वजाइनल (योनि) रिंग – एक गर्भनिरोधक उपाय

वजाइनल (योनि) रिंग - एक गर्भनिरोधक उपाय

Last Updated On

कई वर्षों से प्रजनन को नियंत्रित करने की दवाइयां या उपकरण बाज़ार में उपलब्ध हैं। समय के साथ, प्रभावी और सुरक्षित गर्भनिरोध के लिए, विज्ञान में हुए नई प्रगति का इस्तेमाल करके, कई नए तरीके विकसित हुए हैं। महिलाओं के लिए हाल ही में विकसित गर्भनिरोधक उपकरणों में से एक है – योनि रिंग, जो काफ़ी प्रसिद्ध है। यह उपकरण योनि में गर्भनिरोधक हार्मोन्स को पहुँचाता है और अनियोजित गर्भावस्था से सुरक्षा प्रदान करता है। यह लेख योनि रिंग के उपयोग के विभिन्न पहलुओं के बारे में विस्तार से बताता है।

योनि रिंग क्या है?

योनि रिंग, जैसा कि नाम से पता चलता है कि यह एक रिंग के आकार का उपकरण है जो योनि के अंदर डाली जाती है। यह नरम प्लास्टिक से बनी होती है और इस पर हार्मोन्स की परत होती है जो महिलाओं को गर्भधारण करने से रोकती है। यह साधारण गर्भनिरोधक उपकरण विभिन्न ब्रैंड के नाम से बेचे जाते हैं और किसी भी परिवार नियोजन केंद्र में आसानी से उपलब्ध होते हैं।

योनि रिंग कैसे काम करती है

यह निषेचन की प्रक्रिया को रोकने का काम करती है। यह रिंग योनि में डाली जाती है और उस पर एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टिन हार्मोन्स के मिश्रण की परत होती है। यह दोनों हार्मोन्स योनि के अस्तर के माध्यम से प्रजनन प्रणाली में अवशोषित होते हैं और गर्भधारण रोकने के लिए तीन गुना तरीके से बेहतर काम करते हैं।

  • गर्भनिरोधक गोलियों के समान, ये हार्मोन्स अंडोत्सर्ग या अंडे के निर्माण होने की प्रक्रिया को रोकते हैं।
  • यह गर्भाशय ग्रीवा में श्लेष्म परत की मोटाई को बढ़ाता है, जो शुक्राणु को गर्भाशय में प्रवेश करने से रोकता है।
  • यह गर्भाशय के अंदर के एंडोमेट्रियल परत को पतला कर देता है। निषेचित अंडे के गर्भाशय में जुड़ने और उसके बढ़ने के लिए गर्भाशय की परत मोटी होना आवश्यक है। इस परत को मोटी होने से रोकने के साथ साथ, योनि रिंग यह भी सुनिश्चित करती है कि निषेचित युग्मनज (जाइगोट) गर्भाशय से न जुड़े और जिससे उसकी आगे की वृद्धि भी न हो।

कैसे इस्तेमाल करें

सिवाय मासिक धर्म के दौरान, वजाइनल रिंग महीने के सभी दिनों में इस्तेमाल की जा सकती है। इसका मतलब यह कि रिंग का इस्तेमाल तीन सप्ताह तक किया जाता है और मासिक धर्म के दौरान इसे एक सप्ताह तक निकाल लिया जाता है। मासिक धर्म समाप्त होने पर, अनियोजित गर्भावस्था से बचने के लिए एक नई रिंग फिर से योनि में डाली जाती है।

1 . इसे अंदर कैसे डालें

योनि रिंग का इस्तेमाल करना और इसे योनि में डालना बहुत आसान होता है। रिंग डालने से पहले कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए जैसे कि, रिंग को खोलने से पहले हाथों को अच्छे से साफ करें और रिंग की वैधता तारीख की भी जाँच कर लें। योनि रिंग को योनि में डालने के लिए, जिवाणुहीन पैकेट खोलें और रिंग को इस तरह से दबाऐं कि विपरीत सिरे एक दूसरे को स्पर्श करें। उसे इसी स्थिति में, योनि के अंदर डालें और छोड़ दें ताकि वह अपनी गोलाकार स्थिति में आ जाए।

इसे अंदर कैसे डालें

2 . इसे कैसे निकाले

रिंग को निकालने के लिए, अपने साफ हाथ योनि के अंदर डालें और रिंग को धीरे से खीचें। इसे धीरे से बाहर निकालें और इसे अपने मूल पैकेट में डालकर कचरे के डब्बे में फेंक दें। रिंग को शौचालय में फ्लश न करने की सलाह दी जाती है।

