पीसीओएस के साथ गर्भवती होने के लिए 12 प्रभावी सुझाव

पीसीओएस के साथ गर्भवती होने के लिए 12 प्रभावी सुझाव

Last Updated On

पीसीओएस (पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम) एक बेहद आम स्वास्थ्य समस्या है, जिसमें एक महिला के शरीर में प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का उच्च स्तर उसे गर्भवती होने से रोकता है। यह हार्मोन असंतुलन के कारण अंडाशय में गांठ बनने के कारण होता है। इससे महिलाओं के लिए गर्भधारण करना मुश्किल हो जाता है। हालांकि, जीवनशैली में कुछ बदलाव करके, सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाकर और अपनी ओर से थोड़े प्रयास के साथ, पीसीओएस की समस्या वाली महिलाओं के लिए गर्भवती होना संभव है।

पीसीओएस के साथ गर्भधारण कैसे करें

नीचे सूचीबद्ध सुझाव हैं, जो पीसीओएस की समस्या के साथ एक महिला को गर्भधारण करने में मदद करते हैं।

पीसीओएस के साथ गर्भधारण कैसे करें

1. जीवनशैली में बदलाव लाएं

आपके शरीर में इंसुलिन के प्रतिरोध को कम करने के लिए, स्वस्थ भोजन करना, अच्छी नींद लेना (हर दिन 7-8 घंटे) और नियमित व्यायाम करना महत्वपूर्ण है। शराब, मादक पदार्थों के सेवन और धूम्रपान से बचना चाहिए। विटामिन की खुराक का सेवन (अपने डॉक्टर से परामर्श करने के बाद) आपके हार्मोन और इंसुलिन के स्तर को संतुलित करने में मदद कर सकता है और गर्भधारण में सहायता कर सकता है।

2. तनाव न लें

हम सभी को जीवन में विभिन्न समस्याओं के कारण तनाव का अनुभव होना स्वाभाविक है। हालांकि, ऐसा करने से केवल हार्मोन असंतुलन बढ़ता है। इसलिए, कोशिश करें और अपने जीवन में तनाव को कम करें। लंबी सैर पर जाएं, प्रतिदिन योग और प्राणायाम का अभ्यास करें, ध्यान करें, जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण रखें और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि खुश रहें।

3. सक्रिय रहें

एक सुस्त जीवन शैली के कारण आपका वजन बढ़ सकता है। इसलिए इंसुलिन प्रतिरोध से लड़ने के लिए सक्रिय होना बहुत महत्वपूर्ण है। खेल खेलना, तैरना या टहलना, अपने घर के कामों को किसी और को करने के लिए कहने के बजाय खुद करना शारीरिक रूप से सक्रिय रहने और गर्भाधान की संभावनाओं को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। पीसीओएस के साथ गर्भवती होने के लिए कई अच्छे योगासन हैं।

4. डॉक्टर से परामर्श करें

एक डॉक्टर सबसे सही व्यक्ति है जो आपको उन दिनों के बारे में बताने में मदद करता है जब आपके गर्भधारण की संभावना अधिक होती है। गर्भवती होने के लिए पीसीओएस का उपचार क्या है, यह केवल एक डॉक्टर ही जानता है, और वह आपको कुछ दवा दे सकता है, जो ओव्यूलेशन को कम करने वाले हार्मोन असंतुलन को ठीक करने में मदद कर सकती है।

5. क्रोमियम और मैग्नीशियम का स्तर

शरीर में क्रोमियम और मैग्नीशियम के निम्न स्तर के कारण बांझपन हो सकता है। इसलिए, इन दो आवश्यक खनिजों से परिपूर्ण आहार लेने या सप्लीमेंट्स लेने से एक महिला को गर्भधारण करने में मदद मिल सकती है।

6. इंसुलिन प्रतिरोधी भोजन से बचें

जो भोजन इंसुलिन प्रतिरोध का कारण बनता है, शरीर का वजन, और रक्त शर्करा का स्तर बढ़ाता है उसके सेवन से बचना चाहिए, जैसे शीतल पेय, मैदे की रोटी, चावल, आलू, रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट आदि ।

