गर्भावस्था के दौरान शिशु के हृदय की धड़कन सुनना

गर्भावस्था के दौरान शिशु के हृदय की धड़कन सुनना

Last Updated On

शिशु के हृदय की पहली धड़कन सुनने की खुशी से बढ़कर कोई खुशी नहीं होती है और माता-पिता इस पल की बेसब्री से प्रतीक्षा करते हैं। बच्चे की धड़कन सुनाई देने की खुशी के अलावा, यह आपके नन्हे मेहमान के अच्छे स्वास्थ्य का भी संकेत हो सकता है। भ्रूण के स्वस्थ हृदय की धड़कन का मतलब है कि आपके बच्चे का उसी तरह विकास हो रहा है जैसे होना चाहिए और आपको चिंता करने की बिलकुल आवश्यकता नहीं है।

आप पहली बार अपने शिशु के हृदय की धड़कन कब सुन सकती हैं?

6सप्ताह के बाद, पहले स्कैन के दौरान आप अपने गर्भ में पल रहे शिशु के हृदय की धड़कन सुन सकती हैं। ट्रांसवेजाइनल स्कैन (टी.वी.एस.) के माध्यम से आप भ्रूण के हृदय की धड़कन देख भी सकती हैं। यदि आप किसी कारण टी.वी.एस. स्कैन नहीं कर पा रही हैं, तो आप इसे डॉप्लर के माध्यम से भी सुन सकती हैं। यद्यपि भ्रूण के हृदय की धड़कन लगभग 6 सप्ताह में शुरू हो जाती है, कभी-कभी ऐसा हो सकता है कि आप इसे उस समय के दौरान न सुन पाएं। स्वस्थ हृदय की धड़कन सुनने के लिए आपको 10 या 12 सप्ताह तक प्रतीक्षा करनी पड़ सकती है।

गर्भस्थ शिशु के हृदय की धड़कनों की दर कैसे गिनी जाती है?

शिशु के हृदय की धड़कनें गिनना काफी आसान है।15 सेकंड में हो रही हृदय की धड़कनें गिनें और उस संख्या को 4 गुना करें। यह आपको एक मिनट या 60 सेकंड में हो रही हृदय की धड़कनों की संख्या देता है। आप 10 या 20 सेकंड हो रही हृदय की धड़कनें भी गिन सकती हैं और 60 सेकंड में हृदय की धड़कनों की पूर्ण संख्या प्राप्त करने के लिए इसे क्रमशः 6 या 3 गुना कर लें।

आमतौर पर गर्भस्थ शिशु के हृदय की धड़कनें कितनी होनी चाहिए?

आमतौर पर एक भ्रूण के हृदय की धड़कनें, 110 से 180 प्रति मिनट (बी.पी.एम.) होती हैं। यह संख्या भ्रूण की गतिविधि के अनुसार बदल भी सकती है। आपके बच्चे के हृदय की धड़कनों में पूरे दिन उतार-चढ़ाव हो सकता है और यहाँ तक कि यह 180 से 190 तक भी बढ़ सकती है, यह बच्चों में काफी आम बात है। परन्तु, यदि आपको अपने बच्चे के हृदय की धड़कनों को लेकर कोई भी चिंता होती है, तो आप उसे स्पष्ट करने के लिए कभी भी अपने डॉक्टर से परामर्श कर सकती हैं।

गर्भस्थ शिशु के हृदय की धड़कन की आवाज कैसी होती है?

जबकिभ्रूण के हृदय की धड़कन की आवाज आपको अलग लग सकती है, अधिकांश महिलाओं को यह घोड़ों के दौड़ने के आवाज जैसी लगती है। चूंकि हृदय की धड़कनें बहुत तेज होती हैं और यदि आप खुद के मापन यन्त्र (मॉनिटर) का इस्तेमाल कर रही हैं, तो इसे सुनना मुश्किल भी हो सकता है और आपको सरसराहट सी महसूस हो सकती है। यह गर्भनाल के माध्यम से बहने वाले रक्त की आवाज होती है।

गर्भस्थ शिशु के स्वस्थ हृदय की धड़कन क्या सूचित करती है?

