शिशु का घुटनों के बल चलना – एक विकासात्मक उपलब्धि

शिशु का घुटनों के बल चलना - एक विकासात्मक उपलब्धि

Last Updated On

जीवन के पहले वर्ष में घुटनों के बल चलना (क्रॉलिंग) शिशुओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण विकासक्रमों में से एक है, और चलने की तरफ उनका पहला कदम है। घुटनों के बल चलने से शिशु न सिर्फ़ चलनाफिरना सीखता है, बल्कि इससे वह संतुलन और आगे बढ़ने का कौशल भी सीखता है। इससे शिशु की मांसपेशियों में शक्ति भी विकसित होती है।

शिशु घुटनों के बल चलना कब शुरू करते हैं?

ज़्यादातर शिशु 7 से 10 माह की आयु में घुटनों के बल चलना शुरू करते हैं, हालांकि कुछ शिशु 9 या 10 महीने की आयु के आसपास भी घुटनों के बल चलना शुरू करते हैं। हाल ही के कुछ वर्षों में देखा गया है, अनेक शिशु घुटनों के बल चलना देर से सीख रहे हैं या फिर उसके बजाए सीधे चलना शुरू कर रहे हैं। (वैसे, यह बहुत दुर्लभ तथ्य है)

आपका शिशु घुटनों के बल चलने के लिए तैयार है, इसके कुछ संकेत इस प्रकार है

घुटनों के बल चलने के कई चरण हैं, यद्यपि प्रत्येक शिशु का अनुभव अलग है किन्तु यह महत्वपूर्ण है कि आपका शिशु घुटनों के बल चलना सीखे। बहुत से शिशु विभिन्न तरीकों से सीखेंगे, जैसे निचले हिस्से को ज़मीन पर घसीटना‘, पेट के बल पलटना या आगे बढ़ना, परन्तु कुछ शिशु अलग तरीके से सीखेंगे। इसी तरह, प्रत्येक शिशु अलगअलग समय पर घुटनों के बल चलने के लिए तैयार होता है हालांकि इसके कुछ सामान्य संकेत हैं।

इन संकेतों में शामिल हैं:

  • बिना सहारे के सरलता से बैठने में सक्षम होना।
  • सिर को ऊपर करके चारों ओर देखने में सक्षम होना ।
  • पैर, हाथ और कमर की मांसपेशियाँ काफी मज़बूत होना।
  • आगेपीछे हिलने में सक्षम होना ।

जैसे ही आपका शिशु यह संकेत देना शुरू करता है कि वह तैयार है, उन्हें ऐसे कार्यों में संलग्न करें जो उनकी इन क्षमताओं को आगे विकसित करने में मदद करते हैं, जैसे उन्हें खिलौनों के साथ खेलने के लिए फर्श पर पेट के बल लिटा दें और घुटनों के बल चलने का अभ्यास करने के लिए सुरक्षित स्थान चुनें।

शिशु का घुटनों के बल चलने के प्रकार

शिशुओं के लिए घुटनों के बल चलने के अनेक प्रकारों में सबसे सामान्य कमांडो क्रॉलऔर नितम्ब के बल चलनाहै। आमतौर पर शिशु कमांडो क्रॉलतब करता है, जब वह आपके पेट पर होता है और इधरउधर मुड़ कर आगे बढ़ने का प्रयास करता है जबकि नितम्ब के बल चलने में शिशु अपने नितंबों का उपयोग करके आगे बढ़ने का प्रयास करता है।

शिशु का घुटनों के बल चलने के प्रकार

घुटनों के बल चलने के अन्य प्रकार निम्नलिखित दिए हुए हैं:

  • लुढ़कना जब तक शिशु आगे की ओर चलना शुरू नहीं करते वे आगे और पीछे की ओर लुढ़कते हैं।
  • भालू क्रॉल (बियर क्रॉल)अक्सर शिशु नीचे की ओर मुद्रा बनाते हुए, टांगों को अपने पीछे ले जाकर ऊपर हवा में उठा लेते हैं और अपने हाथों और पैरों के बल आगे पीछे होता है।
  • केकड़ा क्रॉल (क्रैब क्रॉल)शिशु, कभीकभी अपने हाथों का उपयोग खुद को आगे की बजाय पीछे की ओर ले जाने के लिए करता है।
  • मेंढ़क कूद क्रॉल (लीप फ्रॉग क्रॉल)घुटनों के बल चलने के इस प्रकार में, शिशु कभीकभी अपने हाथों और घुटनों के बल बैठ जाता है और खुद को आगे की ओर बढ़ाने के लिए इस मुद्रा का उपयोग करता है।
  • क्लासिक क्रॉल शिशु अपने हाथों और घुटनों के सहारे बारीबारी अपने पैर और हाथ का प्रयोग करके आगे बढ़ता है।
  • ट्राईपॉड क्रॉल शिशु अपने हाथों और केवल एक घुटने से आगे बढ़ने का प्रयास करता है, जिससे दूसरे घुटने को आराम मिल सके।

शिशु घुटनों के बल चलना कैसे सीखते हैं?

