डिंबोत्सर्जन – सामान्य संकेत और लक्षण जानें

डिंबोत्सर्जन - सामान्य संकेत और लक्षण जानें

Last Updated On

अपने डिंबोत्सर्जन के दिनों को जानने से आप यह निर्धारित कर सकती हैं कि आप किस समय ज्यादा प्रजननक्षम हैं, और इससे आप अपने गर्भवती होने की संभावना को बढ़ा सकती हैं।

डिंबोत्सर्जन क्या है?

जब अंडाशय से डिंब निकलता है तब डिंबोत्सर्जन होता है। एक या एक से अधिक डिंब आपके मासिक धर्म की अवधि के बीच अंडाशय से निकलते हैं।

आमतौर पर, अंडाशय के अंदर 15-20 डिंब परिपक्व होते हैं, और अंडाशय के फॉलिकल से सबसे परिपक्व डिंब निकलता है। डिंब तभी निकलता है जब वह पूरी तरह से तैयार होता है। यह तब उस डिंबवाही नलिका (फैलोपियन ट्यूब) में आ जाता है जो अंडाशय को गर्भाशय से जोड़ती है। यह डिम्बवाही नलिका ही है जहाँ यदि शुक्राणु मौजूद हों, तो डिंब शुक्राणु से मिलता है, और निषेचित होता है। डिंबोत्सर्जन और हार्मोनल स्राव को हाइपोथैलेमस द्वारा नियंत्रित किया जाता है, जो मस्तिष्क का एक हिस्सा है। सीधे शब्दों में कहें, डिंबोत्सर्जन वह अवधि है जब एक महिला सबसे ज्यादा प्रजननक्षम होती है।

डिंबोत्सर्जन कब होता है?

आप गर्भवती होने की संभावना बढ़ा सकती हैं यदि आपको पता रहे कि आप कब डिंबोत्सर्जन कर रही हैं। हालांकि डिंबोत्सर्जन की सटीक तारीखों का अनुमान लगाना मुश्किल है, यह आमतौर पर अगला मासिक धर्म शुरू होने से 12 से 14 दिन पहले होता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह एक औसत अनुमान है, और डिंबोत्सर्जन का समय उसके कुछ दिन पहले या बाद में हो सकता है।

यदि आपका मासिक धर्म नियमित रूप से चलता है, जो कि 28 दिन का होता है, तो अपने मासिक धर्म के पहले दिन को दिन 1 के रूप में मानें। आपकी दिन 10 से दिन 15 के आसपास डिंबोत्सर्जन की संभावना होती है।

यदि आपका मासिक धर्म अनियमित है, तो डिंबोत्सर्जन एक सप्ताह बाद या एक सप्ताह पहले हो सकता है, और यह एक महीने से दूसरे महीने में भिन्न हो सकता है।

एक बार डिंब मुक्त होने के बाद, 24 घंटे तक जीवित रहता है। यदि इसे निषेचित नहीं किया गया, तो यह खत्म हो जाता है और अगला मासिक धर्म चक्र शुरू कर देता है। दूसरी ओर, आपके साथी के शुक्राणु का जीवन चक्र लंबा होता है जो संभोग के बाद पांच दिनों तक अंडे को निषेचित कर सकता है।

मेरी प्रजननक्षम अवधि कब होती है?

प्रजननक्षम अवधि महिला के मासिक धर्म चक्र के वे दिन होते हैं जब उसके गर्भवती होने की अत्यधिक संभावना होती है। महिला गर्भवती हो जाती है यदि वह अपने डिंबोत्सर्जन के पांच दिन पहले से लेकर डिंबोत्सर्जन के दिन के बीच संभोग करती है।

मेरी प्रजननक्षम अवधि कब होती है?

ये छह दिन एक महिला के लिए काफी प्रजननक्षम होते हैं। नतीजतन, डिंबोत्सर्जन के छह दिनों के भीतर अगर संभोग किया जाए तो गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है। यदि कोई महिला डिंबोत्सर्जन की तारीख के करीब संभोग करती है, तो उसके गर्भधारण करने की संभावना सबसे अधिक होती है।

क्या आप डिंबोत्सर्जन प्रति माह करती हैं?

