बच्चों को जिम्मेदारी सिखाने के 10 तरीके

बच्चों को जिम्मेदारी सिखाने के 10 तरीके

जिम्मेदारी अपने आप में सीखने के लिए काफी चुनौतीपूर्ण लाइफ स्किल है, चाहे वह बच्चे के लिए हो या बड़ों के लिए। आप कई ऐसे पुरुषों और महिलाओं से मिली होंगी, जिन्होंने अभी तक अपने जीवन के साथ-साथ उनके ऊपर निर्भर लोगों की भी पूरी तरह से जिम्मेदारी नहीं ली है। किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व के अन्य पहलुओं के विपरीत, जिम्मेदारी एक मसल एक्सरसाइज की तरह है। जितनी जल्दी आप इस पर काम करना शुरू करती हैं, स्वाभाविक रूप से उसी पर भरोसा करना उतना ही आसान हो जाता है, यही वजह है कि पेरेंट्स के लिए यह आवश्यक है कि कम उम्र से ही अपने बच्चे में उस रवैये की नींव डालना शुरू कर दें।

आप इस उम्र में अपने बच्चे से क्या उम्मीद करें?

एक बच्चे का जिम्मेदारी पूर्ण व्यवहार, घर पर हो या उसके जीवन के अन्य पहलुओं में, हर उम्र में अलग-अलग होता है। सभी बच्चे तुरंत ही इसे नहीं संभाल पाते हैं वहीं कुछ को इस गुण को अपनाने में लंबा समय लगता है।

जो बच्चे प्राइमरी स्कूल में हैं, वे घर के आसपास के छोटे-छोटे कामों की देखभाल करने के बारे में अच्छी तरह से अवगत हो सकते हैं, जैसे कि चीजों को सही जगह पर रखना या कचरा बाहर निकालना। यह बाहर के सामाजिक व्यवहार में भी तब्दील हो सकता है, जहां वे कचरा केवल कूड़ेदान में ही फेंकते हैं, न कि सड़क पर। इस उम्र में भी बच्चों को अपने वादों पर टिके रहने के लिए समय-समय पर ध्यान दिलाने की आवश्यकता होती है। इसलिए बेहतर होगा कि अगर वे इस दौरान ठोकर खाते हैं तो आप उनके साथ ज्यादा कठोर न हों।

अपने बच्चे को जिम्मेदार कैसे बनाएं?

ऐसी कई एक्टिविटीज हैं जिनका उपयोग आप बच्चों को जिम्मेदारी सिखाने के लिए कर सकती हैं और अपने बच्चे को किसी काम को हाथ में लेने के लिए तैयार कर सकती हैं और इस बात से अवगत हो सकती हैं कि उसके कंधों पर क्या जिम्मेदारियां हैं।

1. रणनीति में परिवर्तन करें  

सभी माता-पिता इस बात पर भरोसा करते हैं कि जो वे चाहते हैं वही अपने बच्चों से करवाएं। बच्चे इसे सुनते हैं लेकिन आदत के रूप में विकसित करने में असफल होते हैं। उदाहरण के लिए जैसे, आपका बच्चा स्कूल से घर लौटता है और अपना बैग सोफे पर फेंक देता है और वह आपके कहने के बाद ही उसे सही जगह पर रखता है। यह लगातार उसकी खुद की यह आदत विकसित किए बिना चलता रहता है। उसे बैग को बाहर ले जाने और वापस अंदर लाने और उचित रूप से रखने की पूरी प्रक्रिया को दोहराकर एक बदलाव किया जा सकता है। एक कनेक्शन उसे एक आदत विकसित करने में मदद करता है।

रणनीति में परिवर्तन करें  

2. प्राथमिकता को समझना

एक लाइफ स्किल जिसे समझने में बच्चों को लंबा समय लगता है, वह यह महसूस करना है कि कौन सा काम दूसरे की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण है। आज के जीवन में किसी चीज को प्राथमिकता देना समय की मांग है, जिसमें कई कार्य और जिम्मेदारियां स्वयं को हमारे प्रति जागरूक बनाती हैं। बच्चे को सिखाएं कि पहले एक महत्वपूर्ण कार्य को पूरा करना क्यों आवश्यक है और अन्य कामों को करने के लिए समय खाली रखना है। ऐसा करते हुए बच्चे के साथ विनम्र और अपनी बात पर दृढ़ रहें कि इसे सही ढंग से किया गया है, जैसे कि दोस्तों के साथ खेलने के लिए बाहर जाने से पहले बच्चे ने अपना कमरा साफ किया है या नहीं।

