गर्भावस्था के 11वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड

गर्भावस्था के 11वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड

Last Updated On

गर्भावस्था के लगभग ग्यारहवें सप्ताह तक आपका शिशु आधिकारिक तौर पर अपरिपक्व गर्भ से भ्रूण बन जाता है। उसके चेहरे की स्पष्ट आकृति और लिंग संबंधी अंग विकास की गति पर होते हैं। ग्यारहवें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड स्कैन के द्वारा आपको अपने गर्भ में हो रही शिशु के विकास की एक रोमांचित करने वाली छवि देखने को मिलती है । इस समय में की गई यह जांच कई विसंगतियों, संलक्षणों या विकृतियों का पता लगाने के लिए चिकित्सीय रूप से भी महत्वपूर्ण होती है।

11वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड स्कैन की आवश्यकता क्यों होती है

गर्भावस्था की प्रथम तिमाही में अल्ट्रासाउंड करना हमेशा बहुत खास होता है क्योंकि यह आपके विकासशील शिशु की झलक दिखाता है। ग्यारहवें सप्ताह का स्कैन आपको पहली बार यह दिखाता है कि आपका शिशु कैसा दिखाई देता है। यह आरंभिक अवस्था भी है, जिसमें चिकित्सक शिशु में कुछ विसंगतियों की पहचान कर सकते हैं। ग्यारहवें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड जांच के विविध उद्देश्य हैं। यहाँ कुछ कारण बताए गए हैं कि ग्यारहवें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड करने से क्यों नहीं चूकना चाहिए।

  • ग्यारहवें सप्ताह में जांच के दौरान, भ्रूण में क्रोमोसोम संबंधित असामान्यताओं जैसे डाउन सिंड्रोम (मंगोलता) की जांच की जाती है। रोग निदान के लिए जांच से प्राप्त परिणामों का रक्त जांच के परिणामों के साथ मूल्यांकन किया जाता है।
  • गर्भनाल की स्थिति और आकार की जांच की जाती है।
  • एमनियोटिक द्रव की मात्रा का आकलन किया जाता है।
  • भ्रूण की गर्दन के नीचे के ऊतक में पारदर्शी स्थान के रूप में न्युकल ट्रांस्लूसेंसी (एन.टी.) को मापा जाता है। इसका उपयोग सिंड्रोम के जोखिम मूल्यांकन कारक के रूप में किया जाता है। किसी भी जन्मजात हृदय रोग की पहचान करने के लिए एक दिशानिर्देश के रूप में भी न्युकल ट्रांस्लूसेंसी का उपयोग किया जाता है।
  • गर्भ में एक से अधिक भ्रूण होने पर इस जांच के दौरान स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं। ग्यारहवें सप्ताह के अल्ट्रासाउंड स्कैन में आमतौर पर जुड़वां शिशु स्पष्ट रूप से दो अलग गर्भावस्था कोष में दिखाई दे जाते हैं।
  • सामान्य गर्भावस्था का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाता है।
  • भ्रूण की वृद्धि के आधार पर शिशु की गर्भकालीन आयु की जांच की जाती है।

11वें सप्ताह के अल्ट्रासाउंड जांच की तैयारी कैसे करें

चूंकि गर्भाशय पेट के निचले भाग में होता है, इसलिए मूत्राशय के भरे होने से भ्रूण की बेहतर झलक प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। आप थोड़ा ज्यादा पानी पी सकती हैं और जांच के लिए खुद को तैयार कर सकती हैं। हालांकि, कुछ वाले अल्ट्रासाउंड जांच करने वाले केवल आंशिक रूप से भरे मूत्राशय को उचित मानते हैं। इस दौरान आरामदायक और ढीले कपड़े पहनने से पेट पर जांच करना आसान हो जाता है ।

11वें सप्ताह के अल्ट्रासाउंड स्कैन में कितना समय लगता है

ग्यारहवें सप्ताह का अल्ट्रासाउंड स्कैन आमतौर पर एक सरल प्रक्रिया होती है, जिसमें कुछ मिनट ही लगते हैं। एक अनुभवी सोनोग्राफर न्युकल ट्रांस्लूसेंसी को  आसानी से मापता है और अन्य महत्वपूर्ण विकास मापदंडों जैसे कि सिर से पैर की लंबाई, गर्भ में थैली का व्यास, नाल की स्थिति और आकार, आदि की जांच करता है। भ्रूण की स्थिति जांच के लिए लगने वाले समय में देरी कर सकती है। कभी-कभी शिशु एक तरफ घूम जाता है या मुड़ जाता है, जिससे गर्दन के नीचे के ऊतक का माप लेना बहुत मुश्किल हो जाता है। आमतौर पर, जब तक कि भ्रूण की सही स्थिति उपलब्ध न हो जाए, सोनोग्राफर स्कैन को फिर से करने का सुझाव देते हैं ।

11वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड स्कैन की प्रक्रिया

ग्यारहवें सप्ताह में स्कैन सामान्यतः ट्रांस एब्डॉमिनल किया जाता है। एक विशेष जेल को पेट के निचले हिस्से पर लगाया जाता है और ट्रान्सडूसर डिवाइस, जो आपके गर्भाशय में अल्ट्रासाउंड तरंगों को भेजता है, को भ्रूण के स्पष्ट दृश्य प्राप्त करने के लिए पेट के ऊपर घुमाया जाता है। सभी आंतरिक और बाहरी अंगों के बेहतर दृश्य प्राप्त करने के लिए, शिशु की छवियों को ऊपर की तरफ से और किनारों से लिया जाता है।

11वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड स्कैन कैसे किया जाता है

स्कैन में क्या दिख सकता है

कई माताएं ग्यारहवें सप्ताह के अल्ट्रासाउंड स्कैन के बारे में चिंतित होती हैं। यद्यपि यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्कैन है जो भ्रूण में किसी भी तरह की असामान्यता की पहचान करता है, किंतु इससे घबराने की जरूरत नहीं है। यह संभवत: पहली बार है जब आप अपने शिशु को हिलते हुए देख सकती हैं, इसलिए इस रोमांच के लिए तैयार रहें।

 

ग्यारहवें सप्ताह की अल्ट्रासाउंड जांच में शिशु के हाथ-पैर बन जाते हैं और उसकी आकृति मनुष्य जैसी दिखने लगती है। आपके शिशु का सिर और हड्डियां इस अवस्था में अच्छी तरह से विकसित हो चुकी हैं। हालांकि उसका शरीर अभी भी एक बड़े सिर और अपेक्षाकृत छोटे धड़ के साथ अनुपातहीन है। आप अपने शिशु को एमनियोटिक द्रव से भरी थैली में उछलते और लात मारते हुए देख सकते हैं। इस सप्ताह में शिशु के जननांग बनने शुरू हो जाते हैं और स्कैन में स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं दे सकते हैं। आपके सोनोग्राफर इस अवस्था में शिशु के लिंग के बारे में निष्कर्ष निकालने में सक्षम नहीं हो सकते हैं । इस अवस्था में भ्रूण केवल एक या दो इंच लंबा होता है, लेकिन इसमें तेजी से विकसित होती हुई अंग प्रणाली उपस्थित होती है।

स्कैन में कोई असामान्यता दिखने पर क्या होगा

यदि ग्यारहवें सप्ताह के भ्रूण का अल्ट्रासाउंड स्कैन क्रोसोम संबंधी किन्हीं असामान्यताओं की संभावना को इंगित करता है, तो आप अपने डॉक्टर से इस बात की पुष्टि के लिए अन्य परीक्षणों के बारे में पूछ सकते हैं। स्कैन में दिखे एन.टी. परिमाण भ्रूण की असामान्यता के लिए निर्णायक साक्ष्य नहीं होते हैं। आमतौर पर जांच के निष्कर्षों की पुष्टि करने के लिए ट्राइसोमी 21 (डाउन सिंड्रोम) और ट्राइसोमी 18 निर्धारित करने के लिए एक रक्त परीक्षण किया जाता है। डॉक्टर भ्रूण के डी.एन.ए. की जांच के लिए सुई का उपयोग करके एम्नियोटिक द्रव का नमूना लेने वाली ‘एम्निओसेंटेसिस’ नामक एक पीड़ादायक प्रक्रिया की सलाह दे सकते हैं । इसमें गर्भपात का थोड़ा जोखिम होता है और दंपति अपने जेनेटिक काउंसलर या डॉक्टर से सलाह के बाद इसे करवाने का फैसला कर सकते हैं।

पीड़ादायक प्रक्रिया से बचने के लिए, आप 18-20 सप्ताह तक विसंगति स्कैन का इंतजार कर सकते हैं, जो असामान्य वृद्धि के कुछ हल्के संकेत पहचान सकता है। इन सभी संकेतों के आधार पर, डॉक्टर या जेनेटिक काउंसलर आपको निदान और आगे की प्रक्रिया में मदद करेंगे।

भ्रूण में किन्हीं भी जन्मजात विसंगतियों की पहचान करने के संदर्भ में ग्यारहवें सप्ताह में एन.टी. स्कैन एक बहुत महत्वपूर्ण जांच है। यद्यपि केवल स्कैन परिणाम निदान के लिए पर्याप्त नहीं है, तथापि यह निश्चित रूप से आगे के परीक्षणों के लिए दिशानिर्देश के रूप में कार्य करता है।