गर्भपात के बाद गर्भधारण की संभावना

गर्भपात के बाद गर्भधारण की संभावना

Last Updated On

गर्भधारण करने से परिवार में ढेर सारी खुशियाँ आ सकती हैं। कभी-कभी गर्भपात होने पर यह खुशी थोड़े समय की ही होती है। लेकिन, यह आपके उदास होने का एक कारण नहीं होना चाहिए क्योंकि आप हमेशा एक बच्चे के लिए फिर से तैयारी कर सकते हैं।

क्या गर्भपात के बाद फिर से गर्भवती होना आसान है?

गर्भपात किसी स्त्री की प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करता है क्योंकि शरीर के अंदर डिंबोत्सर्जन प्रक्रिया जारी रहती है। इसका मतलब यह है कि तकनीकी रूप से गर्भपात के बाद कोई भी महिला फिर से गर्भधारण कर सकती है। हालांकि, अवैध गर्भपात से मूत्राशय और आंतों में आघात जैसी जटिलताएं हो सकती हैं, जो प्रजनन प्रणाली के दीर्घकालिक नुकसान का कारण बन सकती है। ये जटिलताएं मुख्य रूप से तब उत्पन्न होती हैं जब शल्य-चिकित्सक अक्सर अकुशल होता है या इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए उसके पास आवश्यक उपकरणों का अभाव होता है।

गर्भपात के कितने दिनों बाद मैं गर्भवती हो सकती हूँ ?

क्या आप इस बात से चिंतित हैं कि गर्भपात के बाद गर्भधारण कब करें?

गर्भपात के कितने समय बाद आप गर्भवती हो सकती हैं यह कई कारकों पर निर्भर करता है। डिंबोत्सर्जन एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। जैसे ही गर्भपात के बाद डिंबोत्सर्जन का सामान्य चक्र शुरू होता है, आपके लिए फिर से गर्भ धारण करना संभव हो जाता है। यदि आपने किसी गर्भ निरोधक का उपयोग नहीं किया है, तो गर्भपात के बाद तुरंत आपके गर्भधारण करने की संभावना है । आप गर्भपात के 7-10 दिनों के बाद गर्भवती हो सकती हैं, भले ही आपका मासिक धर्म चल रहा हो। तुरंत गर्भधारण संभव है लेकिन अनुशंसित नहीं है क्योंकि शरीर को फिर से स्वस्थ होना आवश्यकता होगा।

गर्भपात के कितने दिनों बाद मैं गर्भवती हो सकती हूँ ?

यह सलाह दी जाती है कि आप बच्चे के लिए फिर से प्रयास करने का निर्णय लेने से पहले कम से कम 3 महीने तक प्रतीक्षा करें। यह माँ और बच्चे दोनों की सुरक्षा और सेहत सुनिश्चित करने के लिए है। आपके शरीर को आघात से उबरने के लिए भी समय की आवश्यकता होगी। आपके शरीर को जिस स्वास्थ्य हानि और नुकसान से गुजरना पड़ा है, उसे ठीक करने के लिए उसे समय की आवश्यकता होगी। आपके डॉक्टर गर्भपात की पुनरावृत्ति के किसी भी चिकित्सकीय कारण से बचने के लिए कुछ जाँचों और प्रसव पूर्व देखभाल के लिए कहेंगे।

यदि आपने ऑपरेशन से गर्भपात या डी. एंड सी. (डाइलेशन और क्यूरेटेज) प्रक्रिया करवाई थी, तो आपके डॉक्टर आपको गर्भाशय के ठीक होने के लिए कम से कम एक महीने तक इंतजार करने की सलाह देंगे। यदि आपका गर्भपात दूसरी या तीसरी तिमाही में हुआ था, तो डॉक्टर लंबे समय तक प्रतीक्षा करने की सलाह देंगे, ताकि पहले की कमियों को ठीक करने के लिए शरीर को अच्छी तरह से आराम मिले और वह संभल सके। अगली गर्भावस्था में तंत्रिका ट्यूब दोष की संभावना को कम करने के लिए आपको फोलिक एसिड की खुराक लेने का सुझाव दिया जा सकता है। यदि कोई चिकित्सीय जटिलता नहीं है, तो गर्भपात के बाद गर्भावस्था सामान्य रूप से सुरक्षित है।

क्या आपको गर्भपात के बाद गर्भधारण में कोई परेशानी हो रही है?

