गर्भावस्था के दौरान थायराइड की समस्या

प्रेगनेंसी के दौरान थाइराइड की समस्या

Last Updated On

जैसे ही आपकी गर्भावस्था की पुष्टि आपके डॉक्टर द्वारा की जाती है, आपको थायराइड की जाँच कराने के लिए कहा जाएगा। और हो सकता है यदि आप गर्भधारण करने की योजना बना रही हैं, तो आपको थायराइड की जाँच करवाने को कहा जा सकता है। हालांकि, गर्भावस्था के दौरान थायराइड एक सामान्य स्थिति है और कभी कभी इसे गर्भावस्था के अन्य लक्षणों के साथ समानता के कारण इससे भ्रमित होने की संभावना बढ़ जाती है। वजन बढ़ना, थकावट महसूस करना, बदमिजाज या भूल जाना यहाँ तक कि सूजन जैसे लक्षण गर्भावस्था और थायराइड दोनों ही परिस्थितियों में समान हैं।

थायराइड क्या है?

एच (H) के आकार की थायराइड ग्रंथि हमारी गर्दन के सामने वाले हिस्से में, वॉइस बॉक्स के ठीक नीचे पाया जाता है। यह लगभग दो इंच लंबा और उसका वजन न के बराबर (30 ग्राम से भी कम) होता है। यह अंतःस्रावी तंत्र का एक अभिन्न हिस्सा है जो आपके शरीर के लिए हार्मोन बनाने का महत्वपूर्ण काम करता है। थायराइड ग्रंथि दो प्रमुख हार्मोन, T3 और T4 का उत्पादन करती है। थायराइड द्वारा बनाए गए हार्मोन आपके शरीर के मेटाबोलिज्म, वजन, मस्तिष्क के विकास, श्वसन, शरीर के तापमान और कोलेस्ट्रॉल के स्तर जैसे कई महत्वपूर्ण शारीरिक कार्यों को नियंत्रित करते हैं। गर्भावस्था में थायराइड के स्तर की निगरानी करना महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे शिशु के न्यूरॉन बौद्धिक क्षमताओं पर असर पड़ सकता है।

थायराइड की समस्या एक महिला के प्रजनन चरण के समय ज्यादा सामान्य होता है। लेकिन अगर समय रहते इसका पता नहीं लगाया जाता है, तो इसका प्रभाव गर्भावस्था पर भी पड़ता है। जबकि हाइपर-थायरायडिज्म रक्त में हार्मोन के उच्च स्तर के कारण होता है और हाइपो-थायरायडिज्म रक्त में थायराइड हार्मोन के स्तर में कमी के कारण होता है।

गर्भावस्था कैसे थायराइड ग्रंथि के कार्यों को प्रभावित करती है?

गर्भावस्था के समय, दो हार्मोन, एस्ट्रोजन और ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) आपके थायराइड के स्तर को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है। जब आप गर्भवती होती हैं, तो ये थायराइड हार्मोन बच्चे के मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के विकास और आपके स्वास्थ्य दोनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

गर्भनाल या प्लेसेंटा एचसीजी बनाता है, जो टीएसएच के समान होता है और अधिक हार्मोन बनाने के लिए थायराइड को उत्तेजित करता है। एस्ट्रोजन के स्तर में वृद्धि थायराइड-बाइंडिंग ग्लोब्युलिन का उत्पादन करती है, एक प्रोटीन जो थायराइड हार्मोन को रक्त के साथ संचालित होने में मदद करता है। पहली तिमाही में, आपका बच्चा थायराइड हार्मोन की जरूरतों के लिए आप पर निर्भर होता है, जो गर्भनाल के माध्यम से आता है। ऐसा 12वें सप्ताह तक चलता है, जिसके बाद बच्चे का थायराइड ग्रंथि अपने आप काम करना शुरू कर देता है।

थायराइड के कारण होने वाले गर्भावस्था की किसी भी समस्या का पता लगाने के लिए थायराइड फंक्शन टेस्ट कराना आवश्यक है। हालांकि, इन हार्मोन से जुड़े बदलावों का पता नहीं चल सकता है और इन परीक्षणों के बावजूद इसकी व्याख्या करना मुश्किल हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान थायराइड आकार में बढ़ता है, लेकिन जाँच में नजर आने के लिए काफी नहीं होता है। चूँकि गर्भावस्था के दौरान आपसी संकेतों के कारण थायराइड हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है, थकान और थायराइड के आकार में वृद्धि होती है, इसलिए थायराइड से संबंधित समस्याओं का निदान करना मुश्किल हो सकता है।

गर्भावस्था कैसे थायराइड ग्रंथि के कार्यों को प्रभावित करती है?