7. गैर-स्टार्च वाली सब्जियों, फलों और प्रोटीन से भरपूर आहार

पीसीओएस के उपचार में दवा, एक्यूपंक्चर और सर्जरी शामिल हैं लेकिन प्राकृतिक रूप से पीसीओएस का इलाज कैसे करें, और गर्भवती कैसे हों? आसान है। हरी पत्तेदार और बिना स्टार्च वाली सब्जियों, फलों और नट्स से भरपूर पौष्टिक भोजन खाएं। यह हमारे शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने में मदद करता है और इसके परिणामस्वरूप हार्मोन असंतुलन ठीक होता है जो गर्भाधान को संभव बनाता है।

8. विटामिन डी की कमी का इलाज

गर्भाधान में सहायता के लिए विटामिन डी एक अनुकूल सीमा पर होना चाहिए। विटामिन डी फॉलिकल अंडे की परिपक्वता और विकास से सीधे तौर पर संबंधित है। इसलिए, जो महिलाएं गर्भधारण करना चाहती हैं, उन्हें विटामिन डी से भरपूर आहार लेकर या विटामिन डी के सप्लीमेंट्स लेकर और निश्चित रूप से रोजाना आधे घंटे के लिए सुबह की धूप में बाहर निकल कर अपने शरीर में विटामिन डी के स्तर को बढ़ाना चाहिए।

9. इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ)

अगर आपको पीसीओएस है तो आईवीएफ गर्भधारण करने का एक शानदार तरीका है। यह एक महंगी और समय लेने वाली प्रक्रिया है। इस कारण, हर कोई इसका लाभ नहीं उठा सकता है। हालांकि, पीसीओएस के साथ कई महिलाओं को गर्भवती होने और स्वस्थ शिशुओं को जन्म देने में बड़ी सफलता मिली है।

10. इलेक्ट्रो एक्यूपंक्चर

दवाओं के अलावा पीसीओएस के इलाज में इसे सबसे अच्छे विकल्पों में से एक कहा जाता है। गोथेनबर्ग विश्वविद्यालय द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार, इलेक्ट्रो-एक्यूपंक्चर पीसीओएस के कुछ लक्षणों को कम करने में मदद करता है। एक्यूपंक्चर बिंदु जैसे कि घुटने के पीछे और पेट की मांसपेशियां जो अंडाशय के साथ जुड़ी हुई हैं, में सुईयां डाली जाती हैं। फिर इन बिंदुओं को कम-आवृत्ति वाले विद्युत आवेश से प्रेरित किया जाता है। इससे मासिक धर्म चक्र अधिक नियमित होता है और यह टेस्टोस्टेरोन के स्तर को कम करता है।

11. आहार में ओमेगा 3 शामिल करें

आपके आहार में ओमेगा 3 का समावेश लेप्टिन प्रतिरोधी और इंसुलिन प्रतिरोधी समस्याओं सहित कई स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है जो महिलाओं में पीसीओएस के प्रमुख कारण हैं। पीसीओएस से ग्रसित महिलाओं में कोर्टिसोल के स्तर को कम करने के लिए भी यह एक अच्छा उपचार है।

12. सूजन का इलाज

पीसीओएस के प्रमुख कारणों में से एक है सूजन जिसका लंबे समय से इलाज नहीं किया गया हो । अधिवृक्क ग्रंथियों और अंडाशय की सूजन के कारण टेस्टोस्टेरोन के स्तर में वृद्धि होती है जो सामान्य मासिक धर्म चक्र और ओव्यूलेशन को रोकती है, जबकि मस्तिष्क की सूजन लेप्टिन प्रतिरोध का कारण बनती है और मांसपेशी कोशिका प्रतिरोध के कारण  इंसुलिन प्रतिरोध होता है। इसलिए पीसीओएस को ठीक करने के लिए सूजन का इलाज करवाना आवश्यक है। सूजन को कम करने के लिए, महिलाओं को अपने आहार में सभी प्रकार के सूजन पैदा करने वाले खाद्य पदार्थ जैसे कि अनाज, चीनी के सभी प्रकार, तेल जैसे कैनोला, सोयाबीन, सूरजमुखी और वेजिटेबल, प्रसंस्कृत सोया और डेयरी उत्पादों से बचना चाहिए।

पीसीओएस एक महिला के लिए गर्भधारण करना मुश्किल बनाता है लेकिन यह असंभव नहीं है। आपको बस सही उपचार, सही दृष्टिकोण और सबसे महत्वपूर्ण धैर्य की जरूरत है।

यह भी पढ़ें:

प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए 12 सर्वश्रेष्ठ जड़ी बूटियाँ
जल्दी और आसानी से गर्भधारण कैसे करें