गर्भावस्था के दौरान श्रोणि में दर्द: कारण, लक्षण और उपचार

प्रेगनेंसी के दौरान श्रोणि में दर्द (पीजीपी)

Last Updated On

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि में दर्द जिसे पेल्विक गर्डल पेन (पीजीपी) कहते हैं, असामान्य नहीं है। यदि आप गर्भवती हैं, तो इसके बारे में आपको पता होना चाहिए। पीजीपी, जल्दी से जल्दी यानि पहली तिमाही में या देर से देर यानि प्रसव से कुछ दिन पहले, कभी भी शुरू हो सकता है।

गर्भावस्था की शुरुआत में पीजीपी का कारण आपके शिशु का सिर श्रोणि से नीचे जाना हो सकता है, जिसे अंग्रेजी में ‘एंगेजिंग’ कहते हैं। पीजीपी गर्भावस्था के दौरान शुरू होता है, लेकिन इसका दर्द आपको प्रसव के बाद भी हो सकता है। यदि आप भाग्यशाली हैं तो आपको बिलकुल भी दर्द नहीं होगा। हालांकि, यदि आप दर्द महसूस करती हैं तो इसके कारण, लक्षण व उपचार जानने से आपको फायदा होगा। पीजीपी को सिम्फिसिस प्यूबिस डिसफंक्शन (एसपीडी) भी कहा जाता है। पढ़िए यह लेख। 

श्रोणि का दर्द (पीजीपी) क्या है

श्रोणि आपके शरीर का वह क्षेत्र है जहाँ आपके कूल्हे की दोनों हड्डियां स्थित होती हैं। कूल्हे के आगे की हड्डियां प्युबिस सिम्फिसिस से जुड़ी होती हैं जो एक बहुत कठोर जोड़ होता है और पीछे से वे त्रिकास्थि की हड्डी (सेक्रम बोन) से जुड़े होते हैं। मजबूत स्नायुबंधन (लिगामेंट) इन हड्डियों को जगह पर जोड़ कर रखते हैं। 

श्रोणि का दर्द एक ऐसा विस्तृत शब्द है जिसका उपयोग श्रोणि के जोड़ों में दर्द का वर्णन करने के लिए किया जाता है और इसमें शामिल हैं:

  • सेक्रम बोन से जुड़े हुए हड्डियों के जोड़ या कूल्हों की हड्डियों के बीच पीछे की ओर मौजूद त्रिकोणीय हड्डियों से जुड़े हुए जोड़। 
  • सिम्फिसिस प्यूबिक से जुड़े हुए जोड़, जो सामने की ओर आपकी श्रोणि के दो हिस्सों को जोड़ने वाला जोड़ है। इसे सहवर्धन जघन शिथिलता (सिम्फिसिस प्यूबिस डिसफंक्शन) या एसपीडी भी कहा जाता है।

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि में क्या होता है

प्रसव के दौरान गर्भस्थ शिशु जन्म नलिका से होकर गुजरता है, जो श्रोणि में स्थित होती है। गर्भावस्था के दौरान रिलैक्सिन नामक हार्मोन स्रावित होता है और यह श्रोणि के स्नायुबंधनों को मुलायम बनाने में मदद करता है। स्नायुबंधन इस प्रकार फैलने में सक्षम होते हैं ताकि शिशु आराम से बाहर निकल सके। यही कारण है कि आपकी गर्भावस्था व प्रसव के बाद भी श्रोणि के जोड़ अधिक हिलते हैं। जबकि रिलैक्सिन जो गर्भवती हैं और जो गर्भवती नहीं हैं – ऐसी दोनों महिलाओं में स्रावित होता है, गर्भावस्था के दौरान और पूरी पहली तिमाही में स्राव बढ़ता है। गर्भावस्था के प्रारंभिक चरण में लगातार वृद्धि के बाद, अंतिम हफ्तों में रिलैक्सिन का स्राव फिर से बढ़ जाता है।

हार्मोनल प्रभाव कभी-कभी हड्डियों के जोड़ और स्नायुबंधन को आराम देता है, जिससे श्रोणि की हड्डियों के बीच 9 मि.मी. तक का अंतर होता है – एक ऐसी स्थिति जिसे डायस्टेसिस सिम्फिसिस प्युबिस (डीएसपी) के रूप में जाना जाता है। हालांकि, यह जरुरी नहीं है कि गर्भावस्था में डायस्टेसिस सिम्फिसिस प्युबिस पीजीपी का कारण हो। आपकी मांसपेशियां और तंत्रिकाएं आपके श्रोणि चक्र के अधिक लचीलेपन का सामना करने और इसे अनुकूल बनाने में सक्षम हैं। इसके परिणाम-स्वरुप गर्भस्थ शिशु की वृद्धि के अनुसार आपका शरीर परिवर्तनों के अनुकूल हो जाता है। 

गर्भावस्था के समय श्रोणि में दर्द के कारण

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि में दर्द के लिए निम्नलिखित कई कारण हैं, आइए जानते हैं;

  • कमर को सहारा देने के लिए मांसपेशियों के काम करने के तरीके में बदलाव। 
  • आपके श्रोणि में जोड़ों की असमान गतिविधियां। 
  • अनेक जोड़ों में से एक जोड़ सुचारू रूप से काम नहीं कर रहा है और आपके श्रोणि चक्र के अन्य जोड़ों पर तनाव उत्पन्न करता है। 

आमतौर पर, जब आप चलती हैं, बैठती हैं, खड़ी होती हैं या लेटती हैं, तो आपकी श्रोणि स्थिर या बंद की स्थिति में होती है। गर्भावस्था के दौरान कभी-कभी आपको इन गतिविधियों को अस्थिर श्रोणि के साथ करना पड़ता है और यही दर्द का कारण बनता है। इसके परिणामस्वरूप जोड़ों में सूजन आती है और यह पीजीपी का प्राथमिक कारण है। आधी से ज्यादा गर्भवती महिलाएं श्रोणि के दर्द या पीठ दर्द से पीड़ित होती हैं।

हालांकि गर्भावस्था के दौरान श्रोणि का दर्द आम है, लेकिन यह ऐसी चीज नहीं है जिसे सामान्य रूप में स्वीकार किया जाना चाहिए। यह महत्वपूर्ण है कि आप इस दर्द को नजरअंदाज न करें और तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। यदि आप इसे अनुपचारित छोड़ देती हैं, तो दर्द अधिक तकलीफदेह हो सकता है।

पीजीपी/एसपीडी के संकेत और लक्षण

आमतौर पर अलग-अलग महिलाओं में दर्द का स्थान और तीव्रता भिन्न होती है। आप सिर्फ एक तरफ दर्द का अनुभव कर सकती हैं या दर्द एक तरफ से दूसरी तरफ बदल सकता है। आपके पैरों के पीछे या नितंबों में भी बहुत दर्द हो सकता है। पीजीपी और  साइटिका का दर्द एक जैसा लग सकता है क्योंकि दोनों में कई लक्षण समान होते हैं।

पीजीपी या एसपीडी के लक्षणों में शामिल हैं:

  • सिमफिसिस प्युबिस जोड़
  • पीठ का निचला हिस्सा
  • पीठ के त्रिकश्रोणीय जोड़
  • जांघ के पीछे और सामने
  • पेट और जांघ के बीच का भाग 
  • कूल्हों के आसपास
  • श्रोणि तल, गुदा और योनि के मुख के आस-पास

पीजीपी/एसपीडी के संकेत और लक्षण

अगर आप उचित उपाय नहीं करती हैं, तो दर्द आमतौर पर अधिक बढ़ जाता है। कुछ गतिविधियां जो आपको आरामदेह लग सकती हैं, उससे भी दर्द अत्यधिक बढ़ सकता है। नीचे लेटना और अपने बिस्तर पर पलटना और यहाँ तक कि कुछ संभोग मुद्राएं भी पीजीपी की वजह से दर्दनाक हो सकती हैं। लंबे समय तक खड़े या बैठे रहने से भी दर्द बढ़ सकता है कर इसके लक्षण आमतौर पर रात में अधिक बढ़ जाते हैं। 

श्रोणि चक्र का दर्द अन्य समस्याओं को भी उत्पन्न कर सकता है जो आपकी गर्भावस्था के सफर को अधिक मुश्किल बना सकती हैं। अत्यधिक व लगातार दर्द के कारण आप चिड़चिड़ा सकती हैं और आप अवसाद, उदासी, अलगाव, हताशा, अपराध और क्रोध जैसे भावनात्मक लक्षणों का अनुभव कर सकती हैं।

श्रोणि दर्द के साथ अन्य दर्द 

पीजीपी एक विस्तृत पारिभाषिक शब्द है जिसमें दर्द की विभिन्न श्रेणियां होती हैं, इनमें शामिल है:

  • डायस्टेसिस सिम्फिसिस प्युबिस (डीएसपी): यह दर्द तब होता है जब सामान्यतः जुड़ी हुई प्यूबिक हड्डियां अलग हो जाती हैं और उनमें अंतर आता है। 
  • श्रोणि जोड़ों के लक्षण (पेल्विक जॉइंट सिंड्रोम): यह दर्द श्रोणि जोड़ों में असामान्य गतिविधि के कारण होता है। 
  • पोस्टीरियर पेल्विक पेन: यह दर्द श्रोणि जोड़ों के दर्द (पेल्विक जॉइंट पेन) के समान होता है जिसमें यह नितंबों से लेकर जांघों तक फैला होता है। 

विभिन्न दर्द के बारे में विस्तृत रूप से निम्नलिखित जानकारी दी गई है, आइए जानते हैं;

  • श्रोणि संधिरोग (पेल्विक आर्थ्रोपैथी): जोड़ों का यह रोग दर्द का कारण बनता है और आपकी गतिशीलता को सीमित कर सकता है।
  • सिम्फिसियोलायसिस: इसमें सहवर्धन (दो हड्डियों के बीच का उपास्थि जोड़) खिसक जाता है या अलग हो जाता है।
  • इन्फीरियर प्यूबिक शियर/सुपीरियर प्यूबिक शियर/सिम्फिसील शियर: इसमें एक जघन हड्डी खराब हो सकती है।
  • अस्थिप्रदाह जघन (आमतौर पर प्रसव के बाद): यह तब होता है जब जघन सहवर्धन और आसपास की मांसपेशियों में सूजन आ जाती है।
  • अतिगतिकता (हाइपरमोबिलिटी): इसमें आप जोड़ों की हड्डियों को सामान्य से अधिक गतिशील करने में सक्षम होंगी। 
  • सेक्रोलाइटिस: सेक्रोलाइटिस जोड़ (जहाँ श्रोणि और निचली रीढ़ ही हड्डी जुड़ती है) में सूजन और दर्द होता है। 
  • सहवर्धन जघन शिथिलता (एसपीडी): दर्द के साथ-साथ जघन की हड्डी अत्यधिक हिलती है। 
  • क्रियात्मक श्रोणि चक्र शिथिलता (फिजियोलॉजिकल पेल्विक गर्डल रिलैक्सेशन): अस्थिबंध शिथिलता (लिगामेंट रिलैक्सेशन) जो गर्भावस्था के दौरान बहुत अधिक दर्द का कारण बनता है।

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि की स्थिति महत्वपूर्ण क्यों है

मजबूत श्रोणि, गर्भावस्था में हमेशा सहायता करती है और इससे प्रसव पीड़ा भी कम होती है। गर्भावस्था के कारण श्रोणि तल पर बहुत जोर पड़ता है और यह प्रसव से पहले अधिक कमजोर होने के साथ-साथ फैलती भी है। डॉक्टर श्रोणि तल व्यायाम करने की सलाह देते हैं ताकि यह कमजोर न हो। मजबूत मांसपेशियां आपके शिशु का वजन संभालने में सक्षम होती हैं और प्रसव के बाद गुदा और योनि के बीच की मांसपेशियों को ठीक करने में मदद करती हैं।

शरीर के अंगों में से श्रोणि एक बेहद महत्वपूर्ण अंग है जो शिशु के जन्म के दौरान प्रभावित होती है। यह आवश्यक है कि इस पर ध्यान दिया जाए और बहुत अधिक जोर न दिया जाए क्योंकि बाद में किसी भी तरह की जटिलताएं गंभीर दर्द का कारण बन सकती हैं।

सबसे अधिक खतरा किसे है 

पीजीपी से गर्भावस्था के बाद के चरणों में महिलाओं को अधिक खतरा होता है। निम्नलिखित मामलों में इसका खतरा बढ़ जाता है;

  1. यदि आपको पहले से ही कमर दर्द की समस्या है। 
  2. आपने पिछली गर्भावस्था में पीजीपी का अनुभव किया है।

पीजीपी का निदान

यदि आप अपने श्रोणि क्षेत्र में और उसके आसपास किसी भी दर्द का अनुभव करती हैं, तो आपको डॉक्टर से मिलने की सलाह दी जाती है। यदि आपको पीठ के निचले हिस्से में तेज दर्द हो तो भी डॉक्टर द्वारा जांच करवाएं। डॉक्टर परीक्षण के साथ-साथ आपसे यह पूछ सकते हैं कि आपको वास्तव में दर्द कहाँ हो रहा है। सुनिश्चित करें कि आप जानती हैं कि दर्द कैसी हलचल या किन गतिविधियों से होता है ताकि आप सटीक निदान के लिए डॉक्टर को पूरी जानकारी दे सकें।

पीजीपी को प्रायः डॉक्टरों द्वारा भी कटिस्नायुशूल (साइटिका) माना जाता है। सुनिश्चित करने के लिए आप चाहें तो फिजियोथेरपिस्ट द्वारा भी अपनी जांच करवा सकती हैं। हालांकि फिजियोथेरपिस्ट ऐसा होना चाहिए जिसे गर्भवती महिलाओं के इलाज का अनुभव हो।

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि दर्द का उपचार

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि में दर्द का उपचार करना मुश्किल नहीं है, आप अपने दर्द को कम करने के लिए कई चीजें कर सकती हैं। जीवनशैली में कुछ बदलाव और नियमित व्यायाम पीजीपी के इलाज और आपकी गर्भावस्था को बेहतर बनाने में काफी मददगार हो सकते हैं।

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि दर्द से राहत पाने के कुछ तरीके इस प्रकार हैं:

  • डॉक्टर को कहें कि वह आपको बताए कि चलते समय, खड़े होकर या अन्य कार्य करते समय श्रोणि को कैसे अवरोधित किया जा सकता है।आप अपनी दैनिक गतिविधियों को करते समय थोड़ा सावधान रहकर दर्द को कम कर सकती हैं।
  • यदि आपको अत्यधिक दर्द को रहा है तो डॉक्टर आपको एक पेल्विक सपोर्ट बेल्ट या मैटरनिटी बेल्ट देंगे।
  • श्रोणि तल और पेट के लिए विशिष्ट व्यायाम भी उपयोगी हो सकते हैं।
  • जल प्रसव कक्षाओं (एक्वानेटल क्लास) करने की सलाह दी जाती है और आप पानी में व्यायाम भी कर सकती हैं। इससे कुछ हद तक राहत मिल सकती है। लेकिन, सुनिश्चित करें कि आप विशेष रूप से गर्भवती महिलाओं के वर्ग में ही शामिल हों।
  • एक्यूपंक्चर चिकित्सा से भी अधिक राहत मिल सकती है। हालांकि इसके लिए डॉक्टर से मिलने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि उन्हें एक्युपंक्चर द्वारा विशेष रूप से गर्भवती महिलाओं का इलाज करने का अनुभव हो। यदि आपको इनमें से किसी से भी फायदा नहीं होता है तो डॉक्टर आपको पैरासिटामॉल नामक दर्द निवारक गोली दे सकते हैं। 