गर्भावस्था में हाइपरथायरायडिज्म (अतिगलग्रंथिता)

जब एक अति सक्रिय अंग बड़ी मात्रा में थायराइड हार्मोन का उत्पादन करता है, तो स्थिति को हाइपरथायरायडिज्म के रूप में जाना जाता है।

गर्भावस्था में हाइपरथायरायडिज्म के कारण

हाइपरथायरायडिज्म आमतौर पर ग्रेव्स डिजीज के कारण होता है जो एक स्व-प्रतिरक्षित विकार है जिसमें प्रतिरक्षा प्रणाली अपनी कोशिकाओं और अंगों की रक्षा करने के बजाय उसपर हमला करती है। विषाक्त एडेनोमास भी कारण एक है जिसके दौरान थायरॉयड ग्रंथि में बढ़ने वाले नोड्यूल हार्मोन स्रावित करना शुरू करते हैं। इससे शरीर का रासायनिक संतुलन बिगड़ जाता है।

किन महिलाओं को ज्यादा जोखिम है

जिन महिलाओं को उनकी गर्भावस्था से पहले और इस विकार के पारिवारिक इतिहास के साथ हाइपरथायरायडिज्म का निदान किया गया है, उन्हें गर्भावस्था के दौरान इस स्थिति का अनुभव होने की सबसे अधिक संभावना है।

लक्षण

थकान, मतली, उल्टी, तेज हृदय गति, भूख में परिवर्तन और थायराइड के स्तर और आकार में वृद्धि हाइपरथायरायडिज्म के विशिष्ट लक्षण हैं। भूख और गर्मी सहने की क्षमता में आए बदलाव को भी देखा जा सकता है।

लक्षण

परीक्षण

हाइपरथायरायडिज्म के निदान के लिए तीन प्रमुख परीक्षणों को अंजाम देकर, गर्भवती महिलाओं में इस स्थिति का निदान करना संभव है:

  • टीएसएच टेस्ट

यह परीक्षण रक्त में टीएसएच की अल्प मात्रा का पता लगाने में सक्षम है और इसे अति-संवेदनशील होने के लिए जाना जाता है। टीएसएच परीक्षण थायराइड की गतिविधि को मापने के लिए सबसे सटीक परीक्षणों में से एक है।

  • टी3 और टी4 टेस्ट

यदि टीएसएच परीक्षण दिखाता है कि स्तर कम है, तो टी3 और टी4 परीक्षण करना अनिवार्य है। यदि टी4 (थायराइड-बाइंडिंग प्रोटीन से अनासक्त थायराइड हार्मोन का एक भाग) का स्तर ऊंचा पाया जाता है, तो निदान की पुष्टि की जाती है।

  • टीएसआई टेस्ट

यदि गर्भवती महिला का रेडियोएक्टिव उपचार या सर्जरी हुआ है या ग्रेव्स रोग की जाँच की गई हो, तो टीएसआई परीक्षण आयोजित किया जाता है। यह परीक्षण गर्भवती महिला के शरीर में टीएसआई एंटीबॉडी की उपस्थिति की पुष्टि करता है।

इलाज

हल्के हाइपरथायरायडिज्म के लिए उपचार की आवश्यकता नहीं होती है, जहाँ टीएसएच का स्तर कम होता है लेकिन मुक्त टी4 सामान्य है। एक गंभीर थायराइड विकार के मामले में, डॉक्टर पहली तिमाही के दौरान प्रोपीलिथियोरैसिल (पीटीयू) नमक दवाई कम खुराक में लेने की सलाह देते हैं। यदि आवश्यक हो, तो पहली तिमाही के बाद एंटी-थायराइड दवा, मेथीमाज़ोल लेने की सलाह दी जाती है। दुर्लभ मामलों में जहाँ रोगी दवाइयों के प्रति प्रतिक्रिया नहीं देता है, थायराइड के एक हिस्से को हटाने के लिए सर्जरी का सुझाव दिया जा सकता है। गर्भवती महिलाओं के लिए रेडियोएक्टिव आयोडीन उपचार की सिफारिश नहीं की जाती है क्योंकि इससे बच्चे की थायराइड ग्रंथि को नुकसान पहुंच सकता है।

हाइपरथायरायडिज्म माँ और शिशु को कैसे प्रभावित करता है?

