15 माह के बच्चे के लिए आहार संबंधी सुझाव

15 माह के बच्चे के लिए आहार संबंधी सुझाव

जब आप स्वयं के खाने को लेकर एक विशिष्ट आहार अनुसूची तैयार करने पर खास ध्यान देती हैं तो यह बहुत स्वाभाविक है कि आप अपने 15 माह के बच्चे के खाने और नाश्ते के लिए भी अनेक विकल्पों को प्रधानता देती होंगी । वयस्कों और बच्चों के लिए पोषण संबंधी आवश्यकताएं पूर्णतः भिन्न होती हैं और कौन से खाद्य पदार्थ उन दोनों के लिए पर्याप्त हैं, यह बता पाना काफी मुश्किल होता है। ऐसे समय में आप इसका हल निकालने के लिए, इस लेख के अनुसार सही ढंग से अपने बच्चे के लिए भोजन सूची तैयार करें जो उसे उपयुक्त मात्रा में आहार देने में मदद करेगी।

15 माह के बच्चे की पोषण संबंधी आवश्यकताएं

15 महीने के बच्चे के लिए पोषक तत्वों की आवश्यकताएं व्यापक होती हैं। भले ही उसके भोजन की मात्रा कम हो लेकिन उसमें सभी प्रमुख पोषक तत्वों का उचित मात्रा में मौजूद होना आवश्यक है।

1. सहायक पोषक तत्व

कम भोजन के सेवन से, लघु पोषक तत्व जैसे प्रोबायोटिक्स, ओमेगा-3 एसिड की कमी होने की संभावना बढ़ जाती है जबकि इसका आवश्यक अनुपात अधिक होना चाहिए है। इसलिए, यह तत्व बच्चे के आहार में शामिल हैं या नहीं इस पर ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है।

2. पानी

पानी को बच्चे के भोजन में शामिल करना अत्यधिक आवश्यक है क्योंकि अधिकांश बच्चे उतना पानी नहीं पीते जितना उन्हें पीना चाहिए। दिन भर में आपके बच्चे को कम से कम एक लीटर पानी पीना चाहिए।

3. लौह तत्व (आयरन)

जैसे-जैसे आपका बच्चा बड़ा होता है अन्य खाद्य पदार्थों से उसकी लौह तत्व की आवश्यकता बहुत अधिक बढ़ जाती है क्योंकि आयरन के प्राथमिक स्रोत, माँ के दूध पर अब उसकी निर्भरता धीरे-धीरे कम होने लगती है। सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे को उसके भोजन से प्रतिदिन 7 मि.ग्रा. लौह तत्व मिले।

4. सोडियम

हमें सोडियम प्रदान करने वाला प्रमुख खाद्य पदार्थ नमक है। हालांकि आम तौर पर अन्य खाद्य पदार्थों से बच्चे की सोडियम की सामान्य आवश्यकता पूरी हो सकती है, लेकिन जिन घरों में नमक का कम उपयोग किया जाता है, उन्हें इस बात का अतिरिक्त ध्यान रखना चाहिए।

5. रेशा युक्त आहार

रेशा युक्त आहार लेने से यह आपके बच्चे के शौच और उचित पाचन को बनाए रखने में मदद करता है जिसका अर्थ है कि आपका बच्चा वास्तव में तमाम पोषक तत्वों से मिलने वाले लाभ अच्छे से प्राप्त कर रहा है। आहार में रेशा युक्त भोजन शामिल करने से न शरीर के बाकी हिस्सों को भी बेहतर तरीके से काम करने में मदद मिलती है।

6. कार्बोहाइड्रेट

ये ऊर्जा का सबसे बड़ा स्रोत होता है और यह आपके बच्चे के किसी भी भोजन का मुख्य भाग भी होता हैं। कार्बोहाइड्रेट की आपूर्ति में कमी नहीं होनी चाहिए क्योंकि विभिन्न शारीरिक प्रक्रियाएं इस पर निर्भर करती हैं ।

7. प्रोटीन

जो परिवार शाकाहारी हैं उन्हें इस बात की चिंता हो सकती है कि वह अपने बच्चों को प्रोटीन की आवश्यक मात्रा कैसे प्रदान करें। जबकि मांस में प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा प्रदान करने की बेहतरीन क्षमता होती, वहीं शाकाहारी खाने में भी कई सारे ऐसे विकल्प हैं जो अच्छा पोषण प्रदान करने की क्षमता रखते हैं।

8. कैलोरी

आपके बच्चे की वृद्धि दर शायद उतनी तीव्र नहीं होगी जितनी कि उसके शुरुआती दिनों में हुआ करती था। बच्चे को प्रतिदिन लगभग एक किलो कैलोरी या उससे अधिक की आवश्यकता होती है, जो साल बीतने के साथ धीरे-धीरे बढ़ती जाती है।

कैलोरी

15 माह के बच्चे के लिए कितना भोजन जरूरी है?