गर्भपात बहुत तनावपूर्ण हो सकता है। खोए हुए जीवन का अपराधबोध आपकी सेहत को प्रभावित कर सकता है। कई महिलाएं अनेकों गर्भपातों से गुजरती हैं और निराशाजनक महसूस करती हैं। यदि आपका गर्भपात कानूनी रूप से एक कुशल सर्जन द्वारा किया गया था, तो इसे अकाल प्रसव की तरह माना जाता है; जब भी आप गर्भधारण के लिए तैयार हों, आपको गर्भधारण करने में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। हालांकि, पुनः गर्भधारण की संभावना तबकम हो जाती है जब गर्भपात अवैध रूप से या अप्रशिक्षित डॉक्टरों, दाईओं द्वारा या अस्वच्छ परिस्थितियों में किया गया हो। संक्रमण, निशान पड़ना या अपूर्ण गर्भपात जैसी जटिलतायें हो सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप महिला के स्वास्थ्य को बड़ा खतरा होता है और फिर से गर्भधारण करने की संभावना कम हो जाती है।

इन मामलों में बांझपन की समस्या होती है:

  • एक अधूरा गर्भपात, जिससे गर्भावस्था समाप्त हो गई है लेकिन गर्भाधान के अवशेषों को पूरी तरह से हटाया नहीं गया है उससे संक्रमण, निशान पड़ने और जटिलता के जोखिम बढ़ जाते हैं।
  • कुछ मामलों में, यदि (डाइलेशन और क्यूरेटेज) D & C प्रक्रिया सही ढंग से और सावधानी से नहीं की गई हो, तो सफाई करते समय गर्भाशय को नुकसान होने की संभावना अधिक होती है।
  • पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिज़ीज़ (पी.आई.डी.), एक संक्रमण जो गर्भपात की प्रक्रिया के बाद हो सकता है, अगर इलाज न किया जाए तो डिंबवाही नलिका (फैलोपियन ट्यूब) के आसपास या अंदर अवरोध का कारण बन सकता है और अस्थानिक गर्भावस्था का खतरा बढ़ सकता है, जिसमें भ्रूण गर्भाशय के बाहर विकसित होता है।
  • गर्भाशय के अंदर या आपके गर्भाशय ग्रीवा (सर्विक्स) के शीर्ष (गर्भाशय के मुख) पर निशान हो सकता है। यदि गर्भपात की प्रक्रिया के बाद आपको अपना मासिक धर्म बिलकुल न आया हो या बहुत काम प्रवाह महसूस हुआ हो, तो यह निशान के कारण हो सकता है। आपका डॉक्टर हिस्टेरोस्कोपी के माध्यम से निशान के लिए परीक्षण कर सकता है, एक ऐसी प्रक्रिया जिससे गर्भाशय ग्रीवा के माध्यम से गर्भाशय में इस तरह के किसी भी संकेत की जाँच करने के लिए एक छोटा कैमरा पारित किया जाता है। डॉक्टर इसके साथ ही निशान वाले ऊतक की मरम्मत कर सकता है। डी. एंड सी. प्रक्रिया के दौरान गर्भाशय के क्यूरेट के द्वारा ख़रोंचे जाने के कारण गर्भाशय में निशान हो सकता है। व्यापक रूप से निशान के मामले में, इससे बांझपन हो सकता है; इसे ‘एशरमन सिंड्रोम’ कहा जाता है। सैद्धांतिक तौर पर, मैनुअल वैक्यूम एस्पिरेशन इस जोखिम को समाप्त कर देगा क्योंकि इसमें खरोंचे जाने का कोई ख़तरा नहीं होता है। इसी तरह, सक्शन एबॉर्शन / सक्शन क्यूरेटेज से निशान पड़ने का खतरा कम हो जाएगा। हालांकि, इस सिद्धांत का समर्थन करने के लिए कोई व्यापक शोध नहीं हुआ है।
  • यदि आप पहले एक से अधिक बार गर्भपात करवा चुके हैं, तो आपको ग्रीवा संबंधी कमज़ोरी हो सकती है जो उस प्रक्रिया के दौरान किए गए गर्भाशय ग्रीवा के फैलाव के कारण हो सकती है। गर्भाशय ग्रीवा को बंद रखने के लिए कुछ टांकों द्वारा इसका इलाज किया जा सकता है।

