प्रसव के कुछ लक्षण जिन पर आपको नज़र रखनी चाहिए

प्रसव के कुछ लक्षण जिन पर आपको नज़र रखनी चाहिए

Last Updated On

इससे पहले कि आप अस्पताल जाने के लिए तैयार हों, सुनिश्चित करें कि आप प्रसव के वास्तविक लक्षणों का अनुभव कर रहीं है या नहीं, क्योंकि कई बार यह ऐसे ही प्रसव से पहले आपको ग़लत संकेत देता है। आपका शरीर होने वाले प्रसव के लिए आपको तैयार करता है, और इसलिए आपको प्रसव होने का भ्रम हो सकता है। निम्नलिखित लेख में, हम आपको प्रसव के संकेतों के बारे बताएंगे और उस दौरान आपको क्या करना चाहिए, इससे परिचित कराएंगे।

प्रसव के शुरुआती लक्षण क्या हैं?

यदि आप चिंतित हैं कि आप जो अनुभव कर रहीं हैं वह शुरुआती प्रसव है या नहीं, तो आप इस तरह प्रसव के शुरुआती लक्षणों पर नज़र रख सकती हैं :

1. आप रिसाव या स्राव का अनुभव करती हैं

यदि आपको अपनी योनि में से किसी तरल पदार्थ या रक्त का रिसाव दिखाई देता है या आपको एक अलग रंग का स्राव (भूरासा या लालसा) दिखाई देता है, तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर को फोन करना चाहिए। हो सकता है कि आपका श्लेष्म प्लग निकल गया है जो आपके गर्भाशय ग्रीवा को ढकता है।

2. आप ऐंठन का अनुभव कर सकती हैं

आप ऐंठन का अनुभव कर सकती हैं; यह ठीक उसी प्रकार की ऐंठन है जिसे आप अपने मासिक धर्म के दौरान अनुभव करती हैं। हालांकि, इस ऐंठन के साथ दस्त हो भी सकते हैं और नहीं भी।

3. आप संकुचन का अनुभव कर सकती हैं

आपको अपना पेट बहुत तना हुआ और सख्त महसूस हो सकता है। यदि आप नियमित अंतराल पर संकुचन अनुभव करती हैं, तो हो सकता है कि आपको प्रसवपीड़ा शुरु हो गई हो। हालांकि, ब्रेक्सटन हिक्स वाली संकुचन भी इस समय बहुत आम हैं, लेकिन वे आकस्मिक रूप से आती हैं।

4. आप अपने श्रोणि पर दबाव महसूस कर सकती हैं

आप अपने श्रोणि क्षेत्र पर दबाव का अनुभव कर सकती हैं। यह दबाव ऐसा महसूस हो सकता है जैसे कि आपका शिशु आपके पेट में नीचे की ओर धकेल रहा है।

5. आप कमरदर्द का अनुभव कर सकती हैं

आप कमर में दर्द का अनुभव कर सकती हैं, हालांकि यह दर्द आपकी कमर के निचले हिस्से के आसपास अधिक स्पष्ट होगा और यह हल्काहल्का सा महसूस हो सकता है। लेकिन यह बात अपने डॉक्टर को यह बताना आपके लिए अच्छा रहेगा।

आपको क्या करना चाहिए

आप किसी शांत वाली जगह पर जा सकती हैं और आराम से लेट सकती हैं। आराम से साँस लें और आगामी प्रक्रिया के लिए खुद को मानसिक रूप से तैयार करें। यह सुझाव दिया जाता है कि आप अपने शरीर को पानी की कमी से बचाए रखने के लिए पानी या फलों का रस पीते रहें। पानी की कमी या शुष्कता भी संकुचन का कारण हो सकती है जो आपको असहज कर सकती है। आप अपने इन लक्षणों पर ध्यान रखिए और ज़रूरत पड़ने पर अपने साथी या मित्र से मदद लें सकती हैं हैं। यदि आपके यह लक्षण महसूस होना कम हो जाते हैं या खत्म हो जाते हैं, तो उस दिन आपका आराम करना अच्छा रहेगा । लेकिन, यदि आपके लक्षण और तीव्र हो जाते हैं और दर्द बढ़ जाता है, तो तुरंत चिकित्सीय सहायता लें।

आपको क्या करना चाहिए

सक्रिय प्रसव के संकेत क्या हैं?

