16 माह के शिशु के लिए आहार संबंधी सुझाव

16 माह के शिशु के लिए आहार संबंधी सुझाव

Last Updated On

जैसे-जैसे बच्चे बड़े होने लगते हैं, माता-पिता को लगातार यह चिन्ता बनी रहती है कि उन्हें क्या खिलाएं । बच्चे ने ठोस खाद्य पदार्थों को खाना शुरू तो कर दिया है, लेकिन विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों को देने के साथ उसको उचित पोषण देना एक चुनौती भरा कार्य हो सकता है।

16 माह के बच्चे की पोषण संबंधी आवश्यकताएं

चाहे वह नाश्ताहो या भोजन हो, यह बहुत जरुरी है कि आपके16 महीने के बच्चे को सभी खाद्य पदार्थों से एक सही अनुपात में पोषक तत्व मिलें।

  • विटामिन: फल न केवल फाइबर प्रदान करने में मदद करते हैं बल्कि इनमें कुछ बहुत ही आवश्यक विटामिन भी मौजूद होते हैं जो शरीर द्वारा आसानी से अवशोषित किए जा सकते हैं। बच्चे को केला, कीवी, आम जैसे कई अन्य फल खाने के लिए दीजिए।
  • वसा: ऊर्जा को संरक्षित करने के अलावा,वसा न केवल आपके बच्चे के आने वाले महीनों में उसको स्वस्थ रखता है बल्कि उसके विकास में भी मदद करता है। बच्चों के लिएभोजन पकाने के लिए जैतून, नारियल या एवोकाडो के तेल का उपयोग करें, यह उन्हें पर्याप्त मात्रा में वसा प्रदान करता है।
  • लौह तत्व: आयरन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करने के अलावा, उन्हें विटामिन ‘सी’ से भरपूर खाद्य पदार्थों को भी दिया जाना आवश्यक है, क्योंकि यह शरीर के भीतर आयरन को अवशोषित करता है। पत्तेदार सब्जियां, लाल मांस, और रसीले फलों को इन खाद्य पदार्थों के साथ शामिल करना अच्छा संयोजन है।
  • कैल्शियम: बच्चे का स्तनपान छुड़ाने के बाद उसके कैल्शियम का पोषण बनाए रखने के लिए उसके आहार में दुग्ध उत्पादों को शामिल करना बेहद आवश्यक है। इस संबंध में आप उसे विभिन्न प्रकार के चीज़, दही और क्रीम युक्त दूध भी दे सकती हैं।

16 माह के बच्चे के लिए कितना भोजन जरूरी है

जब आपका बच्चा 16 महीने का हो जाएगा तो आप उसके विकास की गति में कमी का अनुभव करेंगी। जबकि उसकी पोषण संबंधी जरूरतें बहुत हद तक समान ही रहती हैं,एक बच्चा लगभग 1-1.5 किलोकैलोरी के बीच कैलोरी का सेवन करता है।

16 माह के बच्चे के लिए सर्वश्रेष्ठ खाद्य पदार्थ

अपने 16 महीने के बच्चे के भोजन के बारे में विचार करते समय, ये कुछ आवश्यक खाद्य पदार्थ हैं, जो आहार योजना में जरुर शामिल किए जाने चाहिए ।

1. दलिया

प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और फाइबर जैसे कई पोषक तत्वों का एक पूरा संयोजन होने के साथ ही, दलिया न केवल पौष्टिक है, बल्कि यह आपके बच्चे का पेट भरने के लिए भी काफी है।

2. समुद्री भोजन

यद्यपि, मछली के कुछ प्रकारों में पारा और आर्सेनिक मौजूद होता है, जो बच्चों के लिए हानिकारक होता है। लेकिन, हेरिंग, मैकेरल और सैल्मन जैसी मछलियां खाने के लिएसुरक्षित होती हैं और इनमें पर्याप्त मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड मौजूद होता है जो बच्चे के मस्तिष्क के विकास में लाभदायक है।

