गर्भवती होने में कितना समय लगता है?

गर्भवती होने में कितना समय लगता है?

Last Updated On

गर्भधारण न होना किसी भी रिश्ते पर भारी तनाव ला सकता है। जब आप नहीं जानती हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं या फिर आप की कोशिश सफल होगी या नहीं, तो यह चिंता का कारण बन जाती है, जो बड़ी मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक समस्याओं को पैदा कर सकता है। गर्भावस्था के बारे में जानकारी प्राप्त करना, गर्भवती होने में कितना समय लग सकता है और बांझपन के लक्षणों का पता लगाना, ये सब जानकारी आपको पहले से अवगत कराने में और इससे पहले की देर हो जाए, उसके इलाज में मदद कर सकता है। हमेशा याद रखें कि गर्भधारण नहीं कर पाना दुनिया का अंत नहीं है। बच्चा गोद लेना, सरोगेसी और यहाँ तक कि आप के प्रजनन के अवसरों को बढ़ाने के लिए आई.वी.एफ. उपचार जैसे अन्य विकल्प भी हमेशा उपलब्ध हैं।

प्रजनन संबंधी समस्याएँ कितनी आम है?

दुनिया भर में बहुत सारे दंपतियों के लिए बांझपन एक बहुत ही आम समस्या है, यह कई मुद्दों जैसे पॉलीप्स, जन्म दोष, चोट और फाइब्रॉएड के कारण हो सकता है। सी.डी.सी. द्वारा दिए गए आंकड़े दर्शाते हैं कि संयुक्त राज्य अमेरिका में करीब 6% से 12% महिलाओं के बीच प्रजनन क्षमता की परेशानी है। कुछ अध्ययनों से संकेत मिलता है कि दुनिया भर में दंपति जो बांझ हैं वो लगभग 15% के करीब हो सकते हैं।

वास्तव में गर्भधारण करने में कितना समय लगेगा?

लोग अक्सर पूछते हैं कि गर्भधारण करने में औसतन कितना समय लगता है? गर्भधारण करने के लिए एक दंपति को जो समय लगता है वह विभिन्न कारकों जैसे कि शरीर का वजन, भावनात्मक स्वास्थ्य, आहार, संभोग की आवृत्ति और कई अन्य कारणों पर निर्भर करता है। यही कारण है कि कुछ दंपति पहली कोशिश में ही गर्भधारण कर लेते हैं जबकि अन्य को लगभग दो साल या उससे अधिक समय लग सकता है।

1. संभोग के बाद गर्भवती होने में कितना समय लगता है?

ज्यादातर दंपति कोशिश करने के एक साल के भीतर गर्भवती हो जाएंगे हालांकि कई दम्पतियां दो साल तक का समय लेते हैं । इसके लिए कई मापदण्ड हैं और इसमें आपकी उम्र और शुक्राणु के स्वास्थ्य भी शामिल हैं। कुछ दंपतियों में उच्च मासिक प्रजनन क्षमता होती है और उनके गर्भवती होने की संभावना भीअधिक होती है।

2. डेपो इंजेक्शन के बाद गर्भधारण करने में कितना समय लगेगा?

डेपो एक प्रकार का महिलाओं द्वारा उपयोग किया जाने वाला गर्भनिरोधक इंजेक्शन है और इसकी सफलता का दर 99 प्रतिशत है। हर 3 महीनों में इस इंजेक्शन की आवश्यकता होती है, इसका प्रभाव भी आमतौर पर उसी समय अंतराल तक होता है। हालांकि, महिलाओं में एक वर्ष तक गर्भधारण करने की असमर्थता देखी गई है, जिसके कारण अज्ञात है।

आँकड़े क्या कहते हैं?

जब प्रजनन और गर्भधारण की बात आती है, तो कई आँकड़े हैं जो आप इंटरनेट पर देख सकती हैं, यहाँ सबसे महत्वपूर्ण आंकड़ों में से कुछ बताए गए हैं।

आँकड़े क्या कहते हैं?

  • आठ दंपत्तियों में से एक को गर्भावस्था प्राप्त करने या बनाए रखने में परेशानी होती है।
  • 9% महिलाएं अपने जीवनकाल में किसी प्रजनन सेवा या उपचार का विकल्प नहीं चुनती हैं।
  • बांझपन के एक तिहाई मामलों में महिला साथी को, एक तिहाई में पुरुष साथी को और शेष तीसरे में दोनों भागीदारों को जिम्मेदार ठहराया जाता है या मामला अस्पष्ट ही बना रहता है।
  • 20% दंपत्ति कोशिश करने के पहले महीने के भीतर ही गर्भधारण करेंगे। 72% पहले 6 महीनों के भीतर गर्भधारण करेंगे। 84% एक वर्ष के भीतर गर्भधारण करेंगे, जबकि 92% दो वर्षों के भीतर गर्भधारण करेंगे।
  • 9% पुरुषों ने अपने पूरे जीवनकाल मे बांझपन के लिए सलाह या उपचार लिया है या परीक्षण कराया है।

गर्भवती होने में अधिक समय क्यों लगता है?

