प्रसव वेदना प्रेरित करने के सबसे अच्छे तरीके

प्रसव वेदना प्रेरित करने के सबसे अच्छे तरीके

Last Updated On

जैसेजैसे 40-सप्ताह पूरा होने का समय नज़दीक आता है, हर गर्भवती माँ खुद को शारीरिक और भावनात्मक रूप से प्रसव वेदना के लिए तैयार करती है। यह दुनिया में सब सही है वाला परिदृश्य है।

क्या आप अपने बच्चे के आगमन के लिए उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रही हैं?

हालांकि ऐसे कई उदाहरण हैं जिनमें प्रसव वेदना अपने आप शुरू नहीं होती है। उदाहरण के लिए, यदि माँ कुछ चिकित्सीय समस्याओं से पीड़ित है, तो स्वाभाविक रूप से प्रसव वेदना में देरी हो सकती है। यह लम्बा समय माँ और बच्चे दोनों के लिए जोखिम भरी हो सकती है, विशेष रूप से निम्नलिखित समस्याएं होने पर:

  • मधुमेह

  • एमनियोटिक द्रव की कमी

  • उच्च रक्त चाप

  • गर्भाशय का संक्रमण

  • गर्भनाल का गर्भाशय से अलग होना

एमनियोटिक थैली टूटने के बावजूद अगर आप संकुचन का अनुभव नहीं करती हैं, तो प्रसव वेदना प्रेरित करना आवश्यक हो सकता है। गर्भाशय में होने वाले संकुचन संकेत देते हैं कि गर्भाशय ग्रीवा को फैला कर प्रसव के लिए तैयार हो रहा है जबकि संकुचन की कमी का मतलब है कि यह तैयारी अधूरी है।

स्वाभाविक रूप से प्रसव वेदना कैसे प्रेरित करें

अधिकांश महिलाओं को एमनियोटिक थैली के टूटने के 24 घंटों के भीतर प्रसव वेदना शुरू हो जाती हैं, लेकिन अगर थैली फटने के बाद भी आपको प्रसव वेदना शुरू नहीं होती, तो आपको और आपके बच्चे को संक्रमण का खतरा हो सकता है। ऐसे मामलों में, डॉक्टर प्रसव वेदना प्रेरित करने का निर्णय ले सकते हैं।

स्वाभाविक रूप से प्रसव वेदना कैसे प्रेरित करें

हालांकि , अगर आप दवा लेने से बचना चाहती हैं, तो आप निम्नलिखित तरीकों को भी आज़मा सकती हैं। आइए हम प्रसव वेदना को प्रेरित करने के इन स्वाभाविक तरीकों के बारे में और जानें:

प्रसव वेदना प्रेरित करने के स्वाभाविक तरीके

चलना

चलना शायद प्रसव वेदना प्रेरित करने का सबसे सरल तरीका है और इसके लिए बहुत अधिक प्रयास या तैयारी नहीं करनी पड़ती। गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव के कारण यह बच्चे को श्रोणि क्षेत्र में नीचे धकलने में मदद करता है। बच्चा श्रोणि पर दबाव डालता है और यह प्रसव के लिए गर्भाशय ग्रीवा के तैयार करता है। यदि आपकी एमनियोटिक थैली टूट गई है लेकिन प्रसव वेदना शुरू नहीं हुई है तो चलना शुरू करें। यहाँ तक कि अगर पहले से ही संकुचन हो रहे हैं, तब भी चलने से प्रसव के दौरान मदद मिलेगी।

यौन क्रिया

अब यह असंभव सा लगता है, सच है न? विशेष रूप से, जब आप 40 सप्ताह से अधिक गर्भवती हों, तो सेक्स आपके और आपके साथी के दिमाग में शायद ही आए। लेकिन, पुरुष के शुक्राणुओं में प्रोस्टाग्लैंडीन नाम का एक हार्मोन होता है जो गर्भाशय ग्रीवा को फैलाने में मदद करता है, जिससे प्रसव की शुरूआत हो सकती है।

यौन क्रिया

यह स्वाभाविक गतिविधि आपको कुछ चैन देगी और तनाव कम करने में भी मदद करेगी। प्रसववेदना को प्रेरित करने का और इससे अधिक सुखद तथा शून्य लागत वाला तरीका हो ही नहीं सकता है। इस तरीके का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से जांच कराना न भूलें।

