शिशु को स्पंज स्नान कैसे कराएं

शिशु को स्पंज स्नान कैसे कराएं

Last Updated On

अपने बच्चे के जीवन में एक और महत्वपूर्ण और पहली बार होने वाली घटना को यादगार बनाने के लिए तैयार हो जाए – उसका पहला स्नान। हर पहली बात की तरह यह पल भी इतना खास होता है कि इसकी यादें ज़िन्दगी भर संजोने वाली होती हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि हर बार जब आप शिशु को नहलाती हैं तो उस समय आप उससे एक प्रकार से जुड़ती भी हैं। इसलिए, इस अवधि के दौरान आपका तनाव मुक्त रहना अतिमहत्वपूर्ण है। अधिकांश नए माता-पिता को कुछ गलत करने का डर सताता है, क्योंकि वे नहीं जानते कि बच्चे का स्पंज स्नान कैसे किया जाता है। यहाँ एक विस्तृत मार्गदर्शिका दी गई है, जिसमें शिशु को अच्छा और आरामदायक स्पंज स्नान देने के बारे में आपके सभी प्रश्नों का उत्तर मिलेगा।

शिशु के स्पंज स्नान की तैयारी

नवजात शिशु बहुत गंदे नहीं होते हैं और उन्हें हर दिन सम्पूर्ण स्नान की आवश्यकता नहीं होती है। अपने नवजात को स्पंज स्नान देने की वजह से आपको सम्पूर्ण स्नान करवाने से पहले अपने बच्चे को संभालने के लिए कुछ समय मिलता है। स्पंज स्नान से पहले आपको कुछ जरूरी बुनियादी तैयारियां करनी चाहिए। वे हैं:

  • अपने हाथ धोने से इसकी शुरूआत करें। अपने बच्चे को नहलाने से पहले सभी आवश्यक तैयारी कर लें: अपने बच्चे को लिटाने के लिए एक बड़ा तौलिया, बिनासुगंध वाले वाइप्स का प्रयोग करें, एक सौम्य बेबी क्लीन्ज़र, गीले रुई के कुछ टुकड़े, पोंछने का एक साफ कपड़ा या नम स्पंज, नए कपड़े और एक लंगोट आदि । साबुन या सुगंधित वाइप्स से बचें क्योंकि वे आपके बच्चे की त्वचा के प्राकृतिक संतुलन को बिगाड़ सकते हैं।
  • स्पंज या पोंछने का कपड़ा भिगोने के लिए गुनगुना पानी तैयार रखें।
  • स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए शरीर के विभिन्न हिस्सों के लिए अलग-अलग पोंछने के कपड़े रखें। पैरों के लिए एक कपड़ा, हाथों के लिए एक, शरीर के लिए एक और सिर के लिए एक अलग कपड़ा रखें।
  • सुविधाजनक समय और स्थान चुनें। जहाँ आप अपने बच्चे को नहलाना चाहतीं हैं, उस कमरे के ए.सी., कूलर या पंखे को बंद कर दें। कमरा आरामदायक रूप से गर्म होना चाहिए।

अब, आप अपने शिशु का स्पंज-स्नान करने के लिए तैयार हैं। यह सुनिश्चित करें कि ऐसा करते समय आपके पास पर्याप्त समय हो। जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, कि स्नान का समय माता-पिता और बच्चे के बीच जुड़ाव का समय होता है।

अपने बच्चे को स्पंज स्नान देते वक्त पालन करने वाले कुछ नियम

शुरुआत करने के लिए आपकी मदद करने हेतु यहाँ कुछ सुझाव दिए गए हैं:

तैयारियाँ करें

सबसे पहले, अपने शिशु को स्पंज स्नान देने के लिए एक सुविधाजनक समय चुनें। कुछ माँएं शिशु को सुबह नहलाना पसंद करती हैं, जब बच्चा जागता है और सक्रिय रहता है जबकि अन्य उसे नहलाने के लिए शाम का समय पसंद करतीं हैं, क्योंकि नहाना शिशु शांत हो जाते हैं। फिर, सपाट सतह वाला एक कमरा चुनें, जैसे स्नानगृह या चारपाई या कपड़े बदलने वाली मेज़ का उपयोग करें और इसे एक मोटे तौलिए से ढक दें। कमरे के तापमान की जाँच करें और इसे 75 डिग्री फ़ारेनहाइट (23-24 डिग्री सेल्सियस) पर सेट करें; याद रखें कि शिशुओं को बहुत आसानी से ठंड लग जाती है इसलिए सावधानी बरतें। अंत में, स्पंज स्नान के दौरान और बाद में जरूरत पड़ने वाले सभी सामानों को इकट्ठा करें।

तैयार होने का अर्थ यह भी है कि स्नान से पहले अपने शिशु से बात करने में कुछ समय व्यतीत करें। आखिरकार, यह भावनात्मक रूप से जुड़ने का एक अद्भुत समय है। साथ ही, स्नान से पहले अपने शिशु कपड़े उतारे और उसे तौलिया में लपेटें। मगर डायपर रहने दें। आप नहीं चाहेंगे कि जब आप शिशु को साफ कर रहीं हों, तभी वह सारी जगह पेशाब करे।

