24 खाद्य पदार्थ जिसका सेवन गर्भावस्था के दौरान न करें

24 खाद्य पदार्थ जिसका सेवन गर्भावस्था के दौरान न करें

Last Updated On

गर्भवस्था, जो आपके जीवन की सबसे ख़ूबसूरत अवधि होती है, इसमें बहुत सी चीज़ें बदल जाती हैं। न केवल आपके शरीर में बदलाव आते हैं, बल्कि आपकी पूरी जीवनशैली, आपकी प्राथमिकताएं और आपकी सोच भी बदल जाती है। इस दौरान न केवल अपने बच्चे के लिए बल्कि खुद के लिए भी अच्छी सेहत सुनिश्चित करने के लिए, जो चीज़ें नहीं खानी चाहिए, उनसे खुद को अवगत करा लें ।

एक गर्भवती महिला के लिए भोजन एक बहुत ही महत्वपूर्ण तत्व है, जबकि अच्छा भोजन आपको और आपके बच्चे को पोषण देता है और हानिकारक भोजन एक गंभीर ख़तरा पैदा कर सकता है। इसलिए यह निर्धारित करना महत्वपूर्ण है कि गर्भवती होने पर क्या खाना चाहिए और इसका ख़्याल तब से रखना चाहिए जब से आपको अपनी गर्भावस्था के बारे में पता चले।

गर्भावस्था के दौरान क्या नहीं खाना चाहिए

गर्भवती महिलाओं में एक स्वस्थ गर्भावस्था के लिए स्वस्थ आहार का सेवन करना बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसी कई चीजें हैं जिनका उपयोग आपको नहीं करनी चाहिए क्योंकि कई तरह के खाद्य पदार्थ आपके बच्चे के लिए ख़तरा पैदा कर सकते हैं। हमने, आपको गर्भावस्था के दौरान टालने वाले खाद्य पदार्थों की सूची बनाकर, आपके लिए सही खाद्य पदार्थ को चुनना अत्यधिक आसान किया है।

24 खाद्य पदार्थ जो गर्भावस्था में ना खाएं

1 . कच्चा, अधपका, या दूषित समुद्री भोजन और मछली

चिंता न करें, आपको अपने पसंदीदा समुद्री भोजन को पूरी तरह से नहीं छोड़ना पड़ेगा। आपको केवल यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप कुछ समुद्री पदार्थ बिलकुल भी नहीं खा रहे हैं।

  • आप अपने आहार में कच्ची मछली को बिलकुल भी शामिल न करें । इसका अर्थ है कि यदि आपको सुशी बहुत पसंद है, तो आपको उन कुछ महीनों के लिए खुद पर नियंत्रण रखना होगा ।

  • मैकेरल, शार्क, स्वोर्डफ़िश और टाइलफ़िश जैसी कुछ मछलियों में पारा की मात्रा बहुत ज़्यादा होती है और गर्भावस्था में पारा के सेवन से आपके बच्चे के विकास और मस्तिष्क को क्षति पहुँच सकती है। इनके बजाय चंक लाइट टूना जैसी मछलियाँ खाएं जिनमें पारा की मात्रा कम होती है और उचित मात्रा में इसे खाया जा सकता है। फ्रिज में रखा गया और स्मोक्ड समुद्री भोजन का सेवन न करना ही बेहतर है क्योंकि यह लिस्टेरिया, एक हानिकारक जीवाणु से दूषित हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान लिस्टेरिया के संपर्क में आने से, प्रसव से पहले जन्म का ख़तरा बढ़ सकता है, या नवजात शिशु तक संक्रमण फैल सकता है।

  • कुछ प्रकार की मछलियाँ जैसे कि ब्लूफिश, सैलमन , वॉलआय, ट्राउट और स्ट्राइप्ड बास दूषित पानी में पैदा होती हैं। यह मछलियाँ पॉलीक्लोराइनेटेड बाइफिनाइल्स (पीसीबी) की उच्च मात्रा के संपर्क में आती हैं, जो माँ और बच्चे दोनों के लिए बेहद हानिकारक है। गर्भवती होने पर पीसीबी के संपर्क में आने से आपके बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली पर ख़राब असर पड़ सकता है।