इवनिंग प्रिमरोज़ का तेल

यह कई चीज़ों में काम आने वाला जड़ीबूटी का तेल गर्भाशय ग्रीवा को फैलाकर, प्रसव के लिए तैयार करने में मदद करने के लिए जाना जाता है। ईवनिंग प्रिमरोज़ तेल कैप्सूल के रूप में उपलब्ध है जिसे खाया जा सकता है या आंतरिक रूप से इसका इस्तेमाल भी किया जा सकता है। गर्भावस्था के अंतिम कुछ हफ्तों के दौरान तेल को ग्रीवा क्षेत्र में लगाया जा सकता है। बेशक, इसे खाने या लगाने से पहले, आपको किसी अच्छे डॉक्टर से परामर्श करके उनकी अनुमति प्राप्त करनी चाहिए।

अरंडी का तेल

अरंडी का तेल एक प्रसिद्ध रेचक औषधि है, जो बहुत स्वादिष्ट नहीं होता है। पीढ़ी दर पीढ़ी, दाइयाँ और दादियों ने प्रसव वेदना में देरी होने पर इसके उपयोग की अनुशंसा की है। रेचक आंतों को उत्तेजित करता है और गर्भाशय में उत्तेजना पैदा करता है, जिससे संकुचन हो सकता है। यद्यपि यह स्वाभाविक तरीके से प्रसव वेदना प्रेरित करने के लिए लोकप्रिय है और आमतौर पर सुझाए गए सुझावों में से एक है, अपने डॉक्टर से अरंडी के तेल की सेवन की जाने वाली मात्रा के बारे में पूछ लें, क्योंकि आपको इस समय दस्त से बचना चाहिए।

मसालेदार व्यंजन

अरंडी के तेल की तरह, मसालेदार भोजन आंतों को उत्तेजित कर सकता है जिससे गर्भाशय में संकुचन शुरू हो सकते हैं। कितनी मात्रा में मसालेदार भोजन लें, उसमें सावधानी बरतें, क्योंकि बहुत अधिक खाने से छाती में जलन हो सकती है, और पेट खराब होना वो आखिरी चीज है जो आप प्रसव का इंतज़ार करने के दौरान चाहेंगी।

एक्यूपंक्चर

दर्द को कम करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली यह सदियों पुरानी वैकल्पिक विधि स्वाभाविक रूप से प्रसव वेदना को प्रेरित करने की प्रभावी तकनीक है। हाथों और पैरों पर विभिन्न स्थानों पर सुइयों का प्रयोग करके शरीर के विशिष्ट अंगों को सक्रिय किया जाता है।

एक्यूपंक्चर

यह गर्भाशय की गतिविधि को प्रोत्साहित करता है और प्रसव में मदद करता है। कई गर्भवती महिलाएं और इस पद्धति द्वारा चिकित्सा करने वाले लोग इसकी प्रभावशीलता के कायल हैं क्योंकि इसका कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं है।

एक्युप्रेशर

यह एक और तकनीक है जो शरीर के विभिन्न बिंदुओं को सक्रिय करने पर निर्भर करती है, लेकिन एक्यूपंक्चर के विपरीत, इस पद्धति में सुइयों के बजाय उंगलियों का उपयोग करके बिंदुओं पर दबाव डालना पड़ता है। दो प्रेशर पॉइंट, तर्जनी और अंगूठे के बीच बद्धी और टखने की हड्डी के ऊपर पैर में अंदर की तरफ बिन्दु को दबाने से स्वाभाविक रूप से प्रसव वेदना प्रेरित होती है।

प्रत्योक्षकरण व्यायाम

अपने आप को प्रसव वेदना सहन करते हुए बच्चे को जन्म देने की कल्पना करें। बच्चे के बाहर आने की तैयारी के लिए नीचे की ओर जो जा रहा है उसके बारे में बात करते हुए आप खुद की आवाज़ रिकॉर्ड कर सकती हैं। बस अपने दिमाग में यह कल्पना करना आपको आराम दे सकता है और आपको प्रसव वाले दिन के लिए तैयार कर सकता है।

निप्पल उकसाव

ऑक्सीटोसिन हार्मोन के कारण संकुचन होता है और दिन के कुछ घंटों के लिए निप्पल को उत्तेजित करके इस हार्मोन के स्राव को बढ़ाया जा सकता है। आप अपने निप्पल को सहला या मरोड़ सकती हैं और आशा करें कि इससे प्रसव वेदना प्रेरित हो। कृपया अपने डॉक्टर से पता करें कि क्या आप इसे सही तरीके से कर रही हैं। याद रखें, इससे काफी तेज़ गर्भाशय संकुचन उत्पन्न हो सकते है जिससे भ्रूण की हृदय गति कम हो जाने की संभावना रहती है। इसलिए, डॉक्टर से परामर्श करें और अपने विवेक का उपयोग करें।