यदि आप तनावग्रस्त या रोगग्रस्त हैं तो इससे डिंबोत्सर्जन प्रभावित होता है। कभीकभी, तनाव का उच्च स्तर, अत्यधिक व्यायाम या अनुपयुक्त आहार एक डिम्बाक्षरणी चक्र को चालू कर सकते हैं जिसका अर्थ है कि उस चक्र में डिंबोत्सर्जन नहीं होता है। इस चक्र के दौरान, महिला को कुछ रक्तस्राव का अनुभव होता है जो कि एक मासिक धर्म नहीं होता है बल्कि यह एक गर्भाशय की परत के अत्यधिक निर्माण के कारण होता है जो स्वयं को बनाए रखने में सक्षम नहीं है।

ओव्यूलेशन का क्या कारण है?

मस्तिष्क में पिट्यूटरी ग्रंथि मासिक धर्म चक्र की शुरुआत में फोलिकल उत्तेजक हार्मोन का उत्पादन करती है। यह हार्मोन अंडाशय को परिपक्व अंडे का उत्पादन करने के लिए उत्तेजित करता है। फॉलिकल अंडाशय में गुहा के रूप में होते हैं जो तरल पदार्थ से भरे होते हैं। उनमें से प्रत्येक में अविकसित डिंब होता है। हार्मोन एस्ट्रोजन हार्मोन के विकास और उत्पादन के लिए कई फॉलिकल को उत्तेजित करता है।

ओव्यूलेशन का क्या कारण है?

कई फॉलिकल विकसित होने लगते हैं, लेकिन आमतौर पर केवल एक ही फोलिकल प्रमुख होता है। इसी फोलिकल में डिंब परिपक्व होने लगता है। एस्ट्रोजन का स्तर, जो डिंबोत्सर्जन अवधि के पहले दिन सबसे कम होता है, धीरेधीरे बढ़ता जाता है और पोषक तत्वों और रक्त के साथ गर्भ की परत को मोटा करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह आपके शरीर को संभावित गर्भावस्था के लिए तैयार करने में मदद करता है। यदि डिंब निषेचित हो जाता है, तो यह परत आवश्यक समर्थन और पोषक तत्व प्रदान करती है जो डिंब को जीवित रहने और बढ़ने के लिए आवश्यकता होती है। एस्ट्रोजन का उच्च स्तर शुक्राणुअनुकूल श्लेम युक्त होता है जिसे प्रजननक्षम ग्रीवा श्लेम कहा जाता है। यह एक पतला और चिकना स्राव होता है जो कि मटमैला सफेद रंग का होता है। श्लेम के कारण शुक्राणु के लिए आसानी से तैरना और कई दिनों तक जीवित रहना संभव होता है।

शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ता रहता है और ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एल.एच.) में वृद्धि का कारण बनता है। एल.एच. की वृद्धि से प्रमुख फॉलिकल फूटता है, और फॉलिकल फिर अंडाशय से डिंब को डिम्बवाही नलिका में प्रवेश करने के लिए छोड़ देता है। यही डिंबोत्सर्जन का कारण होता है।

डिंबोत्सर्जन का पूर्वानुमान कैसे लगाएं?

हालांकि डिंबोत्सर्जन दिवसों का सटीक पूर्वानुमान करना कठिन है, फिर भी, कुछ तरीके हैं जिनसे डिंबोत्सर्जन के संभावित दिनों का अनुमान लगाने में मदद मिलती है।।

1. कैलेंडर विधि

यदि आपका मासिक धर्म नियमित है, तो आप इस विधि का उपयोग कर सकती हैं, जिसे मानक दिनों की विधि के रूप में भी जाना जाता है। इस विधि में, आपको अपनी मासिक धर्म की अपेक्षित अवधि के 14 दिन पहले से गणना करने की आवश्यकता होती है। प्रजननक्षम अवधि की गणना डिंबोत्सर्जन के दिन और उससे पहले के पांच दिनों की होती है।

हालांकि यह एक बहुत ही आसान तरीका है, लेकिन यह बहुत सटीक नहीं है, भले ही आपको अपने अगले मासिक घर्म की सटीक तारीख पता हो। ऐसा इसलिए है क्योंकि मासिक धर्म से 14 दिन पहले डिंबोत्सर्जन का होना जरूरी नहीं होता है।

