जन्म नियंत्रण स्पंज – उपयोग, प्रभावशीलता, लाभ और अधिक जानकारियाँ

जन्म नियंत्रण स्पंज

Last Updated On

कभीकभी कुछ अप्रत्याशित दुष्प्रभावों के कारण महिलाओं के लिए जन्म नियंत्रण के सामान्य तरीके प्रभावी रूप से कार्य नहीं कर पाते हैं। ऐसे मामले में, कोई भी महिला योनि स्पंज या गर्भनिरोधक स्पंज का विकल्प चुन सकती है। योनि स्पंज जन्म नियंत्रण का एक साधन है जिसका उपयोग कभी भी बंद किया जा सकता है। कुछ महिलाएं गर्भावस्था से बचने के लिए योनि स्पंज का उपयोग करना पसंद कर सकती हैं क्योंकि यह अधिकांश दुकानों में आसानी से उपलब्ध है और इसको उपयोग करना पर्याप्त रूप से सरल है। हालांकि, अगर योनि स्पंज की तुलना पुरुष कंडोम से की जाए तो यह एच.आई.वी. जैसे यौन संक्रामक रोग (एस.टी.डी.) से सुरक्षा प्रदान करने में सक्षम नहीं है।

गर्भनिरोधक स्पंज क्या है?

गर्भनिरोधक स्पंज या जन्म नियंत्रण स्पंज एक डोनट के आकार का (गोल छल्ले के जैसा) स्पंज होता है, जिसका नाप लगभग 2 इंच होता है। यह नर्म व गोल योनि स्पंज पॉलीयुरेथेन फोम से बनाया जाता है। यह स्पंज अवरोध और शुक्राणुनाशक विधियों के द्वारा गर्भावस्था को रोकने में मदद करता है।

गर्भनिरोधक स्पंज को संभोग से पहले योनि के भीतर गहराई तक डाला जाता है।यह स्पंज गर्भाशय ग्रीवा के ऊपर एक सुरक्षात्मक आवरण बनाता है और शुक्राणु को गर्भाशय में जाने से रोकता है। प्रत्येक ग्रीवा स्पंज में कपड़े से बना एक फंदा बनाया जाता है जिसकी सहायता से इसे आसानी से बाहर खींचा जा सकता है। स्पंज पुन: प्रयोग के लिए उपयुक्त नहीं है और इसे एक बार उपयोग के बाद फेंक देना अनिवार्य है।

यह किस तरह से कार्य करता है

स्पंज का कार्य एक मध्यपट (डायाफ्राम) के कार्य जैसा होता, यह नियंत्रण पद्धति दो तरीकों से काम करती है। स्पंज में एक गढ्ढा होता है जो इसे गर्भाशय ग्रीवा पर कसकर बैठाता है और एक सुरक्षात्मक अवरोध उत्पन्न करता है और शुक्राणुओं के गर्भाशय में प्रवेश को बाधित करता है। यह स्पंज गर्भाशय ग्रीवा अर्थात योनि और गर्भाशय के बीच के संपर्क मार्ग में प्रवेश करने से पहले ही वीर्य को अवशोषित कर लेता है।

योनि के स्पंज में भी शुक्राणुनाशक, एक शुक्राणुनष्ट करने वाला पदार्थ होता है जो शुक्राणु को डिंब तक पहुँचने से रोकता है। महिलाओं को संभोग से पहले स्पंज का उपयोग करने की सही विधि का पालन करना आवश्यक है। योनि में गहराई से डालने से पहले स्पंज को पानी से भिगोना होता है और आप संभोग से पहले लगभग 24 घंटे तक इस स्पंज को योनी में डालकर रख सकती हैं।

उपयोग के बाद, आप इस स्पंज के साथ बंधे हुए धागे की मदद से इसे बाहर निकाल सकती हैं। स्पंज का उपयोग या तो कंडोम के साथ या इसे सिर्फ ऐसे ही उपयोग किया जा सकता है। हालांकि, इसे कंडोम के साथ उपयोग करने से गर्भावस्था को बेहतर तरीके से रोकी जा सकती है।

