रात में रोते हुए शिशु को कैसे संभालें

रात में रोते हुए शिशु को कैसे संभालें

Last Updated On

शिशु का जन्म आपके पूरे जीवन को बदल देता है।यदि आप शिशु को पालना बहुत सरल समझते हैं, तो आपको फिर से सोचने की ज़रूरत है। दूध पिलाने की समय सूची, पर्याप्त नींद की ज़रूरत और टीकाकरण की समय सूची के अलावा एक और चीज है जिससे आपको निपटना पड़ेगा वह है बच्चे का रोना। रोने के माध्यम से शिशु अपनी आवश्यकताओं को बताने की कोशिश करते हैं और शुरू में, यह जानना मुश्किल होता है कि वे आपको क्या बताने की कोशिश कर रहे हैं। इस स्थिति से निपटने के लिए अलगअलग तरीके हैं और आपको यह पता लगाना होगा कि कौनसा तरीका आपके घर के लिए सबसे अच्छा काम करेगा।

शिशु रात में क्यों रोते हैं?

रात में अक्सर नवजात शिशु के रोने की उम्मीद की जाती है। लेकिन शिशु के बड़े होने पर उसकी यह आदत कम होने लगती है । यहाँ कुछ सामान्य कारण बताए गए हैं कि शिशु रात में क्यों रोते हैं:

1. भूख लगना

शिशुओं के उदर छोटे होते हैं और उन्हें शुरू के कुछ महीनों के दौरान बहुत बार दूध पिलाना पड़ता है। अधिकांश शिशुओं को हर दो से तीन घंटे में दूध पिलाना होता है। भूख के संकेतों पर ध्यान दें जैसे कि शिशु अपने हाथों को अपने मुँह में डालते हैं, हंगामा करते हैं और अपने होंठों को स्वाद लेते हैं। अपने शिशु को रोने से पहले दूध पिलाना शुरू करने से आपकी रात शांतिपूर्ण गुज़रेगी।

2. असुविधा या दर्द

शिशुओं को गैस की समस्या हो जाती है और राहत देने के लिए उन्हें डकार दिलवाने की आवश्यकता होती है। स्तनपान या बोतल से दूध पीते समय वे हवा निगल जाते हैं इसलिए दूध पिलाने के बाद डकार दिलवाने से उन्हें राहत मिलती है। शिशु का पेट नीचे की तरफ रखकर धीरेधीरे उसकी पीठ की मालिश करना भी उसके लिए आरामदायक साबित होता है।

3. डायपर बदलना

कुछ शिशु थोड़े समय के लिए गीले या गंदे डायपर को सहन कर सकते हैं जबकि अन्य शिशुओं के लिए तुरंत डायपर बदलने की आवश्यकता होती है। नए डायपर से शिशु को फिर से जल्दी वापस सोने में मदद मिलेगी।

4. आश्वासन की जरूरत

अंधेरे में अकेले रहना बड़ों के लिए डरावना होता है तो शिशुओं के लिए तो और भी अधिक डरावना हो सकता है। आपके शिशु को यह आश्वस्त करने की आवश्यकता हो सकती है कि आप उसके करीब हैं।

5. ठंड महसूस होना

जब शिशुओं को ठंड लगती है तो उनके रोने की संभावना रहती है। उन्हें कपडे की हल्की परत में स्नेहपूर्वक लपेटने से आराम मिलता है और वे फिर से सो सकते हैं। सावधान रहें कि शिशु को बहुत गर्म ना रखें क्योंकि इससे एस.आई.डी.एस. (आकस्मिक शिशु मृत्यु सिंड्रोम) होने का खतरा होता है।

