रीम है। इसकी अनुशंसा तभी की जाती है अगर आप बच्चे को स्तनपान नहीं करा रही हों, क्योंकि कुछ अध्ययनों से पता चला है कि यह स्तन के दूध में अवशोषित हो सकता है।

3. ग्लाइकोलिक एसिड

ग्लाइकोलिक एसिड त्वचा की लोच में सुधार करता है और कोलेजन का उत्पादन बढ़ाता है, इस प्रकार आपके शरीर पर स्ट्रेच मार्क्स को कम करता है। उपचार शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक के साथ विस्तार से चर्चा करने की अनुशंसा की जाती है।

4. लेजर थेरेपी

यह उन लोगों के लिए उपयुक्त है जो इसका खर्चा उठा कर सकते हैं और इसे कराने के लिए तैयार हैं, लेजर थेरेपी स्ट्रेच मार्क्स हटाने के लिए एक त्वरित, प्रभावी, यद्यपि महंगा उपचार है। इस उपचार के माध्यम से, सभी प्रकार के स्ट्रेच मार्क्स पुराने और नए, दोनों को दूर करना संभव है। यह एक स्थायी उपचार है जहां त्वचा के ऊतकों को हटा दिया जाता है, वाष्पीकृत किया जाता है, और तोड़ा जाता है जिससे कोशिका उत्पादन में सुधार हो सके । इस उपचार के कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जैसे कि लालिमा, खुजली और सूजन जो कुछ दिनों तक रहती है।

क्या स्ट्रेच मार्क्स बच्चे के जन्म के बाद हल्के हो जाते हैं?

क्योंकि स्ट्रेच मार्क्स बस ऐसे निशान होते हैं जो त्वचा पर खिंचाव के कारण शरीर पर दिखाई देते हैं, वे मुंहासों की तरह संक्रामक नहीं होते हैं और शरीर को कोई नुकसान या दर्द नहीं पहुंचाते हैं। थोड़े समय के बाद ये स्ट्रेच मार्क्स मिट जाते हैं और अपने मूल लाल या गुलाबी रंग से हटकर एक सफेद निशान में बदल जातें हैं, यहां तक कि लुप्त हो जाते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि समय के साथ ये निशान मिट सकते हैं और गायब हो सकते हैं।

गर्भावस्था के दौरान स्ट्रेच मार्क्स एक प्राकृतिक घटना है, और कई महिलाएं इस स्थिति से प्रभावित होती हैं। स्ट्रेच मार्क्स के इलाज के लिए कोई जादुई इलाज़ उपलब्ध नहीं हैं, जो एक रात में इन्हें ठीक कर दे और प्रसव के बाद स्ट्रेच मार्क्स के लिए सबसे अच्छा उपचार (ऊपर वर्णित) परिणाम देने में समय लगता है। इसलिए, यदि आप स्थायी समाधान के लिए उत्सुक हैं तो आपको धैर्य रखना होगा। संतुलित आहार लेने से, वजन बढ़ने को नियंत्रित करके और अपने शरीर को हाइड्रेटिड रखने से, प्रसव के बाद स्ट्रेच मार्क्स को दूर रखना संभव है।