3 . मासिक धर्म शुरू होने के लिए रिंग का इस्तेमाल कैसे करें

गर्भनिरोधक गोली की तरह ही योनि रिंग का उपयोग मासिक धर्म चक्र को नियमित करने के लिए किया जा सकता है। मासिक धर्म शुरू होने के लिए, रिंग को तीन सप्ताह तक अंदर रखें और इसे चौथे सप्ताह में उसी दिन निकालें जिस दिन आपने रिंग डाली थी। इसे निकालने के तुरंत बाद आपका मासिक धर्म शुरू हो जाएगा। आमतौर पर मासिक धर्म समाप्त होने के बाद, आप एक नई रिंग का इस्तेमाल कर सकती हैं। नई रिंग डालने के बाद, यदि हल्का रक्तस्राव होता है, तो सैनिटरी पैड या टैम्पोन का उपयोग करके आप रिंग को अंदर ही रहने दे सकती हैं। ध्यान रहे कि आप मासिक धर्म कप का उपयोग ना करें क्योंकि वह रिंग के स्थान पर प्रभाव डाल सकता है।

4 . मासिक धर्म शुरू न होने के लिए रिंग का इस्तेमाल कैसे करें

योनि रिंग के इस्तेमाल से आपको अपने मासिक धर्म चक्र को बदलने का विशेष लाभ प्राप्त होता है। इसकी तकनीक बहुत आसान है और आप अपने डॉक्टर के साथ इस पर विस्तारपूर्वक चर्चा कर सकती हैं। यदि आप किसी महीने में मासिक धर्म नहीं चाहते हैं, तो आप रिंग का इस्तेमाल तीन सप्ताह के बजाय चार सप्ताह तक कर सकती हैं। चौथे सप्ताह के अंत में, उसी दिन जिस दिन आपने पहले रिंग डाली थी, आप पुरानी रिंग निकालकर नई रिंग का इस्तेमाल कर सकती हैं। जब आप रिंग का इस्तेमाल मासिक धर्म शुरू न होने के लिए करते हैं तब आमतौर पर एकदम हल्का रक्तस्राव या साधारण रक्तस्राव होता है, लेकिन इस पद्धति का कोई हानिकारक प्रभाव साबित नहीं हुआ है।

गर्भनिरोधक रिंग कितनी प्रभावशाली है

अब तक, यह बाज़ार में उपलब्ध सबसे प्रभावशाली गर्भनिरोधक तरीकों में से एक है और इसका सफलता दर लगभग 91% है। रिंग इस्तेमाल करते समय सबसे महत्वपूर्ण यह है कि यह उचित समय पर पहनी जाए और सही समय पर निकाली भी जाए।

रिंग का इस्तेमाल बेहतर कैसे करें

इस गर्भनिरोधक उपकरण का अधिकतम लाभ उठाने के लिए, इसका उपयोग करते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें।

  • इस रिंग की गर्भनिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए इसे तीन हफ़्तों तक पहने रखने के और एक हफ़्ता न पहनने ( मासिक धर्म के दौरान ) के नियम का सही रूप से पालन करें।
  • जिस दिन आप रिंग अंदर डालती हैं, उसके तीन हफ़्तों बाद उसी दिन इसे निकालें। उदाहरण के लिए, यदि आपने इसे सोमवार को डाला है, तो इसे तीन सप्ताह पूरे होने के बाद आने वाले सोमवार को निकालना न भूलें। इस तरह, चक्र ठीक से बना रहता है।
  • किसी भी तरह के योनि संक्रमण से बचने के लिए साफ हाथों से ही इसे योनि में डालना महत्वपूर्ण है।
  • हालांकि रिंग डालने का कोई एक सही मुद्रा नहीं है, रिंग को योनि के काफ़ी अंदर सही तरह से डालने से इसके आकस्मिक फिसलन को रोका जा सकता है।

गर्भनिरोधक रिंग का उपयोग कौन कर सकता है

गर्भनिरोधक रिंग सभी उम्र की महिलाओं के लिए उपयुक्त है। हर कोई बिना किसी समस्या के इसका उपयोग कर सकता है, सिवाय इसके कि यदि चिकित्सीय समस्या के कारण रिंग का उपयोग करना संभव न हो । जिन महिलाओं ने बच्चे को जन्म दिया है, वे बच्चे के जन्म के 21 दिनों के बाद इसका उपयोग शुरू कर सकती हैं। परंतु, रिंग स्तनपान कराने वाली माताओं में स्तन के दूध के प्रवाह को कम कर सकता है और इसलिए स्तनपान के पहले छह महीनों के दौरान रिंग का इस्तेमाल से बचना चाहिए। गर्भपात या गर्भ गिराने के बाद भी बिना किसी अतिरिक्त गर्भनिरोधक उपाय के, इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