आपके बच्चे के अच्छे विकास का पहला संकेत ही उसके स्वस्थ हृदय की धड़कन होती है। यदि आपको 7 या 8 सप्ताह में भ्रूण के हृदय की धड़कन साफ सुनाई देती है, तो आपको अपने बच्चे के स्वास्थ्य की चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।

चूंकि भ्रूण के हृदय की धड़कन सामान्य होने की स्थिति में गर्भपात होने का खतरा केवल 1% होता है, आपको गर्भपात होने के खतरे के बारे में इतनी चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।

गर्भावस्था के दौरान शिशु के हृदय की धड़कन सुनने के विभिन्न तरीके

आप विभिन्न तरीकों का उपयोग करके अपने बच्चे के हृदय की धड़कन सुन सकती हैं। उसकी धड़कन घर पर ही सुनने के लिए, आप नीचे दिए गए कुछ तरीके अपना सकती हैं, कुछ सामान्य तरीके इस प्रकार हैं:

1. स्टेथोस्कोप का उपयोग

स्टेथोस्कोप का उपयोग करके अपने बच्चे के हृदय की धड़कन सुनना, सबसे आसान तरीकों में से एक है। एक अच्छी गुणवत्ता वाले स्टेथोस्कोप से आप 18वें सप्ताह से 20वें सप्ताह के आसपास भ्रूण के हृदय की धड़कनें सुन सकती हैं। इस समय आपके बच्चे के हृदय की धड़कन इतनी तीव्र होती है कि आप उसे स्टेथोस्कोप के माध्यम से भी सुन सकती हैं।

स्टेथोस्कोप को बस अपने पेट पर रखें और जब तक आपको हृदय की धड़कन साफ सुनाई नहीं देती तब तक इसे पेट पर धीरे-धीरे यहाँ से वहाँ हिलाते रहें। आपको इस में काफी धैर्य रखने की आवश्यकता है। यदि आपके शिशु के हृदय की धड़कन तीव्र नहीं है, तो इसके परिणाम सटीक नहीं आएंगे।

स्टेथोस्कोप का उपयोग करें

2. ऐप डाउनलोड

आज के समय में तकनीक ने होने वाले माता-पिता के लिए अपने शिशु के हृदय की धड़कन सुनना आसान कर दिया है। आप उपलब्ध कई ऐप्स में से कोई भी एक ऐप फ्री डाउनलोड या खरीद कर डाउनलोड कर सकती हैं और अपने शिशु के हृदय की धड़कन सुन सकती हैं। आप उसकी धड़कन रिकार्ड भी कर सकती हैं और फिर इसे अपने दोस्तों या परिवार वालों को भी सुना सकती हैं।

जब गर्भावस्था के बाद के चरणों में आपके शिशु के हृदय की धड़कन अधिक दृढ़ हो जाती है, तब इस तरीके पर अधिक भरोसा किया जा सकता है।

3. फीटल मॉनिटर

यदि आप अपने गर्भ में पल रहे शिशु के हृदय की धड़कन घर पर ही सुनना चाहती हैं, तो भ्रूण के हृदय की धड़कन नापने वाला यन्त्र खरीदें। आप एक सस्ता मापन यन्त्र खरीद सकती हैं, जिससे आप डॉक्टर के पास जाने से पहले शिशु के हृदय की धड़कन भी सुन सकती हैं। परन्तु, आपको गर्भावस्था के पाँचवें महीने तक दिल की धड़कन सुनाई नहीं देगी, क्योंकि यह मापन यन्त्र उतना प्रभावशाली नहीं होता है जितना कि डॉक्टर द्वारा इस्तेमाल किया गया यन्त्र होता है।

घर पर इस्तेमाल करने के लिए, भ्रूण के हृदय की धड़कन नापने वाला यन्त्र खरीदने से पहले आप अपने डॉक्टर से परामर्श ले सकती हैं। मापन यन्त्र खरीदने के बाद, अचूक परिणामों के लिए निर्देशों का ध्यानपूर्वक पालन करें।

4. फीटल डॉप्लर

डॉक्टर आपकी नियमित जांच के दौरान, बच्चे के हृदय की धड़कन का पता लगाने के लिए एक फीटल डॉप्लर का उपयोग कर सकते हैं। जांच करने के लिए इस उपकरण में एक छोटा यन्त्र होता है जिसे डॉक्टर आपके पेट पर घुमाते हैं और जैसे ही हृदय की धड़कन महसूस होती है, डॉप्लर ध्वनि तरंगों का उपयोग करके धड़कन को विस्तारित करता है। यह प्रक्रिया पूरी तरह से दर्द रहित होती है।