आपके बच्चे की शारीरिक गतिविधियों और मेटाबोलिज्म के आधार पर, एक बच्चे के भोजन की आवश्यकताएं पहले कुछ वर्षों के भीतर 1000 से 1400 कैलोरी की सीमा तक रहती हैं। इसलिए, बच्चे को उचित पोषण देने के लिए नाश्ते और भोजन के विकल्पों को एक साथ संतुलित करके देने की जरूरत होती है।

15 माहके बच्चे के लिए सर्वश्रेष्ठ खाद्य पदार्थ

आपके बच्चे के लिए कुछ ऐसे विशिष्ट खाद्य पदार्थ हैं जो उन्हें जरुरी पोषण प्रदान करते हैं ।

1. मांस

यह जानना महत्वपूर्ण है कि छोटे बच्चे बड़ों की तरह मांस के बड़े टुकड़े नहीं खा सकते हैं। उनकी उम्र के लिए प्रोटीन की आवश्यकता बिना चर्बी वाले मांस, यानि नरम मछली, चिकन के छोटे टुकड़े जैसे विकल्पों को आप अपने बच्चे के खाने के लिए चुन सकती हैं। इस बात का खास खयाल रखें कि अपने बच्चे के आहार में समुद्री खाद्य को शामिल करते समय सावधानी बरतें।

2. फलियां और मेवे आदि

जबकि अंडे आपके बच्चे कोप्रोटीन और वसा प्रदान करने के लिए एक बेहतरीन विकल्प हैं,वहीं शाकाहारी लोगों के लिए फलियां और मेवे आदि एक अच्छा विकल्प होते हैं। आप अपने बच्चे को साबुत मेवे न दें क्योंकि यह खाते वक्त गले में अटक भी सकते हैं । तथापि ऐमेवे डालकर बनाए गए खाद्य पदार्थों को देने में कोई समस्या नहीं है।

3. सब्जियां

इस उम्र के आसपास अधिकांश बच्चे सब्जियों का सेवन करना शुरू कर देते हैं । हालांकि कुछ भी चबाकर खाना अभी भी उनके लिए थोड़ा मुश्किल हो सकता है इसलिए उन्हें नरम करने के लिए या तो उबाल लें या फिर भाप पर पकाएं। तली हुई सब्जियों से बचें और विभिन्न प्रकार के ऐसे विकल्प चुनें जिससे आपके बच्चे को वह स्वादिष्ट लग सके।

सब्जियां

4. अनाज

माता-पिता को खाद्य पदार्थों को चुनाव करते समय ऐसे अनाजों को बच्चे के आहार में शामिल करना चाहिए जो छिलके सहित हों, ताकि वे अपने बच्चे की पोषण संबंधी आवश्यकताओं की आसानी से पूर्ति कर सकें। ये विभिन्न किस्म की रोटियों, चावल और पास्ता में हो सकती है। दूसरी ओर, कृत्रिम मिलावट के बगैर अतिरिक्त पोषक तत्व मिलाकर बनाया गया आहार एक उत्कृष्ट चयन है।

5. फल

फल न केवल आपके बच्चे को अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में स्वाद की एक अलग श्रेणी प्रदान करते हैं, बल्कि उनमें प्राकृतिक रेशा की मौजूदगी उनके पाचन तंत्र को बेहतरकरने के साथ-साथ विभिन्न विटामिनों की वृद्धि में भी मदद करती है।

6. नाश्ता

हालांकि आपका बच्चा बिस्कुट या टोस्ट के छोटे टुकड़ों को चबा सकता है, लेकिन इतनी कम आयु से भरपूर चीनी युक्त किसी भी प्रकार के उत्पादों को देने से बचना चाहिए। बच्चे के खाने की इच्छा को संतृप्त करने के लिए चीज़ आधारित वस्तुओं या भाप पर पकाई हुई सब्जियों का उपयोग करें।

नाश्ता

7. तेल

15 महीने के बच्चे को वसा की आवश्यकता किसी और तत्व की तुलाना में ज्यादा होती है। यह एक प्रकार से उनके लिए ऊर्जा का स्रोत है जो उन्हें फुर्तीला बनाए रखता है। उन तेलों का इस्तेमाल न करें जिसमें नकली वसा का उपयोग किया गया हो न हो या फिर आप मक्खन का उपयोग कर सकती हैं।

8. दुग्ध उत्पाद

इस उम्र में बच्चों के लिए भोजन में प्रोटीन और कैल्शियम का संयोजन अत्यधिक आवश्यक होता है क्योंकि अब उनकी हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत होने की जरूरत होती है। आप अपने बच्चे के आहार में शुद्ध दूध और थोड़ा दही शामिल करें।

