गर्भावस्था के दौरान एंटीरियर प्लेसेंटा

गर्भावस्था के दौरान एंटीरियर प्लेसेंटा

Last Updated On

प्लेसेंटा यानि नाल गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों में विकसित होती है। चपटा, पैनकेक जैसा यह अंग गर्भाशय की दीवार से जुड़ा होता है और विकासशील बच्चे को ऑक्सीजन और जरूरी पोषक तत्व प्रदान करता है, साथ ही साथ गर्भनाल (अम्बिलिकल कॉर्ड) के माध्यम से अपशिष्ट पदार्थों को भी हटाता है। डिंब कहाँ निषेचित हुआ है, इस बात पर निर्भर करते हुए नाल की स्थिति गर्भाशय के आगे, पीछे या किनारे पर हो सकती है। एंटीरियर प्लेसेंटा अर्थात ‘अग्रभाग गर्भनाल’ तब होती है जब नाल गर्भाशय के आगे की तरफ स्थित हो जाती है।

एंटीरियर प्लेसेंटा क्या होता है

आपके शिशु के रूप में विकसित होने वाला निषेचित डिंब फैलोपियन नली से गुजरकर गर्भाशय की दीवार के साथ खुद को अन्तःस्थापित करता है । जहाँ कहीं भी यह अंडा स्थापित होता है – गर्भाशय की ऊपरी सतह, किनारे या आगे और पीछे की दीवार के साथ, गर्भनाल वहीं पर बनती है। जब अंडा खुद को गर्भाशय के सामने की दीवार के साथ जोड़ता है, तो यह एक एंटीरियर प्लेसेंटा बनाता है। यदि आपका एंटीरियर प्लेसेंटा है, तो गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के आसपास की गई अल्ट्रासाउंड जांच के दौरान आपको यह पता चल जाएगा।

एक एंटीरियर प्लेसेंटा का भ्रूण किसी अन्य भ्रूण जितना ही सुरक्षित होता है क्योंकि इसका विकास किसी भी तरह से प्रभावित नहीं होता है। अग्रभाग गर्भनाल गर्भावस्था आपके भ्रूण को पोषण देने का काम करती है।

क्या एंटीरियर प्लेसेंटा होना एक समस्या है

गर्भाशय की दीवार के साथ-साथ सभी तरह की स्थितियां नाल के विकास के लिए सामान्य जगहें हैं। गर्भनाल सम्बन्धी स्वास्थ्य और शिशु का विकास उसकी स्थिति पर निर्भर नहीं करता है। इसलिए अग्रभाग गर्भनाल का होना कोई समस्या नहीं है।

  • एंटीरियर प्लेसेंटा के साथ एक गर्भावस्था, आपके बच्चे और आपके पेट की सतह के बीच एक गद्दे जैसी सुरक्षा प्रदान कर सकती है। इससे शिशु की शुरुआती गतिविधियों पर ध्यान जाना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।
  • ऐसे मामलों में जहाँ भ्रूण की गतिविधियां 23वें सप्ताह तक भी महसूस नहीं होती हैं, एक बार भ्रूण के स्वास्थ्य के आंकलन के लिए जाने से मांओं को आश्वासन मिलता है।
  • एंटीरियर प्लेसेंटा होने का मतलब यह भी हो सकता है कि उन गर्भावस्थाओं की तुलना में, जिनमें गर्भनाल कहीं और स्थित होती है, दूसरी तिमाही में शिशु की तीव्र हरकतें कुछ कम ही महसूस होंगी ।
  • आपके पेट की सतह के करीब इसका स्थान होने के बावजूद, एक अग्रभाग नाल भ्रूण के स्वास्थ्य के लिए कोई अतिरिक्त खतरा पैदा नहीं करता। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें कई परतें होती हैं – गर्भाशय की मोटी दीवार, पेट की मांसपेशियां और वसा, जो इसे बाहरी अंगों से बचाती हैं।
  • एंटीरियर प्लेसेंटा के कारण होने वाली जन्म सम्बन्धी जटिलताएं कम हैं। जन्म सम्बन्धी जटिलताएं केवल तभी हो सकती हैं, जब शल्यक्रिया की आवश्यकता होती है या जब गर्भनाल की स्थिति गर्भाशय की दीवार पर नीचे की तरफ होती है।
  • गर्भावस्था के दौरान गर्भनाल स्थान-परिवर्तन करती रहती है और यह संभव है कि एक नीचे स्थित गर्भनाल गर्भाशय के ऊपरी हिस्से में चली जाए और प्रसव के समय तक कोई जटिलता न पैदा करे।

हालांकि, यदि प्रसव के समय एंटीरियर प्लेसेंटा गर्भाशय में बहुत नीचे की तरफ है, तो यह गर्भाशय ग्रीवा यानी सर्विक्स को आंशिक या पूरी तरह से अवरुद्ध कर सकती है। इस स्थिति में सिजेरियन प्रसव आवश्यक हो जाता है। यह स्थिति, जिसे प्लेसेंटा प्रेविया कहा जाता है, एक दुर्लभ समस्या है।

एंटीरियर प्लेसेंटा के लक्षण क्या हैं

एंटीरियर प्लेसेंटा के लक्षण क्या हैं

एंटीरियर प्लेसेंटा का कोई विशिष्ट लक्षण नहीं है। यह केवल एक निश्चित लक्षण की अनुपस्थिति से पता लगाया जाता है, जो कि भ्रूण की गतिविधि होती है।

  • भ्रूण की गतिविधियां मुश्किल से महसूस होती हैं और पेट के किनारे तथा नीचे की तरफ अधिक तीव्र होती हैं क्योंकि एंटीरियर प्लेसेंटा पेट और गर्भाशय के बीच एक तकिये के रूप में कार्य करता है।
  • हाथ में पकड़े जाने वाले डॉपलर को भ्रूण के दिल की धड़कन का पता लगाने में थोड़ा अधिक समय लगता है ।
  • अग्रभाग गर्भनाल होने का मतलब यह भी हो सकता है कि ऐसी गर्भावास्थाओं की तुलना में, जिनमें गर्भनाल कहीं और स्थित होती है, दूसरी तिमाही में तेज हरकतें कुछ कम ही महसूस होती हैं ।

हालांकि यदि माँ को 23वें सप्ताह तक कोई हलचल महसूस नहीं होती है, तो एक बार भ्रूण के स्वास्थ्य का आंकलन और एक अल्ट्रासाउंड एक अच्छा विचार है।

एंटीरियर प्लेसेंटा के कारण होने वाली जटिलताएं

एंटीरियर प्लेसेंटा सामान्य रूप से गर्भावस्था के दौरान किसी भी जटिलता को प्रकट नहीं करता है। हालांकि, अपनी स्थिति के कारण यह असुरक्षित लग सकता है और जटिलताओं की संभावना हो सकती है। तथापि यह कोई नियम नहीं है अपितु अपवाद है । नाल, चूंकि एक वाहिकीय और रक्त-समृद्ध अंग है, इसलिए किसी भी तरह से फटने, टूटने, काटने या सुई लगाने के अतिरिक्त रक्तस्राव का खतरा होता है। कुछ एंटीरियर प्लेसेंटा जन्म संबंधी जटिलताएं हैं:

  • यदि सिजेरियन आवश्यक है तो एंटीरियर प्लेसेंटा के कारण प्रसव के दौरान जटिलताएं उत्पन्न हो सकती हैं एंटीरियर प्लेसेंटा स्थिति चीरा लगाने को अधिक जटिल बना सकती है या प्रसव के दौरान अधिक रक्तस्राव हो सकता है।
  • एम्नियोसेंटेसिस प्रक्रिया के दौरान, जिसमें भ्रूण की विकासात्मक असामान्यताओं की जांच करने के लिए, गर्भाशय में एक खोखली सुई का उपयोग करके एमनियोटिक द्रव का नमूना लिया जाता है, सुई लगाते समय जटिलताओं का सामना करना पड़ता है। इसमें भेदन, रक्तस्राव और झिल्ली के फट जाने जैसे जोखिम शामिल हैं।
  • एंटीरियर प्लेसेंटा के कारण पोस्टीरियर प्रेजेंटेशन और बैक लेबर – जो प्रसव के दौरान भयानक पीठ दर्द और दर्दनाक संकुचन का कारण बनता है, जैसी जटिलताओं की संभावना पैदा होती है।
  • नीचे की तरफ स्थित एंटीरियर प्लेसेंटा में ‘प्लेसेंटा प्रेविया’ जैसी जटिलताओं की संभावना होती है। इसमें प्लेसेंटा आंशिक या पूर्ण रूप से सर्विक्स को बंद कर देता है, जिससे सिजेरियन की आवश्यकता पड़ती है।
  • ‘प्लेसेंटा अक्रीटा’ वह समस्या है जब एंटीरियर प्लेसेंटा पहले हो चुके सिजेरियन निशान की जगह पर बढ़ता है और नाल गर्भाशय की दीवार की तरफ और उसके अंदर बढ़ने लगती है।