प्रसव के करीब पहुँचने के कुछ संकेत नीचे दिए गए हैं :

1. प्रबल और अधिक नियमित संकुचन :

आप सक्रिय प्रसव के दौरान और प्रमुख और नियमित संकुचन का अनुभव करेंगी । ये संकुचन न तो कम पड़ेंगे और न ही खत्म होंगे, जैसे कि ब्रेक्सटन हिक्स के संकुचन; बल्कि, वे आपके बच्चे के जन्म तक रहेंगे। ये संकुचन सामान्य ऐंठन की तरह शुरू हो सकते हैं लेकिन फिर यह और प्रमुख होता जाएगा और फिर यह बारबार 3 से 8 मिनट के दौरान हो सकता हैं। आपको ये संकुचन आपकी कमर से उठते हुए और धीरेधीरे आपके पेट की ओर आते हुए महसूस हो सकता हैं।

2. आपका पानी छूटता है या एमनियोटिक थैली फटती है

यदि आप अपनी एमनियोटिक थैली के फटने का या अपना पानी छूटने का अनुभव करती हैं, और आप इसके साथ ही संकुचन का भी अनुभव कर रही हैं, तो आप निश्चित रूप से प्रसव में हैं। हालांकि, यदि आपको संकुचन शुरू नहीं हुआ हैं, तो आपको प्रसव शुरू होने के लिए कुछ घंटों तक इंतजार करना पड़ सकता है। पानी छूटना के दौरान आप पेशाब होने जैसा महसूस कर सकती हैं। लेकिन इस पर आपका नियंत्रण नहीं होगा। यह भी देखा जाता है कि केवल दस प्रतिशत महिलाएँ एमनियोटिक थैली फटने का अनुभव करती हैं।

3. रेक्टल और पेडू पर प्रखर दबाव

जैसेजैसे आपका प्रसव का समय आता हैं आपके पेडू और मलाशयी पर बढ़ा हुआ दबाव महसूस कर सकती हैं। मलाशयी दबाव ऐसा महसूस हो सकता है जैसे आप मलत्याग कर रही हों। जब आप इन लक्षणों को महसूस करेंगी , तो इसका मतलब है कि आपका बच्चा बाहर आ रहा है।

यदि आप उपरोक्त प्रसव पीड़ा के लक्षणों का अनुभव करती हैं, तो आपको अस्पताल जाने के लिए खुद को तैयार करना चाहिए।

आप कैसे बता सकती हैं कि यह वास्तविक या ग़लत प्रसव है?

प्रसव के ‘37 हफ्तों की गर्भावस्था‘ के एक संकेत के रूप में आप ब्रेक्सटन हिक के संकुचनों को अनुभव कर सकती हैं। यहाँ हम विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करेंगे जो आपको यह जानने में मदद करेंगे कि आप वास्तविक या झूठे प्रसव को महसूस कर रहीं हैं।

निम्नलिखित लक्षण जो झूठे प्रसव का संकेत देते हैं :

  • संकुचन आकस्मिक रूप से आते हैं न कि नियमित अंतराल पर।
  • दर्द पेट के निचले हिस्से की ओर ही सीमित होता है।
  • समय के साथ संकुचन तीव्र या अधिक दर्दनाक नहीं होते हैं।
  • आपको बात करते समय किसी दर्द या तकलीफ का अनुभव नहीं होता हो।
  • आपको इधरउधर घूमने से आराम महसूस होता हो , और चलने से दर्द शायद कम भी हो जाए।

निम्नलिखित संकेत जो वास्तविक प्रसव के संकेत हैं :

  • भ्रूण की गतिविधि में परिवर्तन; यह सामान्य गतिविधि की तुलना में घट या बढ़ सकती है।
  • संकुचन आपके पेडू क्षेत्र में केंद्रित होंगे।
  • आप नियमित अंतराल पर संकुचन का अनुभव करेंगी, और जैसेजैसे आप अपने बच्चे को जन्म देने के करीब पहुँचेंगी, वे और तीव्र होता जाएगा ।

