लड़कियों की लंबाई और वजन के अनुसार ग्रोथ चार्ट: 0 से 12 महीने

लड़कियों की लंबाई और वजन के अनुसार ग्रोथ चार्ट: 0 से 12 महीने

Last Updated On

यदि आप एक बच्ची के माता-पिता हैं और उसके पहले साल में उसके विकास को समझने के लिए उत्सुक हैं, तो यह लेख आपकी मदद करेगा। एक महीने से 12 महीने तक की लड़कियों के विकास के बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ें। बच्चों के डॉक्टर आमतौर पर एक ग्रोथ चार्ट के आधार पर बच्चों लंबाई और वजन को ट्रैक करते हैं। यह उसकी वृद्धि को निर्धारित करने के लिए एक असली मार्गदर्शक के रूप में कार्य करता है, तथा विकास में किसी भी किस्म की देरी को प्रतिबंधित करने का कार्य भी करता है।

लड़कियों की ग्रोथ चार्ट (0-12 महीने)

लड़कियों की ग्रोथ चार्ट

लड़कियों की ग्रोथ चार्ट उसकी लंबाई, वजन और समय-समय पर लिए गए सिर के घेरे के मापों के आधार पर बनाया जाता है। जन्म के समय पहला माप लिया जाता है। डॉक्टर बच्चों का वजन खास तौर पर बच्चों के लिए बनाए गए वेइंग मशीन में लेते हैं। बच्चे की लंबाई को उसे पीठ के बल लेटा कर और सिर से पैर तक उसकी लंबाई को मापकर लिया जाता है। सिर के घेरे को उसके सिर के चारों ओर, भौंहों के पास लगाकर एक मापने वाले टेप का उपयोग करके मापा जाता है। इसके बाद के माप, डॉक्टर के पास चेकअप के दौरान या टीकाकरण के समय लिए जाते हैं। ऊपर बताए सभी मानों को जोड़कर एक पर्सेंटाइल निकला जाता है जिससे बच्चे के विकास के पैटर्न को समझने में मदद मिलती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) के मान्य चार्ट से तुलना करके बच्चों की पर्सेंटाइल वृद्धि का हिसाब लगाया जाता है। डब्लूएचओ का चार्ट कई हजार स्वस्थ बच्चियों के साथ किए गए सर्वे के आंकड़ों पर आधारित है जिससे एक पर्सेंटाइल गणना मिलती है। न्यूनतम मान 3 पर्सेंटाइल है, और अधिकतम है 97 पर्सेंटाइल। आमतौर पर एक बच्चे के विकास के मापदण्ड इस न्यूनतम से अधिकतम सीमा तक कहीं भी आ सकते हैं।

आयु (महीनों में) वजन (किलोग्राम में) लंबाई (सेंटीमीटर मे) सिर का घेरा (सेंटीमीटर में)
0 2.4 – 4.2 45.6 – 52.7 31.7 – 36.1
1 3.2 – 5.4 50.0 – 57.4 34.3 – 38.8
2 4.0 – 6.5 53.2 – 60.9 36.0 – 40.5
3 4.6-7.4 55.8 – 63.8 37.2-41.9
4 5.1-8.1 58.0-66.2 38.2-43.0
5 5.5-8.7 59.9-68.2 39.0-43.9
6. 5.8-9.2 61.5-70.0 39.7-44.6
7 6.1-9.6 62.9-71.6 40.4-45.3
8 6.3-10.00 64.3-73.2 40.9-45.9
9 6.6-10.4 65.6-74.7 41.3-46.3
10 6.8-10.7 66.8-76.1 41.7-46.8
11 7.0-11.0 68.0-77.5 42.0-47.1
12 7.1-11.3 69.2-78.9 42.3-47.5

