गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध – क्या यह सुरक्षित है?

प्रेगनेंसी के दौरान सेक्स: पोजिशन्स, फायदे, समस्याएं व प्रश्नोत्तर

Last Updated On

गर्भधारण के बाद होने वाले माता-पिता सोच सकते हैं कि क्या गर्भावधि में संभोग करना सुरक्षित है, और क्या यह गर्भ में पल रहे शिशु पर कोई प्रभाव डाल सकता है। अक्सर गर्भवती महिलाएं अपने अंदर हो रहे हार्मोनल बदलाव, थकान व शारीरिक परिवर्तनों को जानते हुए संभोग के प्रति अनिच्छा को जाहिर कर सकती हैं। यह लेख आपको गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाने के सबसे सही समय का पता लगाने में मदद कर सकता है। साथ ही गर्भावस्था के दौरान संभोग से होने वाले लाभ, इससे कब बचना चाहिए, सुरक्षित यौन पोजीशन और अन्य अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के बारे में भी सारी जानकारी के लिए इस लेख को को पूरा पढ़ें। 

क्या गर्भावस्था के दौरान संभोग करना सुरक्षित है?

यदि आपकी गर्भावस्था स्वस्थ और सामान्य है, तो अंतिम तिमाही तक यौन संबंध बनाना बिलकुल सुरक्षित है। गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना आपके शरीर और रिश्ते दोनों के लिए अच्छा होता है। अध्ययनों से यह भी पता चला है कि जो गर्भवती महिलाएं नियमित रूप से यौन संबंध बनाती हैं, उनमें समय से पहले प्रसव होने की संभावना कम होती हैं।

हालांकि, यदि आपके डॉक्टर ने सुझाव दिया है कि आपकी गर्भावस्था में जटिलताएं हैं या कुछ असाधारण स्थितियों में संभोग से बचें तो आप अपने डॉक्टर की सलाह मान लें और गर्भावस्था के दौरान संभोग न करें।

गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना कब सुरक्षित नहीं है

यदि आप सोच रही हैं कि गर्भावस्था के दौरान संभोग करना कब बंद कर देना चाहिए तो नीचे दिए गए मामलों में डॉक्टर आपको सलाह दे सकते हैं:

  • गर्भपात का इतिहास: यदि पहले भी आपका गर्भपात हो चुका है तो यौन संबंध न बनाना ही बेहतर है। 
  • योनि से रक्तस्राव: योनि से रक्तस्राव या हल्का खून निकलना गर्भपात के खतरे का प्रारंभिक संकेत हो सकता है और गर्भावस्था के दौरान, यदि आपकी योनि से रक्तस्राव हो रहा है, तो संभोग न करना ही एक बेहतर विकल्प है। 
  • श्रोणि में दर्द: यदि आपको संभोग के बाद श्रोणि में दर्द या पेट में ऐंठन है, तो आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें और गर्भावस्था के दौरान संभोग करने से बचें।
  • प्लेसेंटा प्रिविया: यदि गर्भनाल (प्लेसेंटा) नीचे की तरफ है या आपको प्लेसेंटा प्रिविया है, तो गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध न करें।
  • गर्भाशय ग्रीवा में अक्षमता: यदि आपकी गर्भाशय ग्रीवा कमजोर या अक्षम है, तो गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना असुरक्षित हो सकता है। गर्भाशय ग्रीवा योनि के ऊपर स्थित गर्भाशय का मुख होता है और एक कमजोर गर्भाशय ग्रीवा जल्द ही खुल सकती है जिससे समय से पहले प्रसव पीड़ा होने की संभावना होती है। 
  • यौन संचारित रोग (एस.टी.डी.): यदि आपको या आपके साथी को यौन संचारित रोग है, तो आपको गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध नहीं बनाना चाहिए क्योंकि इससे आपको भी यह रोग हो सकता है और यह गर्भावस्था को प्रभावित कर सकता है।
  • समय से पहले प्रसव का इतिहास: यदि आपकी पिछली गर्भावस्था में प्रीमैच्योर बच्चे का जन्म हुआ था, तो संभोग न करना अधिक सुरक्षित है।
  • यदि आपके गर्भ में एक से अधिक शिशु हैं: यदि आपके गर्भ में एक से अधिक भ्रूण हैं तो आपको संभोग नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे ऐंठन, रक्तस्राव या संकुचन हो सकता है। एक से अधिक बच्चे के साथ गर्भवती होने के मामले में समय से पहले प्रसव होने का खतरा अधिक होता है और यौन संबंध बनाने से इसकी संभावना और बढ़ जाती है।
  • पानी की थैली फटने पर: जब आपके गर्भाशय में एम्नियोटिक थैली जो शिशु की सुरक्षा को सुनिश्चित करती है फट जाती है तो एम्नियोटिक द्रव योनि-स्राव के माध्यम से बाहर आता है। अगर आपकी थैली फट गई है तो यौन संबंध बनाना असुरक्षित है क्योंकि इससे शिशु में संक्रमण हो सकता है।