वास्तविक प्रसव में आप दर्द का अनुभव करेंगी जो आपकी कमर से शुरू होगा और आपके पेट के निचले भाग की ओर आएगा, यह गलत प्रसव के बिलकुल विपरीत होता है, जहाँ दर्द केवल पेट के क्षेत्र के आसपास ही महसूस किया जा सकता है। जैसे ही आप वास्तविक प्रसव के लक्षणों का अनुभव करती हैं, अपने डॉक्टर को बुलाए या हॉस्पिटल जाए।

आपको अस्पताल कब जाना चाहिए?

आपके डॉक्टर या दाई आपको प्रसव और बच्चे के जन्म की प्रक्रिया के बारे में सही तरीके से मार्गदर्शन करेंगे। आपको यह भी बताया जाएगा कि आपको कब अस्पताल जाने की आवश्यकता होगी।

आपकी गर्भावस्था के आधार पर दिशानिर्देश अलगअलग भी हो सकते हैं। यदि आपकी गर्भावस्था सामान्य है, तो आपको अपने शुरुआती और सक्रिय प्रसव के लक्षणों को संभालने के लिए सामान्य दिशानिर्देशों के बारे में बताया जाएगा। हालांकि, यदि आपकी गर्भावस्था उच्चजोखिम वाली है, आप पहली बार गर्भवती बनी हैं, या कोई अन्य जटिलताएं हैं, तो आपका डॉक्टर आपको इन मामलों के आधार पर विशेष दिशानिर्देश दे सकते है।

आपको अस्पताल कब जाना चाहिए?

यदि आपको कोई संदेह है या आपको अपने प्रसव के बारे में उलझन हो रही है, तो अपने डॉक्टर से बेझिझक बात करें। आपको अपने ग़लत प्रसव के संकेतों से निपटने के लिए या अस्पताल के डिलीवरी सेंटर तक पहुंचने के दौरान आपको वास्तविक प्रसव के बारे में मार्गदर्शन किया जाएगा। हालांकि, यदि आपका मामला उच्चजोखिम वाली गर्भावस्था का है, तो आपको अपनी दाई को समयसमय पर और यहाँ तक कि जैसे ही आप प्रसव में जाती हैं तब भी,उन्हें सब बताते रहना चाहिए।

यदि आपकी गर्भावस्था में कोई परेशानी नहीं हैं, तो आपको आपके संकुचन के लगभग एक मिनट तक प्रतीक्षा करने को कहा जा सकता है। ये लगातार एक घंटे तक हर पांच मिनट में आ सकते हैं। अपने संकुचन के समय निगाह बनाए रखना एक अच्छा उपाय होगा। जैसे ही आप वास्तविक प्रसव के संकेतों का अनुभव करती हैं, जहाँ संकुचन अधिक प्रमुख हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

हालांकि , निम्न लक्षणों को देखते ही अपने डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह दी जाती है :

  • दुर्बल या कम भ्रूण गतिविधि।
  • आपको योनि से रक्तस्राव, दर्द और यहाँ तक कि बुखार भी है।
  • यदि आपकी एमनियोटिक थैली फट जाती है या आप भूरेसे, हरेसे या पीले रंग का तरल पदार्थ देखती हैं। यह मेकोनियम हो सकता है, जो आपके बच्चे का मल होता है या यह भ्रूण तनाव का संकेत भी हो सकता है।
  • यदि आपकी एमनियोटिक थैली 37 सप्ताह से पहले फट जाती है या आपको संकुचन होते हैं, तो इसका मतलब है कि आप समय से पहले ही प्रसव पीड़ा में हैं।

कुछ महिलाएँ, प्रसव से जुड़े बड़े लक्षणों को भी अनदेखा कर देती हैं, यह सोचकर कि यह गर्भावस्था में सामान्य है। उनको यह सुझाव दिया जाता है कि यदि आप प्रसव से जुड़े किसी भी संकेत और लक्षण का अनुभव करती हैं, तो इन जटिलताओं से बचने के लिए जल्दसेजल्द अपने डॉक्टर से संपर्क करें।