डॉप्लर द्वारा गर्भ में पल रहे शिशु के हृदय की धड़कन का नौवें या दसवें सप्ताह में ही पता लगाया जा सकता है। हालांकि, कभी-कभी इसके लिए 12वें सप्ताह तक का समय भी लग सकता है।

5. अल्ट्रासाउंड

डॉक्टर पहले भी एक अल्ट्रासाउंड स्कैन कर सकता है, जिससे गर्भावस्था के लगभग आठवें सप्ताह में आप अपने शिशु के हृदय की धड़कन सुन सकती हैं। यह आमतौर पर तब किया जाता है जब आपकी गर्भावस्था में समस्या आने का खतरा बहुत अधिक हो, ताकि ऐसी समस्या का जल्द ही पता लगाया जा सके और उसका इलाज भी शुरू किया जा सके।

क्या तनाव, भ्रूण के हृदय की धड़कन पर असर डाल सकता है?

कई अध्ययनों के अनुसार तनाव और चिंता एक महिला के हृदय की धड़कन और रक्तदाब में बदलाव ला सकते हैं और यही बदलाव, परिणामस्वरूप भ्रूण के हृदय की धड़कन पर भी प्रभाव डाल सकते हैं। 2003 में ‘डेवलपमेंट एंड बिहेवियरल पीडियाट्रिक्स’ में प्रकाशित एक अध्ययन ने इस बात की पुष्टि की है, कि तनाव और भावनाओं के कारण एक महिला के हृदय की गतिविधियों में हुआ बदलाव, गर्भ में पल रहे शिशु पर प्रभाव डाल सकता है। कुछ और अध्ययनों के अनुसार बच्चे का कम वजन और समय से पहले जन्म का कारण तनाव हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान तनाव, भविष्य में बच्चे के जीवन में उसके कार्य और संज्ञानात्मक विकास पर अधिक गहरा प्रभाव डाल सकता है।

कई गर्भवती महिलाएं, आने वाले अज्ञात भविष्य से डर के कारण गर्भावस्था के दौरान तनावग्रस्त रहती हैं । उनके मन में गर्भावस्था के विकास और परिणाम को लेकर एक निरंतर डर बना रहता है, जो चिंता और तनाव का कारण बनता है। अक्सर, माएं फीटल डॉप्लर के उपयोग से अपने बच्चे के हृदय की धड़कन और स्वास्थ्य पर नजर रखकर इस तनाव को दूर कर सकती हैं।

क्या फीटल डॉप्लर खरीदा या किराए पर लिया जा सकता है?

हाँ, आप घर पर इस्तेमाल करने के लिए फीटल डॉप्लर खरीद या किराए पर ले सकती हैं। विभिन्न विशेषताओं के साथ इसके कई मॉडल उपलब्ध हैं।उनमें से कुछ में आप अपने शिशु के हृदय की धड़कन रिकॉर्ड भी कर सकती हैं। हालांकि, यह सुनिश्चित करें कि आप जो फीटल डॉप्लर खरीद रही हैं या किराए पर ले रही हैं, वह एफ.डी.ए. द्वारा स्वीकृत है। आप खरीदने या किराए पर लेने वाले सर्वोत्तम उपकरण के बारे में डॉक्टर से परामर्श भी ले सकती हैं।

अधिकांश माएं इस बात से सहमत होती हैं कि गर्भ में पल रहे शिशु के हृदय की धड़कन सुनना एक बहुत ही सुखद अनुभव होता है। चूंकि यह आपके शिशु के स्वास्थ्य का भी एक संकेत है, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप नियमित रूप से डॉक्टर के पास जाएं और हर जांच की रिपोर्ट संभाल कर रखें। यह आपको किसी भी विसंगति के बारे में समय रहते पता लगाने में मदद कर सकता है। आप अपने लिए भ्रूण के हृदय की धड़कन नापने वाला यन्त्र ले सकती हैं और इसका उपयोग डॉक्टर के पास जाने से पहले कर सकती हैं । इसके अतिरिक्त यदि आपको कुछ भी असामान्य लगे तो डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें।