गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द – प्रकार, कारण व उपचार

गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द - प्रकार, कारण व उपचार

Last Updated On

जैसे ही आप गर्भावस्था में कदम रखती हैं, आप इस दौरान अपने शरीर में होने वाले अपेक्षित परिवर्तनों के बारे में तथा शिशुओं के बारे में सब कुछ जानने के लिए पुस्तकों, पत्रिकाओं और अन्य ऑनलाइन संसाधनों को टटोलने में व्यस्त हो जाती हैं। स्वस्थ गर्भावस्था, स्वस्थ आप और आपका स्वस्थ बच्चा ये आपके मुख्य लक्ष्य हैं। इसलिए, आप पोषण, जीवनशैली, शारीरिक और भावनात्मक स्वास्थ्य, आपके शरीर में होने वाले परिवर्तन, व्यायाम, चिकित्सकीय परीक्षण और गर्भावस्था के आम लक्षण, इन सबके बारे में अधिक पढ़ती हैं । मॉर्निंग सिकनेस की तरह, एक अन्य सामान्य समस्या जो कई गर्भवती महिलाओं को प्रभावित करती है, वह है पीठ दर्द। दो तिहाई से अधिक महिलाएं गर्भावस्था के दौरान गंभीर पीठ दर्द के अनुभव से त्रस्त रहतीं हैं।

गर्भावस्था और पीठ दर्द

पीठ दर्द सबसे आम लक्षणों में से एक है जिसकी शिकायत गर्भवती महिलाएं करती हैं। कुछ महिलाओं में, यह गर्भावस्था के प्रारम्भ में शुरू होता है और नौ महीने तक बना रहता है। अन्य महिलाओं में, यह स्थिति और ज्यादा दुखदाई होती है और बच्चे के पैदा होने के बाद भी तकलीफदेह बनी रहती है। कुछ महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान पीठ के ऊपरी हिस्से में दर्द होता है, जबकि कुछ पीठ के निचले हिस्से में दर्द का अनुभव करती हैं।

प्रारंभिक गर्भावस्था या पहली तिमाही के दौरान होने वाला पीठ दर्द

हालांकि पहली तिमाही के दौरान दर्द होना बहुत आम नहीं है, लेकिन शुरुआती गर्भावस्था में पीठ के निचले हिस्से में दर्द का अनुभव होने की भी कुछ संभावना होती है। गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल परिवर्तन होना मुख्य कारणों में से एक है। प्रारंभिक गर्भावस्था में, शरीर के प्रोजेस्टेरोन हार्मोन के स्तर में वृद्धि होती है जो गर्भाशय को उत्तेजित करता है। यह स्नायुबंधन को ढीला करने में मदद करता है जो रीढ़ की हड्डी और श्रोणि की हड्डी को जोड़ते हैं। यह आपके कूल्हे के जोडों को ढीला और स्नायुबंधन को शिथिल करता है जिसके कारण आपको चलने, खड़े होने और लंबे समय तक बैठने के दौरान दर्द का अनुभव हो सकता है।

गर्भावस्था की दूसरी तिमाही के दौरान पीठ दर्द

दूसरी तिमाही के दौरान पीठ दर्द होना एक उच्च जोखिम वाला समय है। क्योंकि गर्भाशय का विस्तार होता है, यह पेट की मांसपेशियों को कमजोर करता है और आपके गुरुत्वाकर्षण के केंद्र को बदल देता है। इससे आपकी मुद्रा प्रभावित होती है और आपकी पीठ पर दबाव पड़ता है। यदि आपकी पीठ का खिंचाव आपकी नस पर दबाव ड़ालता है, तो पीठ दर्द करने लगती है।

गर्भावस्था के तीसरे तिमाही के दौरान पीठ दर्द

जैसे ही आप तीसरी तिमाही मे कदम रखते हैं, आपका वजन बढ़ना आरम्भ हो जाता है। अतिरिक्त वजन उठाने से आपके जोड़ों पर दबाव आता है और आपकी मांसपेशियों के लिए काम बढ़ता है। मांसपेशियों में असंतुलन और तनाव के कारण जब आप चलती हैं, या लंबे समय तक खड़ी रहती हैं, या एक ठिगनी कुर्सी से उठती हैं, या झुककर चीजों उठाती हैं तो आपकी पीठ का दर्द बढ़ जाता है।

यदि आप शुरू में पीठ दर्द का अनुभव नहीं करती हैं, लेकिन अचानक दूसरी या तीसरी तिमाही के अंत में गंभीर दर्द होने लगता है, तो यह समय से पहले प्रसव होने का संकेत हो सकता है।ऐसा होने पर तो तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

क्या गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द होना सामान्य है?