  • क्लैम, मसल्स और सीप जैसी कच्ची और अधपकी सीपदार मछली, अधिकांश समुद्री बीमारियों का कारण बनती हैं । हालांकि उन्हें पकाने से कुछ बीमारियों को रोका जा सकता है परन्तु यह शैवाल से होने वाली बीमारियों को रोक नहीं सकता। इसीलिए गर्भावस्था के दौरान सीपदार मछली को पूरी तरह से टालना ही बेहतर है।

मछली ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर होती है, जो आपके आहार का एक हिस्सा होना चाहिए क्योंकि यह बच्चे के मस्तिष्क के विकास में मदद करता है। गर्भावस्था के दौरान, मछली का सेवन करते समय आपको बस अधिक सतर्क रहना होगा। गर्भावस्था के दौरान मीठे जल में मिलने वाली मछलियाँ या अन्य पदार्थ खाना ही एक सुरक्षित उपाय है। इसमें सामन, झींगा, ट्राउट और सार्डिन शामिल हैं। इसके अलावा, कच्ची मछली के बजाय, ऐसी मछली खाएं जो 145oफ़ारेनहाइट के तापमान में पकाई जाती है। खाना पकाने से समुद्री भोजन में मौजूद कई संभावित संक्रमण और विषाक्त पदार्थों को नष्ट करने में मदद मिलती है, जिससे आप और आपके बच्चे को नुकसान से बचाया जा सकता है।

2 . कच्चे या नर्म उबले अंडे

जब अंडे अच्छी तरह से पकाए गए हो तब उन्हें खाने से खुद को रोकना मुश्किल हो जाता है। कई लोग नर्म उबले हुए या अधपके अंडे खाना पसंद करते हैं। परंतु, गर्भावस्था के दौरान यह बिलकुल नहीं खाने चाहिए, क्योंकि वे साल्मोनेला से दूषित हो सकते हैं, एक ऐसा जीवाणु जो दस्त और उल्टी का कारण बनता है। आपको ऐसे खाद्य पदार्थ और डेज़र्ट भी टालने चाहिए जो कच्चे अंडे से बनते हैं जैसे, कस्टर्ड और मूज़।

गर्भावस्था में अंडा खाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि इसे तब तक पकाएं जब तक कि अंडे का पीला भाग कड़ा न हो जाए। अन्यथा, आप अंडे के बगैर बना हुआ सलाद ड्रेसिंग, मेयोनेज़ और ऐसे अन्य खाद्य पदार्थ का सेवन कर सकती हैं, जिनमें अंडे के बदले में अन्य कुछ चीज़ें शामिल किए गए हो। बीमारियों के ख़तरे से बचने के लिए आप पाश्चुरीकृत अंडे का भी उपयोग किया जा सकता है।

3 . कच्चा या अधपका मांस

कच्चा या अधपका मांस

एक मांसाहारी माँ के लिए अपने आहार में मांस को शामिल करना महत्वपूर्ण है, लेकिन यह करते समय थोड़ा ध्यान रखना और इसमें कुछ प्रतिबंधन होना भी ज़रूरी है। शोध से पता चला है कि कच्चे मांस में लिस्टेरिया नामक जीवाणु होते हैं और गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन ना करना अनिवार्य है । कच्चे मांस में कुछ अन्य परजीवी, जैसे टेक्सोप्लाज़्मा गोंडी भी हो सकते हैं, जिससे गर्भवती महिलाओं को उल्टी, भ्रूण को क्षति और गर्भपात जैसी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

सुनिश्चित करें कि आप जब भी मांस खाएं, यह ठीक से पकाया गया हो और यह भी सलाह दी जाती है कि थर्मामीटर का उपयोग करके आप घर पर ही मांस पकाएं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि सभी जीवाणु मर गए हैं, नमक और पानी के साथ मांस को अच्छी तरह से धो लें।

4 . पाश्चरीकृत न किए गए दूध के पदार्थ

अपने बच्चे के उचित विकास के लिए आपका दैनिक और नियमित रूप से दूध का सेवन करना अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है। यह आपको और आपके बच्चे को खनिज, कैल्शियम और प्रोटीन जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व प्रदान करता है। लेकिन सुनिश्चित करें कि आप केवल पाश्चुरीकृत दूध का ही सेवन करती हैं। पाश्चरीकृत न किए गए दूध में रोगाणु हो सकते हैं जो गंभीर खाद्य विषाक्तता का कारण बन सकते हैं। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि आप ऐसे सभी प्रकार के डेयरी उत्पादों को टालें जो पाश्चुरीकृत नहीं किए गए हैं।