गर्भावस्था के दौरान श्रोणि दर्द का उपचार

क्या पीजीपी प्रसव पीड़ा को प्रभावित करता है

वैसे देखा जाए तो पीजीपी आपके प्रसव को किसी भी तरह से प्रभावित नहीं करता है। यदि आपको किसी भी तरह की आशंका है तो प्रसव के दौरान निम्नलिखित मुद्राओं को अपना सकती हैं:

  • प्रसव के दौरान सीधे बैठने या घुटने मोड़ने की कोशिश करें। 
  • प्रसव के समय अपनी पीठ के बल बिस्तर पर लेटने से बचें। 

प्रसव पीड़ा कम करने के लिए डॉक्टर से शारीरिक मुद्रा की सही जानकारी लें। 

श्रोणि में दर्द के साथ प्रसव 

श्रोणि में दर्द के कारण आपको अपने पैरों को खोलना मुश्किल हो सकता है और यदि आप इस समस्या का सामना कर रही हैं, तो डॉक्टर से बात करें ताकि यह पता चल सके कि आपके लिए सबसे अच्छी मुद्रा कौन सी है। यदि दर्द गंभीर है, तो आपको प्रसव के दौरान एक सहायक की जरूरत हो सकती है। यदि अधिकांश मुद्राएं आपके लिए दर्दनाक हैं, तो डॉक्टर पूरी प्रक्रिया को यथासंभव आरामदायक बनाने के लिए निश्चेतक (एपिड्यूरल) का विकल्प चुन सकते हैं। 

यदि आप बहुत दर्द में हैं तथा आपको हिलने डुलने में समस्या हो रही है, तो डॉक्टर सिजेरियन करने की सलाह दे सकते हैं। हालांकि यह अंतिम उपलब्ध विकल्प है। सिजेरियन प्रसव वास्तव में पीजीपी लक्षणों में मदद नहीं करता है और बच्चे को जन्म देने के बाद पीजीपी से उबरना आपके लिए अधिक कठिन हो सकता है।

मदद और सहारा

यह महत्वपूर्ण है कि जब आप गर्भवती हों और खास कर जब आपको श्रोणि चक्र का दर्द हो रहा हो तब आपके आसपास लोग हों। आपको घर के कामों को कम करने व ज्यादा से ज्यादा आराम करने की आवश्यकता हो सकती है। लोगों की मदद से आपको अत्यधिक सरलता मिल सकती है।

यदि आप पीजीपी का अनुभव कर रही हैं, तो यहाँ कुछ युक्तियां दी गई हैं जो आप प्रसव प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए कर सकती हैं:

दर्दनाक गतिविधियों से बचें

तकलीफ को बढ़ाने वाली सभी प्रकार की गतिविधियों से बचें क्योंकि आमतौर पर दर्द को कम होने में बहुत लंबा समय लगता है। फर्श पर न बैठें और पालथी मार कर बैठने से भी बचें। आसपास के लोगों से घर के कामों में मदद करने के लिए कहें। आपको दिन की शुरुआत में दर्द नहीं होगा परंतु बाद में या आपको रात में सोते समय अत्यधिक दर्द हो सकता है।