माँ: हाइपरथायरायडिज्म से प्रीक्लेम्पसिया, समय से पहले जन्म, गर्भपात और अचानक हाइपरथायराइड के लक्षण बिगड़ने जैसे हालात पैदा हो सकते हैं।

शिशु: एक नवजात शिशु का दिल के तेज धड़कने जैसी स्थिति से सामना हो सकता है और इसकी वजह से हृदयगति का रुक जाना, असंतुलित वजन वृद्धि, जन्म के समय कम वजन होना, चिड़चिड़ापन और बढ़े हुए थायराइड के कारण सांस की तकलीफ जैसी पीड़ा हो सकती है।

गर्भावस्था में हाइपोथायरायडिज्म

थायरोक्सिन की कमी, थायरायड हार्मोन, जो एक थायराइड ग्रंथि की अल्पसक्रियता के कारण होता है, हाइपोथायरायडिज्म के रूप में जाना जाता है।

गर्भावस्था में हाइपोथायरायडिज्म के कारण

हाइपोथायरायडिज्म रक्त में थायराइड हार्मोन के कारण होता है, जहाँ थायराइड ग्रंथि ठीक से कार्य नहीं करती है। थायराइड ग्रंथि को हटाना, एंडेमिक गोइटर, आयोडीन की कमी, रेडिएशन थेरेपी और पिट्यूटरी ग्रंथि से संबंधित बीमारियां इसके अन्य कारण हैं। गर्भावस्था में हाइपोथायरायडिज्म भी हाशिमोतो की बीमारी के कारण होता है, जो थायरॉयड के सूजन का एक रूप है।

किन महिलाओं को ज्यादा जोखिम है

जिन महिलाओं का हाइपोथायरायडिज्म का पारिवारिक इतिहास है या अतीत में इस स्थिति का निदान किया गया है, उन्हें गर्भावस्था के दौरान इसका खतरा होता सकता है।

लक्षण

हाइपोथायरायडिज्म के सामान्य लक्षणों में सूजा हुआ चेहरा, थकावट, ठंड के प्रति असहिष्णुता, वजन बढ़ना, एकाग्रता का कमी, त्वचा में कसाव या खिंचाव और पेट की परेशानी शामिल है। टी4 के उच्च स्तर और उच्च टीएसएच स्तर भी हाइपोथायरायडिज्म के संकेत माने जाते हैं।

लक्षण

निदान

यदि आपमें उपर्युक्त लक्षणों में से कोई भी नजर आए, तो आपका डॉक्टर इसकी जांच करेगा और हाइपोथायरायडिज्म की पुष्टि के लिए टीएसएच और टी4 परीक्षण करने के लिए कहेगा।

इलाज

गर्भावस्था के दौरान, हाइपोथायरायडिज्म का इलाज थायरोक्सिन, एक सिंथेटिक थायराइड हार्मोन पर शुरू करके किया जाता है। थायरोक्सिन माँ और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद है और सुरक्षित भी है। जिन महिलाओं में गर्भावस्था से पहले इस स्थिति का विकास हुआ है, उन्हें अपने डॉक्टर से बात करने के बाद थायराइड फंक्शन को बनाए रखने के लिए अपनी खुराक में वृद्धि करनी चाहिए।

क्या हाइपोथायरायडिज्म माँ और बच्चे को प्रभावित कर सकता है?

हाइपोथायरायडिज्म प्रीक्लेम्पसिया, एनीमिया, मृतजन्म, गर्भपात और दुर्लभ मामलों में, हृदयागति के रुक जाने का कारण बन सकता है। थायराइड हार्मोन बच्चे के मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र की वृद्धि और विकास के लिए आवश्यक है। हाइपोथायरायडिज्म इस क्षेत्र को प्रभावित कर सकता है खासकर अगर यह पहली तिमाही में हो तो।

क्या गर्भावस्था के दौरान थायराइड दवाओं का सेवन करना सुरक्षित है?

हाँ, गर्भावस्था के दौरान थायराइड की दवाओं का सेवन करना सुरक्षित है। वास्तव में, जब कोई गर्भवती हो, तो ऐसे हाइपोथायरायडिज्म या हाइपरथायराइड की स्थिति को बनाए रखना असुरक्षित होता है। दवा ली जानी चाहिए और बारीकी से निगरानी की जानी चाहिए। लेवोथायरोक्सिन थायराइड हार्मोन का एक सिंथेटिक रूप है जो कि शिशु पर विपरीत प्रभाव नहीं डालता है और आमतौर पर इस स्थिति का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है।

क्या गर्भावस्था के दौरान थायराइड दवाओं का सेवन करना सुरक्षित है?