गर्भावस्था से आपका यौन जीवन कैसे प्रभावित हो सकता है

गर्भावस्था आपके यौन जीवन को काफी प्रभावित कर सकती है। शरीर में विभिन्न परिवर्तनों के कारण गर्भावस्था के दौरान यौनरुचि में वृद्धि या कमी हो सकती है। कई महिलाओं को हार्मोनल उतार-चढ़ाव और उनके रूप के प्रति लज्जा के कारण भी यौनरुचि कम हो सकती है। हालांकि, ऐसी स्थितियां भी हैं जब गर्भवती महिलाएं की कामेच्छा में वृद्धि महसूस करती हैं।

पहली तिमाही

पहली तिमाही के दौरान, महिलाएं मॉर्निंग सिकनेस, मूड स्विंग्स (मनोदशा में उतार-चढ़ाव), थकान, अतिसंवेदनशील स्तन और अक्सर पेशाब करने की इच्छा से प्रभावित होती हैं। हार्मोनल परिवर्तन के साथ इन सभी कारणों से कामेच्छा में कमी हो सकती है।

दूसरी तिमाही

कई महिलाएं गर्भावस्था की दूसरी तिमाही के दौरान यौन संबंध बनाने से कामेच्छा में वृद्धि महसूस करती हैं। पहली तिमाही में मॉर्निंग सिकनेस और अन्य असुविधाएं आमतौर पर दूसरी तिमाही में खत्म हो जाती हैं। इस अवधि में पेट काफी छोटा होता है, इसलिए आप आराम से यौन संबंध बना सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में रक्त की मात्रा बढ़ जाती है और इसके कारण श्रोणि क्षेत्र में रक्त परिसंचरण बढ़ता है और योनि में सूजन आ सकती है। इससे उस क्षेत्र में संवेदना बढ़ सकती है और महिलाओं को अधिक आसानी से संभोग करने में मदद मिलती है।

तीसरी तिमाही

बहुत सारी महिलाएं गर्भावस्था की तीसरी तिमाही के दौरान यौन संबंध बनाने के प्रति अनिच्छा प्रकट करती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि पेट के बड़े होने से कई यौन के पोजिशन्स में असहजता महसूस हो सकती है। आप यौन संबंध बनाने में कम दिलचस्पी भी महसूस कर सकती हैं, क्योंकि जैसे-जैसे प्रसव की तारिख नजदीक आती है आपको शिशु के जन्म और मातृत्व को लेकर चिंता होती है। यह भावनाएं पूरी तरह से आम हैं और महिलाओं के लिए अंतिम तिमाही में यौन संबंध से परहेज करना सामान्य है।

गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध के लाभ

एक सामान्य और स्वस्थ गर्भावस्था के दौरान किया गया संभोग गर्भवती महिला और बच्चे, दोनों के लिए फायदेमंद हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध के कुछ फायदे इस प्रकार हैं:

  • बेहतर ऑर्गाज़म : श्रोणि में रक्त प्रवाह की वृद्धि से जननांगों में संवेदना बढ़ती है और इससे महिलाओं को अधिक आसानी से और कई बार ऑर्गाज़म प्राप्त करने में मदद मिलती है।
  • बेहतर नींद: गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाने से गर्भवती महिला को आराम मिलता है और बेहतर नींद आने में मदद मिलती है। साथ ही, यौन संबंध में होने वाली आगे-पीछे की गतिविधि से शिशु को अच्छी नींद आ सकती है।
  • प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है: अध्ययनों में पाया गया है कि यौन संबंध एक विशिष्ट एंटीबॉडी के स्तर को बढ़ाता है, जो सर्दी और संक्रमण से लड़ता है।
  • दर्द कम होता है: संभोग से ऑक्सीटोसिन नामक हार्मोन निकलता है, जो दर्द सहने की क्षमता को 70% से अधिक बढ़ा देता है।
  • रक्तचाप कम करता है: संभोग करने से रक्तचाप कम होता है। यह गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद है क्योंकि उच्च रक्तचाप से प्रीक्लेम्पसिया नामक खतरनाक बीमारी हो सकती है।

गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध के लाभ

  • अंतरंगता में सुधार: संभोग के दौरान निकलने वाले हार्मोन, ऑक्सीटोसिन को ‘लव हार्मोन’ भी कहा जाता है और यह आपके साथी के प्रति अंतरंगता और लगाव की भावना को बढ़ाता है।
  • प्रसव के बाद स्वस्थ होने की प्रक्रिया तेज करता है: गर्भावस्था के दौरान संभोग करने से बच्चे के जन्म के लिए श्रोणि क्षेत्र की मांसपेशियों को तैयार करने में मदद मिलती है। यह बदले में प्रसव के बाद तेजी से स्वस्थ होने में मदद करता है।
  • खुशी बढ़ाता है: संभोग से एंडोर्फिन नामक रसायन निकलते हैं, जो सुख, कामुकता, दर्द से राहत और प्रसन्नता से जुड़े होते हैं। इससे माँ और शिशु दोनों खुश और तनाव-मुक्त हो जाते हैं।
  • कैलोरी कम करता है: कैलोरी कम करने के लिए यौन संबंध एक अच्छा तरीका है। 30 मिनट का संभोग लगभग 50 कैलोरी कम कर सकता है। गर्भावस्था के दौरान संभोग करना स्वस्थ रहने का एक बेहतरीन तरीका है।

गर्भावस्था के दौरान संभोग करने से समस्याओं के संकेत

यदि गर्भावस्था के दौरान संभोग करने से किसी समस्या का संकेत दिखता है, तो आपको तुरंत रुकना चाहिए और डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। इसी तरह, आपको संभोग के बाद होने वाली किसी भी समस्या के लिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करने की आवश्यकता है। महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान संभोग करने से होने वाले कुछ दुष्प्रभावों में रक्तस्राव या हल्का खून निकलना, भ्रूण की गतिविधि में वृद्धि और गर्भाशय के संकुचन भी शामिल हैं। संभोग के बाद हल्का रक्तस्राव या हल्का खून आना और हल्की ऐंठन होना आम बात है। हालांकि, गर्भावस्था के दौरान संभोग के पहले और बाद में यदि इनमें से कोई भी समस्या होती है तो आप तुरंत चिकित्सक से मिलें:

  • संभोग के दौरान दर्द
  • भारी रक्तस्राव
  • एम्नियोटिक द्रव का रिसाव
  • दर्दनाक ऐंठन जो जल्दी ठीक नहीं होती है 

गर्भावस्था के दौरान सुरक्षित यौन संबंध कैसे बनाया जा सकता है

आपको और आपके बच्चे को संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाने के कुछ सुझाव यहाँ दिए गए हैं:

  • खुद को एस.टी.डी. से बचाएं: यौन संचारित रोग गर्भवती महिला और शिशु के लिए खतरनाक हैं। एस.टी.डी. ओरल, गुदा (ऐनल) या योनि संभोग के माध्यम से हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान, केवल एक ही व्यक्ति के साथ यौन संबंध रखें और सुनिश्चित करें कि उसके और कई यौन साथी नहीं हैं। सुनिश्चित करें कि आपके साथी को एस.टी.डी. की समस्या न हो।
  • गुदा संभोग से बचें: गुदा संभोग में लिंग गुदा में प्रवेश किया जाता है। यह गर्भावस्था के दौरान असुरक्षित है क्योंकि गुदा में बहुत जीवाणु होते है जो संक्रमण का कारण बन सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान गुदा संभोग से बचना सबसे अच्छा है।
  • योनि में न फूंकें: अगर आप ओरल सेक्स करती हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपका साथी आपकी योनि में न फूंके। यह वात-वाहिकारोध का कारण बन सकता है, वात वहिकारोध हवा के बुलबुले होते हैं जो रक्त वाहिकाओं को अवरुद्ध करते हैं। 

गर्भावस्था के दौरान यौन पोजिशन्स

यहाँ कुछ सुरक्षित और आरामदायक यौन आसन बताए गए हैं, जिन्हें अपनी गर्भावस्था के दौरान आप अपना सकती हैं;

  • कुर्सी में गोद पर: आपके साथी द्वारा कुर्सी पर स्थिर बैठने के बाद आप उसकी गोदी पर बैठें। आप बैठ कर या खड़े होकर प्रवेश की गहराई को नियंत्रित कर सकती हैं।
  • बगल में लेटकर: इस मुद्रा को ‘स्पूनिंग’ भी कहा जाता है, यह मुद्रा संभोग के दौरान आपके पेट पर दबाव को कम करती है।अपने साथी के साथ बगल में लेट जाएं, इसमें ज्यादा गहरा प्रवेश संभव नहीं होता है।

गर्भावस्था के दौरान यौन पोजिशन्स

  • महिला के ऊपर होने की मुद्रा: यह मुद्रा आपके पेट पर दबाव को कम करती है और आपको प्रवेश की गति व गहराई को नियंत्रित करने में मदद करती है। इस मुद्रा से महिलाओं को उच्च मात्रा में संतुष्टि प्राप्त होती है। इस मुद्रा में पुरुष के लेटने या बैठने के बाद महिला आगे या पीछे की ओर मुंह करके और अपने पैरों को फैलाकर साथी के ऊपर बैठ सकती है।

क्या गर्भावस्था के दौरान ओरल सेक्स किया जा सकता है?