पर्याप्त आराम

नियमित अंतराल पर आराम करना महत्वपूर्ण है। सीधा बैठें और सुनिश्चित करें कि आपकी पीठ धनुषाकार में हो और उसे अच्छी तरह से सहारा मिलता रहे। एक तरफ लेट जाने से भी मदद मिलती है।

उचित तरीके से मुड़ें

समय के साथ बिस्तर पर मुड़ना मुश्किल हो सकता है। पीठ के बल सीधे लेटने से उठकर बैठने की कोशिश करें। इससे कुछ हद तक दर्द कम हो सकता है। हालांकि, जैसे-जैसे पेट बढ़ता है, ऐसा करना मुश्किल होता जाएगा। हिलने से पहले, अपने पेट के नीचे की मांसपेशियों, श्रोणि तल को कस लें और अपनी पीठ को धनुषाकार में करें।

पीठ को धनुषाकार में बनाकर चलें 

चलते समय पीठ को झुकाए रखें और अपने हाथों को हिलाएं। यह श्रोणि को स्थिर रखने में मदद करता है और श्रोणि जोड़ों को कड़क रखता है।

सही मुद्रा बनाए रखें

चाहे आप बैठी हों या खड़ी हों, सही मुद्रा बनाए रखना सुनिश्चित करें। अपने पैरों को उसी स्तर पर रखकर अपनी पीठ के बल न लेटें या कंधे झुकाकर न बैठें। जब भी आपको अपनी पीठ के बल लेटना हो, तो सुनिश्चित करें कि आपकी पीठ को सहारा देने के लिए आपके पास लपेटा हुआ तौलिया है। आप अपने पैरों के बीच में एक छोटा तकिया भी रख सकती हैं और एक तरफ घूमकर सो सकती हैं। इससे वास्तव में आपको अत्यधिक आराम मिल सकता है और यह आपके कूल्हों को संरेखित रखने में मदद करता है।

सही मुद्रा बनाए रखें

नर्म गद्दे पर सोएं

नर्म सतह पर सोने से अस्थाई एसपीडी दर्द से राहत मिल सकती है। बस चादर के नीचे एक नर्म रजाई या लोई बिछा दें। कुछ अन्य बातें जो आपको ध्यान में रखने की आवश्यकता है, वे हैं:

  • भारी वजन और वस्तुएं न उठाएं। 
  • नीचे के कपड़े पहनते समय खड़े रहकर अपने पैर अंदर डालने की कोशिश न करें। बैठकर कपड़े पहनने का प्रयास करें।  
  • अपनी पीठ को मजबूत बनाने के लिए श्रोणि तल और पेट के निचले हिस्से का व्यायाम करें। 

यदि आपको गर्भावस्था में पीजीपी का अनुभव हुआ है, तो इस बात की संभावना है कि जब आप फिर से गर्भवती होंगी तो भी आप इसका अनुभव दोबारा कर सकती हैं। हालांकि, यह अनुभव पहली बार जैसा बुरा नहीं होगा, क्योंकि आप पहले से ही जानती हैं कि लक्षणों को कम करने के लिए क्या करना चाहिए। यदि आप अपनी पहली गर्भावस्था में पीजीपी से पीड़ित रही हैं, तो दूसरी गर्भावस्था से पहले कुछ वर्षों तक इंतजार करना उचित है। यदि आपका वजन अधिक है, तो वजन कम करने पर विचार करें क्योंकि अतिरिक्त वजन आपकी श्रोणि पर दबाव डालता है। अपने लचीलेपन को बढ़ाने और स्वस्थ रहने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें। 

ये सभी उपाय पीजीपी को कुशलतापूर्वक प्रबंधित करने में मदद करेंगे और निश्चित ही प्रसव के दौरान आपकी परेशानी को कम करेंगे।

यह भी पढ़ें:

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज़ (पी.आई.डी.): कारण, लक्षण और उपचार
गर्भावस्था के दौरान शरीर का सुन्न होना – कारण एवं उपचार