प्रसव से काफी पहले इन सभी स्थितियों का निदान करने हेतु अल्ट्रासाउंड और एम.आर.आई. स्कैन का प्रयोग करके एक सुरक्षित सिजेरियन प्रसव की योजना बनाई जा सकती है।

क्या सिजेरियन प्रसव एकमात्र विकल्प है

यदि किसी को एक एंटीरियर प्लेसेंटा है, तो जन्म देते समय सिजेरियन एकमात्र विकल्प नहीं है। यदि योनिद्वार बंद नहीं है, तो अग्रभाग गर्भनाल के बाद भी महिला के सामान्य प्रसव करने की पर्याप्त संभावना होती है।

एंटीरियर प्लेसेंटा और शिशु की हलचल

एंटीरियर प्लेसेंटा आपकी त्वचा और भ्रूण के बीच एक तकिये की तरह काम करता है, भ्रूण की गतिविधियों का पता गर्भावस्था के बाद के दिनों में लगेगा और यह नाभि के पास के बजाय पेट के नीचे और किनारों पर अधिक स्पष्ट होगा। अग्रभाग नाल वाली गर्भावस्था में पहली और दूसरी तिमाही में हाथ में पकड़े जाने वाले डॉपलर या फीटोमीटर द्वारा भ्रूण की हलचल और उसके दिल की धड़कन का पता लगाया जा सकता है। भ्रूण के अच्छे स्वास्थ्य की पुष्टि करने के लिए 23 सप्ताह के बाद अल्ट्रासाउंड की आवश्यकता हो सकती है। गर्भावस्था के आगे के चरणों में भी आपके बच्चे की गतिविधियों को महसूस करना थोड़ा कठिन हो सकता है। किसी भी स्तर पर भ्रूण की हलचल में कोई भी परिवर्तन होने पर या वे अचानक रुक जाने पर जांच की जानी चाहिए।

प्लेसेंटा का श्रेणीकरण

गर्भावस्था में गर्भनाल कैल्सीकरण और परिपक्व होने की प्रक्रिया से गुजरती है। यह कैल्शियम के जमाव को विकसित करती है और बाद में इसके कुछ हिस्से नष्ट होना शुरू हो जाते हैं। इनकी जगह रेशेदार ऊतक ले लेते हैं। यह कैल्सीकरण गर्भनाल के श्रेणीकरण का आधार है, जो इस प्रकार है:

ग्रेड 0

यह गर्भावस्था की शुरुआत में होता है

ग्रेड I

ग्रेड I

यह गर्भावस्था के 31 से 32 सप्ताह के आसपास होता है

ग्रेड II

ग्रेड II

यह लगभग 36 से 37 सप्ताह की गर्भावस्था में होता है

ग्रेड III

ग्रेड III

यह गर्भावस्था के लगभग 38 सप्ताह पर होता है, 37 सप्ताह से पहले नहीं।

ग्रेड III में, गर्भनाल बहुत अधिक कैल्सीकृत हो चुकी होती है। यह कैल्सीकरण गर्भावस्था का एक सामान्य हिस्सा माना जाता है, और किसी तरह की चिंता की वजह नहीं होता।

  • प्लेसेंटा प्रेविया, मधुमेह, उच्च रक्तचाप या गंभीर रूप से खून की कमी जैसी पहले से मौजूद परिस्थितियों के साथ समयपूर्व कैल्सीफिकेशन के मामलों में देखभाल की आवश्यकता होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि शोध से संकेत मिले हैं कि यदि गर्भावस्था के 32वें सप्ताह से पहले गर्भनाल का कैल्सीकरण होता है, तो जन्म के समय बच्चे का वजन कम हो सकता है।
  • गर्भनाल के कैल्सीकरण के कारण होने वाली जटिलताएं आम नहीं हैं, और अधिकांश मामलों में, कैल्सीकरण भ्रूण के विकास को प्रभावित नहीं करता है।