बच्चे को घुटनों के बल चलने में मदद के लिए कुछ उचित अभ्यास बताए गए हैं। शुरुआत में ज़्यादातर बच्चे पेट के बल चलना शुरू करते हैं जो उन्हें चारों तरफ देखने और मांसपेशियों को मज़बूत बनाने में मदद करता है। शिशु को किसी वस्तु और उसमें उत्पन्न होती बाधाओं में व्यस्त रखने से वह आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित होता है। यदि किसी अन्य तरीके से शिशु खुद घुटनों के बल चलकर मोबाइल को नहीं पकड़ पा रहा है तो आपको कोई ऐसा तरीका निकालना होगा जिससे शिशु को इस प्रकार से मदद मिले कि वह शुरू में घुटनों के बल चलने और बाद में अपने पैरों पर चलने में एक आवश्यक समन्वय बना सके।

टिप्पणी: समय से पूर्व जन्मे कुछ शिशु अन्य शिशुओं की तुलना में देर से घुटनों के बल चलना या अपने पैरों पर चलना शुरू करते हैं।

घुटनों के बल चलना शिशुओं के लिए कठिन होता है और इसमें संज्ञात्मक, मोटर कौशल और दृश्यस्थानिक कौशल शामिल होते हैं। घुटनों के बल चलने में सक्षम होने के लिए, शिशुओं को उन गतिविधियों में भाग लेने की आवश्यकता होती है जो उनकी कमर, गर्दन, कन्धों, मूल और बाजुओं की मांसपेशियों को विकसित करने में मदद करती हैं, उन्हें अपने वज़न और संतुलन को संभालने में सक्षम होना आवश्यक है। अधिकांश शिशुओं को अपनी उभयदृष्टिविकसित करने की आवश्यकता है, जिससे वह उन लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित कर सकें जो उन्हें आगे बढ़ने में मदद करते हैं। शिशुओं का घुटनों के बल चलने से, उनमें त्रिमिति बोध विकसित होने में भी मदद मिलती है, हालांकि अन्य प्रकार से त्रिमिति बोध की यह शैली भी उन्हें गति बढ़ाने करने में मदद करती है। जैसेजैसे घुटनों के बल चलने का विकास होता है, यह शिशुओं की दिशा ज्ञान और स्मरणशक्ति को विकसित करने में मदद कर सकता है।

क्या होगा यदि आपका शिशु घुटनों के बल नहीं चल रहा है?

यदि आपका शिशु अन्य शिशुओं के समान शीघ्रता से गतिविधि नहीं करता है या अगर उसे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करने में कुछ तरीके भी काम नहीं करते हैं, तो आप बिलकुल भी तनावग्रस्त न हों। जब आपका शिशु सक्षम और तैयार होगा, तो घुटनों के बल खुद ही चलने लगेगा। यदि शिशु ने 10वें माह में भी घुटनों के बल चलना शुरू नहीं किया है तो कुछ मातापिता अक्सर घबरा जाते हैं। यदि वह अन्य रूपों में गतिविधि का प्रदर्शन कर रहा है तो ज़रूरी नहीं कि यह चिंता का कारण हो।

यदि बच्चे में वर्ष के अंत तक किसी भी प्रकार की गतिविधि विकसित नहीं हुई है, तो आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेने की आवश्यकता है।

घुटनों के बल चलने में शिशु की मदद कैसे करें?

यद्यपि अधिकांश शिशु बिना किसी सहायता के अपने आप ही घुटनों के बल चलना सीख जाते हैं किन्तु कई शिशुओं को अपने मातापिता से थोड़ी मदद और मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है।

शिशु की मांसपेशियों की शक्ति विकसित करने और बच्चे में गतिविधि उत्पन्न करने में मदद के लिए कुछ युक्तियाँ, इस प्रकार हैं:

  • पेट के बल लेटाना शिशु को पेट के बल लेटाने से उसमें अपने शरीर को ऊपर उठाने और गतिविधि करने या हिलनेडुलने की शक्ति विकसित होती है।
  • उनपर अपने हाथों को हिलाने के लिए ज़ोर देना सिर उठाने के लिए उन्हें सक्षम करना, शिशु के लिए एक अच्छा व्यायाम है जो साथसाथ उसकी मांसपेशियों का निर्माण भी कर रहा है।
  • खिलौने इधरउधर करना खेल के समय को खिलौनों के साथ मज़ेदार और रोचक बनाना, शिशु को घुटनों के बल चलने में मदद कर सकता है। वस्तुओं को पहुँच से बाहर रखने से उनके शरीर को गति देने और मांसपेशियों की शक्ति विकसित करने में मदद मिलती है।