हाँ, गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द सहित आपके शरीर में विभिन्न परिवर्तनों का होना सामान्य है। चूँकि कई शारीरिक परिवर्तन स्वाभाविक रूप से गर्भावस्था के एक भाग के रूप में होते हैं, वे विभिन्न संबंधित प्रतिक्रियाओं को भी प्रेरित करते हैं। इनमें से कुछ आपको भावनात्मक रूप से प्रभावित करते हैं, तो कुछ आपको शारीरिक रूप से प्रभावित कर सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द कोई अचरज की बात नहीं है। यह एक लक्षण है जो गर्भवती महिलाओं में बहुतायत में होता है क्योंकि प्राकृतिक परिवर्तन जैसे कि गुरुत्वाकर्षण के केंद्र में बदलाव, वजन बढ़ना, मांसपेशियों में असंतुलन और मांसपेशियों की थकान पीठ पर जोर ड़ालती है और पीठ में दर्द को जन्म देती है। गर्भावस्था से संबंधित हार्मोन में वृद्धि होने से संयुक्त शिथिलता पैदा होती है और जोड़ों से आवश्यक सहायता मिलना कम हो जाती है, जिससे पीठ की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा, रीढ़ पर भार देने वाली गतिविधियां गर्भवती महिलाओं में पीठ दर्द को अपरिहार्य बना देती हैं।

गर्भावस्था में मुझे पीठ में दर्द क्यों होता है?

गर्भावस्था आपके शरीर की मुद्रा और जीवन शैली में कई बदलाव लाती है। यदि आपकी रीढ़ की हड्डी और पेट की मांसपेशियां कमजोर हों व साथ ही शरीर में कम लचीलापन एक सुस्त जीवन शैली हो तो पीठदर्द होने का खतरा बढ़ जाता है। एक से अधिक बच्चे (जुड़वाँ या तीन बच्चे) होने से भी पीठ का दर्द बढ़ जाता है। साधारण कार्य करते समय आप जिस तरह से से काम लेती हैं, उसका भी जोड़ों और मांसपेशियों पर प्रभाव पड़ता है। इन शारीरिक परिवर्तनों जैसे गर्भाशय का बढ़ना, गुरुत्वाकर्षण के केंद्र में बदलाव, अतिरिक्त वजन बढ़ना और हार्मोनल परिवर्तन के अलावा कुछ अन्य कारण जो आपको गर्भवती होने के दौरान पीठ में दर्द के लिए जिम्मेदार होते हैं, वे हैं :

  • जैसेजैसे आपका बच्चा बढ़ता है, आप खुद को आगे ओर गिरने से रोकने के लिए खुद को पीछे की ओर झुका हुआ पाती हैं। आपके आसन में यह थोड़ा बदलाव आपकी पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियों को तनाव दे सकता है, जिससे पीठ दर्द हो सकता है
  • ऊँची हील वाले जूते पहनने से संतुलन बिगड़ता है साथ ही पीठ पर अधिक दबाव पड़ता है। इससे कमर दर्द होने और गिरने की संभावना भी बढ़ जाती है
  • वस्तुओं को उठाते समय, यदि आप खड़े होकर झुकते हैं, तो इससे पीछे के भाग पर दबाव बढ़ता है
  • अधिक शारीरिक श्रम करते हुए रीढ़ को खींचने से होने वाली थकान से भी पीठ दर्द होता है
  • भावनात्मक तनाव भी पीठ में मांसपेशियों के तनाव का कारण बन सकता है, जिससे पीठ दर्द या पीठ में ऐंठन हो सकती है

गर्भावस्था में पीठ दर्द के प्रकार

पीठ दर्द के विभिन्न प्रकार हैं जो आप गर्भावस्था के दौरान अनुभव कर सकती हैं, जिसमें रीढ़ में दर्द और श्रोणि में होनेवला दर्द शामिल है।

प्रारंभिक गर्भावस्था में लम्बर बैक पेन या रीढ़ में दर्द क्या है?

प्रारंभिक गर्भावस्था में लम्बर बैक पेन या रीढ़ में दर्द क्या है?