6. दाँत निकलते समय होने वाली परेशानियां

जब आपको लगता है कि शिशु रात में बिना किसी कारण के रो रहा है, तो यह जांचें कि यह दाँत निकलने की वजह से तो नहीं हो रहा है। दाँत निकलने का दर्द चार माह की आयु से ही हो सकता है और यह शिशुओं में अत्यधिक लार गिराने का कारण बनता है और हाथ में आने वाली हर वस्तु को शिशु मुँह में डालता है। मसूड़ों पर धीरे से मालिश करना या शिशु को दाँतों के लिए खिलौना देना, विशेषकर ऐसी वास्तु जिसे फ्रिज में रखकर ठण्डा किया गया हो, यह शिशु के मसूड़ों में हो रही जलन को कम करता है।

7. अत्यधिक उत्तेजना

अपने शिशु को किसी सामाजिक कार्यक्रम या खरीदारी के लिए बाहर ले जाना, कभीकभी अत्यधिक उत्तेजना का कारण बनता है। शिशु घर आने से पहले या घर आते साथ ही सो जाता है तो यह शिशु के रोने का कारण हो सकता है। एक परिचित व्यवस्था में शिशु को ढालना और फिर उसकी सोने की दिनचर्या सुगम बनाना इससे निपटने में मदद कर सकता है।

8. रोग

बीमार होने पर तो वयस्क भी खुद को संभाल नहीं पाते हैं! यदि शिशु सामान्य से अधिक रो रहा है या उसके रोने की आवाज अलग लग रही है तो यह किसी बीमारी के कारण हो सकता है। देखें, क्या शिशु में बुखार, खांसी, उल्टी या भूख कम होने जैसे कुछ अन्य लक्षण दिखाई दे रहे हैं? यदि ये कारण प्रतीत होते हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

शिशु कितनी देर तक रोता रहता है?

समस्या के शुरू होने से पहले ही उसका समाधान करना यह सुनिश्चित करता है कि आप और आपके शिशु की रात आरामदायक हो। शिशु न रोए उसके लिए उचित तरीकों का सहारा लेकर, आप अपने शिशु में बदलाव ला सकती हैं। लेकिन यह कार्य आपके शिशु के बड़े होने पर अधिक कठिन हो जाता है। एक वर्ष या उससे अधिक आयु का शिशु नींद आने और थकावट होने पर भी बिस्तर पर जाने से इनकार कर सकता है। वे अपनी दिनचर्या में हुए बदलावों के कारण घंटों तक रो सकते हैं। यदि आप अपने शिशु की बाल्यावस्था में सुधारात्मक उपाय नहीं करती हैं तो बच्चे का रोना 3 से 4 वर्ष की आयु तक चलता रहेगा।

आपका शिशु पूरी रात सोने में कब सक्षम होगा?

दो माह से कम आयु के शिशु हर रात कम से कम दो बार दूध पीने के लिए जागते हैं। दो माह के बाद, चार माह तक वह हर रात एक बार दूध पीने के लिए जागते हैं। चार माह के बाद ऊपर का दूध पिला कर सुलाए गए शिशु रात में लगभग सात घंटे तक सो सकते हैं। स्तनपान करने वाले शिशु, पाँच माह की आयु तक दूध पीने के लिए रात को बिना जागे सात घंटों तक सो सकते हैं। यह इस आयु वर्ग के सभी सामान्य शिशुओं पर लागू होता है और वे रात को बिना गोद में उठाए और झुलाए सो सकेंगे।

यदि आपका शिशु रात को रोता है तो क्या आप उसे शांत कर सकती हैं?

यदि आपका शिशु रात को रोता है तो क्या आप उसे शांत कर सकती हैं?

इस विषय पर विचार के दो पक्ष हैं। एक पक्ष का मानना है कि शिशु बिना किसी कारण के रात में रोना बंद कर देंगे, जब उन्हें एहसास होगा कि कोई भी प्रतिक्रिया नहीं दे रहा है। दूसरे पक्ष को लगता है कि हर बार जब शिशु रोता है, उसे गोद में उठाकर शांत करना चाहिए, किसी भी कारण से शिशु को अकेला नहीं छोड़ना चाहिए। यह आप पर निर्भर है कि आप प्रत्येक पक्ष के फायदे और नुकसान को तौलने के बाद किस को चुनना चाहती हैं।

क्या यह आपके शिशु को आहत करेगा अगर आप उन्हें रोता हुआ छोड़ दें?