सुनिश्चित करें कि आप हमेशा उबला हुआ ताज़ा दूध ही पीती हैं । हमेशा दूध की साधारण जाँच कर लें ताकि आप अनावश्यक बीमारियों से बच सकें और गर्भावस्था का आनंद उठा सकें।

5 . पाश्चरीकृत न किया गया नरम मुलायम चीज़

चीज़ लगभग हर उस इंसान का पसंदीदा पदार्थ होता है, जिसने इसे एक बार चखा हो। लेकिन जब आप गर्भवती होती हैं, तो आपको यह स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ खाते समय भी कुछ नियमों का पालन करना होगा। बहुत सारे पाश्चरीकृत न किए गए नर्म चीज़ में लिस्टेरिया जीवाणु होते हैं और गर्भावस्था के दौरान ख़ास तौर पर इस खाद्य पदार्थ का सेवन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए।

नर्म चीज़ के बजाय, बस कड़ा चीज़ खाएं, इनमें से कुछ चेडर चीज़ और स्विस चीज़ हैं। हमेशा सुनिश्चित करें कि आप लिस्टेरियामुक्त पाश्चुरीकरण के लेबल की जाँच करने के बाद ही चीज़ खरीदती हैं।

6 . बिना धुली सब्ज़ियाँ और फल

इसमें कोई संदेह नहीं है कि गर्भावस्था के दौरान फल और सब्ज़ियाँ आपके और आपके बच्चे के लिए बेहद स्वस्थ है। लेकिन आपको यह सुनकर हैरानी हो सकती है कि दुनिया भर में लगभग 78% लोग बिना धोए फलों और सब्ज़ियों का सेवन करते हैं। न केवल बिना धुले फलों और सब्ज़ियों के छिलकों पर हानिकारक कीटनाशक और तृणनाशक हो सकते हैं, बल्कि इन पर टॉक्सोप्लाज्मा गोंडी और लिस्टेरिया जैसे ख़तरनाक रोगाणु भी हो सकते हैं। बिना धुली कच्ची सब्जियों जैसे स्प्राउट्स, सलाद पत्ता और गोभी इस समय के दौरान विशेष रूप से टालने चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान कौन से फल नहीं खाने चाहिए पपीता, अनानास और अंगूर। वास्तव में, कुछ संस्कृतियों में पपीते गर्भावस्था को टालने के लिए खाए जाने वाले प्राकृतिक खाद्य पदार्थों की सूची में हैं और माना जाता है कि यह गर्भपात का कारण भी बन सकते हैं। कच्चा पपीता विशेष रूप से ख़तरनाक हो सकता है क्योंकि इसमें कुछ यौगिक गुण होते हैं जो गर्भाशय के संकुचन का कारण बनते हैं।

यह ज़ाहिर सी बात है कि कोई भी फल और सब्ज़ी खाने से पहले आपको उन्हें अच्छी तरह से धोना चाहिए। आप छिलका निकालकर उन्हें अलग बर्तन में रख सकती हैं। सब्ज़ियों और फलों को लंबे समय तक फ्रिज में रखना और फिर इनका सेवन करना टालें। अपनी सभी सब्ज़ियों को अच्छे से पकाएं और सुनिश्चित करें कि ख़ासकर पत्तेदार सब्ज़ियाँ अच्छी तरह से पकी हैं।

7. ऐसे कच्चे स्प्राउट्स और नट्स जो एलर्जी का कारण बनते हैं

कच्चे स्प्राउट्स प्रोटीन और खनिजों से भरपूर होते हैं, लेकिन फिर भी गर्भावस्था में इन्हें नहीं खाना चाहिए। कारण यह कि उनमें हानिकारक विषाणु और जीवाणु हो सकते हैं जो खाद्य विषाक्तता का कारण बन सकते हैं। सुनिश्चित करें कि हर बार जब आप स्प्राउट्स खाती हैं, तब आप या तो उन्हें थोड़े से तेल में तलें या फिर अच्छी तरह पकाएं और फिर भी उचित मसालों के साथ इसका स्वाद अच्छा लग सकता है ।