लम्बर बैक पेन या रीढ़ में दर्द कमर पर, रीढ़ की हड्डी के ऊपर और आसपास महसूस होता है। कभीकभी, आपको यह दर्द पैरों की ओर बढ़ता हुआ भी महसूस हो सकता है । यह दर्द पीठ के निचले हिस्से में स्थित मेरुदण्ड की कशेरुकाओं में उभरता है। लंबे समय तक बैठने और खड़े होने या भारी वस्तुओं को उठाने जैसी गतिविधियाँ, दर्द को और बढ़ा सकती हैं।

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि में दर्द क्या है?

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि में दर्द क्या है?

श्रोणि में दर्द पीठ के निचले हिस्से में दर्द होने के सबसे सामान्य प्रकारों में से एक है जो गर्भवती महिलाएं अनुभव करती हैं। यह दर्द श्रोणि के पीछे अनुभव होता है। यह दर्द आपके नितंबों के एक या दोनों तरफ या आपकी जांघों के पीछे की तरफ गंभीर होता है। कुछ महिलाओं को अपने प्यूबिक बोन पर भी दर्द होता है। चलना, सीढ़ियों पर चढ़ना, बिस्तर पर लेटना, वस्तुओं को उठाना, और नहाने के टब या छोटी कुर्सी से बैठने या उठने कोशिश करना, श्रोणि के दर्द को बढ़ाता है। इसलिए, गर्भावस्था के दौरान कुर्सी पर बैठते हुए आपको सतर्क रहना चाहिए। इस स्थिति में, यदि आप मेज पर आगे झुकती हैं, तो दर्द बढ़ सकता है।

गर्भवती महिलाओं में पीठ दर्द के कारण क्या हैं?

पीठ दर्द आम तौर पर सैक्रोइलियक जोड़ पर होता है, यह व जगह है जहाँ आपकी श्रोणि आपकी रीढ़ से मिलती है। इस पीठ दर्द के कुछ कारणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

1. वजन बढ़ना

गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ना बच्चे की वृद्धि के लिए सामान्य और आवश्यक है। सामान्य वजन 11 से 15 किलो के बीच होता है और रीढ़ वजन को सह लेती है। यह भार पीठ में दर्द को बढ़ाता है। इसके अतिरिक्त, बढ़ते हुए बच्चे का वजन और बढ़ता हुआ गर्भाशय, पृस्था भाग और श्रोणि क्षेत्र में रक्त वाहिकाओं और नसों पर दबाव डालता है।

2. मुद्रा परिवर्तन

गर्भावस्था के दौरान वजन में वृद्धि आपके गुरुत्वाकर्षण के केंद्र को बदल देती है, जिससे आप आगे झुकती जाती हैं। यह स्थिति धीरेधीरे आपकी मुद्रा में बदलाव लाती है। इस प्रकार स्थिति बदलने से पीठ में दर्द होता है।

3. हार्मोनल परिवर्तन

गर्भावस्था के दौरान, रिलैक्सिन और एस्ट्रोजन जैसे हार्मोन आपके शरीर पर प्रभाव डाल सकते हैं। गर्भावस्था से संबंधित हार्मोन रिलैक्सिन, आराम करने के लिए श्रोणि क्षेत्र में स्नायुबंधन को ट्रिगर करता है, और जोड़ों को शिथिल करता है। दूसरे शब्दों में, यह हार्मोन जोड़ों को लचीला बनाता है। स्नायुबंधन, जो रीढ़ की सहायता करते हैं, उन्हें शिथिल या ढीला भी करते हैं। इन स्नायुबंधन के शिथिलता से अस्थिरता होती है और दर्द होता है। हार्मोन में बदलाव, वजन बढ़ने और गुरुत्वाकर्षण के केंद्र में परिवर्तन के कारण जोड़ों पर मदद मिलना कम हो जाती है, जिससे पीठ दर्द होता है।

4. मसल्स का अलग होना

रेक्टल एब्डोमिनिस मांसपेशियों के अलग होने से भी पीठ दर्द शुरू हो जाता है। रेक्टस एब्डोमिनिस मांसपेशियां पेट के अंदर शरीर के अग्रभाग में स्थित होती हैं। जैसेजैसे आपकी गर्भावस्था आगे बढ़ती है, गर्भाशय बढ़ता है और फैलता है। इस विस्तार के कारण रेक्टल एब्डोमिनिस मांसपेशियों की दो समानांतर परतें केंद्र भाग के साथ अलगअलग हो सकती हैं, जो कि पीठ दर्द की ओर ले जाती हैं।