9. फलों का रस

हालांकि अगर आपका बच्चा फलों के रस के बजाय सिर्फ फल खाए तो यह उसके लिए ज्यादा फायदेमंद रहेगा, लेकिन फिर भी भिन्न प्रकार के रसों को उसके आहार में शामिल करने से यह उसके लिए लाभदायक हो सकता है किन्तु इसे केवल तब ही दें जब यह ताजा हो और अप्राकृतिक न हो।साथ ही यह भी ख्याल रखें कि बच्चे को पानी के विकल्प के रूप में जूस न देंरें।

फलों का रस

10. मल्टीविटामिन

शरीर की संरचना और परिवार की जीवन शैैैली के कारण बच्चे में पोषक तत्वों की कमी हो सकती है। इस तरह के परिदृश्य में मल्टीविटामिन शामिल किया जाना चाहिए जो किसी भी आहार की कमी को पूरा कर सकता है।

15 माह के बच्चे के लिए भोजन सारणी

15 महीने के बच्चों के लिए भोजन की सारणी बनाना कोई आसान नहीं है। इसलिए नीचे दी गई अनुसूची की सहायता लेकर आप अपने बच्चे के लिए एक अनुकूल भोजन सारणी बना सकती हैं।

दिन सुबह का नाश्ता देर सुबह का नाश्ता दोपहर का भोजन शाम का नाश्ता रात का भोजन
सोमवार सेब के साथ ओट्स का दलिया तरबूज के टुकड़े पनीर सैंडविच संतरे की फांकें पनीर पराठा
मंगलवार उपमा सब्जियों के छोटे टुकड़े हरी फलियों के साथ दाल चावल दूध और कॉर्नफ्लेक्स मसाला डोसा
बुधवार सादा डोसा चीकू के टुकड़े दही के साथ पुलाव मिल्कशेक पालक की खिचड़ी
गुरूवार शकरकंद की खीर तले हुए आलू नूडल्स युक्त चिकन सूप स्ट्रॉबेरी शेक मसूर की खिचड़ी
शुक्रवार सूजी का दलिया खीरे का सलाद मछली चावल दही मूंग दाल करी
शनिवार अंकुरित मूंग दाल स्ट्रॉबेरी के टुकड़े आलू का पराठा केले का मिल्कशेक मिश्रित सब्जी का पराठा
रविवार इडली चटनी केले के टुकड़े चुकंदर का पराठा स्मूदी दाल पराठा

सुनिश्चित करें कि बच्चा हर दिन कम से कम आधा कप दूध पिए।

15 माह के बच्चे के लिए व्यंजन विधियां

अगर अपने 15 माह के बच्चे के लिए कुछ अलग भोजन बनाने के बारे में विचार कर रही हैं तो, ये व्यंजन विधियां आपके बहुत काम आने वाली है।

1. दही चावल

सर्वोत्तम लाभदायक भोजन जो आप कभी भी और कहीं पर भी अपने बच्चे को खिला सकती हैं

सामग्री

  • काला चना
  • अदरक
  • करी पत्ते
  • हरी मिर्च
  • लाल मिर्च
  • तेल
  • राई
  • नमक
  • मलाई (क्रीम)
  • दही
  • दूध
  • पके हुए चावल

विधि

  • पके हुए चावल लें और इसे अच्छी तरह से मसल दें। इसमें दूध डालें और मिलाएं । फिर इसमें दही और मलाई डालें और हिलाएं।
  • एक बर्तन लें और उसमें थोड़ा सा तेल डालें। तड़के की सभी सामग्री को एक साथ डालें और उन्हें अच्छी तरह से गर्म करें। इसमें थोड़ा सा तेल डालें और उसमें चावल मिला दें।

दही चावल

2. खिचड़ी

बीमारी के वक्त जो वयस्कों के लिए बेहतरीन भोजन होता है, वह छोटे बच्चों के लिए भी उत्तम भोजन है, जो उन्हें बहुत अच्छा पोषण प्रदान करता है।

सामग्री

  • काली मिर्च का पाउडर
  • हल्दी
  • घी
  • नमक
  • सब्जियां
  • अरहर की दाल
  • चावल

विधि

  • चावल और दाल को एक साथ लें और उन्हें अच्छे से धो लें। उन्हें लगभग 30 मिनट के लिए पानी में भिगोकर रखें।
  • सब्जियां लें और उन्हें ठीक से काट लें। इन्हें चावल-दाल के साथ कटोरे में डाल दें। फिर इसे कूकर में डालकर दो सीटी आने तक मध्यम आंच पर पकने दें।
  • कुकर के दाब को कम होने दें और जाचें कि चावल ठीक तरह से पक गया है या नहीं।
  • इसे कटोरे में निकाल लें और घी मिलाएं। स्वाद के लिए नमक, काली मिर्च और हल्दी डालें और ठीक से मिलाएं।