मालिश

अध्ययनों से पता चला है कि मालिश आपके शरीर में ऑक्सीटोसिन को स्रावित करने में मदद कर सकती है। यह हार्मोन प्रसव वेदना को प्रेरित करने के लिए आवश्यक संकुचन लाता है। स्वाभाविक रूप से प्रसव वेदना प्रेरित करने के सभी तरीकों में से मालिश एक बेहतरीन तरीका है।

मालिश

ऐसा इसलिए है, क्योंकि अन्य चीजों के अलावा, इससे आपको बहुत चैन मिलता है और आप में प्रसव वेदना प्रेरित करता है। यह सब आपको उस स्थिति में लाने के लिए है जिससे आवश्यक हार्मोन स्रावित हों और प्रसव वेदना स्वाभाविक रूप से प्रेरित हो जाए।

केले

केले पोटेशियम से भरपूर होते हैं और मांसपेशियों के संकुचन के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसलिए यदि आपमें पोटेशियम की कमी है, तो प्रसव वेदना में देरी हो सकती है। यदि आप गर्भावस्था के आखिरी कुछ हफ्तों के दौरान केला खाती हैं, तो स्वाभाविक रूप से प्रसव होने की संभावना अधिक रहती है। हालांकि, केले संयम रखते हुए खाने चाहिए। अपने आहार में केले को शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ से परामर्श करें। हम संस्तुति करते हैं कि डॉक्टर की सलाह पर ही पोटेशियम पूरक लें।

एक्सरसाइज बॉल

एक्सरसाइज बॉल गर्भाशय ग्रीवा को तेजी से फैलाने और बच्चे को जन्म नली की ओर ले जाने में मदद करती है, और दाइयाँ इसके प्रयोग की अनुशंसा करती है।

एक्सरसाइज बॉल

यह व्यायाम बच्चे को श्रोणि में नीचे की ओर धकेलता हैं और प्रसव के लिए सही स्थिति में ले आता है।

अनानास

इस अद्भुत फल में ब्रोमेलियाड एंजाइम होता है। अनानास को ताजा और कच्चा खाने से गर्भाशय ग्रीवा नरम हो जाती है और प्रसव वेदना प्रेरित हो जाती है। अनानास में निहित रसायनों के कारण पेट उत्तेजित होता है जिससे संकुचन शुरू हो सकते हैं।

मेम्ब्रेन स्ट्रिपिंग

इस प्रक्रिया में कोई चिकित्सीय प्रक्रिया या दवाएं शामिल नहीं हैं, इसमें प्रसव कराने के लिए झिल्लियों को अलग किया जाता है। डॉक्टर ग्रीवा क्षेत्र से एमनियोटिक थैली को अलग करने के लिए दस्ताने पहन कर उंगली का उपयोग करते हैं। ऐसा करने से, शरीर में प्रोस्टाग्लैंडीन हार्मोन स्रावित होता है जो आपमें प्रसव वेदना प्रेरित करने में मदद करता है। मेम्ब्रेन स्ट्रिपिंग हो जाने के बाद, एमनियोटिक थैली के फटने पर तुरंत ही प्रसव की संभावना रहती है।

सम्मोहन

सम्मोहन या हिप्नोथेरेपी आपके प्रसव से पहले आपको चैन देने में मदद कर सकती है क्योंकि तनाव हमारे शरीर को ऑक्सीटोसिन का उत्पादन करने से रोकता है, जो कि प्रसव वेदना प्रेरित करने के लिए आवश्यक हार्मोन है। इस पद्धति के बारे में शोध जारी है, और आप अपने मन को प्रसव के तनाव से दूर रखने के लिए कुछ स्वसम्मोहन सीडी खरीदकर इसे आज़मा सकती हैं।

याद रखने योग्य बातें

प्रसव वेदना प्रेरित करने से पहले कुछ बातों का आपको ध्यान रखना चाहिए :

समय पूरा होने के बाद भी प्रसव वेदना के न होने के बारे में चिंतित न हों: पहली बार गर्भावस्था होने पर 80% मामलों में देरी होती है और अगर 42 सप्ताह पार करने पर भी प्रसव वेदना शुरू नहीं होती केवल तभी खुद को आप ओवरड्यू मान सकती हैं। तब भी, प्रसव वेदना को प्रेरित करना आपका निर्णय है और डॉक्टर आपकी अनुमति के बिना प्रसव वेदना प्रेरित नहीं कर सकते।

स्वाभाविक प्रेरण का उपयोग समर्थन के रूप में किया जाना चाहिए: 39 वें या 40 वें सप्ताह से पहले प्रसव वेदना प्रेरित करने की अनुशंसा नहीं की जाती है और तब भी प्रेरण बस इतना हल्का होना चाहिए जो आपके शरीर को जबरन प्रसव वेदना देने में न प्रेरित करे।