ऐसा माना जाता है कि शिशु को रोते हुए छोड़ देना दीर्घावधि में उनके शारीरिक और मानसिक विकास के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। लेकिन इस दावे का समर्थन करने के लिए कोई प्रमाण नहीं है। हालांकि, अधिकांश निद्रा प्रशिक्षण विधियों का सुझाव है कि मातापिता को अपने शिशु के हर बार रोने पर तत्क्षण प्रतिक्रिया देना बंद कर देना चाहिए। लेकिन इससे मातापिता और शिशु के संबंध में दूरी आ सकती है। कुछ शोधकर्ताओं का यह मत है कि वह निद्रा प्रशिक्षण, जिसमें शिशु को किसी भी समय तक रोते रहने देना शामिल है, उससे शिशु के शारीरिक, भावनात्मक, सामाजिक विकास पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की संभावना है। व्यावहारिक शिशु के प्राकृतिक जैविक चक्र में रुकावटों के कारण वृद्धि।

रात में अपने रोते हुए शिशु को कैसे शांत करें?

यदि आपका शिशु सभी जरूरतों के पूरी होने के बावजूद रात को रोते हुए जागता है तो संभावना है कि उसने इसे एक आदत बना लिया है। यहाँ कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे आप चार माह से अधिक आयु के शिशु को शांत रहने और रात भर सोने में मदद कर सकती हैं:

  • अपने शिशु को पालने (क्रिब) या बिस्तर पर लिटाएं जब वे सुस्त हों लेकिन जाग रहे हों। अपने शिशु को पालने में लिटाना सुनिश्चित करें भले ही उनकी सोने की प्रक्रिया पूरी ना हुई हो। पूरी तरह सोने से पहले शिशु बिस्तर या पालने में ही होना चाहिए, न कि आपकी गोद में। ऐसा करने से यह शिशु के रात में जागने पर उसे अपने आप सोने के लिए प्रोत्साहित करेगा।
  • यदि आपका शिशु सोते समय रोना बंद नहीं करता है, तो उसे पाँच से पंद्रह मिनट के अंतराल में देखने जाती रहें। शिशु को ज्यादा परेशान न होने दें। उस देखने आने के बीच का अंतराल बढ़ाती रहें और यदि आपका शिशु बहुत उधम मचाता या डरता है तो उसे शांत होने तक थामे रखें। जब तक वह शांत न हो जाए, तब तक आप कुछ क्षणों के लिए कमरे में उसके साथ बैठ सकती हैं, लेकिन सोने से पहले कमरे से चली जाएं ।
  • एक बार शिशु को पालने (क्रिब) या बिस्तर पर रात भर के लिए लिटाने के बाद उसे बाहर न निकालें। शिशु को तब तक झुलाते रहें जब तक वह सो नहीं जाता फिर उसे उसके बिस्तर पर लिटा दें ।
  • यदि आपका शिशु छह माह या उससे अधिक आयु का है तो उसे एक सुरक्षा वस्तु से परिचित कराएं जैसे नरम खिलौना या कंबल। जब शिशु रात में जागेगा तब यह आपके शिशु को सांत्वना देने का काम करेगा और आपका शिशु जल्द ही रात में आपके बजाय इस वस्तु को पकड़ कर सो जाएगा ।

शिशु की नींद की नियमित समय सारणी सुनिश्चित करने के लिए कुछ अन्य चीजें प्रयोग कर सकते हैं:

  • शिशु की नींद को दिन में केवल दो बार, दो घंटे या उससे कम समय तक सीमित करना।
  • जितना हो सके रात में गीला डायपर बदलने से बचें। यदि आपको यह करना ही हो, तो शिशु को उत्तेजना से बचाने के लिए कमरे में रोशनी कम रखें।