गर्भनिरोधक रिंग का इस्तेमाल किसे नहीं करना चाहिए

हालांकि योनि रिंग अधिकांश महिलाओं के लिए उपयुक्त है, लेकिन उन महिलाओं को इसका इस्तेमाल करने से बचना चाहिए जिन्हें

  • दिल की बीमारी है,
  • जिनके नसों या धमनियों में थक्का है,
  • जिन्हें धूम्रपान करने की आदत हैं और जो 35 वर्ष की आयु से ज़्यादा हैं,
  • जिन्हें स्तन कैंसर है,
  • जो मधुमेह से पीड़ित हैं,
  • जिन्हें मोटापे की समस्या है,
  • और जिनकी योनि, रिंग के उचित इस्तेमाल के लिए बहुत बड़ी या छोटी है।

गर्भनिरोधक रिंग का इस्तेमाल किसे नहीं करना चाहिए

योनि रिंग के लाभ

योनि रिंग के, एक प्रभावी गर्भनिरोधक उपकरण होने के अलावा, कुछ अन्य लाभ भी हैं, जैसे कि,

  • यह मासिक धर्म के दौरान होने वाले ऐंठन और प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम को कम करने में मदद करना,
  • मासिक धर्म के दौरान हल्का रक्तस्राव,
  • इसका कोई गंभीर दुष्प्रभाव नहीं,
  • यह कई किस्म के कैंसर का ख़तरा भी कम करता है ।

इसे योनि में डालना बहुत आसान है और इसकी हर दिन जाँच करना आवश्यक नहीं है। इससे यौन सुख में भी कोई कमी नहीं होती है, जिसके कारण यह गर्भनिरोध के लिए बहुत सुविधाजनक उपकरण है।

वजाइनल रिंग के ख़तरे और दुष्प्रभाव

चूंकि रिंग एक हार्मोन्स पर आधारित गर्भनिरोध उपाय है, गर्भनिरोधक गोलियों की तरह ही इसके भी कुछ दुष्प्रभाव है। ऐसे कुछ आम तौर पर होने वाले दुष्प्रभाव हैं:

  • मतली
  • स्तनों में संवेदनशीलता
  • बार बार मिजाज़ बदलना
  • योनि स्राव
  • सिर दर्द
  • थकान और वज़न बढ़ना

रिंग से जुड़े कुछ ख़तरों में, दुर्लभ परिस्थितियों में धमनियों या नसों में रक्त के थक्के बनना और स्तन कैंसर के बढ़ने का ख़तरा भी शामिल है।

क्या होगा यदि आप रिंग निकालना भूल जाती हैं

कभी-कभी जब आप रिंग निकालना भूल जाती हैं, तो ऐसा करके आप खुद को एक असुरक्षित परिस्थिति में डालती हैं, क्योंकि हार्मोन्स का प्रभाव खत्म हो चुका होता है। यदि आप कभी रिंग निकालना भूल जाती हैं, तो जैसे ही आपको याद आए, उसे तुरंत निकाल दें। यदि आपने तीसरे सप्ताह के बाद सात दिनों तक रिंग को अंदर रखा हुआ है, तो यह रिंग निकाल दें और अपने मासिक धर्म चक्र के 7 दिनों तक इसे न पहनें और फिर मासिक धर्म खत्म हो जाने के बाद एक नई रिंग का इस्तेमाल दोबारा करें। यदि आप किसी कारण रिंग निकालना भूल जाती हैं और उस अवधि के दौरान आप यौन-संबंध बनाती हैं, तो अनियोजित गर्भावस्था से बचने के लिए तुरंत आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियां लें। इसके अलावा, अगले एक हफ्ते तक संभोग के दौरान अतिरिक्त सावधानी बरतें।

क्या होगा अगर रिंग अपने आप बाहर आ जाए

कभी-कभी, यदि रिंग ठीक तरह से पहनी न गई हो, तो संभोग के दौरान या अन्य समय इसकी बाहर निकल आने की संभावना होती है। रिंग को पहनने के बाद की अवधि और उसे निकालने के बाद का समय, इन दोनों बातों के आधार पर आप निम्नलिखित में से एक का चयन करें।