3. स्वतंत्र होना

कुछ माता-पिता में अपने बच्चों को लगातार हाथ पकड़ने और काम करने का सही तरीका बताने की बहुत अधिक प्रवृत्ति होती है। यह बच्चे को सीखने की प्रक्रिया से वंचित कर देता है जहां वे गलतियां करेंगे या गलत तरीके से काम करेंगे और फिर यह पता लगाएंगे कि उन्हें सही कैसे किया जाए। बच्चे पर नजर रखें लेकिन उसकी प्रक्रिया में दखल न दें। उसे अपने तरीके से काम करने दें, भले ही वह इसमें बेस्ट न हो। समय के साथ, वह इसे सही तरीके से समझेगा या जरूरत पड़ने पर मदद के लिए आपके पास आएगा या इसे पूरा करने का एक अलग तरीका भी खोज लेगा।

4. जिम्मेदारी भरे व्यवहार पर इनाम दें 

बच्चों को यह महसूस करने के लिए अधिक समय लगता है कि जिम्मेदार होना जीवन का एक आवश्यक गुण है। तब तक, वे आमतौर पर इसे अच्छे व्यवहार के विकास के लिए अपने कर्तव्यों में से एक के रूप में देखते हैं। फिर भी, उनके प्रयासों को स्वीकार करना और इनाम देने की प्रक्रिया न भूलें। ऐसा हफ्ते में एक बार करना ठीक हो सकता है, जिसमें आप उस समय का ट्रैक रखती हैं जब बच्चे ने अपने खुद के कामों का ध्यान रखा या जिम्मेदारी से घर के आसपास मदद की और उस आधार पर उसे पॉइंट्स दें। वह उन पॉइंट्स का उपयोग वीकेंड में ट्रीट के लिए कर सकता है या फिर पिकनिक के लिए जगह चुनने के लिए भी कर सकता है।

5. प्रोत्साहन के शब्द

सबसे बड़ा वास्तविक पुरस्कार जो आपके बच्चे को उत्साहित करता है, वह है माता-पिता से मिलने वाले प्रोत्साहन के शब्द जिनसे बढ़कर कुछ नहीं है। इनाम आमतौर पर टेम्पररी होते हैं और एक बार लेने के बाद बच्चे का इंटरेस्ट खत्म हो जाता है। लेकिन माता-पिता के रूप में, हम अपने बच्चों से जो कुछ भी कहते हैं, वह जीवन भर उनके साथ रहता है और उनके व्यवहार को आकार देता है। अपने बच्चे को बताएं कि आप उसके प्रयासों से अवगत हैं और आपको उस पर गर्व है।

6. बच्चे को शामिल करें

आपके बच्चे की जिम्मेदारी केवल उसके कामों तक ही सीमित नहीं होनी चाहिए। उसे घर के एक सदस्य की तरह महसूस करने दें और उसके प्रयासों को इसे अच्छी तरह से चलाने के लिए गिना जाए। यहां तक ​​​​कि अगर कोई मुश्किल एक्टिविटी है, तो बच्चे को छोटी-छोटी चीजों में मदद करने के लिए कहें, जैसे कि कोई उपकरण लाकर देना, या कुर्सी या स्टूल को पकड़ने में आपकी मदद करना, आदि। कुछ पहलुओं में बेझिझक अपने बच्चे की राय पूछें, जैसे कि क्या यह रंग दूसरे से बेहतर है, या इस बार दुकान से कौन से फल खरीदने चाहिए।

बच्चे को शामिल करें

7. उम्र के हिसाब से असाइनमेंट दें 

आप 3 साल के बच्चे से अपने गाड़ी की सफाई में मदद करने या किराने का सामान खरीदने में मदद करने की उम्मीद नहीं कर सकती हैं। लेकिन आप निश्चित रूप से उसे अपने खिलौनों को इकट्ठा करने और खेल खत्म होने के बाद उन्हें बॉक्स में रखने के लिए कह सकती हैं। अपने बच्चे को काम और जिम्मेदारियां उसकी उम्र के हिसाब से और वह पहले से कितना जिम्मेदार है उस आधार पर दें। कुछ बच्चे कई कामों को संभालने के लिए काफी उत्साहित होते हैं और आपसे और काम मांगते हैं। ऐसे में उन्हें भी धीरे-धीरे कॉम्प्लेक्स काम देना शुरू कर दें।