लड़कियों की ग्रोथ चार्ट पर्सेंटाइल को समझना

बच्चों की ग्रोथ चार्ट पर्सेंटाइल को समझना थोड़ा पेचीदा हो सकता है। हालांकि, यह बच्चों की वृद्धि को परिमाणित करने का एक सरल तरीका है। यह प्रतिशतक गणना डब्लूएचओ के विकास चार्ट द्वारा प्रदान किए गए मानक परिमाणों से ली गई है।

मान लीजिए कि एक बच्चे का वजन 75वें पर्सेंटाइल में आता है, इसका मतलब यह है कि लड़कियों के एक समूह में, 75% बालिकाओं का वजन उसके वजन से कम है और 25% बालिकाओं का वजन उसके वजन से ज्यादा है। यह सामान्य मानकों की तुलना में बच्चे के स्वास्थ्य और विकास के बारे में एक उचित अनुमान देता है। प्रत्येक मापदण्ड, अर्थात् वजन, लंबाई और सिर के घेरे का मान हर बच्चे में अलग-अलग होता है। विकास के समस्त मूल्यांकन में ये तीन पैरामीटर शामिल होते हैं।

लड़कियों की ग्रोथ चार्ट को कैसे पढ़ें?

एक माता-पिता होने के नाते, बच्चों के वजन और लंबाई पर आधारित ग्रोथ चार्ट को कैसे पढ़ें आपको जानना चाहिए। आप शिशु के विकास चार्ट को बेहतर ढंग से समझने के लिए अपने बच्चों के डॉक्टर की सहायता भी ले सकते हैं। वैसे आजकल कई ऑनलाइन एप्लीकेशन हैं जो वजन, लंबाई या सिर के घेरे के माप के प्रतिशतक की गणना संबंधी में आपकी मदद कर सकते हैं। आप किसी एक की मदद से अपने बच्चे के व्यक्तिगत पर्सेंटाइल का पता लगा सकते हैं, इसके अलावा समस्त विकास को ध्यान से समझने के लिए एक ग्राफ के रूप में भी व्यक्तिगत प्रतिशतकों को तैयार कर सकते हैं। विकास के चार्ट का अध्ययन करते समय याद रखने वाले कुछ बिंदु इस प्रकार हैं:

  • हमेशा ध्यान रखें कि तुलना उसी लिंग (लड़की या लड़का) के बारे में की गई हो। लड़के और लड़कियों के लिए विकास मूल्यों की न्यूनतम और अधिकतम सीमा के बीच में थोड़ा अंतर होता है।
  • बीमार बच्चों की ली गई माप सही परिणाम नहीं बताते हैं, विशेष रूप से वजन। इसलिए, ऐसी स्थितियों में विकास के ग्राफ में एक गिरावट को अनदेखा किया जा सकता है अगर बीमारी से ठीक होने के बाद वजन में लगातार सुधार होता है।
  • दाँत निकलना, भूख न लगना, बीमारी आदि कारणों से वजन में उतार-चढ़ाव होता है। इसकी वजह से एक बच्चे के वजन चार्ट का ग्राफ थोड़ा गिर सकता है। वजन घटने के इन कारणों को बच्चे के विकास में गिरावट के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए।
  • अधिकतम पर्सेंटाइल को एक अच्छी वृद्धि दर माना जाता है, लेकिन यह जरुरी नहीं है कि शिशुओं को हमेशा अधिकतम प्रतिशत सीमा के करीब होना चाहिए।
  • बच्चे की लंबाई और वजन महत्वपूर्ण हैं जिन्हें विकास का मूल्यांकन करते समय ध्यान में रखा जाना चाहिए। जिन बच्चों के शुरुआत में कम ग्रोथ पर्सेंटाइल है, वे आगे चलकर अपने विकास के वर्षों में अपेक्षित लंबाई और वजन को प्राप्त  कर लेते हैं। इसलिए, प्रत्येक बच्चे की वृद्धि का मूल्यांकन जन्म के मूल्यों को ध्यान में रखकर, लंबे समय की अवधि के आधार पर किया जाना चाहिए।
  • बच्चे ज्यादातर एक्टीव रहते हैं, जिस कारण उनके पहले वर्ष के दौरान लंबाई, वजन और सिर के घेरे का माप लेते समय त्रुटियां संभव हैं। यह बच्ची की लंबाई के चार्ट में बदलाव ला सकता है। यदि आप को किसी माप के बारे में संदेह है, तो आप डॉक्टर से पुनः माप लेने का अनुरोध कर सकते हैं।