डिंबोत्सर्जन मासिक धर्म के दिन से पहले सात से उन्नीस दिनों के बीच हो सकता है। इसलिए, मासिक धर्म के 14 दिन पहले डिंबोत्सर्जन होने की संभावना बहुत कम होती है। इस विधि के इस्तेमाल से संभव है कि आपको अपनी प्रजननक्षम अवधि का पता न चल सके। यह विधि, हालांकि, मुफ्त है, और एक फर्टिलिटी ओव्यूलेशन कैलकुलेटर का उपयोग करके डिंबोत्सर्जन के दिन की गणना की जा सकती है।

2. ओव्यूलेशन प्रिडिक्टर किट

ओव्यूलेशन प्रिडिक्टर किट से आप अपने हार्मोन के स्तर का परीक्षण कर सकती हैं। परीक्षण किट दो प्रकार की होती हैं। एक मूत्र का परीक्षण करती है और दूसरी लार का परीक्षण करती है। पीऑनस्टिक परीक्षण दर्शाता है कि एल.एच. स्तर कब बढ़ गया है, जो इंगित करता है कि आपका अंडाशय जल्द ही एक डिंब जारी करेगा। लार परीक्षण एक माइक्रोस्कोप का उपयोग करता है और सूखे लार में एक विशेष आकार की जाँच करता है जो डिंबोत्सर्जन से कुछ दिन पहले एस्ट्रोजन स्तर में वृद्धि को इंगित करता है।

ओव्यूलेशन किट एल.एच. में वृद्धि का पता लगाने में 99℅ तक सटीक परिणाम देती है। हालांकि, किट इस बात की पुष्टि करने में असमर्थ होती है कि डिंबोत्सर्जन एक या दो दिन बाद होगा या नहीं। इसके अलावा, कुछ महिलाओं में अंडे के मुक्त हुए बगैर भी एल.एच. बढ़ जाता है जिससे आप भ्रमित हो सकती हैं।

ओव्यूलेशन प्रिडिक्टर किट

3. शरीर के बुनियादी तापमान का चार्ट बनाएं

अपने शरीर के बुनियादी तापमान में किसी भी परिवर्तन को जाँचने के लिए चार्ट बनाएं जिससे संभावित डिंबोत्सर्जन दिनों को निर्धारित करने में मदद मिल सकती है।अपने शरीर के चक्र को समझने के लिए कुछ चक्रों तक के लिए इसका परीक्षण किया जाना चाहिए। समय के साथ विकसित होने वाला पैटर्न आपको यह बताता है कि आप कब अगली बार डिंबोत्सर्जन कर सकती हैं। यह विधि मुफ्त है लेकिन बहुत समय, प्रयास और धैर्य माँगती है।

डिंबोत्सर्जन के 12 से 24 घंटे बाद बी.बी.टी. बदलता है और डिंबोत्सर्जन से दो दिन पहले महिला की प्रजनन क्षमता सबसे अधिक होती है। चूंकि डिंब का जीवन काल केवल एक दिन होता है, जब आप बी.बी.टी. विधि का उपयोग करते हुए गर्भ धारण करने की कोशिश करती हैं तो गर्भ धारण के लिए बहुत कम समय बचा हो सकता है।

4. गर्भ ग्रीवा श्लेम विधि

गर्भ ग्रीवा का श्लेम एक तरह का योनि स्राव है जो कभीकभी अंतर्वस्त्र पर देखा जा सकता है। महीने के दौरान अधिकतर, बहुत कम श्लेम निकलता है, और यह बहुत चिपचिपा और गाढ़ा भी होता है। लेकिन, डिंबोत्सर्जन से तीन से चार दिन पहले, उसके दौरान और बाद में, स्राव में वृद्धि होती है और इसके गाढ़ेपन में भी बदलाव होता है। यह स्पष्ट, चिकना और बहुत लचीला होता है। यह आपके डिंबोत्सर्जन के दिनों के लिए एक संकेत के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