गर्भनिरोधक स्पंज की प्रभावशीलता

यहाँ बताया गया है कि स्पंज, गर्भावस्था को रोकने में कैसे मदद करता है:

1. गर्भावस्था को रोकने के लिए स्पंज की प्रभावशीलता

जब हम जन्म नियंत्रण की बात करते हैं, तो गर्भनिरोधक स्पंज बाज़ार में उपलब्ध सबसे बेहतरीन विकल्प नहीं है , खासकर अगर महिला सिर्फ एक बार ही गर्भवती हुई हो। हालांकि, इसके सभी प्रभावी प्रयोग के लिए संभोग से पहले स्पंज का उचित उपयोग करना महत्वपूर्ण है। इस उत्पाद के निर्देशों का सही ढंग से पालन करने और संभोग से पहले हर बार सही ढंग से इसका उपयोग करने से इसकी कार्यक्षमता बढ़ सकती है। लेकिन वास्तविक रूप से हर बार इसका सही तरीके से उपयोग करना पूरी तरह से संभव नहीं होता है।

यदि एक महिला जो अभी तक गर्भवती नहीं हुई है और स्पंज का सही उपयोग करती है तो इसके प्रभावशीलता का दर 91% तक हो सकता है। लेकिन वास्तविक रूप से यह 88% से अधिक प्रभावी नहीं होता है। लेकिन हम अगर वास्तविकता की बात करें तो एक महिला जिसने पहले जन्म दिया है, उसके मामले में, इसकी सफलता का दर 80% से कम हो सकता है। इसलिए यह पहले से गर्भवती ही महिलाओं के लिए गर्भनिरोध का सटीक चुनाव नहीं होता है।

तो यह सुरक्षित रूप से माना जा सकता है कि गर्भनिरोधक स्पंज का उपयोग करने वाले औसतन 100 में से 9 – 11 महिलाएं एक वर्ष में गर्भवती हो सकती हैं।

2. स्पंज की प्रभावशीलता बढ़ाने के तरीके

स्पंज की प्रभावशीलता बढ़ाने के तरीकों में से एक यह है कि आप हर बार संभोग करने से पहले इसका ठीक से उपयोग करें। संभोग से पहले हर बार स्पंज का लगातार इस्तेमाल करने से भी इसकी कार्यक्षमता बढ़ सकती है। लेकिन इसकी प्रभावशीलता को बढ़ावा देने का एक निश्चित तरीका गर्भ निरोधक गोलियां या पुरुष कंडोम जैसे गर्भनिरोध की एक अन्य विधि के साथ संयोजन में इसका उपयोग किया जा सकता है।

दूसरा तरीका यह हो सकता है कि अगर आपका साथी वीर्य स्खलित नहीं करे और योनि के अंदर वीर्य स्रावित करने से पहले बाहर निकाल ले। फिर भी स्पंज और पुरुष कंडोम दोनों का एक साथ उपयोग करना सबसे प्रभावी तरीका हो सकता है क्योंकि कंडोम यौन संक्रामक रोगों को भी अच्छी तरह से रोक सकता है।

3. क्या स्पंज यौन संक्रामक रोगों से रक्षा कर सकता है?