5. तनाव

गर्भावस्था के दौरान आपकी भावनाएं महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। आमतौर पर, किसी भी तरह के भावनात्मक आघात या तनाव का आपके स्वास्थ्य पर सीधा प्रभाव पड़ता है। यह बात गर्भावस्था में भी सच है। आप देख सकती हैं कि जैसेजैसे तनाव बढ़ता है, पीठ दर्द की तीव्रता भी बढ़ती जाती है। भावनात्मक तनाव से पीठ के क्षेत्र की मांसपेशियों में तनाव हो सकता है, साथ ही कठोरता और मांसपेशियों में दर्द बढ़ सकता है। यह तनाव पीठ दर्द या पीठ की ऐंठन को बढ़ा सकता है।

6. थकान

दिनप्रतिदिन की गतिविधियाँ जिनमें बहुत सारी भाग दौड़ और तीव्र शारीरिक गतिविधियाँ शामिल होती हैं जो आपको गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर को थका देती हैं। इसके अतिरिक्त, गुरुत्वाकर्षण के केंद्र में परिवर्तन मांसपेशियों में थकान पैदा करता है, जिसके कारण आप अपनी मुद्रा में काफी बदलाव देख सकते है। खराब मुद्रा से पीठ का दर्द और बढ़ जाता है।

7. मांसपेशियों में असंतुलन

गर्भावस्था के दौरान, वजन बढ़ने के कारण गुरुत्वाकर्षण के केंद्र में बदलाव भी मांसपेशियों के असंतुलन को प्रेरित करता है क्योंकि शरीर को अतिरिक्त वजन उठाना पड़ता है। अतिरिक्त वजन यानी आपकी मांसपेशियों के लिए अधिक काम। यह आपके जोड़ों पर ज़ोर डालता है। ये पेशी असंतुलन शरीर के अंगों पर तनाव को बढ़ाते हैं। यदि आपपहले से ही मांसपेशियों की कमजोरी या अनम्यता से ग्रस्त हैं, तो मांसपेशियों में असंतुलन इसे और बिगाड़ता है और पीठ दर्द को बढ़ाता है।

गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द से राहत पाने के 10 टिप्स

चूँकि पीठ दर्द के बारे में आपके कुछ सवालों के जवाब अब मिल गए हैं, आइए देखें कि इससे राहत कैसे प्राप्त करें। व्यायाम, योग और अन्य तनाव से राहत के उपाय आपको पीठ दर्द को दूर करने में मदद कर सकते हैं।

गर्भावस्था में पीठ दर्द व्यायाम

आपको पीठ दर्द से राहत देने के लिए सबसे अच्छे विकल्पों में से एक व्यायाम करना है। हालांकि, अपना व्यायाम कार्यक्रम शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक से जाँच कर लें। कुछ सबसे उपयोगी अभ्यासों में शामिल हैं:

1. तैराकी

तैराकी

गर्भवती महिलाओं के लिए तैराकी बहुत अच्छा व्यायाम है। यह आपके पेट और पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियों को मजबूत करता है, वहीं पानी की उछाल से स्नायुबंधन और जोड़ों का तनाव दूर होता है। शोध से पता चलता है कि पानी के व्यायाम गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द की तीव्रता को कम करते हैं। हालांकि, अपने तैराकी अभ्यास शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें और आप पूल से बाहर निकलते समय सावधानी बरत रही हैं यह सुनिश्चित कर लें।

2. वेट ट्रेनिंग

वेट ट्रेनिंग

वेट ट्रेनिंग आपकी शक्ति बनाये रखने में मदद करती है और पेट की मांसपेशियों, पीठ की मांसपेशियों और पैरों को भी मजबूत बनाती है। इसलिए, यह गर्भावस्था के दौरान पीठ के निचले हिस्से के दर्द को रोक सकती है। गर्भवती महिलाओं के लिए वेट ट्रेनिंग आपके डॉक्टर के अनुमोदन के बाद एक पेशेवर प्रशिक्षित प्रशिक्षक से परामर्श करके किया जाना चाहिए।गर्भावस्था से संबंधित वेट ट्रेनिंग में स्क्वाटिंग और कंधे के व्यायाम शामिल हैं।