8. ईमानदार व्यवहार का स्वीकार और समर्थन करें

जिम्मेदारी के साथ, किसी काम को पूरा करने में असमर्थता का जोखिम और इसमें पूरी तरह से फेल होने के परिणाम शामिल होते हैं। यह सब जीवन का एक हिस्सा है और आपके बच्चों को किसी एक्टिविटी को करने में डर विकसित नहीं करना चाहिए, कि कहीं ऐसा न हो कि वे इसे सही तरीके से करने में विफल हो जाएं। बातचीत करने का एक खुला और ईमानदार चैनल बनाए रखें जिससे बच्चा आपसे आपकी मदद मांग सके या आपको ईमानदारी से बता सके कि वह उसे सौंपे गए कार्य को करने में वह असमर्थ था। इसके लिए उसे डांटे नहीं, इसके बजाय उसे बताएं कि आपको गर्व है कि वह बहादुर और ईमानदार है।

9. उदाहरण देकर समझाएं 

किसी वजह से ही तो “लाइक फादर, लाइक सन” या “लाइक मदर, लाइक डॉटर” जैसे मुहावरे मौजूद हैं। हमारे बच्चे इस बात का प्रतिबिंब हैं कि हम कौन हैं और हमने उन्हें कैसे पाला है। बच्चे अपने माता-पिता की बात सुनकर और वास्तविक जीवन में उनके व्यवहार को देखकर सबसे ज्यादा सीखते हैं कि जीवन में क्या करने की जरूरत है। इसलिए, इस बात का ध्यान रखें कि अगर आप चाहती हैं कि आपके बच्चे भविष्य में जिम्मेदार इंसान बनें, तो उसके लिए आपको वर्तमान में एक जिम्मेदार इंसान होना चाहिए।

उदाहरण देकर समझाएं 

10. कनेक्शन स्पष्ट करें

कम उम्र में, काम के पीछे के कारण का कांसेप्ट और रिजल्ट, होने वाली प्रत्येक क्रिया बच्चों के लिए समझना थोड़ा मुश्किल होता है। वे चीजों को अपने आप होने के रूप में व्याख्या करते हैं। माता-पिता को अच्छे और बुरे दोनों परिणामों के लिए इन लिंक्स को स्थापित करने की आवश्यकता है। बच्चे को यह समझने दें कि आपके घर का बगीचा फल-फूल रहा है क्योंकि उन्होंने हर दिन पौधों को पानी दिया है और वीड्स को हटाया है। बच्चे को यह भी बताएं कि उन्होंने क्लास टेस्ट में खराब प्रदर्शन किया क्योंकि उन्होंने पूरा सप्ताह पढ़ाई के बजाय वीडियो गेम खेलने में समय बिताया है।

बता दें कि जिम्मेदारी विकास से भी जुड़ी होती है, क्योंकि आपके बच्चे के स्किल का सम्मान करना और दुनिया की विभिन्न चीजों के बारे में उसके ज्ञान को बढ़ाना उसके क्षितिज को व्यापक और उसे एक अधिक जिम्मेदार व्यक्ति बनाएगा। ऐसा करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है, इंटेलीकिट के मंथली एक्टिविटी बॉक्स का सब्सक्रिप्शन लेना, जो लर्निंग के साथ एंजॉयमेंट को भी जोड़ता है। हर एक्टिविटी बच्चे को महीने की थीम के आधार पर एक स्किल सिखाती है और इसमें बच्चों के ऑल राउंड डेवलपमेंट के लिए विभिन्न प्रकार के खेल शामिल होते हैं। इसे सब्सक्राइब करें और आज ही एक बॉक्स हासिल करें!

जिम्मेदारी सिखाने के लिए अलग-अलग तकनीकों और खेलों के अलावा, इस रवैये को विकसित करने और इसे जीवन भर कायम रखने के लिए महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है बच्चों को समय के साथ एक मजबूत विवेक विकसित करने में मदद करेगा। जब यह आखिर में अंदर से उभरने लगेगा, तो बच्चा व्यक्ति के रूप में एक बदलाव से गुजरेगा और उसका जिम्मेदार होना उतना ही स्वाभाविक होगा जितना कि हवा में सांस लेना।

यह भी पढ़ें:

बच्चों के लिए अच्छे टेबल मैनर्स
बच्चों को पैसों के बारे में कैसे सिखाएं
गुड मैनर्स जो बच्चों को जरूर सिखाना चाहिए