समुद्री भोजन

3. अंडे

एक साधारण खाद्य पदार्थ जो भारी मात्रा में ऊर्जा प्रदान करता है, वह अंडा है। अपने बच्चे की पसंद के अनुसार इसे पकाएं, इसमें निहित पौष्टिकता बेहतर स्वाद और उपयोग करने योग्य ऊर्जा प्रदान करती है । आदर्श रूप से जीवन भर अंडा खाने की एक आदत बनानी चाहिए। बच्चे को देते समय अंडे के अधपके व्यंजन देने से बचें।

4. बीन्स

बच्चे को बीन्स नाश्ते में या शाम के भोजन में देना एक अच्छा विकल्प है, क्योंकि ये आसानी से पच जाते हैं, और बच्चे की दैनिक आवश्यकता को पूरा करने के लिए यह पर्याप्त मात्रा में विटामिन, फाइबर और लौह प्रदान करते हैं। बीन्स का सूप तैयार कर उन्हें आहार में शामिल करना भी एक बेहतर तरीका है।

बीन्स

5. सब्जियां

हालांकि बच्चों को सब्जियां भाप देकर या उबाल कर देनाएक अच्छा तरीका है, आप बच्चे की रोग प्रतिरक्षण क्षमता को बढ़ाने के लिए, सब्जियों का रस निकालकर दे सकती हैं।

6. चिकन

चिकन न केवल प्रोटीन से भरपूर होता है, बल्कि यह लौह तत्व का भी बहुत अच्छा स्रोत होता है, जो इस उम्र के बच्चों के लिए आवश्यक होता है। चिकन बनाने की सामान्य विधियां काफी आसान होती हैं।

चिकन

7. फल

यदि आपके बच्चे ने अभी तक फल खाना शुरू नहीं किया है, तो यह शुरू करने का उचित समय है। विटामिन और खनिज इसकी एकमात्र वजह नहीं हैं। इनकी गन्ध और बनावट के साथ फलों का स्वाद, आपके बच्चे की स्वाद ग्रंथियों को विकसित करने में मदद करता है।

8. दही

कई दुग्ध उत्पादों के साथ दही को भी, आहार विशेषज्ञों और डॉक्टरों द्वारा बच्चों को देने के लिए अनुशंसित किया जाता है। इसे अलग-अलग खाने के साथ मिलाकर देने से यह बच्चे को अलग तरह का स्वाद प्रदान करता है साथ ही उसकी आंतों की कार्यप्रणाली को बेहतर करता है है।

दही

9. दूध

यदि आप अभी भी अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हैं, तो आप बिल्कुल सही कर रही हैं। लेकिन अगर ऐसा नहीं है, तो उसे बोतल के बजाय एक कप में क्रीमयुक्त दूध देना शुरू करें। बच्चे के सही विकास और उसके शरीर में पोषक तत्वों के स्तर को बनाए रखने के लिए दूध पीना बेहद जरुरी है।

10. साबुत अनाज

यह आवश्यक नहीं है कि आप अपने बच्चे को अनाज की पारंपरिक विधियों से तैयार किया गया भोजन ही दें। यह ब्रेड, मफिन, सैंडविच आदि कई प्रकार के खाद्य पदार्थों में भी प्रयोग होता है। लेकिन ख्याल रखें कि बच्चे के भोजन में ये विभिन्न विकल्प नियमित रूप से शामिल हों।

16 माह के बच्चे के लिए भोजन सारणी

आप अपने 16 महीने के बच्चे को इस भोजन सारणी के अनुसार खाना दे सकती हैं।

दिन सुबह का नाश्ता देर सुबह का नाश्ता दोपहर का भोजन शाम का नाश्ता रात का भोजन
सोमवार पास्ता ओट्स बिस्किट खिचड़ी एक गिलास दूध डोसा
मंगलवार इडली अंडा भुर्जी पुलाव उपमा वेजीटेबल चीज पराठा
बुधवार फ्रेंच टोस्ट स्मूदी पालक चावल एक गिलास दूध तली हुई इडली
गुरूवार आलू मटर पराठा सेब के टुकड़े फ्राइड राइस शाही टुकडा ओट्स का चीला
शुक्रवार गेहूँ का चीला सूप खिचड़ी चुकन्दर कटलेट बेसन का पराठा
शनिवार उपमा चीकू शेक कैरट राइस एक गिलास दूध मिश्रित अनाज का डोसा
रविवार अंकुरित मूंग मफिन्स पुलाव पनीर कटलेट सेवई