गर्भावस्था के दौरान ओरल सेक्स करना पूरी तरह से सुरक्षित है। हालांकि, ध्यान रखें कि आपका साथी योनि में न फूंके। इससे रक्त में हवा के कारण बुलबुले पड़ने से रक्त प्रवाह रुक सकता है जिसे वात-वहिकारोध या एयर एम्बोलिज्म भी कहा जाता है और यह आपके लिए एक खतरनाक समस्या है। इसके अलावा यदि आपके साथी को एस.टी.डी. की समस्या है तो ओरल सेक्स से बचें।

अपने साथी के करीब जाने के अन्य तरीके

यदि आप संभोग नहीं करना चाहती हैं तो यह एक आम बात है। आप अन्य तरीकों से अपने साथी के करीब आ सकती हैं, वे तरीके इस प्रकार हैं; 

  • प्यार और दुलार (कडलिंग) 
  • मालिश – एक दूसरे को मालिश देने से दंपति के बीच अंतरंगता बढ़ सकती है।
  • चुंबन
  • हस्तमैथुन: आपके व आपके साथी के बीच बिना संभोग के अंतरंगता प्रदान करने के लिए स्पर्श एक और तरीका है। 
  • ओरल सेक्स: अगर योनि संभोग आपको असहज करता है, तो ओरल सेक्स का प्रयास करें। इस तरीके से, आप गर्भावस्था के दौरान योनि संभोग की परेशानी के बिना अंतरंग हो सकती हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

यहाँ आपको गर्भावस्था के दौरान संभोग के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर दिए गए हैं:

1. क्या संभोग से प्रसव पीड़ा उत्तेजित हो सकती है?

किसी भी विज्ञान अध्ययन में यह सिद्ध नहीं हुआ है कि संभोग और प्रसव पीड़ा की उत्तेजना में कोई भी संबंध होता है। हालांकि, अंतिम तिमाही में यौन संबंध बनाने के कारण प्रसव पीड़ा शुरू हो सकती है। गर्भाशय ग्रीवा में प्रोस्टाग्लैंडीन होते हैं, जो गर्भाशय ग्रीवा को नर्म कर देते हैं। इसके अलावा संभोग के दौरान ऑक्सिटॉसिन नामक हॉर्मोन मुक्त होता है, जिससे प्रसव पीड़ा प्रेरित हो सकती है।

2. क्या गर्भावस्था मेरे साथी की यौनरुचि को प्रभावित कर सकती है?

आपकी गर्भावस्था विभिन्न कारणों से आपके साथी की यौनरुचि को प्रभावित कर सकती है। इन कारणों में अजन्मे शिशु की उपस्थिति में संभोग करने के बारे में चिंता, आपके और आपके बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में चिंता, आपके स्वास्थ्य और आपके बच्चे की भलाई के बारे में चिंता शामिल है और यह चिंता भी शामिल है कि संभोग से अजन्मे शिशु को चोट लग सकती है। गर्भावस्था के दौरान संभोग करने से पहले आप दोनों को किसी भी चिंता से संबंधित खुलकर बात करने की आवश्यकता है और इसके लिए आप डॉक्टर से भी संपर्क कर सकती हैं।

3. क्या पहली तिमाही के दौरान संभोग से गर्भपात हो सकता है?

इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि पहली तिमाही में संभोग गर्भपात का कारण बन सकता है। अधिकांश गर्भपात पहली तिमाही में होते हैं लेकिन क्रोमोसोमल असामान्यताओं के कारण ही होते हैं ।

गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना पूरी तरह से सुरक्षित है और माँ व शिशु के लिए फायदेमंद हो सकता है। एक स्वस्थ गर्भावस्था में, नियमित रूप से यौन संबंध बनाना बिलकुल ठीक है। हालांकि, यदि आपकी गर्भावस्था में कोई कठिनाई है या इसमें कोई बहुत ज्यादा जोखिम है, तो इसके बारे में डॉक्टर से परामर्श करना ही सबसे उचित है। गर्भावस्था के दौरान यदि आप अपने साथी के साथ अपनी पसंद और नापसंद के बारे में बात करती हैं, तो आप एक संतुष्ट यौन जीवन जी सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान अपने यौन जीवन को अधिक संतोषजनक बनाने के लिए इस लेख में दिए गए सुझावों का उपयोग करें।

यह भी पढ़ें:

डिलीवरी के बाद संभोग
गर्भावस्था के दौरान गैस की समस्या के 12 घरेलू उपचार