शिशु को घुटनों के बल चलने में मदद करने के लिए कुछ अन्य सुझाव मुख्य रूप से मातापिता की व्यक्तिगत ज़रूरतों से संबंधित होते हैं। कुछ मातापिता ठोस तरीकों का उपयोग करना पसंद करते हैं, जैसे लुकाछिपी का खेल, जबकि अन्य मातापिता गतिहीन होने पर समय सीमा लगाने का उपयोग करते हैं। सामान्य तौर पर, शुरुआती चरणों में अपने शिशु को गतिविधियों में शामिल करना एक अच्छा विचार है जिसकी मदद से उसमें घुटनों के बल चलने के लिए अनेक कौशल विकसित होंगे।

घुटनों के बल चलते वक्त आपके शिशु की सुरक्षा के लिए अन्य सुझाव

जब आपका शिशु घुटनों के बल चलना शुरू करता है, तो क्या करें इसके लिए कई व्यापक सलाह दी गई हैं। इनमें से अधिकांश सलाह आपके घर या उस क्षेत्र को सुरक्षित बनाने की है, जहाँ आपका शिशु घुटनों के बल चलेगा या घुटनों के बल चलना सीखेगा।

घुटनों के बल चलते वक्त आपके शिशु की सुरक्षा के लिए अन्य सुझाव

शिशु की सुरक्षा के लिए कुछ सुझाव, इस प्रकार हैं:

  • सीढ़ियों पर दरवाज़े लगवाएं शिशु को घुटनों के बल सीढ़ी चढ़ने में मदद करने के लिए बक्सों का उपयोग करें, लेकिन उन्हें सुरक्षित रखने के लिए सुरक्षात्मक चीजों का उपयोग करें जैसे सीढ़ियों पर दरवाज़े लगवाएं जब तक शिशु सीढ़ियाँ चढ़ने में सहज न हो जाए।
  • शिशु को गतिशील बनाने के लिए प्रोत्साहन के रूप में सुरक्षित खिलौने और वस्तुएं प्रदान करें शिशु को ऐसे खिलौने दें जो सुरक्षित हों, उन्हें किसी भी प्रकार की गले में फँसने वाली, धारदार और टूटने वाली वस्तुएं न दें, जिन्हें वह हाथ में पकड़ सकता है ।
  • अवरोधों को दूर करें आम रुकावटों में लटकने वाली तारें, खुले द्वार, भारी सामान और बिजली से चलने वाले उपकरण जैसी चीजें सुरक्षित नहीं हैं, ऐसी चीजों से अपने शिशु को दूर रखें ।

घुटनों के बल चलते वक्त शिशु की सुरक्षा के लिए कुछ अन्य सुझाव, इस प्रकार हैं:

  • बड़े भाईबहन या किसी व्यक्ति के सहयोग का उपयोग करें।
  • शिशु को अकेला या अनिरीक्षित न छोड़ें।
  • यह सुनिश्चित करें कि जिस जगह पर आपका शिशु घुटनों के बल चलने का प्रयास करता है वह जगह साफ हो ।
  • गति के लिए सुरक्षित तकनीकों को बढ़ावा दें (उदाहरण: ऐसी कोई भी वस्तु ना हो जो गिर सकती है, समय से पूर्व आरोहण न करें)

घुटनों के बल चलने के बाद क्या होगा?

घुटनों के बल चलने के उपरांत उपलब्धियां

घुटनों के बल चलने के बाद, बच्चा (अभ्यास द्वारा) धीरेधीरे खुद में उस कौशल को विकसित करता है जो उसे चलने के लिए गतिशील बनाते हैं हैं। जब बच्चा घर के फर्नीचर पर पर चढ़ने का प्रयास करता है या अन्य वस्तुओं के सहारे खुद को स्थिर करने का प्रयास करता है तो यह आपके लिए एक बेहतरीन संकेत हैं कि आपका शिशु अपने पैरों पर चलने के लिए तैयार हो रहा है। एक बार जब शिशु स्वयं के पैरों पर खड़े होने के लिए पर्याप्त संतुलन को हासिल करने का प्रयास करता है, तो वह फर्नीचर या वस्तुओं को पकड़ कर चलने में सक्षम होता है और आखिरकार बिना किसी की मदद के वह चलना शुरू कर देता है। यहाँ से दौड़ना, कूदना और उछलना सहित, गति के अन्य आवश्यक कौशल सीखने की शुरुआत होती है

घुटनों के बल चलना आपके शिशु के लिए एक महत्वपूर्ण विकासक्रम है, और यह स्वाभाविक रूप से चिंता का विषय भी हो सकता है। अधिकांश शिशु 9 से 10 माह की आयु के बीच घुटनों के बल चलना सीखते हैं, हालांकि वे इसे अपनी गति से ही सीखते हैं और अक्सर इसे करने के लिए विभिन्न तरीकों का उपयोग करते हैं। कई संकेत होते हैं कि आपका शिशु घुटनों के बल चलने के लिए तैयार है और आपको उन्हें सुरक्षित तरीके से ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करने का प्रयास करना आवश्यक है। घुटनों के बल चलना, निस्संदेह आपके शिशु को आत्मनिर्भर करने की शुरुआत में एक महत्वपूर्ण कदम है।