स्पंज यौन संक्रामक रोगों से किसी भी प्रकार की सुरक्षा प्रदान नहीं कर सकता है। इसके विपरीत, स्पंज का उपयोग आपको एच.आई.वी. जैसे यौन संक्रामक रोगों के अधिक खतरे में डाल सकता है। शुक्राणुनाशक स्पंज की प्रभावशीलता काफी कम हो जाती है क्योंकि शुक्राणुनाशक में, जो स्पंज को आवरण देता है, वह नॉनओक्स्ज़ीनॉल-9 होता है, यह एक रासायनिक मिश्रण है जो योनि की दीवारों में जलन उत्पन्न कर सकता है और अधिक असुरक्षित बना सकता है जिसके कारण यौन संक्रामक रोगों के कीटाणु योनि के मार्ग से शरीर में आसानी से प्रवेश कर सकते हैं। इसलिए यौन संक्रामक रोगों को रोकने के लिए, नियमित रूप से खुद की जाँच करवाना बेहतर विकल्प है।

स्पंज का उपयोग कैसे करें

प्रभावी जन्म नियंत्रण के लिए स्पंज के सही उपयोग पर पर्याप्त जोर नहीं दिया जा सकता है। जब आप इसका पर्याप्त अभ्यास कर लेती हैं तो स्पंज का उपयोग करना काफी सरल हो सकता है। स्पंज का उपयोग एक टेम्पोन के उपयोग जैसा ही होता है।

1. गर्भनिरोधक स्पंज डालने का तरीका

स्पंज का उपयोग करते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना आवश्यक है:

  • स्पंज डालने से पहले पानी और साबुन से हाथों को अच्छी तरह से धोना महत्वपूर्ण है।
  • स्पंज के आवरण को हटाने के बाद, इसे थोड़ा पानी से गीला करें।
  • स्पंज को कुछ समय के लिए या झागदार होने तक हल्का से निचोड़ें, शुक्रणुनाशक को सक्रिय करने के लिए स्पंज पूरी तरह से गीला होना चाहिए।
  • ध्यान रखें कि स्पंज को सूखा न रखें।
  • स्पंज के गड्ढे वाले हिस्से को ऊपर की ओर रखते हुए, किनारों को ऊपर की तरफ मोड़ें (जैसे आप किसी चीज को आधे में मोड़ती हैं) ताकि स्पंज लंबा और संकरा रहे। स्पंज का गड्ढेवाला हिस्सा शरीर के सामने की तरफ होना चाहिए जबकि स्पंज का फंदा शरीर के पीछे की ओर होना अनिवार्य है।
  • आरामदायक स्थिति में बैठने की कोशिश करें जैसे आप अपने आप को कुर्सी के किनारे या पालथी मार कर संतुलित कर सकती हैं। आप लेट कर या अपने एक पैर को कुर्सी पर रखते हुए खड़े होकर भी स्पंज डाल सकती हैं।
  • अपनी उंगलियों की मदद से स्पंज को योनि में अधिक अंदर डालें, इसे जहाँ तक संभव हो वहाँ तक खिसकाने की कोशिश करें, जैसे ही आप स्पंज को जगह पर छोड़ेंगी वह अपने आप खुल जाएगा और कसकर गर्भाशय ग्रीवा को ढंकने लायक हो जाएगा।
  • अपनी उंगलियों को स्पंज के सभी तरफ और किनारों पर घुमाकर सुनिश्चित करें की गर्भाशय ग्रीवा अच्छी तरह से ढक चुकी है या नहीं और साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि फंदा स्पंज के तल पर है या नहीं।

आपको हर एक विवरण को याद रखने के लिए ज़ोर देने की आवश्यकता नहीं है, सभी उत्पाद निर्देशों के पूरे सेट के साथ आते हैं। दिए गए निर्देशों का पालन करने से आपको स्पंज का सही उपयोग करने में मदद मिलेगी।

2. इस स्पंज का उपयोग कब किया जा सकता है?

आप संभोग से लगभग 24 घंटे पहले स्पंज को अंदर डाल सकती हैं। जैसे ही शुक्राणुनाशक पानी से सक्रिय होता है और योनि में डाला जाता है, स्पंज उपयोग करने के लिए तैयार है। इसलिए जन्म नियंत्रण के इस उत्पाद को आप संभोग से पहले ही जगह पर रख लें। स्पंज योनि के अंदर होने के बाद, आप अगले 24 घंटों तक बिना किसी रुकावट के जितनी बार चाहें संभोग कर सकती हैं, आपको उस अवधि के लिए स्पंज को बदलने की आवश्यकता नहीं है।

3. आप एक स्पंज को कितनी देर तक भीतर रख सकती हैं?