आप गर्भावस्था के दौरान विभिन्न प्रकार के नट्स का आनंद ले सकते हैं, जैसे मूंगफली और काजू। नट्स विटामिन और खनिजों से भरपूर होते हैं, जो भ्रूण के विकास में मदद करते हैं। लेकिन ऐसे कुछ नट्स हैं जो आपके शरीर पर एलर्जी और रैश पैदा कर सकते हैं। ऐसा भी संभव है कि शुरू में आपको उनसे एलर्जी नहीं हैं, लेकिन समय के साथ लगातार इनका सेवन करने से, आपको इनसे एलर्जी होना शुरू हो जाती है। सुनिश्चित करें कि आप अपने डॉक्टर से परामर्श लें कि गर्भावस्था के दौरान आपके आहार में कौन से नट्स शामिल हो सकते हैं और कौन नट्स को पूरी तरह से टालना चाहिए।

8 . रेस्तरां का खाना या दुकान से खरीदा हुआ सलाद

रेस्तरां में गर्भवती महिलाओं के लिए खाना ऑर्डर करते समय अतिरिक्त सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह सुनिश्चित नहीं किया जा सकता कि इन पदार्थों में कौन सी सामग्री इस्तेमाल हुई है।इसलिए बेहतर यही है कि रेस्तरां में या दुकान से खरीदा हुआ सलाद भी न खाएं। हो सकता है कि सलाद में इस्तेमाल किए गए फल और सब्ज़ियाँ ठीक से ना धुली गई हो, या वे बहुत पहले से काट कर रखी हों ।

आप हमेशा घर पर ही अपना सलाद बना सकती हैं, सुनिश्चित करें कि आप फलों और सब्जियों को अच्छी तरह से साफ करती हैं और मांस को ठीक तरह से पकाती हैं। घर पर आपको अपना सलाद जैसा आप चाहें वैसा बनाने की आज़ादी भी है।

9 . अस्वास्थ्यकर ढंग से निकाले गए जूस

आप यह तर्क कर सकती हैं कि गर्भावस्था के दौरान ताज़े फलों का जूस पीना हमेशा एक अच्छा विकल्प है। लेकिन कच्चे फल और सब्ज़ियाँ ख़तरनाक जीवाणु या विषाणु से दूषित हो सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आपके ताज़ा जूस पीने की चाह को आप घर पर ही पूरा करती हैं ताकि ताज़गी और स्वछता का ध्यान रखा जा सके।

रेडीमेड जूस खरीदते समय, वह जूस चुनें जो पाश्चुरीकृत किया गया हो और फ्रिज में रखा हो। गर्भावस्था के दौरान आपकी प्रतिरक्षा क्षमता कम हो जाती है और आप उन जीवाणुओं के प्रति अतिसंवेदनशील होती हैं जो पाश्चुरीकृत किए गए जूस में मौजूद हो सकते हैं।

10 . अत्यधिक कैफीन

आपको कॉफी बेहद पसंद हो सकती है, लेकिन गर्भावस्था के दौरान अपने आहार में कैफीन शामिल नहीं करना चाहिए। यह एक मूत्रवर्धक है, जिससे अत्यधिक पेशाब हो सकता है और जिससे आप तेज़ी से निर्जलित हो सकती हैं। कैफीन को जन्म के समय शिशु के कम वज़न से भी जोड़ा गया है। कैफीन के अत्यधिक सेवन से भ्रूण की मृत्यु, शिशु मरा हुआ पैदा होना और गर्भपात जैसी समस्याओं का ख़तरा बढ़ सकता है।

सुनिश्चित करें कि आप एक दिन में 200 मिलीलीटर या 2 कप से अधिक कॉफी नहीं पीती हैं। इसके अलावा, एनर्जी ड्रिंक्स और दवाईयों जैसे अन्य उत्पादों में मिलने वाले अप्रत्यक्ष कैफीन के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए अपने डॉक्टर या औषध विक्रेता से परामर्श लें |