थोड़ा शोध करें तथा उसके संबंध में और जाने : जब आप प्रसव वेदना को प्रेरित करने के लिए विभिन्न तेलों और खाद्य पदार्थों का प्रयोग कर रही हों तो आपके और आपके बच्चे के लिए उनसे संबंधित सभी जोखिमों को समझें। जानें कि कौन सा व्यायाम आपके लिए बेहतर है लेकिन किसी भी तरह से अपने आप को बहुत अधिक न थका लें।

अपने डॉक्टर से भेंट करें: यदि आप प्रसव वेदना प्रेरित करने वाली किसी भी विधि से किसी बढ़ती समस्या या जोखिम को महसूस करती हैं, तो बिना देरी किए अपने डॉक्टर से भेंट करें और अपने सभी चिंताओं के उत्तर प्राप्त करें। आपके डॉक्टर आपको बता सकते हैं कि आपकी गर्भावस्था में क्या उच्च जोखिम शामिल है और कैसी समस्याएं है ताकि आप प्रसव वेदना को प्रेरित करने के किसी विशेष तरीके को अपनाने से बच सकें।

वो तरीके जिनके लिए आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए

कुछ और विधियाँ हैं जिनका उपयोग आप प्रसव वेदना को प्रेरित करने के लिए कर सकती हैं। हालांकि, इन तरीकों का उपयोग करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए, यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप और आपका शिशु सुरक्षित रहें।

हर्बल उपचार

कहा जाता है कि दो हर्बल उपचार हैं जो प्रसव वेदना को प्रेरित करते हैं नीला कोहोश और काला कोहोश। हालांकि, ये बच्चे में दिल के दौरे और दिल की समस्याओं से भी संबंधित हैं। यदि आप इन का उपयोग करने की सोच रही हैं, तो डॉक्टर से परामर्श जरूर कर लें।

रास्पबेरी का पत्ता

यह एक और हर्बल उपचार है जिसका उपयोग प्रसव वेदना को प्रेरित करने के लिए किया जाता है। हालांकि, इस उपाय का प्रयोग गर्भावस्था के अंतिम कुछ दिनों के दौरान अनुशंसित नहीं है। प्रसव वेदना में देरी होने पर रास्पबेरी के पत्ते खाने से तीव्र संकुचन हो सकते है और बच्चे को नुकसान हो सकता है। आप अपनी गर्भावस्था के लगभग 32 वें सप्ताह से रास्पबेरी के पत्ते की चाय पीना शुरू कर सकती हैं क्योंकि इस चाय से गर्भाशय के आसपास की मांसपेशियां मजबूत होती हैं, जिससे प्रसव आसानी से हो जाता है। इस हर्बल उपचार को शुरू करने के लिए सही समय और इसकी सही मात्रा के बारे जानने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

यदि आपको इसका स्वाद पसंद नहीं आता, तो आप रास्पबेरी लीफ कैप्सूल खरीद सकती हैं (पहले अपने डॉक्टर से पूछ लें) और पैक पर उल्लिखित निर्देशों का पालन करें।

होम्योपैथिक उपचार

हालांकि इस बात के कोई प्रमाण नहीं हैं कि होम्योपैथिक दवाएं प्रसव वेदना को प्रेरित करने में मदद करती हैं या नहीं, पल्सेटिला और कौलोफिलम जैसे उपचार अक्सर बताए जाते हैं। चूंकि इनसे उपयोगकर्ता को किसी भी तरह का नुकसान नहीं होता है और आम तौर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है, होम्योपैथिक उपचार आज़माया जा सकता है। हालांकि, हम आपको किसी भी दवा लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह देते हैं, भले ही यह होम्योपैथिक हो।

निष्कर्ष

यदि आपकी गर्भावस्था 42 सप्ताह से अधिक की हो गई है या यदि आपके पहले प्रसव समय पर हुए हैं, तो प्रसव वेदना को प्रेरित करना आवश्यक हो सकता है। जब आपकी गर्भावस्था 40 सप्ताह से अधिक की हो जाती है, तो गर्भनाल आपके बच्चे के लिए आवश्यक पोषक तत्व और ऑक्सीजन प्रदान करने में सक्षम नहीं रहती है और तब चिकित्सीय रूप से प्रसव वेदना प्रेरित करना आवश्यक हो जाता है। प्रसव वेदना को प्रेरित करने के लिए चिकित्सीय विधियों के इस्तेमाल से पहले, आप कुछ प्राकृतिक तरीकों से कोशिश कर सकती हैं जो आपको दवाओं से बचा सकती हैं। हम जोर देकर अनुशंसा करते हैं कि किसी भी तरीके को आज़माने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करें।