संभोग के बाद आपको कम से कम 6 घंटे तक स्पंज को अंदर छोड़ने की आवश्यकता होती है। लेकिन सावधान रहें,इसे कुल 30 घंटे से अधिक अंदर न रखें। हालांकि, कुल 30 घंटों के लिए स्पंज को अंदर छोड़ने की कोई विवशता नहीं है, लेकिन सुरक्षा की दृष्टी से बेहतर होगा की संभोग के 6 घंटे बाद स्पंज को निकाल दिया जाए।

4. स्पंज को हटाने की प्रक्रिया

अपने हाथों को सावधानी से धोने के बाद, योनि में एक उंगली डालिए और उसे, स्पंज के फंदे के चारों ओर जकड़िये, फिर बहुत धीरे से और लगातार फंदे की मदद से स्पंज को योनि से बाहर निकालें। यदि आप स्पंज के फंदे को खोज नहीं पाती हैं तो आप स्पंज को ही पकड़ सकती हैं और धीरेधीरे इसे बाहर निकाल सकती हैं। यदि आप स्पंज तक पहुँचने में कठिनाई का अनुभव करती हैं, तो उस तक पहुँचने की कोशिश करते समय अपनी योनि की मांसपेशियों की मदद से ज़ोर लगाने का प्रयास कर सकती हैं। उपयोग किए हुए सपंज को कचरे के डिब्बे में ही फेंके।

गर्भनिरोधक स्पंज कितना सुरक्षित है

  • जन्म नियंत्रण स्पंज का उपयोग आमतौर पर सुरक्षित माना जाता है, लेकिन कुछ महिलाएं इसके दुष्प्रभावों का अनुभव कर सकती हैं।
  • कुछ महिलाओं को अपनी योनि में उंगली डालना सहज नहीं लगेगा।
  • कुछ महिलाओं के लिए स्पंज को योनि के अंदर ठीक से डालना मुश्किल हो सकता है।
  • मासिक धर्म के दौरान स्पंज के उपयोग करने से बचें।
  • इसके सुरक्षित उपयोग के किसी भी संदेह की स्थिति में, गर्भनिरोधक स्पंज का उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श लेना हमेशा उचित होता है।

स्पंज के क्या जोखिम है

यदि आपकी निम्नलिखित चिकित्सा स्थितियाँ हैं, तो आप स्पंज के उपयोग बचें:

  • यदि आप पॉलीयुरेथेन, शुक्राणुनाशक, सल्फाइट के प्रति संवेदनशील हैं या आपको उससे एलर्जी है।
  • यदि आपका टी.एस.एस. (टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम) का चिकित्सीय इतिहास है।
  • हाल ही में हुए अकाल प्रसव, गर्भपात या बच्चे के जन्म के मामले में।
  • यदि आप योनि के संक्रमण से पीड़ित हैं।
  • यदि योनि से किसी प्रकार का रक्तस्राव होता है।

यदि स्पंज का उपयोग करते समय आप निम्नलिखित किसी भी लक्षण का अनुभव करती हैं, तो इसका उपयोग तुरंत बंद कर दें और किसी डॉक्टर से संपर्क करें, संकेत कुछ इस प्रकार हैं:

  • अचानक अत्यधिक बुखार
  • दस्त
  • उल्टी
  • एक लाल और खुजलीदार चकत्ता जो धूप में झुलसी त्वचा की तरह दिखता और महसूस होता है
  • गले में दर्द या जलन
  • जोड़ों और मांसपेशियों में पीड़ा
  • चक्कर आना और कमज़ोरी

जन्म नियंत्रण स्पंज के लाभ

कई महिलाएं निम्नलिखित फायदों के कारण, जन्म नियंत्रण स्पंज का विकल्प चुन सकती हैं:

  1. जन्म नियंत्रण स्पंज सस्ता होता है और अपने छोटे आकार के कारण साथ में ले जाने के लिए सुविधाजनक है, यह किसी भी पर्स या जेब में फिट हो सकता है।
  2. इसका सही उपयोग करने से यह आपको या आपके साथी को शायद ही महसूस होगा।
  3. महिला के प्राकृतिक हॉर्मोन पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ता है
  4. आप स्तनपान के दौरान इसका उपयोग कर सकती हैं।
  5. इसे अधिकांश दवा की दुकानों से, डॉक्टर के पर्चे के बिना भी खरीदा जा सकता है।
  6. आप इसे बिना किसी कठिनाई के ऑनलाइन भी खरीद सकती हैं।
  7. गर्भ निरोधक स्पंज के उपयोग के लिए डॉक्टर के हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि इसके उपयोग के लिए किसी भी गंभीर सर्जरी या फिटिंग की आवश्यकता नहीं है, उपयोगकर्ती इसे खुद ही डाल सकती है।
  8. यह आपको 24 घंटों तक गर्भावस्था से सुरक्षा प्रदान कर सकता है
  9. जन्म नियंत्रण स्पंज आपको नियंत्रण प्रदान करता है क्योंकि आप इसे संभोग से पहले अपनी योनि के अंदर रख सकती हैं और इसे 30 घंटे तक भी अंदर छोड़ सकती हैं।
  10. स्पंज का उपयोग करना आसान है और इससे आपको या आपके साथी को कोई दिक्कत नहीं होती है।
  11. इसका उपयोग बंद करना अत्यधिक आसान है। यदि आप गर्भवती होने की इच्छा रखती हैं, तो आप संभोग से पहले इस स्पंज का उपयोग न करें।
  12. स्पंज को अपनी योनि के अंदर रखने के बाद, आप इसे निकाले बिना या किसी भी अन्य व्यवधान के 24 घंटों में कई बार संभोग कर सकती हैं।

नुकसान

जन्म नियंत्रण के अन्य सभी तरीकों की तरह, स्पंज के कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। हालांकि, आमतौर पर अधिकांश महिलाओं द्वारा गर्भनिरोधक स्पंज उपयोग करने के लिए सुरक्षित माना जाता है, कुछ महिलाओं ने इसके दुष्परिणामों की शिकायत भी की है, इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं जो इस प्रकार हैं:

  1. कुछ महिलाओं को योनि में स्पंज डालने के दौरान असुविधा या कठिनाई का अनुभव हो सकता है। स्पंज के सही ढंग से उपयोग करने का तरीका सीखने में काफी अभ्यास करना पड़ सकता है।
  2. कई बार ऐसा हो सकता है कि योनि से बाहर खींचने की प्रक्रिया के दौरान स्पंज का फंदा बीच में ही टूट जाए। ऐसे मामले में, अवशेषों को हटाने के लिए डॉक्टर के हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है।
  3. कुछ मामलों में स्पंज में मौजूद शुक्राणुनाशक योनि में जलन पैदा कर सकता है।
  4. यदि आप स्पंज का उपयोग कर रही हैं, तो कभीकभी संभोग अस्तव्यस्त या गीला हो सकता है क्योंकि स्पंज को योनि में डालने से पहले झागदार करना पड़ता है।
  5. जब भी आप संभोग करती हैं, स्पंज की प्रभावशीलता काफी हद तक इसके सही और उचित उपयोग पर निर्भर करती है। वास्तव में, स्पंज का सही ढंग से उपयोग करना हर बार आसान नहीं होता है। इसलिए, किसी के लिए भी जन्म नियंत्रण की एक प्रभावी विधि के रूप में, स्पंज की प्रभावशीलता सुनिश्चित करना मुश्किल है।
  6. कभीकभी स्पंज के बारबार और लगातार उपयोग के कारण कुछ महिलाओं को संभोग करते समय योनि में कुछ सूखापन का अनुभव हो सकता है, क्योंकि योनि की चिकनाई को स्पंज सोंख लेता है।
  7. एक बार उपयोग करने के बाद स्पंज को दोबारा इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।
  8. हर बार संभोग करते समय आपको स्पंज का उपयोग करने की आवश्यकता होती है, ऐसा नहीं करने से इसके प्रभाव पर प्रतिकूल असर हो सकता है।
  9. आपके द्वारा संभोग करने के 6 घंटे बाद ही स्पंज को हटाया जा सकता है। इसे अपनी योनि के अंदर कुल 30 घंटों से अधिक लंबे समय तक न रखें।
  10. स्पंज आपको यौन संक्रामक रोगों से सुरक्षा प्रदान नहीं करता है।
  11. स्पंज के लगातार उपयोग से आपमें एच.आई.वी. और अन्य संक्रमण के खतरे बढ़ सकते हैं क्योंकि स्पंज में मौजूद शुक्राणुनाशक योनि की दीवारों में जलन उत्पन्न कर सकता है जिस कारण यौन संक्रामक कीटाणु आपके शरीर कोए अतिसंवेदनशील बना सकते हैं।
  12. कुछ महिलाओं को नॉनओक्स्ज़ीनॉल-9 (स्पंज के शुक्रणुनाशक में मौजूद रसायन) से एलर्जी हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर में असुविधा और जलन हो सकती है।
  13. जो महिलाएं स्पंज को जन्म नियंत्रण के तौर पर इस्तेमाल करती हैं, उनमें टी.एस.एस. (टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम) नामक एक दुर्लभ लेकिन खतरनाक बीमारी होने का खतरा होता है।
  14. यदि आप इसे संयोगवश चखते हैं तो स्पंज का शुक्राणुनाशक अप्रिय लग सकता है।

आप इसे कहाँ से खरीद सकती हैं?

शुक्राणुनाशक स्पंज को अधिकांश फार्मेसी या केमिस्ट से किसी भी पर्चे के बिना खरीदा जा सकता है, जन्म नियंत्रण स्पंज ऑनलाइन भी उपलब्ध है।

जन्म नियंत्रण स्पंज की कीमत आपके निवास स्थान और जहाँ से आप इसे खरीद रही हैं, उसके आधार पर भिन्न हो सकती है। उदाहरण के लिए, अमेरिका में प्रचलित, जन्म नियंत्रण स्पंज का प्रचलित ब्रांड द टुडे स्पंजहै और इसके तीन स्पंज के पैक की कीमत लगभग $ 15 है। लेकिन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों या दवाखानों पर मुफ्त या कम कीमत पर भी स्पंज उपलब्ध हो सकते हैं।

गर्भनिरोधक स्पंज का सही और लगातार उपयोग करना अनिवार्य है। विश्वसनीय जन्म नियंत्रण विधि के रूप में इसकी प्रभावशीलता का पता लगाने का सिर्फ यही एक तरीका है। उत्पाद के निर्देशों का पालन करने से स्पंज का सही उपयोग करने में मदद मिलती है। अभ्यास की मदद से इसका उपयोग कोई भी महिला बहुत सरलता से कर सकती है । यदि आप लगातार स्पंज का उपयोग करने के बारे में अनिश्चित हैं, तो आप हमेशा जन्म नियंत्रण के अन्य तरीकों को चुन सकती हैं जो तुलनात्मक रूप से उपयोग करने में आसान होते हैं और आरोपण या आई.यू.डी. (अंतर्गर्भाशयी यंत्र) जैसे भरोसेमंद होते हैं। किसी भी मामले में, स्पंज के साथ पुरुष कंडोम का उपयोग करना, आपको गर्भावस्था और यौन संक्रामक रोगों से सबसे अच्छी सुरक्षा प्रदान कर सकता है।