3. चलना और स्ट्रेचिंग

चलना और स्ट्रेचिंग

स्ट्रेचिंग और चलना दो बहुत अच्छे सरल तथापि पभावी व्यायाम हैं, जो कमर दर्द से राहत पाने में मदद करेंगे। स्ट्रेचिंग से मांसपेशियों में लचीलापन बढ़ता है जो आपके पैर और पीठ को सहारा देता है। प्रसव पूर्व योग संतुलन में मदद करता है। चलना एक आसान विकल्प है और इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाना बहुत ही अच्छा रहता है। यह एक प्रभावी कार्डियो वस्क्युलर व्यायाम है, जो सुरक्षित है औरगर्भावस्था के दौरान सक्रिय रहने में आपकी मदद करता है।

हालांकि, सुनिश्चित करें कि आप उचित जूते पहनें आरामदायक, अच्छी फिटिंग, कम हील वाले जूते चुनना अच्छा है जो आपके पैरों को आराम देते हों और उन्हें सांस लेने देते हों। साथ ही चलने के दौरान आप को हाइड्रेटेड भी रखते हों; आपके शरीर को पोषक तत्वों से भरा रहने, पाचन संबंधी परेशानियों से मुक्त रहने और निर्जलीकरण से बचने के लिए बहुत पानी की आवश्यकता होती है। इसलिए, चलने का आनंद लें और खुद को थकाएं भी नहीं।

गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द के उपचार

व्यायाम के अलावा, आइए हम अन्य उपायों को देखें जो आपको पीठ दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। इनमें से कुछ उपाय है :

1. सही मुद्रा में रहने का अभ्यास करना

जैसेजैसे आप अपनी गर्भावस्था में आगे बढ़ती हैं, आपका बच्चा विकसित होता जाता है, और खुद को आगे झुकने से रोकने के लिए, आप पीछे की ओर झुकने लगती हैं। यह मुद्रा परिवर्तन पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियों को तनाव देता है और पीठ दर्द को बढ़ाता है। इसलिए, अच्छी मुद्राओं का अभ्यास पीठ दर्द से राहत देने में मददगार हो सकता है। इनमें से कुछ बेहतरीन मुद्राओं में शामिल हैं:

  • सीधे खड़े होना
  • अपनी छाती को हमेशा ऊँचा रखना
  • अपने कंधे और पीठ को रिलैक्स रखना
  • खड़े होते समय आरामदायक और सपाट स्थिति का उपयोग करना
  • जब आपको लंबे समय तक खड़े रहना पड़े तो लगातार ब्रेक लेना व अपने पैरों को आराम देना और पड़ता है
  • घुटनों के बल खड़ा होने से बचें
  • बैठने के लिए कुर्सी का चुनाव करते समय सावधान रहें या अपनी पीठ के पीछे एक तकिया रखकर बैठें

2. सही सामान चुनें

कपड़ों की तरह ही, जूते जैसी अन्य वस्तुएं भी गर्भावस्था के दौरान आराम के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। वजन में वृद्धि और गुरुत्वाकर्षण के केंद्र में बदलाव होने के कारण, ऊँची हील के जूते पहनने से बचें, क्योंकि वे आपके संतुलन को आगे ले जा सकते हैं और गिरने का कारण बन सकते हैं। अच्छे सपाट सपोर्ट के साथ छोटी हील के जूते पहनने से आपको आराम से चलने में मदद मिलतीहै।

3. ठीक से सामान उठाना

गर्भावस्था के दौरान भारी वस्तुओं को उठाना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। इसलिए, सावधानी बरतना अच्छा है। यह सलाह दी जाती है कि भारी वस्तुओं को लेकर झुकने और उठाने से पीठ में तनाव हो सकता है और अनावश्यक दर्द हो सकता है, इसलिए सामान उठने के लिए किसी की सहायता लें। यदि किसी छोटी वस्तु को उठाना आपके लिए अत्यावश्यक हो जाए तो उकड़ूँ बैठें करें और उसे अपने पैरों के सहारे धीरेधीरे उठाएं।

4. उचित रूप से सोना

आपकी नींद की मुद्रा गर्भावस्था में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसके अतिरिक्त, सही स्थिति में सोना पीठ दर्द से राहत प्रदान कर सकता है। रात की अच्छी नींद पाने के लिए अपनी पीठ के बल सोने से बचें। एक तरफ मुड़कर सोएं और अपने घुटनों को मोड़कर रखें। आप सपोर्ट के लिए तकिओं का उपयोग भी कर सकती हैं। इन तकियों को घुटनों के बीच, पीठ के पीछे और उदर क्षेत्र के नीचे रखें। आप अपनी पीठ को सहारा देने के लिए एक दृढ़ गद्देका उपयोग करने का भी विचार कर सकती हैं।