यदि लगातार बिना गर्भनिरोधक का प्रयोग किए यौन संबंध बनाने के बाद भी आपको गर्भपात के एक साल के भीतर गर्भधारण करने में मुश्किल होती है, तो आपको अपने डॉक्टर द्वारा निर्धारित कुछ परीक्षण करवाने चाहिए या प्रजनन विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए।

1. गर्भपात के बाद गर्भधारण

गर्भपात एक दुःखदायक और विषादयुक्त अनुभव हो सकता है। हालांकि, गर्भपात के पश्चात् 7-10 दिनों के बाद गर्भाधान संभव है। यह तब भी हो सकता है जब आपका मासिक धर्म चल रहा हो। गर्भावस्था को जारी रखने या समाप्त करने के बारे में कोई चिंता नहीं होती है।

2. नियोजित या इच्छित गर्भधारण

ज्यादातर महिलाओं को एक आम चिंता होती है, “क्या आप गर्भपात के बाद गर्भवती हो सकती हैं?”। नियमित रूप से किया गया गर्भपात अगर सही हो तो किसी भी प्रजनन समस्या का कारण नहीं बनता है। यदि आप गर्भपात के बाद गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं तो आपको गर्भपात के तुरंत बाद गर्भधारण करने में सक्षम होना चाहिए। हालांकि, यह अनुशंसा की जाती है कि आप गर्भाशय के ठीक होने के लिए कम से कम 3 महीने की प्रतीक्षा करें और स्वस्थ और सुरक्षित गर्भावस्था हेतु फोलिक एसिड जैसे आवश्यक पूरक आहार लेकर अपने शरीर को तैयार करें। आप दूसरे गर्भपात के दर्द से गुजरना नहीं चाहेंगी।

3. अवांछित गर्भधारण

एक अवांछित गर्भावस्था स्त्री और पुरुष दोनों के लिए दुःखदायक हो सकती है। आप गर्भपात के तुरंत बाद दूसरे बच्चे की तैयारी नहीं कर सकते हैं और शारीरिक रूप से ठीक होना सुनिश्चित करने और मानसिक आघात से उबरने के लिए प्रतीक्षा करने हेतुगर्भधारण में देरी करना चाहेंगे। यदि समाप्त हो चुकी गर्भावस्था अनियोजित थी और आप परिवार शुरू करने के लिए तैयार नहीं हैं, तो आप तुरंत एक और गर्भावस्था नहीं चाहेंगे।

यदि आपको गर्भवती होने का खतरा है, तो यह अनुशंसा की जाती है कि आप गर्भ निरोधक का उपाय करें इसे गर्भपात के एक सप्ताह के भीतर शुरू किया जाना चाहिए। आप गर्भनिरोधक जैसे कंडोम, गोलियां, इंजेक्शन, जन्म नियंत्रण पैच का उपयोग कर सकते हैं, और असुरक्षित यौन संबंध के मामले में, एक आपातकालीन गर्भनिरोधक गोली भी ले सकती हैं। ऐसी परिस्थितियों में अपने डॉक्टर की राय लेना सबसे अच्छा है।

अवांछित गर्भधारण

क्या एक गर्भपात गर्भधारण को मुश्किल बनाता है?

इस बात का पर्याप्त प्रमाण नहीं हैं कि गर्भपात या बार-बार करवाया गया गर्भपात भविष्य की गर्भावस्था में बाधा डालता है। यदि आप गर्भवती होने की योजना बनाती हैं और आपका गर्भाशय गर्भ धारण करने के लिए तैयार है, तो आपको चिंतित होने की कोई बात नहीं है।

कुछ जोड़े यदि एक परिवार शुरू करने के लिए तैयार नहीं होते तो गर्भपात का चयन करते हैं अथवा वे चिकित्सीय कारणों से गर्भपात कराना चाहते हैं। गर्भपात के बाद की गर्भावस्था में एहतियात और नियोजन की आवश्यकता होगी। कई बार अक्सर जोडे़ इस सवाल से चिंतित होते हैं; क्या पिछला गर्भपात मेरी गर्भवती होने की संभावनाओं को प्रभावित करता है?

चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में प्रगति के साथ, गर्भपात एक सुरक्षित प्रक्रिया है। एक विशेषज्ञ द्वारा उचित चिकित्सा नियमों के तहत किया गया गर्भपात भविष्य की प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करता है। यह एक बहुत ही सुरक्षित प्रक्रिया है। समस्या केवल तभी उत्पन्न होती है जब गैर-अनुभवी चिकित्सक द्वारा अवैध रूप से या गलत तरीके से गर्भपात किया जाता है, जिसमें फैलोपियन ट्यूब या अंडाशय या गर्भाशय की परत जैसे प्रजनन प्रणाली के अंगों में इस प्रक्रिया के दौरान संक्रमण होता है या उन्हें क्षति पहुँचती है।

गर्भपात में गर्भाशय ग्रीवा को फैलाया जाता है, अगर बार-बार किया जाए; तो संभावना है कि यह गर्भाशय ग्रीवा को कमज़ोर कर सकता है, जिससे समय से पहले फैलाव हो सकता है जो असामयिक गर्भपात का कारण बन सकता है। इसके अलावा, एक से अधिक डी. एंड सी. प्रक्रियायें जिनमें गर्भपात के दौरान गर्भाशय की सफाई की जाती है, गर्भाशय के अंदर या गर्भाशय ग्रीवा के शीर्ष पर निशान छोड़ सकते हैं। कुछ मामलों में, गर्भ में भ्रूण को सुरक्षित रखने के लिए गर्भाशय ग्रीवा को बंद करने हेतु एक टांका लगाया जाता है।

गर्भपात के तुरंत बाद गर्भवती होना चिकित्सकीय गर्भपात की स्थिति होती है, दवा की वजह से गर्भाशय कमजोर हो जाता है और यह भ्रूण को बाहर निकालने के लिए संकुचन को प्रेरित कर सकता है। इसके साथ अतिरिक्त रक्तस्राव होता है । सर्जिकल गर्भपात के मामले में, चूषण निकासी के बाद डी. एंड सी. किया जाता है। गर्भपात के बाद 3 महीने का इंतजार करना जरुरी होता है क्योंकि यह महिला और उसके गर्भाशय के स्वास्थ्य पर असर कर सकता है। ठीक होने दें!

यदि आप जल्दी गर्भावस्था की तैयारी नहीं करते हैं तो गर्भनिरोधक या सुरक्षा का उपयोग करना महत्वपूर्ण है गर्भपात के तुरंत बाद हुएअनचाहे और अनियोजित गर्भधारण का वही हश्र हो सकता है। गर्भधारण के लिए आपको मनोवैज्ञानिक और मानसिक रूप से तैयार रहना होगा।

यहां तक कि अगर आप गर्भाशय के ठीक होने का इंतजार कर रही हैं, तो भी बच्चे की योजना बनाने से पहले डॉक्टर से सलाह लें । आपको अपने गर्भाशय के स्वास्थ्य की जाँच करने और यह निर्धारित करने के लिए कुछ परीक्षणों और निदानों की सिफारिश की जा सकती है कि आप गर्भधारण करने के लिए स्वस्थ हैं या नहीं।

जब आप बच्चा पैदा करने के लिए तैयार होते हैं, तो गर्भधारण की संभावना बढ़ाने के लिए बारंबार संभोग करिए। यह आपको जल्दी गर्भधारण करने में मदद करेगा।

क्या-क्या खतरे होते हैं?

गर्भपात, यदि पेशेवर रूप से किया जाता है, तो उसमें कोई जोखिम नहीं होता है और एक महिला को सामान्य गर्भधारण की अनुमति देनी चाहिए। कभी-कभी, गर्भपात के बाद गर्भधारण में समस्या उत्पन्न हो सकती है। उचित देखभाल और सावधानीपूर्वक उपाय करके इन्हें संभाला जा सकता है।

गर्भपात के बाद गर्भवती होना

गर्भपात के बाद जल्द से जल्द कैसे गर्भधारण करें:

  • गर्भपात के बाद सुरक्षित गर्भावस्था के लिए अपने डॉक्टर से बात करने की सलाह दी जाती है।
  • अवैध गर्भपात भविष्य की प्रजनन क्षमता को जोखिम में डाल सकता है। गर्भाशय ग्रीवा, गर्भाशय को नुकसान और भविष्य में होने वाली कठिनाइयों जैसे अनिश्चित जोखिमों से बचने के लिए किसी दक्ष स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श करें।
  • एक स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखें और धूम्रपान, शराब पीना छोड़ें तथा कैफीन का सेवन कम करें। सेहत का एक इष्टतम स्तर स्वस्थ गर्भावस्था को संभव बनायेगा।
  • सक्रिय यौन जीवन गर्भावस्था के अवसरों को बढ़ा सकता है।
  • डिंबोत्सर्जन की अवधि का ध्यान रखें और डिंबोत्सर्जन के दौरान बार-बार सेक्स करें। आप ध्यान रखने में मदद करने के लिए ओव्यूलेशन किट खरीद सकती हैं या अपने स्मार्टफोन पर ओव्यूलेशन ट्रैकर ऐप डाउनलोड सकती हैं।
  • संभोग के बाद, नितंब के नीचे तकिया रखकर पैरों और कूल्हों को ऊपर उठाएं और शुक्राणुओं को डिंब तक पहुंचने में मदद करें।