16 माह के बच्चे के लिए व्यंजन विधियां

16महीने के बच्चे के लिए चाहे वह भोजन हो या नाश्ता, ये सभी व्यंजन विधियां आपके बच्चे के तेजी से विकास करने और उन्हें पोषण प्रदान करने में बहुत प्रभावी हैं।

1. मूंग दाल डोसा

यह सादा डोसा का एक बेहतरीन संस्करण है, जो आपके बच्चे को एक बेहतर स्वाद प्रदान करेगा।

सामग्री

  • छाछ
  • हींग
  • गरम मसाला
  • धनिया पाउडर
  • हल्दी
  • नमक
  • अंकुरित मूंग दाल
  • बेसन
    मूंग दाल डोसा

विधि

  • अंकुरित दाल को एक कटोरे में लें और इसे बेसन के साथ मिलाएं।
  • नमक के अलावा, कटोरे में बाकी मसालें डालकर इसे छाछ के साथ मिलाएं। एक गाढ़ा घोल बनाने के लिए इन सबको अच्छी तरह मिलाएं।
  • 10 मिनट के लिए इसे छोड़ दें और फिर इसमें नमक मिलाएं ।
  • एक तवा लें और उस पर घी लगाएं। घोल को तवे पर फैला दें और अच्छे से पकाएं । दोनों तरफ अच्छी तरह से पकाने के लिए इसे दूसरी तरफ पलटें।
  • एक बार जब यह दोनों तरफ से भूरा हो जाए तो इसे चटनी के साथ परोसें।

2 . आलू मटर पराठा

यह लाजवाब स्वाद देने के साथअच्छे से पेट को भरने की क्षमता भी रखता है जिसके कारण यह बहुत लोकप्रिय व्यंजन है।

सामग्री

  • घी
  • गेहूँ का गुंथा हुआ आटा
  • अनार का चूर्ण
  • अमचूर
  • धनिया
  • उबले हुए मटर
  • गरम मसाला
  • धनिया पाउडर
  • नमक
  • उबले हुए आलू
    आलू मटर पराठा

विधि

  • एक बड़ा कटोरा लें और उसमें धनिया, अनार पाउडर, अमचूर, धनिया पाउडर, गरम मसाला, नमक और उबले आलू डालें। इन सबको एक साथ मसलें, और सभी को अच्छी तरह से मिला लें।
  • रोटी बनाने के लिए गुंथे हुए आटे को गोलाकार बेलें और उसमें इस मिश्रण को भरें। इसमें उबली हुई मटर डालें और अच्छी तरह से लपेटें र इ।
  • इसे फिर से ठीक आकार में बेलें। एक तवे पर थोड़ा सा घी डालें, और उस पर पराठा पकाएं ।
  • इसे दही के साथ परोसें।

3. पोंगल

भारत के दक्षिणी क्षेत्र का यह लोकप्रिय व्यंजन केवल उत्सव के दौरान ही नहीं बनाया जाता है बल्कि यह आपके बच्चे के लिए भी एक बढ़िया भोजन विकल्प है।

