शिशुओं के लिए बकरी का दूध: लाभ, रेसिपी व खास टिप्स

शिशुओं के लिए बकरी का दूध: लाभ और व्यंजन

Last Updated On

जब आप माता-पिता बन जाते हैं, तो आपके लिए आपके बच्चे की जरूरतें ही सबसे महत्वपूर्ण हो जाती है, और जब बात आती है उनकी पोषण की, तो उसमे सबसे ज्यादा ध्यान देने की जरूरत होती है। बच्चों की पोषण संबंधी जरूरतों को समझना न सिर्फ आपको उसके आहार को बेहतर ढंग से तैयार करने में मदद कर सकता है, बल्कि इससे आपको उसके आहार से संबंधित योजना बेहतर तरीके से बनाने में भी मदद करता है। किसी भी बच्चे के आहार को संपूर्ण करता है दूध जो बहुत स्वादिस्ट भी होता है। हमारे देश में जहाँ विभिन्न प्रकार के दूध होते हैं जैसे सोयामिल्क, बादाम का दूध, भैंस का दूध और पारंपरिक पसंदीदा – गाय का दूध। आजकल बहुत सारे डॉक्टर बच्चे को बकरी का दूध पिलाने की सलाह देते हैं। तो आइए जानते हैं बकरी के दूध में छिपे स्वास्थ्य लाभ के बारे में।

क्या बकरी का दूध आपके बच्चे के लिए सुरक्षित है?

पारंपरिक रूप से पीने के लिए गाय का दूध का उपयोग किया जाता है, जोकि कैल्शियम से भरपूर होता है, मगर इसमें बहुत अधिक मात्रा में लैक्टोज होता है, जिसे शिशु को पचाने में मुश्किल हो सकती है। एक नवजात शिशु के लिए बकरी का दूध पूरी तरह से लैक्टोज-मुक्त तो नहीं होता है, पर माना जाता है कि इसकी मात्रा बहुत कम होती है। बकरी का दूध सोयामिल्क, बादाम का दूध जैसे विकल्पों की तुलना में ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक है। इसमें कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है और यह पोषण की दृष्टि से बच्चों के लिए बहुत बेहतर विकल्प है। दूध बच्चे के आहार का एक अनिवार्य हिस्सा है क्योंकि दूध में उपलब्ध पोषक तत्वों से बच्चे का शरीर विकसित होता है। सोयामिल्क जैसे अधिकांश गैर-डेयरी दूध उत्पाद वयस्कों के लिए स्वास्थ्यवर्धक है, लेकिन एक नवजात शिशु के विकासशील शरीर के लिए, डेयरी उत्पाद का होना आवश्यक है जैसे कि, बकरी का दूध जो आपके बच्चे के लिए गाय के दूध या गैर-डेयरी दूध की तुलना में अधिक फायदेमंद हो सकता है।

आप अपने बच्चे को बकरी का दूध देना कब शुरू कर सकते हैं

यह समझना महत्वपूर्ण है कि बकरी का दूध स्तनपान का कोई विकल्प नहीं है। इसका मतलब है कि आपके बच्चे को अभी भी स्तनपान कराने या बोतल से दूध पिलाने की आवश्यकता है। यह अनुशंसा नहीं की जाती है कि आप फार्मूला बनाने के लिए बकरी के दूध का उपयोग करें। डॉक्टरों का सुझाव है कि आप अपने बच्चे को बकरी के दूध या बकरी के दूध से बने उत्पादों को 9 महीने के बाद देना शुरू करें। इससे पहले देना बच्चे के पोषण के संतुलन के साथ समस्याएं पैदा कर सकता है।

शिशुओं के लिए बकरी के दूध के लाभ

बच्चे को बकरी के दूध देने के कई फायदे हो सकते हैं, जिनमें से कुछ हैं:

1. एलर्जी का जोखिम कम होता है

गाय के दूध में प्रोटीन होता है, जो किसी किसी बच्चों में अत्यधिक एलर्जी पैदा कर सकता है। यह दूध के लैक्टोज में मौजूद होता है। इससे एलर्जी वाले बच्चों में लैक्टोज इनटॉलरेंस नामक स्थिति पैदा होती है। यह स्थिति आपके बच्चे के लिए गंभीर परेशानी का कारण बन सकती है। बकरी के दूध में लैक्टोज काफी कम होता है। इसका मतलब है कि गंभीर एलर्जी का खतरा कम होता है। बकरी का दूध गाय और भैंस के दूध की तरह एलर्जी उत्पन्न करने वाला नहीं होता।

2. अच्छी वसा की मौजूदगी

गाय के दूध की तुलना में, बकरी का दूध पचाने में आसान होता है, इसमें पॉलीअनसेचुरेटेड वसा जैसी अच्छी वसा की मात्रा भी अधिक होती है। इसका मतलब है कि आपका बच्चा बकरी के दूध को बेहतर तरीके से पचा सकता है और अच्छी वसा उसके शरीर में अवशोषित हो जाती है। यह अच्छी वसा आपके बच्चे के बढ़ने के लिए आवश्यक है।

3. आँतों के लिए बेहतर

लैक्टोज का ब्रेक डाउन बेहद कठिन है और यह पचने में भी समय लगाता है। लैक्टोज के साथ एक और दिक्कत है कि यह आँतों को नुकसान पहुँचा सकता है। बकरी के दूध में लैक्टोज की कम मात्रा वास्तव में आपके बच्चे की आँत के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद कर सकती है।