5. विश्राम की तकनीकों का अभ्यास करना

योग, गहरी साँस लेने और मालिश जैसी विश्राम तकनीकों का अभ्यास गर्भावस्था के दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। योग और प्राणायाम मांसपेशियों में तनाव को कम करने व आपको गहरी नींद दिलाने में मददगार हो सकता है। हालांकि इसे साबित करने के लिए कोई शोध परिणाम नहीं हैं, लेकिन आप पीठ दर्द से राहत के लिए हल्की मालिश करने की कोशिश कर सकती हैं या गर्म या ठंडे पैक लगा सकती हैं। कई गर्भवती महिलाएं मालिश और गर्म / ठंडे पैक के इस्तेमाल से थोड़ी राहत का अनुभव करती हैं।

6. पूरक उपचारों का उपयोग

अनुसंधान से पता चलता है कि एक्यूपंक्चर गर्भावस्था के दौरान होने वाले पीठ दर्द से राहत देता है। कायरोप्रैक्टिक उपचार भी पीठ के दर्द से आराम दिलाने में मदद करता है। यह उपचार पीठ के दर्द को कम करने के प्रयास में रीढ़ के मैन्युअल समायोजन या कुछ स्थिति में बदल करने पर ज़ोर देता है। हालांकि, यदि आप राहत पाने के लिए पूरक विकल्प के रूप में इन उपचारों को आजमाना चाहती हैं, तो यह सुनिश्चित करें कि आप अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से पूर्व परामर्श करें।

7. अपनी दिनचर्या में शारीरिक गतिविधियों को शामिल करें

पैदल चलना, स्ट्रेचिंग, स्क्वाटिंग, वॉटर एक्सरसाइज और अन्य साधारण घरेलू कामों जैसी शारीरिक गतिविधियाँ आपको सक्रिय बनाने में मदद कर सकती हैं और आपकी पीठ को भी मजबूत कर सकती हैं। यद्यपि आप पीठ में दर्द से जूझने के दौरान बिस्तर में बने रहना पसंद करेंगी, लेकिन पर्याप्त मात्रा में शारीरिक गतिविधियां वास्तव में आपको पीठ दर्द से राहत दिला सकती हैं।

हालांकि, गर्भवती महिलाओं के पीठ दर्द के लिए ये उपाय बहुत फायदेमंद हो सकते हैं, लेकिन सलाह दी जाती है कि उन्हें शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक या स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से सलाह लें ।

दो तिहाई से अधिक महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द होता है, तथापि कटिस्नायुशूल (साइटिका) से प्रभावित होने वाली महिलाओं की संख्या एक प्रतिशत है। कभीकभी, पीठ के निचले हिस्से का दर्द जांघों और नितंबों में फैल जाता है, और कटिस्नायुशूल हुआ है यह भ्रम हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान साइटिका होना आम नहीं है, और यह रीढ़ के निचले हिस्से में एक उभरी हुई डिस्क के कारण होता है। यदि आपको साइटिका है, तो दर्द घुटने के नीचे, पैर और पैर की उंगलियों में होता है। इस दर्द में पैरों में झुनझुनी सनसनी या सुन्नता भी साथ होती है। गंभीर साइटिका का दर्द आपके कमर या जननांग क्षेत्र में सुन्नता का कारण बन सकता है। आप पेशाब या मल त्याग में कठिनाइयों का अनुभव कर सकती हैं। यदि आप इन लक्षणों का अनुभव करती हैं, तो आपको सलाह दी जाती है कि अपने चिकित्सक से मिलें और साइटिका के दर्द का उपचार लें। इसमें मालिश, कायरोप्रैक्टिक देखभाल और शारीरिक गतिविधियां शामिल हैं।

अब जब आप गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द, इसके कारणों, प्रकारों से अवगत हो गईं हैं, और इससे राहत पाने के लिए आपकी मदद करने के उपाय भी हैं, तो यह समय है कि आप अपनी झल्लाहट रोकें और अपनी गर्भावस्था की यात्रा का आनंद उठाती रहें। अपनी रीढ़, पीठ और पैरों पर विशेष ध्यान देते हुए शारीरिक तंदुरुस्ती पर नियंत्रण रखना याद रखें। विश्राम के तरीकों को सीखना और उचित तरीके से नींद की उपयुक्त मुद्राओं का पालन करना आपकी इस यादगार यात्रा के दौरान आगे जाने में आपकी बहुत मदद कर सकता है।