हाइपोथायरायडिज्म के लिए आहार, पोषण और सप्लीमेंट्स

गर्भावस्था के दौरान शरीर उच्च मात्रा में पोषक तत्वों की मांग करता है क्योंकि इसे माँ और बच्चे के स्वास्थ्य को संतुलित रखने की आवश्यकता होती है। इस अवधि के दौरान, डॉक्टर माँ को संतुलित आहार का पालन करने और प्रसवपूर्व विटामिन और आयोडीन-आधारित खनिज से भरपूर पोषक तत्वों को लेने की सलाह देते हैं।

हाइपोथायरायडिज्म के लिए पोषण और आहार सप्लीमेंट्स

हाइपोथायरायडिज्म से ग्रसित गर्भवती महिलाओं को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे दैनिक भोजन के माध्यम से आयोडीन की अनुशंसित खुराक प्राप्त करें और सामान्य नमक की बजाय आयोडीन युक्त नमक लेना ऐसा करने का एक तरीका है। पालक, मेथी और लेट्यूस की पत्ती जैसे साग खाने से मैग्नीशियम मिलता है जो थायराइड के कामकाज के लिए जरूरी  है। ब्लूबेरी और स्ट्रॉबेरी प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए गुणकारी हैं और एंटीऑक्सिडेंट होते हैं इसलिए सुनिश्चित करें कि वे आपके आहार का एक हिस्सा बनें। ओमेगा 3 फैटी एसिड और सेलेनियम को प्राकृतिक तरीके से नियंत्रित करने के लिए अपने आहार में अंडे, अखरोट, मशरूम और सामन जैसी मछली को शामिल करें। विटामिन बी6 गर्भावस्था में विशेष रूप से फायदेमंद होता है।

थायराइड की जटिलताओं से कैसे बचें?

आपका थायराइड आपके शरीर की हर कोशिका को नियंत्रित करता है, और इसकी उपस्थिति के बिना, शरीर मंद पड़ जाता है, जिसके परिणामस्वरूप थकान, वजन बढ़ना, बालों का झड़ना और बहुत कुछ होता है। यहाँ यह बताया गया है कि आप थायराइड और गर्भावस्था की जटिलताओं के प्रभाव को अपने शरीर और बच्चे पर पड़ने से कैसे रोक सकते हैं:

  • उन आहार योजनाओं से दूर रहें जो लंबे समय तक भूखे रहने की सलाह देते हैं। उपवास के परिणामस्वरूप T3 के स्तर में भारी कमी आती है जो मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है।
  • थायराइड ग्रंथि एक्स-रे के लिए अतिसंवेदनशील होती है। सुनिश्चित करें कि आप गर्भावस्था के दौरान जब भी एक्स-रे से गुजरती हैं, तो थायराइड शील्ड के लिए जरूर पूछें।
  • यदि आप गर्भवती हैं और धूम्रपान कर रही हैं, तो यह समय इसे रोकने का है और जिन्हे पहले से थायराइड है वे लोग ज्यादा जोखिम में हैं। एक अध्ययन से पता चलता है कि धूम्रपान हाइपोथायरायडिज्म के खतरे को बढ़ाता है, विशेष रूप से हाशिमोटो के थायरॉयडिटिस के रोगियों के लिए।
  • गर्भावस्था पर थायराइड के प्रभाव को कम करने के लिए, बॉर्डरलाइन हाइपोथायरायड वाली महिलाओं को गर्भावस्था की शुरुआत में थायराइड हार्मोन कम खुराक में लेना शुरू करना चाहिए।

गर्भावस्था के समय हाइपर और हाइपोथायरायडिज्म का पता लगाने के लिए टीएसएच स्तरों के बार-बार परीक्षण की आवश्यकता होती है। यदि आप कोई भी ऐसे लक्षण देखते हैं, तो ऐसे में अपने डॉक्टर से बात करें। अपने थायराइड के स्तर की जाँच करके, आप एक सुरक्षित और परेशानी मुक्त गर्भावस्था की आशा कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें:

गर्भावस्था के दौरान आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया
गर्भावस्था के दौरान शरीर में दुर्गंध