11 . हर्बल सप्लीमेंट्स और हर्बल टी

बहुत से लोग सुझाव दे सकते हैं कि गर्भवती होने पर हर्बल टॉनिक और चाय लेना शुरू करना चाहिए, लेकिन यह आपको फायदे से ज़्यादा नुकसान पहुँचा सकते हैं। कुछ जड़ीबूटियाँ भी बड़ी मात्रा में लेने से, समय से पहले प्रसव होने का या गर्भपात का ख़तरा बढ़ सकता है। ऐसा भी संभव है कि आपके द्वारा खरीदी हुई जड़ीबूटियाँ असुरक्षित या नकली हैं क्योंकि कोई ऐसा तरीका नहीं है जिससे आप उनकी गुणवत्ता की जाँच कर सकती हैं।

वर्मवुड, सॉ पामेटो और सनाय जैसी जड़ीबूटियों का सेवन से बचें, क्योंकि इनका अन्य दवाईयों की तरह पूर्ण परीक्षण नहीं किया जाता हैं और साथ ही गर्भावस्था में इनका उपयोग करने के बारे में लोगों के मत पृथक है। यदि आप शक्तिहीन या थकावट महसूस करती हैं, तो अपने डॉक्टर से एक मल्टीविटामिन देने के लिए कहें और तो इन हर्बल मिश्रणों के बजाय अपनी रोज़ाना वाली चाय पीना जारी रखें।

12 . डिब्बा बंद खाद्य पदार्थ/ रेडीमेड खाद्य पदार्थ

गर्भावस्था के दौरान डिब्बा बंद खाद्य पदार्थों को विशेष रूप से टालना चाहिए क्योंकि इनमें कई परिरक्षक और रासायनिक चीज़ें शामिल हो सकती हैं जो खाद्य पदार्थों की जीवन अवधि को बढ़ाने के लिए मिलाए जाते हैं। इसके अलावा, डिब्बे की दीवारों में बिस्फेनॉल ए हो सकता है, एक रसायन जो आपके बच्चे की अंतःस्रावी गतिविधि पर प्रभाव डालता है। डिब्बों में बंद खाद्य पदार्थों की लंबी जीवन अवधि के कारण, खाने में हानिकारक जीवाणु भी हो सकते हैं।

जो कुछ भी आपको डिब्बे में मिलता है वह ताज़ा भी खरीदा जा सकता है, हमेशा ताज़ा फल और सब्ज़ियाँ लें। खाने में मौसमी फल और सब्ज़ियों को शामिल करना एक अच्छा विकल्प है ताकि आप अपने आहार से ज़्यादा से ज़्यादा पोषक तत्व प्राप्त कर सकें।

13 . नाइट्रेट से भरपूर खाद्य पदार्थ

नाइट्रेट एक रसायन है जो कुछ खाद्य पदार्थों में उनके जीवन अवधि को बढ़ाने के लिए मिलाया जाता है। हालांकि, यह विशेष रूप से गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत सारे स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का कारण बन सकता है। जब नाइट्रेट्स रक्त में हीमोग्लोबिन के साथ प्रतिक्रिया करता है, तब वह संशोधित प्रोटीन का उत्पादन करता है जो आपके शरीर की गर्भनाल तक ऑक्सीजन पहुँचाने की क्षमता में बाधा डालते हैं। ऐसे कुछ खाद्य पदार्थ होते हैं जिनमें नाइट्रेट की मात्रा बहुत ज़्यादा होती है, जैसे कि डायट सोडा, बेकन, सॉसेज और आर्टिफिशल स्वीटनर। इन खाद्य पदार्थों में पोषण तत्त्व बहुत कम होते हैं और गर्भावस्था के दौरान यह पदार्थ किसी भी क़ीमत पर नहीं खाने चाहिए।

14 . अत्यधिक मीठे खाद्य पदार्थ

गर्भावस्था के दौरान आपको कई बार आइसक्रीम और चॉकलेट खाने की तीव्र इच्छा हो सकती है। लेकिन उनमें चीनी की मात्रा बहुत ज़्यादा होती है जो आपके खून में चीनी की मात्रा को बढ़ा सकता है जो भ्रूण के लिए हानिकारक हो सकता है। एक दिन में आप कितनी चीनी का सेवन कर रही हैं, इस बात का हमेशा ध्यान रखें और जितना हो सके चीनी या चीनीयुक्त पदार्थ का सेवन न करें ।

हालांकि, आइसक्रीम से मुंह फेर लेने की आवश्यकता नहीं है । कभीकभी आइसक्रीम खा लेने से आपको कोई नुकसान नहीं पहुँचेगा।

15 . स्ट्रीट फूड

गर्भावस्था के दौरान अपने पसंदीदा स्ट्रीटफूड को जहाँ तक हो सके टालें। न केवल वे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, बल्कि इससे खाद्य विषाक्तता और अन्य पाचनसंबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं। अपनी शेफ की टोपी पहन लीजिए और इन पदार्थों को घर पर ही बनाने की कोशिश करें, जहाँ गुणवत्ता और स्वच्छता का पूरा ध्यान रखा जा सकता है।

16 . अत्यधिक वसायुक्त खाद्य पदार्थ

चूंकि गर्भावस्था में आपका वज़न वैसे भी बढ़ने वाला है, क्या आप अत्यधिक वसायुक्त पदार्थ खाना चाहती हैं? ऐसा करने से खुद को रोके, क्योंकि ज़्यादा वसायुक्त पदार्थ खाने से आपके रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ सकती है, जिससे आपको मोटापा या दिल की बीमारी होने की संभावना बहुत बढ़ जाती है। सुनिश्चित करें कि आप उचित मात्रा में वसायुक्त पदार्थ का सेवन करती हैं।

ऐसे पदार्थ खाएं जो ओमेगा-3, 6 और 9 फैटी एसिड से भरपूर हो क्योंकि यह आपके बच्चे के विकास के लिए लाभदायक होते हैं। कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों में एवोकाडो, नट्स, जैतून और कद्दू के बीज जैसे फल और सब्ज़ियाँ शामिल हैं। परंतु, इन खाद्य पदार्थों को बहुत ज़्यादा न खाएं और हमेशा संयम बरतें।

17 . अत्यधिक आर्टिफिशियल स्वीटनर

आप सोच सकती हैं कि चीनी के बदले में आर्टिफिशियल स्वीटनर का इस्तेमाल एक बेहतरीन विकल्प है लेकिन गर्भावस्था के दौरान इनका सेवन करना आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। गर्भनाल, सैचरीन की तरह सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले आर्टीफ़शियल स्वीटनर को रोक नहीं पाती है, जिसका अर्थ है कि आपका बच्चा भी आर्टिफिशियल स्वीटनर खाएगा। आप इनका सेवन कर सकती हैं, लेकिन हमेशा एक उचित मात्रा में ही खाएं।

18 . डॉक्टर द्वारा न दिए गए विटामिन

गर्भवती महिलाओं के लिए विटामिन निश्चित रूप से पोषण का एक अच्छा स्रोत है, लेकिन अधिक मात्रा में सेवन करने पर वे हानिकारक हो सकते हैं। यह पदार्थ आपके भ्रूण के सामान्य विकास पर प्रभाव डाल सकते हैं और समय से पहले प्रसव होने का कारण भी बन सकते हैं। विटामिन के मामले में आप खुद निर्णय न लें, हमेशा डॉक्टर द्वारा बताए अनुसार ही इनका सेवन करें।

19 . सामान्य कार्बोहाइड्रेट

सामान्य कार्बोहाइड्रेट

कार्बोहाइड्रेट आपके शरीर में शक्ति का प्राथमिक स्रोत है, जो उन्हें आपके गर्भावस्था आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाता है। हालांकि, सामान्य कार्बोहाइड्रेटयुक्त खाद्य पदार्थ जैसे कुकीज़ और कॉर्न सिरप से सावधान रहें। हालांकि यह वास्तव में आपके बच्चे के लिए हानिकारक नहीं हैं, किन्तु सामान्य कार्बोहाइड्रेट से दर्दनाक कब्ज़ होता है, हो सके तो उन चीजों से परहेज करें जो मैदे से बनी होती हैं। इसके बजाय ऐसे आटे का सेवन करें जो फाइबर से भरपूर हो जैसे, गेहूँ, ब्राउन ब्रेड और साबुत अनाज कार्बोहाइड्रेट्स।