शिशु के लिए नींद का प्रशिक्षण

नींद के प्रशिक्षण से तात्पर्य उस विधि से है जो आपके शिशु को खुद सोना सिखाती है। एक बार जब यह लक्ष्य हासिल हो जाता है तो आपका शिशु रात भर सो सकता है। कुछ शिशु आसानी से इस नींद की कला को सीख जाते हैं, जबकि दूसरों को इसमें समय लग सकता है। नींद प्रशिक्षण के दो तरीके हैं नियंत्रित रुदन पद्धति और आँसूरहित प्रशिक्षण। प्रत्येक के फायदे और नुकसान को देखने के बाद चुनाव मातापिता दोनों पर निर्भर करता है। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि कुछ मातापिता के लिए एक प्रशिक्षण विधि काम नहीं कर सकती है। नींद प्रशिक्षण शुरू करने के लिए कोई विशेष आयु निर्धारित नहीं है। कई मातापिता नींद प्रशिक्षण मार्ग का चयन करते हैं क्योंकि वे नींद की कमी और नहीं सह सकते हैं। विशेषज्ञों का मत है कि शिशु तीन माह की आयु के बाद स्वयं सोने के लिए पूरी तरह से सक्षम हो जाते हैं।

जोर से रोना/ रोना बंद करना / फरबर पद्धति क्या है ?

डॉ. रिचर्ड फरबर नामक चिकित्सक द्वारा आविष्कृत, इस विधि में शिशु को पहले थोड़ी देर रोने देने और बाद में उसे शांत करने की सलाह दी जाती है। डॉ. फरबर ने इस विषय पर एक किताब भी लिखी है और इसे छह माह और उससे अधिक आयु के शिशुओं पर आदर्श रूप से लागू किया जा सकता है। सुझाई गई पद्धति इस प्रकार है:

  • शिशु जब बेहद सुस्त हो गया हो लेकिन सोया नहीं हो तो उसे धीरे से उसके पालने (क्रिब) में या पलंग पर लिटाएं।
  • अपने शिशु को एक शुभ रात्रि चुंबन दें और कमरे से बाहर आ जाएं।
  • यदि आपका शिशु जल्द ही रोने लगता है, तो अंदर जाने से पहले कुछ क्षण प्रतीक्षा करें।
  • अपने शिशु को धीमी आवाज़ में सांत्वना दें और रोशनी कम कर दें। उसे गोद में मत उठाएं।
  • यदि आपका शिशु अभी भी रो रहा हो तो कमरा छोड़ दें।
  • आपको इन चरणों को तब तक दोहराना है जब तक आपका शिशु सो न जाए। संभावना है कि आपके पूरी तरह से सफल होने से पहले इसमें काफी प्रयास लगेंगे।
  • सुनिश्चित करें कि हर बार कमरे में जाने के समय में अंतराल बढ़ जाए, ताकि शिशु को शांत होने और सोने का प्रयास करने के लिए अधिक समय मिले।
  • अगर शिशु रात में फिर से उठता है, तो प्रक्रिया को फिर से दोहराएं।
  • डॉ फरबर के अनुसार, शिशुओं को लगभग एक सप्ताह के समय में खुद से सोने में सक्षम हो जाना चाहिए। यह माना जाता है कि यह तकनीक काम करती है क्योंकि बहुत सारे बड़े शिशु चालाकी से उस स्थिति का सबसे अधिक फायदा उठाते हैं जब उन्हें पता चलता है कि रोने के परिणामस्वरूप उन्हें गोद में लिया जाएगा या दूध पिलाया जाएगा। तो यह तकनीक संदेश देती है कि उनके रोने के खेल में अब कोई दिलचस्पी लेने वाला नहीं है। यह महसूस करने पर वे बिना कारण रोना बंद कर सकते हैं।