4. प्रोबायोटिक्स

अधिकांश दूध के प्रकारों में स्वस्थ बैक्टीरिया होते हैं जिन्हें प्रीबायोटिक्स या प्रोबायोटिक्स के रूप में जाना जाता है। अन्य डेयरी आधारित दूध की तुलना में, बकरी के दूध में प्रीबायोटिक्स अधिक होते हैं। यह आपके बच्चे को स्वस्थ रहने और स्वस्थ आंत और पाचन-आधारित बैक्टीरिया की अच्छी मात्रा बनाए रखने में मदद करता है।

5. कम कोलेस्ट्रॉल

बकरी के दूध में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है और सामान्य रूप से सभी प्रकार के कोलेस्ट्रॉल कम ही होते हैं। यह वयस्कों और शिशुओं दोनों के लिए बहुत स्वस्थ्यवर्धक माना जाता है, और यह आगे चलकर कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को भी संतुलित रखता है।

बच्चों के लिए बकरी का दूध तैयार करने की विधि

बकरी के दूध के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि इसे गाय के दूध की तरह ही प्रयोग किया जा सकता है। सुनिश्चित करें कि आप बकरी के दूध को उबालें या पास्चुरीकृत बकरी का दूध खरीदें, ताकि आपका बच्चा बीमार न पड़े। आप शिशुओं को बोतल से बकरी का दूध पिला सकती हैं, और बड़े बच्चों के दूध में चॉकलेट फ्लेवर या उनका कोई भी मनपसंद फ्लेवर मिला सकती हैं, या आप इसे किसी अनाज के साथ मिलाकर भी उपयोग कर सकती हैं।

एक बच्चे के लिए बकरी का दूध तैयार करने की विधि

क्या आपको अपने बच्चे को बकरी के दूध से तैयार फॉर्मूला या दही देना चाहिए?

परिस्थिति के अनुसार, आप सामान्य रूप से अपने बच्चे को बकरी के दूध से बना दही दे सकती हैं। लेकिन हम सलाह देंगे कि पोषण विशेषज्ञ या डॉक्टर से इस बारे में जरूर बात कर लें। दूध में कुछ ऐसे पोषक तत्व होते हैं, जो दही में नहीं होते, बच्चे को खिलाते समय इन पोषक तत्वों को प्रतिस्थापित करना आवश्यक होता है।

यदि आपका बच्चा एक वर्ष से छोटा है, तो यह सलाह दी जाती है कि आप बकरी के दूध से शुरुआत करें और धीरे-धीरे उसके आहार में बकरी के दूध के अन्य उत्पादों को भी शामिल करें।

गाय के दूध आधारित डेयरी उत्पादों के बदले बकरी का दूध क्यों उचित विकल्प नहीं हो सकता?

किसी भी अन्य बातों की तरह, आपको बकरियों के दूध से भी शिशुओं को होने वाले खतरे के संकेतों पर ध्यान देना चाहिए। गाय के दूध की तुलना में कम, लेकिन बकरी के दूध में भी लैक्टोज होता है और आपका बच्चा लैक्टोज इन्टॉलरेंट हो सकता है। ध्यान देने वाली एक और बात ये है कि बकरी के दूध में फोलिक एसिड नहीं होता है, जो आपके बच्चे के पोषण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो सिर्फ गाय के दूध में मौजूद है। हम सलाह देंगे कि आप अपने डॉक्टर से इस बारे में विस्तार से बात करें और गाय के दूध के बजाय बकरी के दूध के उपयोग के जोखिमों को समझें।

अपने शिशु के लिए बकरी के दूध का चयन करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

अपने बच्चे को बकरी का दूध पिलाते समय ध्यान देने योग्य सुझाव निम्नलिखित है :

  • बकरी के दूध में फॉलिक एसिड कम होता है जोकि एक बच्चे के पोषण के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। आप बकरी का दूध हमेशा वर्धित फोलिक एसिड के साथ खरीदें।
  • विटामिन बी12 आपके बच्चे के आहार का एक महत्वपूर्ण घटक है। गाय के दूध में इसकी मात्रा अधिक होती है, इसलिए यदि आपका बच्चा बकरी के दूध पर है, तो सुनिश्चित करें कि आप उन्हें विटामिन बी12 का सप्लीमेंट दें।
  • एक ध्यान देने वाली बात यह है कि आपका बच्चा बकरी के दूध या किसी अन्य दूध से भी निर्जलित हो सकता है, इसलिए सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा नियमित रूप से पानी पीता रहे।

यह अनुशंसा की जाती है कि आप अपने बच्चे के लिए किसी भी पोषण संबंधी आवश्यकताओं को बदलने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह लें और हमेशा उनकी सुनें व आहार परिवर्तन करने के लाभ और जोखिम दोनों को समझें। कभी भी अपने बच्चे के आहार में अचानक बहुत ज्यादा बदलाव न करें। धीरे-धीरे बदलें और सुनिश्चित करें कि यदि आपका बच्चा उस बदलाव पर अच्छी प्रतिक्रिया नहीं देता, तो  तुरंत डॉक्टर से मिलें।