20 . बेक किए गए खाद्य पदार्थ

भले ही आपको बेक किए गए खाद्य पदार्थ बहुत पसंद हैं किन्तु, गर्भावस्था के दौरान इनसे दूर रहना ही बेहतर है। इसका कारण यह है कि कच्चा गुंथा हुआ आटा हानिकारक जीवाणु को आकर्षित कर सकता है, जिससे गंभीर खाद्य विषाक्तता हो सकती है और यहाँ तक कि भ्रूण को भी नुकसान पहुँच सकता है। यदि आप के लिए बेक किए गए आकर्षक पदार्थ न खाना बहुत मुश्किल हो रहा है, तो आप किसी प्रसिद्ध और जानेमाने बेकरी में व्यावसायिक रूप से बनाए गए पदार्थ खा सकती हैं।

21 . मुलैठी

अलगअलग किस्म के पदार्थो में मुलैठी का उपयोग किया जाता है, जो आमतौर पर बिल्कुल हानिकारक नहीं है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान, मुलैठी गर्भाशय के संकुचन का कारण बन सकती है। इससे समय से पहले प्रसव पीड़ा शुरू हो सकती है इसलिए गर्भावस्था के दौरान इसका किसी भी रूप में सेवन न करने की कोशिश करें।

22 . बासी खाना

हो सकता है कि आप बचा हुआ खाना फेकते हुए खुद को दोषी मानें, लेकिन आपको अपने इन ख़ास नौ महीनों के दौरान बासी खाना नहीं खाना चाहिए। इसे फ्रिज में रखने के बावजूद, संभावना है कि खाना रोग पैदा करने वाले जीवाणुओं को आकर्षित करे इसलिए हमेशा ताज़ा पका हुआ खाना ही खाएं। यदि आपके पास कोई अन्य विकल्प नहीं है, तो खाने से पहले बचे हुए खाने को दूसरे साफ बर्तन में गर्म करें।

23 . तीखा मसालेदार खाना

एक गर्भवती महिला को तीखा मसालेदार खाना बिल्कुल नहीं खाना चाहिए। इससे गर्भावस्था के दौरान, एसिड रिफ्लक्स और छाती में जलन होने की संभावना बहुत ज़्यादा होती है और इस प्रकार के आहार से यह समस्या सिर्फ़ बढ़ेगी। तीखे मसालेदार खाने से सुबह की बीमारी भी हो सकती है, मसाले हमेशा कम मात्रा में ही खाएं और जब भी आप मसालेदार पदार्थ खाती हैं, तो सुनिश्चित करें कि छाती में जलन की समस्या को खत्म करने के लिए एक गिलास दूध या एक चम्मच शहद लें।

24 . शराब

शराब

यह ज़ाहिर सी बात है कि शराब पीना आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है, न केवल जब आप गर्भवती हैं बल्कि आपके जीवन में कभी भी। लेकिन अगर आपको लगता है कि गर्भवती होने पर कभीकभी इसे ले सकती हैं, तो आप बिलकुल गलत हैं।

शराब एक और ऐसी चीज़ है जिसे गर्भनाल रोक नहीं सकती और उसके माध्यम से यह पदार्थ आपके बच्चे तक पहुँच सकता है। यह न केवल गर्भपात और बच्चे के मृत जन्म होने का कारण बन सकता है, बल्कि इसके कारण फीटल अल्कोहोल स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (एफ..एस.डी) नामक बीमारी के माध्यम से आपके बच्चे को आजीवन कई शारीरिक और बौद्धिक विकलांगताऐं हो सकती है। आपकी गर्भावस्था के दौरान शराब पीने का कोई सुरक्षित समय या कोई सुरक्षित मात्रा बताई नहीं गई है। सबसे बेहतर यही है कि आप गर्भावस्था के दौरान शराब पीना पूरी तरह से बंद कर दें ।

इसके साथ, अब आपके पास उन 24 खाद्य पदार्थों की सूची है जिसका गर्भावस्था के दौरान नज़रअंदाज़ करना जरुरी है । यह सलाह दी जाती है कि आप अपने आहार में किसी भी उपर्युक्त खाद्य पदार्थ को टालने का निर्णय लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लें । गर्भावस्था के लिए सबसे अच्छे आहार के बारे में एक पोषण विशेषज्ञ का परामर्श लेने से आपको संतुलित आहार का सेवन करने में मदद मिलेगी। यह कहने की ज़रूरत नहीं है कि आप गर्भावस्था में होने वाली तीव्र इच्छाओं को बेशक पूरा कर सकती हैं, बस सारे खाद्य पदार्थ उचित मात्रा में खाएं और सुरक्षित पदार्थों का ही चयन करें।