इस विधि में एक महिला को गर्भाशय ग्रीवा के श्लेम के गाढ़ेपन को देखकर डिंबोत्सर्जन के दिनों को समझने की आवश्यकता होती है। विधि पूरी तरह से महिला की सोच पर निर्भर है और चूंकि इसे मापने का कोई साधन नहीं है, इसलिए यह कभीकभी गलत हो सकता है। यह विधि उन महिलाओं के लिए भी उपयोगी नहीं है जिनमे बहुत सारा श्लेम स्रावित होता हैं या बहुत अनियमित चक्र हैं।

इसलिए, यदि आप जानना चाहती हैं कि आप कब डिंबोत्सर्जन करती हैं, तो आप उपरोक्त विधियों में से एक का उपयोग कर सकती हैं।

संकेत कि आप डिंबोत्सर्जन कर रही हैं

क्या मैं डिंबोत्सर्जन कर रही हूं? आप कुछ संकेतों से पता कर सकती हैं कि आप डिंबोत्सर्जन कर रही हैं या नहीं। हालांकि, ये लक्षण एक स्त्री से दूसरी स्त्री में भिन्न होते हैं, और यह भी संभव है कि आपको किसी भी लक्षण का अनुभव न हो।

सामान्य संकेत जो आपको बताते हैं कि आप डिंबोत्सर्जन कर रही हैं:

1. गर्भाशय ग्रीवा के द्रव के गाढ़ेपन में बदलाव

गर्भाशय ग्रीवा द्रव अंडे की सफेदी जैसा दिखता है और इससे पता चलता है कि आप अपने डिंबोत्सर्जन के दिनों के करीब हैं। आपके मासिकधर्म के कुछ हफ्ते बाद, शरीर डिंबोत्सर्जन की तैयारी शुरू कर देता है और इससे श्लेम स्पष्ट और चिकना हो जाता है। श्लेम लगभग 9 दिनों तक इस रूप में रहता है। गर्भाशय ग्रीवा के द्रव का रूप अलगअलग महिलाओं में भिन्न हो सकता है। हालांकि, जब आप डिंबोत्सर्जन कर रही हों तो आपको ग्रीवा द्रव के गाढ़ेपन में कुछ बदलाव दिख सकता है। यदि आपको एक दिन में बहुत अधिक स्राव होता है (सामान्य से बहुत अधिक), और यदि आपकी उंगलियों पर एकत्र होने पर श्लेम लचीला नज़र आता है, तो आप उम्मीद कर सकती हैं कि अगले दो दिनों में डिंबोत्सर्जन होने की संभावना है और हो सकता है कि आप उसी दिन डिंबोत्सर्जन करें।

2. शरीर के बुनियादी तापमान में बदलाव

अधिकांश महिलाओं के लिए डिंबोत्सर्जन से पूर्व शरीर का मूल तापमान एक समान बना रहता है। यह डिंबोत्सर्जन के समय के करीब कम हो जाता है और फिर डिंबोत्सर्जन के बाद इसमें तेज वृद्धि देखी जाती है। जब तापमान में वृद्धि होती है, तो यह एक संकेत है कि आपने अभीअभी डिंबोत्सर्जन किया है। कुछ महीनों के लिए शरीर के बुनियादी तापमान पर नज़र रखते हुए एक चार्ट बनाएं, और बारीकी से उसके अध्ययन से, आपको पता चल जाएगा है कि आप कब डिंबोत्सर्जन कर रही हैं।

शरीर के बुनियादी तापमान में बदलाव

3. गर्भाशय ग्रीवा की स्थिति में बदलाव

गर्भाशय ग्रीवा, जो गर्भाशय का सबसे निचला हिस्सा है, डिंबोत्सर्जन के दौरान कई परिवर्तनों से गुजरती है। जब आप डिंबोत्सर्जन करती हैं, तो यह नरम और ऊपर होता है। यह खुल भी जाता है और गीला रहता है। यह जानने में कुछ समय लग सकता है कि डिंबोत्सर्जन के समय आपकी गर्भाशय ग्रीवा कैसी महसूस होती है और उसमें क्या परिवर्तन होते हैं। हम अनुशंसा करते हैं कि आप इन कुछ समय के लिए इन परिवर्तनों के चक्र पर ध्यान दें और इन्हें लिख लें।

डिंबोत्सर्जन के लक्षण क्या हैं?