गर्भपात के बाद फिर से गर्भवती होने की पुष्टि कैसे करें,

गर्भपात के बाद फिर से गर्भवती होने की पुष्टि कैसे करें

एक साधारण गर्भधारण किट गर्भधारण का पता लगाने में मदद कर सकती है। गर्भपात के तुरंत बाद अगर गर्भधारण न भी किया जाए तो भी परीक्षण लगभग एक महीने तक सकारात्मक परिणाम दिखा सकता है। यदि आपको लगता है कि आपने गर्भधारण कर लिया है, तो गर्भधारण किट से परीक्षण करें और सुनिश्चित करने के लिए एक सप्ताह के बाद परीक्षण दोहराएं।

गर्भपात के बाद बच्चे के लिए योजना बनाते समय जानने योग्य बातें

यदि आप गर्भधारण करने के प्रयास कर रही हैं, तो आपको यह सुनिश्चित करने के लिए कुछ सावधानी बरतनी चाहिए कि वही सब कुछ फिर से दोहराया न जाए।

  • अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ या प्रजनन विशेषज्ञ के साथ विस्तृत चर्चा करें। आपको अपने प्रजनन तंत्र और सुरक्षित गर्भावस्था को संभालने के लिए शारीरिक और मानसिक इच्छा की जांच के लिए कुछ परीक्षण करवाने की सलाह दी जा सकती है।
  • एक से अधिक गर्भपात आपके गर्भाशय ग्रीवा को कमज़ोर कर सकते हैं। बढ़ते हुए बच्चे को सुरक्षित रखने के लिए एक टांके के साथ यह आपके डॉक्टर द्वारा ठीक किया जा सकता है। आप केगेल व्यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल करके अपनी श्रोणि की निचली माँसपेशियों को मज़बूत कर सकते हैं।
  • यदि आपका हाल ही में गर्भपात हुआ है, तो अपने शरीर को ठीक होने और अगली गर्भावस्था की तैयारी करने का समय दें । गर्भपात के तुरंत बाद गर्भधारण करना आघात से उबर रहे शरीर के लिए तनाव का कारण बन सकता है। यदि आप बहुत जल्द गर्भधारण करती हैं तो आपके अजन्मे बच्चे को खोने का मनोवैज्ञानिक प्रभाव भी चिंता का कारण बन सकता है और इसके परिणामस्वरूप यह भ्रूण के स्वस्थ विकास को भी प्रभावित कर सकता है।
  • यदि आप गर्भधारण के लिए तैयार नहीं हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप गर्भ निरोधकों का उपयोग कर रही हैं।
  • बच्चे को जन्म देने के लिए आपको मानसिक रूप से तैयार रहने की आवश्यकता है, क्योंकि गर्भपात के बाद आप बहुत सारे हार्मोनल परिवर्तन, अनियमित मासिक धर्म और जल्दी-जल्दी मूड बदलने की समस्या से निपट रही होंगे।
  • यदि आप कोशिश करने के बाद भी गर्भधारण करने में असमर्थ हैं, तो समर्थित गर्भधारण पर विचार करें। आई.वी.एफ., आई.यू.एफ. जैसे विकल्पों पर किसी प्रजनन विशेषज्ञ से परामर्श करें।

जरुरी नहीं कि गर्भपात का मतलब यह हो कि गर्भधारण संभव नहीं है। इस विषय की वर्जित प्रकृति के कारण, कई लोग गर्भपात के बारे में विभिन्न तथ्यों से अनजान हैं। जब तक वे अधिकृत क्लीनिक में किए जाते हैं, वे पूरी तरह से सुरक्षित हैं और माँ के स्वास्थ्य को प्रभावित नहीं करते हैं।