गर्भनाल की जटिलताएं पैदा करने वाले कारक

एंटीरियर प्लेसेंटा अपने आप में जटिलता का कारण नहीं है। जटिलताएं केवल तभी होती हैं, जब इसके साथ अग्रभाग में नीचे की तरफ स्थित गर्भनाल, प्लेसेंटा प्रेविया य गर्भनाल के टूट जाने जैसी अन्य स्थितियां उत्पन्न हो जाती हैं। यदि सिजेरियन की सलाह दी जाती है या यदि गर्भनाल गर्भ की दीवार से अलग हो जाती है, तो इन सभी मामलों में जटिलताएं होती हैं।

एंटीरियर प्लेसेंटा होने पर सावधानियां

गर्भनाल संबंधी स्वास्थ्य और मानसिक स्वास्थ्य के लिए स्वयं की सहायता हेतु विभिन्न वेबसाइट और किताबें गर्भवती माताओं के लिए प्रसव के दौरान चीजों को आसान बनाने के लिए तकनीक सिखाती हैं । अग्रभाग में नीचे की तरफ स्थित गर्भनाल की स्थिति में जो सावधानियां बरतनी चाहिए, वे हैं:

१. अच्छी तरह से खाएं

एक अच्छी तरह से पोषण प्राप्त की हुई गर्भनाल स्वस्थ होती है।

२. बहुत सारे तरल पदार्थ पिएं

आपके बढ़ते हुए भ्रूण के अपशिष्ट उत्पादों को संसाधित करने के लिए आपकी गर्भनाल को तरल पदार्थों की आवश्यकता होती है।

३. व्यायाम योजना बनाएं

अपनी गर्भावधि में अपने लिए अदल-बदल के किये जा सकने वाले आदर्श व्यायाम और स्ट्रेचिंग के उपाय का पता लगाएं और इन्हें करने की कोशिश करें।

४. चिंता न करें

सबसे खराब स्थिति आने की बहुत अधिक संभावना नहीं है। इससे पहले कि आप सबसे खराब परिस्थिति की कल्पना कर लें, आप अपने लक्षणों को लिख लें जो इस स्थिति की तरफ इशारा करते हैं और पता लगाएं कि क्या ये लक्षण आपके डर से मेल खाते हैं।

५. अच्छी जीवन शैली अपनाएं

तनाव, अधिक काम, शराब, ड्रग्स इत्यादि से और ज्यादा या कम खाना खाकर अपने शरीर के साथ दुर्व्यवहार न करें।

डॉक्टर से कब परामर्श करें

जब एक बार डॉक्टर इस बात की पुष्टि कर दें कि आपको एंटीरियर प्लेसेंटा है, तो सतर्क रहना आवश्यक है। किसी भी प्रकार की जटिलता से जुड़े संकेतों और लक्षणों पर ध्यान रखें। निम्नलिखित में से कोई भी लक्षण दिखाई देने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करें:

१. योनि से स्राव

यदि आपको रक्त के धब्बे (स्पॉटिंग) या रक्तस्राव दिखाई दे तो डॉक्टर से तत्काल संपर्क करें।

२. पेट में दर्द

अचानक पेट में उठा कोई दर्द अथवा एक्सीडेंट या गिरने आदि से पेट पर लगी चोट को अनदेखा न करें और डॉक्टर को दिखाएं।

३. गर्भाशय में संकुचन

यदि आपकी नियत तारीख से काफी पहले गर्भाशय में संकुचन महसूस हो तो इसे प्रसव पीड़ा न समझें। किसी भी प्रकार की जटिलताओं से बचने और समस्या के निदान के लिए डॉक्टर से जांच कराएं।

४. कमर में तीव्र दर्द

गर्भावस्था के दौरान पीठ व कमर में दर्द होना सामान्य होता है लेकिन यदि यह दर्द असहनीय हो जाए तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

निष्कर्ष – सबसे महत्वपूर्ण यह है कि आप खुश रहें, गर्भनाल की स्थिति या किसी भी चिकित्सकीय हस्तक्षेप से अधिक, प्रसन्न मनःस्थिति होने से खुशहाल और स्वस्थ बच्चे पैदा होते हैं।