डिंबोत्सर्जन के अन्य संकेत हैं:

  • हल्का रक्त स्राव
  • श्रोणि के एक भाग में हल्की ऐंठन या दर्द
  • स्तन को छूने पर दर्द होना
  • पेट फूलना
  • डिंबोत्सर्जन दर्द, या पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • यौन रुचि में वृद्धि
  • स्वाद, गंध और दृष्टि संवेदनशीलता में वृद्धि
  • मतली और सिरदर्द

पहले इन लक्षणों को समझना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, लेकिन समय के साथ इन्हें पहचानना आसान हो जाता है। इन संकेतों पर ध्यान देने से डिंबोत्सर्जन दिनों को समझना आसान हो जाता है और फिर इस समय गर्भाधान के बारे में सोचा जा सकता है।

मुझे डिंबोत्सर्जन परीक्षण के लिए कब जाना चाहिए?

यह जानना कि आप कब डिंबोत्सर्जन कर रही हैं, गर्भवती होने की आपकी संभावनाएं बढ़ा देती है। डिंबोत्सर्जन परीक्षण कराने से आप मासिक धर्म चक्र और चक्र में डिंबोत्सर्जन दिनों को जान सकती हैं। एक डिंबोत्सर्जन परीक्षण आपके मूत्र में ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन की उपस्थिति के साथसाथ उसकी मात्रा का पता करता है। यह परीक्षण उन लोगों के लिए विशेष रूप से उपयोगी है जिनका मासिक धर्म नियमित नहीं है।

डिंबोत्सर्जन से लगभग 12-36 घंटे पहले, एल.एच. के स्तर में वृद्धि होती है। इससे आपको पता चल सकता है कि आपके अंडाशय से एक डिंब जारी होने वाला है दूसरे शब्दों में, यह आपको बताता है कि आप कब डिंबोत्सर्जन कर रही हैं। यदि डिंबोत्सर्जन परीक्षण सकारात्मक है, तो इसका मतलब है कि आप में डिंबोत्सर्जन की संभावना है।

आप अपने मासिक धर्म चक्र से 17वें दिन पहला डिंबोत्सर्जन परीक्षण कर सकती हैं। इसलिए, यदि आपका मासिक चक्र 28 दिन का है तो 11वें दिन से आप यह जाँचना शुरू कर सकती हैं कि डिंब बन रहा है या नहीं। और यह करना 17वें दिन तक जारी रख सकती हैं। यदि आपका चक्र अनियमित है, तो आपको पिछले 6 महीनों में सबसे छोटे चक्र के आधार पर जांच शुरू करनी चाहिए। आपके चक्र में जितनी अधिक भिन्नता होगी, आपके डिंबोत्सर्जन दिनों को जानने के लिए उतने अधिक परीक्षणों की आवश्यकता होगी। ज्यादातर महिलाएं अपने पहले सकारात्मक डिंबोत्सर्जन परीक्षण के 12-36 घंटे बाद डिंबोत्सर्जन करती हैं।

आप एक ओव्यूलेशन टेस्ट किट खरीद सकती हैं या डॉक्टर से परामर्श कर सकती हैं। अधिकांश किट बताती हैं कि दिन के किस समय आपको डिंबोत्सर्जन परीक्षण करने की आवश्यकता है। कुछ किट्स के लिए सुबह जब एल.एच. स्तर अधिक होता है, तब परीक्षण करना होता है, जबकि अन्य किट्स के लिए दोपहर में परीक्षण की आवश्यकता होती है जब मूत्र में हार्मोन होते हैं। इसलिए, पैकेज के अनुदेश का पालन करना सबसे अच्छा है।

यदि आप गर्भवती होने के बारे में सोच रही हैं, तो यह जानना जरूरी है कि आप कब डिंबोत्सर्जन कर रही हैं, क्योंकि ये वे दिन हैं, जिनमें आप सबसे प्रजननक्षम हैं। जबकि यह सच है कि कोई भी डिंबोत्सर्जन की सही तारीख का पता नहीं कर सकता है, ऊपर सूचीबद्ध तरीके और लक्षण आपको एक सूचित अनुमान लगाने में मदद कर सकते हैं और इस प्रकार आपके सफल गर्भाधान की संभावना को बढ़ा सकते हैं।