  • यदि 3 घंटे से कम समय के लिए रिंग को बाहर निकालती है, तो इसे ठंडे या हल्के से गर्म पानी में धोएं और फिर ध्यान से इसे फिर से अंदर डालें।
  • यदि तीन घंटे से अधिक समय तक रिंग बाहर रहती है तो, विशेषतः रिंग के अंदर डालने के एक या दो हफ़्तों बाद, तो इसे ठंडे या गुनगुने पानी से धो लें और फिर इसे पहने। इसके अलावा, सावधानी बरतने के लिए सात दिनों तक गर्भनिरोधक गोलियां लें। अगर संभोग के तुरंत बाद आपकी रिंग गलती से निकल जाती है, तो गर्भावस्था से बचने के लिए तुरंत आपातकालीन गर्भनिरोधक गोलियां लें।
  • यदि रिंग अंदर डालने के बाद के तीसरे सप्ताह में रिंग तीन घंटे से अधिक समय तक बाहर रहती है, तो आप अपने मासिक धर्म चक्र को पूरा करने के लिए रिंग न पहने और यदि आप मासिक धर्म नहीं चाहती, तो एक नई रिंग पहने।

क्या योनि रिंग यौन संक्रामक रोग (एस.टी.डी.) से सुरक्षा प्रदान करती है

योनि रिंग यौन संक्रामक रोगों से सुरक्षा प्रदान नहीं करती है। अगर इस तरह के संक्रमण का ख़तरा है, तो कंडोम का इस्तेमाल अनिवार्य है।

योनि रिंग के साथ अन्य दवाएं

निम्नलिखित में से कुछ दवाएं रिंग के कार्य पर प्रभाव डालती हैं और उसका असर भी कम करती हैं। यदि आप योनि रिंग का उपयोग कर रहीं हैं, तो यह दवाइयां लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

  • एंटीबायोटिक्स (रिफाम्पिसिन, रिफामेट, रिफाम्पिन) जैसी दवाइयां
  • एच.आई.वी. के लिए दी जाने वाली दवाइयां
  • एंटी-फंगल ग्रिसेओफुल्विन
  • मिर्गी रोग के लिए दी जाने वाली कुछ दवाईयां
  • जॉन्स वोर्ट दवा

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. योनि रिंग का असर कब से शुरू होता है?

योनि रिंग उसके योनि के अंदर डालने के सात दिन बाद सुरक्षा प्रदान करती है। यदि आप इसे अपने मासिक धर्म चक्र के पहले दिन ही पहनती हैं, तो यह आपको उसी दिन से सुरक्षा प्रदान करने लगती है। यदि आप इसे किसी भी अन्य दिन पहनती हैं, तो साथ ही पहले 7 दिनों तक किसी अतिरिक्त गर्भनिरोधक तरीके का उपयोग करना आवश्यक है।

2. मैं बच्चे के जन्म के बाद योनि रिंग का इस्तेमाल कब से शुरू कर सकती हूँ?

आप अपने प्रसव के 21 दिन बाद रिंग का इस्तेमाल कर सकती हैं। हालांकि, यदि आप अपने बच्चे को स्तनपान कराने की इच्छा रखती हैं, तो रिंग का इस्तेमाल करने के लिए, प्रसव के बाद कम से कम 6 महीने तक रुकने की सलाह दी जाती है, क्योंकि रिंग के हार्मोन्स दूध के प्रवाह को कम करते हैं।

3. मैं गर्भपात या गर्भ गिराने के बाद रिंग का इस्तेमाल कब से शुरू कर सकती हूँ?

आप गर्भपात या गर्भ गिराने के तुरंत बाद योनि रिंग का इस्तेमाल कर सकती हैं।

4. क्या मैं स्तनपान कराते समय रिंग का इस्तेमाल कर सकती हूँ?

हालांकि स्तनपान कराते समय रिंग का उपयोग करना हानिकारक नहीं माना जाता, रिंग के इस्तेमाल से दूध का प्रवाह कम होता है। इसलिए, प्रसव के कम से कम छह महीने बाद तक इसका उपयोग न करने की सलाह दी जाती है।

यदि योनि रिंग का सही से और ध्यान से इस्तेमाल किया जाए तो यह बेशक एक प्रभावी गर्भनिरोधक उपकरण है। रिंग के बारे में अधिक जानकारी के लिए और अनियोजित गर्भावस्था से बचने हेतु इसके उपयोग के बारे में जानने के लिए, अपनी स्त्रीरोग विशेषज्ञ से बात करें।