आपके रोते हुए शिशु से क्रमवार दूरी बढ़ाने की तकनीक

बिना किसी कारण रात में रोते हुए शिशु को शांत करने के सुझाए गए तरीकों में से एक है क्रमवार दूरी बढ़ाने की तकनीक। यह विधि शिशु को पुनः सुलाने की दिनचर्या में आपकी भूमिका के एक बार में पृथक्करण के बजाय, इसे चरणबद्ध तरीके से करने की सलाह देती है। इसे आप इस तरह से कर सकती हैं:

  1. पहले कुछ दिन, जब तक शिशु सो नहीं जाता आप उसके कमरे में रुकी रहें ।
  2. फिर धीरेधीरे, शिशु के पूरी तरह सोने से पहले कमरे से बाहर आना शुरू करें।
  3. यदि वह आपको बाहर जाते हुए देखकर रोता है, तो वापस आएं और दोबारा जाने से पहले, बिना गोद में उठाए, उसे कोमल आवाज़ में आश्वस्त करें।
  4. यह पहले कुछ दिनों में काफी बार हो सकता है और जब तक वह सो नहीं जाता, आपको कमरे से जाना और वापस आना जारी रखना पड़ सकता है।
  5. फिर सोने के समय जब वह जागा हुआ हो उसे पालने (क्रिब) में या पलंग पर लिटा दें और तब तक उसके पास बैठी रहें जब तक वह सो न जाए ।
  6. हर दिन आप अपने और शिशु के पालने के बीच की दूरी को तब तक बढ़ाती रहें जब तक आप दरवाजे तक नहीं पहुँच जातीं ।
  7. दरवाजे के बाहर जाएं, लेकिन शिशु के आसपास बनी रहें, ताकि जब शिशु आवाज दे या रोए तो आपको पता चल सके।

इस विधि से, लगभग कुछ हफ्तों में, आप अपने शिशु को सोते समय पालने में लिटा सकती हैं और जब वह खुद से सो जाए तब बाहर जा सकती हैं। इस तकनीक का अधिकतम लाभ उठाने के लिए निम्नलिखित युक्तियों को भी याद रखें:

  • इसे तभी आज़माना चाहिए जब आपको लगे कि आपका शिशु इसे सह सकता है।
  • प्रस्तावित आयु 4 माह है।
  • इस विधि का उपयोग करते समय कोशिश करें की आप पीछे नहीं हटें क्योंकि जो भी लाभ प्राप्त किया है यह उसे बिगाड़ सकता है।

चिकित्सक से परामर्श कब करना चाहिए ?

ज्यादातर मामलों में, रोते हुए शिशु को ज़रूरतें पूरी करने या आपकी सांत्वनापूर्ण मौजूदगी से शांत किया जा सकता है। लेकिन कई बार रात में शिशुओं का अधिक रोना किसी गंभीर कारण, जैसे बीमारी, का संकेत हो सकता है। यदि आपका शिशु रात में रोना बंद नहीं करता और निम्नलिखित में से एक कारण स्पष्ट है तो आपको चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए :

  • शारीरिक परेशानी या बीमारी के लक्षण जैसे तेज बुखार या चकत्ते आदि।
  • आपका शिशु किसी चीज से डरा हुआ लगता हो।
  • उपायों को अपनाने से दो हफ्तों में भी आपके शिशु में मामूली बदलाव भी नहीं आता है

शारीरिक और भावनात्मक विकासक्रम को हासिल करने के लिए प्रत्येक शिशु की अपनी समय सीमा होती है। जहाँ तक नींद की समययोजना की बात है वह भी कुछ अलग नहीं है। इसके अलावा, शिशु के बीमार होने पर या यदि वे किसी विकासक्रम को हासिल करने वाले हैं, तो नींद की दिनचर्या परिवर्तित हो सकती है। इस प्रकार, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि जब शिशुओं की बात आती है अपेक्षित परिणाम प्राप्त करने के लिए समय, धैर्य और काफी प्रयास करने की जरूरत होती है।