खिचड़ी

3. पास्ता खीर

आप हैरान हो गई होंगी, है ना? इस बेहतरीन व्यंजन के स्वाद से जब आपका बच्चा परिचित होगा तो उसे यह बेहद पसंद आएगा।

सामग्री

  • दूध
  • चावल का आटा
  • हरी इलायची
  • गुड़ की चाशनी
  • पास्ता
  • पानी

विधि

  • एक बर्तन लें और उसमें पानी डालें। एक उबाल आने के बाद इसमें पास्ता डालें, इसे पकाएं और पकने के बाद इसे अच्छी तरह से छान लें।
  • दूसरा बर्तन लें, उसमें घी के साथ काजू और मक्खन डालें और अच्छी तरह से भूनें। फिर उसके बाद दूध डालें और इसे उबलने दें। इसमें पास्ता मिलाएं और सभी को एक साथ पकाएं।
  • एक कप में दूध, पानी और चावल का आटा मिलाएं। जब तक यह चिकना नहीं हो जाता है तब तक इसे ठीक से मिलाते रहें। इसे कड़ाही में डालें और लगातार हिलाएं।
  • खीर के गाढ़े हो जाने पर, इलायची के दाने और गुड़ की चाशनी मिला कर परोसें।

पास्ता खीर

4. भुनी हुई हरी बीन्स

वही रोज के अरुचिकर नाश्तों के बजाय कुछ नया आज़माएं जिससे आपका बच्चा हरी पौष्टिक सब्जियों को खाने में रूचि ले और खुशी से खाए भी ।

सामग्री

  • एक्स्ट्रा वर्जिन जैतून का तेल
  • नमक
  • हरी बीन्स

विधि

  • माइक्रोवेव के तापमान को 425 अंश तक गरम करें। 8-10 मिनट के लिए इसके अंदर एक बर्तन रखें।
  • एक कटोरे में बीन्स लें, इसमें थोड़ा तेल डालें और थोड़ा नमक छिड़कते हुए इसे अच्छी तरह से एक साथ मिला लें ।
  • इन फलियों को ट्रे में दूर-दूर रखें।
  • इसे कुरकुरा और नरम बनाने के लिए लगभग 10 मिनट तक ओवन में रखें।

भुनी हुई हरी बीन्स

5. पर्पल वेजी प्यूरी

एक ही रंग की प्यूरी को देख कर बच्चे अक्सर ऊब जाते हैं, जैसे ही वे इस रंगीन प्यूरी को देखेंगे उनमें इसे खाने की इच्छा और बढ़ेगी।

सामग्री

  • पानी
  • नींबू का रस
  • फ्रोज़ेन पालक
  • ब्लूबैरी

विधि

  • एक बर्तन लें और उसमें पानी और पालक एक साथ मिलाएं। इसमें एक बार उबाल आने के बाद इसे 8 मिनट तक धीमी आंच परउबलने दें।
  • पानी को छान लें और नींबू का रस, ब्लूबैरी और पालक को एक साथ मिलाकर प्यूरी तैयार कर लें ।

पर्पल वेजी प्यूरी

15 माह के बच्चे को खाना खिलाने हेतु उपयोगी सुझाव

कुछ सरल युक्तियों को आज़मा कर, आप अपने बच्चे के खाने के तरीके को उसके लिए आसान बना सकती हैं ।

  • अपने परिवार के लिए बने भोजन में से ही अपने बच्चे को भी खाने के लिए दें, बस ध्यान रहे कि यह मसालेदार न हो।
  • अपने बच्चे को उसके हाथों से खाने के लिए सिखाएं।
  • अपने बच्चे को उसका खाना जल्दी खत्म करने के लिए ज़ोर न दें रें।
  • पूरा भोजन चुपचाप बैठकर खाने से बेहतर है कि उसे रुक-रुककर भोजन करने दें।
  • यदि आपका बच्चा अचानक अपने खाने की आदतों को बदल दे तो गुस्सा न करें।
  • खाने-पीने की चीज़ों का उसे आनंद लेने का पूरा अनुभव मज़ेदार बनाएं।

आपके पास अपने नन्हे बच्चे को रात का खाना खिलाने के कई विकल्प हैं, ऐसे में, आने वाले हफ्तों में आप उसके खाने के तरीकों में भी बदलाव कर सकती हैं। अपने बच्चे के भोजन के तरीके को संतुलित करने के लिए उसका निरीक्षण करें और यह जानने की कोशिश करें कि उसे क्या पसंद है और क्या नहीं।