लड़कियों के विकास को प्रभावित करने वाले कारक

एक बालिका के विकास को कई कारक प्रभावित करते हैं, जो कि आनुवांशिक, स्वास्थ्य और बाहरी वातावरण का मिश्रण हो सकता है। ये उनमे से कुछ हैं:

1. आनुवांशिक

बच्चे की वृद्धि में जीन की बहुत बड़ी भूमिका होती है। जो माता-पिता औसत लंबाई से अधिक लंबे होते हैं या तन्दुरूस्त होते हैं, संभावना है कि वे यही जीन अपने बच्चे को भी देंगे।

2. पोषण

विकसित होने के लिए शिशुओं को एक निश्चित मात्रा में कैलोरी और पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। इस उम्र में शिशुओं को आमतौर पर माँ के दूध या फार्मूला दूध से उनके पोषक तत्व मिलते हैं, और उनका विकास दूध की गुणवत्ता, अवधि और फीड की संख्या से प्रभावित होता है।

3. बीमारी

सामान्य बीमारियां जैसे सर्दी, कान का संक्रमण आदि, एक बच्चे के विकास में हल्का रुकावट पैदा करते हैं, क्योंकि वह उस दौरान कम खा रहे होते हैं और उनमे ज्यादा चिड़चिड़ापन होता है। एक बार जब बच्चे ठीक हो जाते हैं, तो उनका विकास सामान्य हो जाने की संभावना होती है।

4. गर्भवती माँ का स्वास्थ्य जब बच्ची गर्भ में थी

यदि आपकी गर्भावस्था स्वस्थ रही है तो आपके शिशु की सामान्य वृद्धि होने की अधिक संभावना है। चूंकि गर्भावस्था के दौरान शिशु मुख्य रूप से आपसे पोषण प्राप्त करता है, इसलिए यह आवश्यक है कि आपका शरीर आपके और बच्चे दोनों का समर्थन करने के लिए पर्याप्त पोषक तत्व पैदा करे।

बच्चे के विकास के मामले में आपको कब चिंता करनी चाहिए?

बच्चे के विकास के मामले में आपको कब चिंता करनी चाहिए?

विकास की जांच करते समय किसी भी मापदण्ड में अचानक गिरावट एक समस्या का संकेत हो सकती है। यदि ग्राफ लगातार नीचे की ओर गिरता है, तो यह संभवतः एक विकास संबंधी समस्या का संकेत है। इसके अलावा, यदि कोई भी मापदण्ड सबसे कम पर्सेंटाइल में है, तो आप डॉक्टर से इस पर चर्चा कर सकते हैं। कुपोषण की संभावना भी हो सकती है, और इसलिए, आप अपने डॉक्टर से विकास को परिपूर्ण करने के तरीकों के बारे में पूछ सकते हैं।

विशेष रूप से जन्म के पहले वर्ष में अपनी बच्ची के विकास को तय करना, अच्छे स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने और किसी भी विकास संबंधी समस्याओं को नामुमकिन करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

ऊपर बताए गए ग्रोथ ट्रैकर के साथ आप अपनी बच्ची की लंबाई, वजन और कुल विकास की जांच करें, और उन्हें ट्रैक करें।

यह भी पढ़ें:

1 वर्ष के बच्चे के लिए भोजन योजना
शिशु का आहार – क्या और कितना खिलाएं