सामग्री

  • करी पत्ता
  • अदरक
  • जीरा
  • घी
  • मूंग दाल
  • चावल
    पोंगल

विधि

  • मूंग दाल और चावल को 30 मिनट तक पानी में भिगोए।
  • तब तक, कुकर में थोड़ा घी गर्म करके जीरा डालें। फिर इसमें अदरक और करी पत्ता डालें और अच्छी तरह से तलें।
  • 4-5 कप पानी के साथ दाल और चावल के मिश्रण को इसमें डालें और इसे मध्यम आंच पर लगभग 5 सीटी होने तक पकने दें।
  • चावल पक जाने पर उसे बाहर निकाल लें, करी पत्ते को अलग कर लें और सभी को एक साथ मिला लें।

4 . बेसन पराठा

यदि आप बहुत थकी हुई हैं और बच्चे के लिए खाना नहीं तैयार किया है तो आप फटाफट उसके लिए यह व्यंजन तैयार कर सकती हैं और आपको इसे बनाने में बहुत समय भी नहीं लगेगा।

सामग्री

  • घी
  • तेल
  • इलायची के दाने
  • गरम मसाला
  • धनिया
  • धनिया पाउडर
  • नमक
  • प्याज
  • बेसन

बेसन पराठा

विधि

  • तेल और घी के अलावा, सभी सामग्री को एक कटोरे में डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  • थोड़ा तेल डालें और मिश्रण को गूंथ लें।
  • गेहूँ की रोटी के समान इसे गोलाकार बेल लें।
  • इसके पराठे बनाने के लिए अच्छी तरह से बेल लें और इसे घी के साथ तवे पर पकाएं। बेहतर स्वाद के लिए मक्खन और चटनी के साथ इसे बच्चे को खिलाएं ।

5. चुकन्दर रोल

शाम के नाश्ते के तौर पर यह व्यंजन बेहद अच्छा विकल्प है। चुकन्दर से बने इस स्वादिष्ट और स्वास्थवर्धक रोल को बच्चे बड़े चाव के साथ खाएंगे।

सामग्री

  • तेल
  • ब्रेड
  • सूजी
  • नींबू का रस
  • चाट मसाला
  • गरम मसाला
  • नमक
  • राई
  • जीरा
  • प्याज
  • गाजर
  • चुकन्दर
  • उबले हुए आलू
    चुकन्दर रोल

विधि

  • एक कड़ाही लें और तेल डालें, और उसमें प्याज, जीरा और राई के दानों को तलें।
  • एक कटोरे में, गाजर, चुकन्दर और आलू डालें और उन्हें अच्छी तरह से मिलाएं । फिर इसमें प्याज डाले और मिलाएं ।
  • मिश्रण में गीले ब्रेड स्लाइस डालें और उन्हें पूरी तरह से मिलाने के लिए सूजी की एक प्लेट में घुमायें।
  • इन रोल्स को अच्छे से तलें और केचप के साथ परोसें।

खाना खिलाने हेतु उपयोगी सुझाव

रात के खाने के सामान्य विकल्पों के अलावा, यहाँ कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आपके बच्चे के लिए भोजन के अनुभव को बेहतर बना सकते हैं।

  • पुरानी वस्तुओं को आजमाएं जिन्हें आपके बच्चों ने किन्हीं कारणों से छोड़ दिया है।
  • बच्चों को खाने के लिए लुभाने हेतु रचनात्मक रूप से खाद्य सामग्री पेश करें।
  • दिखने में रूचिकर बनाने के लिए विभिन्न प्रकार के रंगीन खाद्य पदार्थ चुनें।
  • अपने बच्चे को स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ के साथ ऐसा आहार भी परोसें जिसे वह नापसन्द करता हो ।
  • ज्यादा मात्रा के बजाय थोड़ी मात्रा में खाना परोसें नहीं तो वह बेकार हो जाएगा ।
  • सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा भोजन के अंत में पानी पिए।

बहुत सारे भारतीय व्यंजन हैं जो आपके बच्चे का पेट भरने के लिए एक बढ़िया भोजन विकल्प हो सकते हैं। बस यह सुनिश्चित करें कि वह अत्यधिक मसालेदार न हों, और सुनिश्चित करें कि खाने के बाद बच्चे को एक नियंत्रित मात्रा में मिठाई भी खिलाएं।