दंपतियों में गर्भावस्था में देरी के कई कारण हैं। महिला या पुरुष किसी के भी कारण से यह समस्या हो सकती है। महिला साथी को निम्नलिखित कारणों से जिम्मेदार ठहराया जाता है:

  • पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस): यह एक ऐसी स्थिति है जहाँ बढ़े हुए अंडाशय के साथ पुटी भी आ जाती है। इस स्थिति वाली महिलाएं उच्च स्तर पर एन्ड्रोजन का उत्पादन करती हैं जो स्वस्थ अंडे का उत्पादन करने की शरीर की क्षमता में हस्तक्षेप करता है।
  • डिम्बग्रंथि रिजर्व में कमी (डी.ओ.आर.): कुछ महिलाओं के अंडों का भंडार दूसरों की तुलना में अधिक तेजी से कम हो जाता है और गर्भधारण करना कठिन हो जाता है।
  • हाइपोथैलेमस या पीयूष ग्रंथि के अनुपयुक्त कार्य। ये ग्रंथियां गर्भधारण के लिए अनुकूलतम स्थितियों के लिए जिम्मेदार होती हैं।
  • समयपूर्व डिम्बग्रंथि अपर्याप्तता (पी.ओ.आई.): कुछ महिलाओं के अंडाशय 40 वर्ष की आयु से पहले ही विफल हो जाते हैं। इस स्थिति को प्रारंभिक रजोनिवृत्ति के रूप में जाना जाता है।

निम्नलिखित कारणों में गर्भधारण की समस्या के लिए पुरुष साथी को जिम्मेदार ठहराया जाता है:

  • वैरिकोसील: इस स्थिति में वृषण अपने बड़े आकार के कारण अधिक गरम हो जाते है जो शुक्राणुओं की संख्या और स्वास्थ्य को प्रभावित करता है।गर्भवती होने में अधिक समय क्यों लगता है?
  • वृषणों में अभिघात के कारण शुक्राणुओं की संख्या कम हो सकती है।
  • कुछ दवाएँ और सप्लीमेंट्स पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या को कम कर सकते हैं जैसे कि दिल की दवा, स्टेरॉयड और एंटीडिप्रेसेंट।
  • कैंसर के उपचार स्वस्थ शुक्राणुओं के उत्पादन के लिए वृषण की क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं।
  • हाइपोथैलेमस या पीयूष ग्रंथि के अनुपयुक्त कार्य जो हार्मोन के उत्पादन के लिए जिम्मेदार होते हैं सुनिश्चित करते हैं कि शुक्राणु स्वस्थ और व्यवहार्य पैदा हो।
  • पुरुष प्रजनन प्रणाली में सौम्य या घातक ट्यूमर।
  • पहले से मौजूद आनुवंशिक स्थितियां भी पुरुषों में बांझपन का कारण हो सकती हैं।

आयु गर्भावस्था को कैसे प्रभावित कर सकती है?

कई महिलाएं अब अनेक कारणों जैसे सफल करियर, वित्तीय कारण और एक स्वस्थ संबंध स्थापित करने के कारण जीवन में देर से संतानोपत्ति करना चुनतीं हैं। हालांकि, 35 वर्ष की आयु के बाद महिला के बच्चे पैदा करने की संभावना कम हो जाती है। निम्नलिखित कारण हैं कि ऐसा क्यों होता है:

  • अंडाशय अंडे मुक्त करने की अपनी क्षमता खो देते हैं।
  • कम संख्या में अंडों की उपलब्धता।
  • अंडों के स्वास्थ्य को जोखिम में डाला जाता है।
  • इस उम्र में स्वास्थ्य की अन्य अवस्थाएं होने की संभावना अधिक होती है।

बांझपन का इलाज

ऐसे कई तरीके हैं जिनमें आपका चिकित्सक दोनों भागीदारों में बांझपन के इलाज की सलाह देगा। दवाओं का एक संयोजन जो हार्मोन को नियंत्रित करता है, और पूर्व-मौजूदा स्थितियों और जीवनशैली में बदलाव को सही करने के लिए आपके चिकित्सक प्रयास करेंगे ताकि आपकी प्रजनन क्षमता बढ़े।

बांझपन का इलाज

आपको अपने चिकित्सक के साथ इस बारे में चर्चा करनी चाहिए और उपलब्ध विकल्पों का पता लगाना चाहिए और एक ऐसी योजना का चयन करना चाहिए जो आपके और आपके साथी दोनों के लिए उपयुक्त हो। जीवनशैली में बदलाव आपके लिए जितना आपने सोचा हो उससे कहीं ज़्यादा मुश्किल साबित हो सकता है।

गर्भवती होने की आपकी संभावना में सुधार करने के लिए सलाह

कई युक्तियां हैं जिनसे अधिकतर प्रजनन विशेषज्ञ सहमत होंगे जब आप एक बच्चे को गर्भ में धारण करने की कोशिश कर रहीं हों। उनमें से कुछ हैं:

  • सप्ताह में कम से कम 2 से 3 बार नियमित रूप से बिना सुरक्षा के यौन संबंध बनाएं।
  • अपने मासिक धर्म चक्र पर नज़र रखें ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जब आप अंडोत्सर्ग कर रहीं हों तो आप संभोग करें।
  • स्वयं को और अपने साथी को तनाव मुक्त रखना गर्भधारण में महत्वपूर्ण होता है क्योंकि तनाव महिलाओं में अंडोत्सर्ग चक्र पर प्रभाव डाल सकता है और पुरुषों में वृषणि के स्तर को कम कर सकता है।

हालांकि कई कारक गर्भधारण करने में योगदान देते हैं, पर धैर्य रखना और तनावमुक्त रहना आपके प्रयासों के लिए महत्वपूर्ण है। सुनिश्चित करें कि आप इस मुद्दे पर मार्गदर्शन के लिए एक अच्छे प्रजनन विशेषज्ञ के साथ परामर्श करें और उपलब्ध सभी विभिन्न विकल्पों का पता लगाएं।