आँखों के आस-पास साफ करें।

गर्म पानी में रूई का फाहा गीला करें। फिर, अपने नवजात के सिर को पकड़कर, धीरे से आंख के आस-पास की जगह को साफ करें। आँख के कोने से पोंछना शुरू करें और बाहर की ओर बढ़ें। दोनों आँखों के लिए रूई के एक नए फाहे का उपयोग करें। रूई का फाहा रूई छोड़ता नहीं है और इसलिए आपके शिशु की आँखों के लिए यह सुरक्षित हैं। शिशु की आँखों को न धोएं और अगर आँख में कोई सुखी गंदगी नहीं है, तो आपको आँख के आसपास की जगह भी धोने की भी जरूरत नहीं है।

चेहरा धोएं

पोंछने का एक नरम कपड़ा लें, इसे गर्म पानी में डुबोएं, अतिरिक्त पानी को निचोड़ें और धीरे से अपने बच्चे के मुँह, नाक और चेहरे के अन्य हिस्सों को पोंछे। कान के पीछे का हिस्सा, ठोड़ी के नीचे और गर्दन की सिकुड़नों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है। यह हो जाने पर, चेहरे और गर्दन को थपथपाकर सुखा लें।

बालों को धोएं

अपने शिशु के मुलायम बालों को धोना स्पंज स्नान का एक अनिवार्य हिस्सा है। अपने शिशु को एक तौलिये में लपेटना और अपनी बाँहों को उसके पीछे रखते हुए अपने हाथ उसके सिर के नीचे रखकर बालों को धोना शुरू करें। फिर दूसरे हाथ से पोछने के गीले कपड़े को पकड़ें और सिर को धीरे से लेकिन ठीक तरह से पोंछें। इस दौरान किसी भी तरह की त्वचा की जलन से बचने के लिए साबुन आधारित शैंपू का उपयोग करने से बचें।

शरीर को साफ करें

अपने शिशु के शरीर को धोने के लिए साबुन रहित बेबी क्लींजर का उपयोग करें। तौलिये के कोने से शिशु के सिर को ढंक कर रखें। शरीर के बाकी हिस्सों से तौलिये और डायपर को भी हटा दें। पोछने के कपड़े को गीला करें और शिशु के शरीर को गर्दन से कमर तक पोंछें। इसके अलावा, बाँह और हाथ पोंछें। यह हो जाने पर, एक बार शिशु को थपथपाकर क्र पोछ दें। अब, अपने शिशु के शरीर के ऊपरी हिस्से को ढंक दें और पैर, चरण तथा पैर की उंगलियों को साफ़ गीले पोछने के कपड़े से पोंछना शुरू करें। अंत में साफ और गर्म पानी से डायपर क्षेत्र को धोएं। लड़के और लड़कियों, दोनों के डायपर क्षेत्र को सामने से पोंछते हुए पीछे तक साफ़ करें ।

शरीर को साफ करें

कृपया यह सुनिश्चित करें कि शिशु को पोंछने के गीले कपड़े से साफ करने के बाद, विशेष रूप से सिकुड़न वाली जगहों को थपथपाकर सुखा दें। आपके शिशु की त्वचा पर अत्यधिक नमी त्वचा में जलन पैदा कर सकती है।

गर्भनाल की देखभाल

गर्भनाल की सफाई से पहले अपने बच्चे को डायपर और टी-शर्ट पहनाए। नाल के निचे और उसके आस-पास की जगह को साफ करने के लिए रूई के एक फाहे का उपयोग करें। नाल को ठीक से साफ करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि उसका मूल जितनी जल्दी सूखेगा, उतनी ही जल्दी नाल गिरेगी।

इसके अलावा, संक्रमण की संभावना से बचने के लिए कभी भी गर्भनाल को डायपर से न ढकें। इसे सूखा और साफ छोड़ना महत्वपूर्ण है।

मॉइस्चराइजिंग

आपके नवजात शिशु का स्पंज स्नान मोइस्चुराइजेशन के बिना अधुरा होगा। अपने शिशु की त्वचा को चिकनी, मुलायम और स्वस्थ रखने के लिए स्नान के बाद किसी हल्के मॉइस्चराइजर का उपयोग करें।

शिशु की त्वचा अपनी कोमलता बरकरार रखे, यह सुनिश्चित करना जरूरी है। स्नान के बाद लगाने के लिए पास में मोइस्चुराइजिंग लोशन तैयार रखें। किसी कोमल लोशन का चयन करना उचित है।

कपड़े पहनाना

अपने शिशु के लिए ढीले सूती कपड़ों का चयन करें। चूंकि शिशु दिन के अधिकांश समय लेटा हुआ रहता है, ऐसे में इस तरह के कपड़े न चुनें, जिनमें बटन या चैन/जिपर पीछे की ओर हों। स्नान के बाद बच्चे को लपेटने के लिए एक कंबल तैयार रखना भी महत्वपूर्ण है।

नियमित संपूर्ण स्नान की तुलना में स्पंज स्नान शिशु के लिए आसान होता है। इसके अलावा, आप उस पानी की मात्रा को भी नियंत्रित कर सकती हैं जो बच्चे के शरीर के प्रत्येक अंग के लिए उपयोग में लाया जाता है। यह गर्भनाल जैसे क्षेत्रों को सूखा रखने में मददगार हो सकता है। आपको और आपके नन्हे शिशु को स्नान के दौरान एक खुशहाल भावनात्मक संबंध बनाने के लिए शुभकामनाएं!